Thursday, September 23, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'तालिबान पाकिस्तानी समर्थन के बिना एक भी दिन नहीं टिक सकता': पश्तूनों ने पाकिस्तान...

‘तालिबान पाकिस्तानी समर्थन के बिना एक भी दिन नहीं टिक सकता’: पश्तूनों ने पाकिस्तान के खिलाफ न्यूयॉर्क में किया विरोध प्रदर्शन

"तालिबान पाकिस्तानी समर्थन के बिना एक भी दिन नहीं टिक सकता है। अफगानिस्तान में युद्ध को समाप्त करने के लिए पाकिस्तान पर तालिबान और अन्य आतंकवादी समूहों का समर्थन समाप्त करने के लिए दबाव बनाना होगा।"

अमेरिका के न्यूयॉर्क में पश्तून तहफुज मूवमेंट (पीटीएम) ने अली वजीर की अवैध नजरबंदी और अफगानिस्तान में पाकिस्तान के छद्म युद्ध के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। बताया जाता है कि अली वजीर पाकिस्तान में मानवाधिकारों के उल्लंघन और सैन्य उत्पीड़न के खिलाफ आवाज उठाते रहे हैं।

पीटीएम (Pashtun Tahafuz Movement) ने अपने बयान में कहा कि न्यूयॉर्क और कनेक्टिकट में पार्टी के सदस्यों ने शनिवार (31 जुलाई 2021) को हुई कार रैली में बड़ी संख्या में हिस्सा लिया। उन्होंने अली वजीर की तत्काल रिहाई और अफगानिस्तान में पाकिस्तानी छद्म युद्ध की समाप्ति की माँग की है। उन्होंने कहा कि पश्तूनों द्वारा शांतिपूर्ण जीवन के लिए आवाज उठाने पर वजीर को अवैध हिरासत में रखा गया है।

पीटीएम यूएसए के नेता हिम्मत ने कहा, ”अली वजीर की लगातार नजरबंदी अवैध है, क्योंकि इसका आदेश जनरल बाजवा ने दिया है।” उन्होंने कहा कि इससे पता चलता है कि पाकिस्तान में अदालतें स्वतंत्र नहीं हैं और हम सेना द्वारा नियंत्रित न्यायाधीशों से न्याय की उम्मीद नहीं कर सकते।

उन्होंने आगे कहा कि पाकिस्तानी नेशनल असेंबली एक रबर स्टैंप है और देश की शक्तिशाली सेना महत्वपूर्ण मुद्दों पर विधानसभा को आदेश देती है। अली वजीर को लेकर हाल ही में संसद में ऑफ-कैमरा ब्रीफिंग में थल सेना प्रमुख जनरल कमर बाजवा ने कहा था, “अली के माफी माँगने के बाद ही हम उन्हें रिहा कर सकते हैं।”

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक कनेक्टिकट में पीटीएम के उपाध्यक्ष अमीन जान इब्राहिमी ने कहा कि अफगानिस्तान में पाकिस्तानी हस्तक्षेप बिल्कुल स्पष्ट है। तालिबान नेतृत्व क्वेटा, पेशावर और मिरानशाह में रह कर योजना बना रहा है। तालिबान पाकिस्तानी समर्थन के बिना एक भी दिन नहीं टिक सकता है। अफगानिस्तान में युद्ध को समाप्त करने के लिए पाकिस्तान पर तालिबान और अन्य आतंकवादी समूहों का समर्थन समाप्त करने के लिए दबाव बनाना होगा।

बता दें कि कार रैली संयुक्त राष्ट्र कार्यालय में समाप्त हुई थी। इसमें दुनियाभर के लोगों से अहम भूमिका निभाने व अफगानिस्तान में निर्वाचित सरकार का समर्थन करने की माँग की गई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

इस्लामी कट्टरपंथ से डरा मेनस्ट्रीम मीडिया: जिस तस्वीर पर NDTV को पड़ी गाली, वह HT ने किस ‘दहशत’ में हटाई

इस्लामी कट्टरपंथ से डरा हुआ मेन स्ट्रीम मीडिया! ऐसा हम नहीं कह रहे बल्कि हिंदुस्तान टाइम्स ने ऐसा एक बार फिर खुद को साबित किया। जब कोरोना से सम्बंधित तमिलनाडु की एक खबर में वही तस्वीर लगाकर हटा बैठा।

गले पर V का निशान, चलता पंखा… महंत नरेंद्र गिरि के ‘सुसाइड’ पर कई सवाल, CBI जाँच को योगी सरकार तैयार

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष रहे महंत नरेंद्र गिरि की मौत के मामले की CBI जाँच कराने की सिफारिश की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,886FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe