Tuesday, September 28, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयतालिबान ने सह-शिक्षा पर लगाया प्रतिबंध, लड़कियों को नहीं पढ़ाएँगे पुरुष शिक्षक: इस्लाम विरोधी...

तालिबान ने सह-शिक्षा पर लगाया प्रतिबंध, लड़कियों को नहीं पढ़ाएँगे पुरुष शिक्षक: इस्लाम विरोधी हर बात होगी सिलेबस से बाहर

तालिबानियों ने यह घोषणा की थी कि किसी लड़की को लड़कों के साथ यूनिवर्सिटी में पढ़ने की आजादी नहीं होगी। अधिकारियों का कहना था कि को-एड सिस्टम जारी रखने पर को कोई सफाई नहीं सुनी जाएगी और न ही इसका कोई विकल्प है।

अफगानिस्तान पर तालिबान का कब्जा होने के बाद वहाँ के रंग-ढंग में पूरी तरह से बदलाव आने लगा है। शिक्षा का क्षेत्र भी इससे अछूता नहीं है। हर प्रकार से शिक्षा का भी इस्लामीकरण करने की कोशिश तेज हो गई। खबरें आ रही हैं कि तालिबान एक ऐसी शिक्षा प्रणाली तैयार कर रहा है जहाँ उस हर बात को सिलेबस से हटा दिया जाएगा जो इस्लाम के विरुद्ध हो। इसके साथ-साथ लड़कियों के लिए भी ऐसे नियम बनाए जा रहे हैं कि उन्हें पुरुष शिक्षक नहीं पढ़ा सकते।

तालिबान उच्च शिक्षा मंत्री शेख अब्दुल बकी हक्कानी ने कहा है, “पुरुषों को लड़कियों को पढ़ाने की अनुमति नहीं दी जाएगी।” इसके अलावा हक्कानी ने वर्तमान में मौजूद शिक्षा प्रणाली की आलोचना करते हुए कहा कि ये सिस्टम इस्लामी सिद्धांतों का अनुसरण करने में विफल हुआ। हक्कानी के अनुसार, “शिक्षा प्रणाली में जो कुछ भी इस्लाम के विरुद्ध है उसे हटा दिया जाएगा।”

लोया जिरगा (Loya Jirga) में लोगों की भीड़ को संबोधित करते हुए हक्कानी ने लोगों को और टीचर्स को यह बताने का भरसक प्रयास किया कि वह अफगानिस्तान की शिक्षा प्रणाली को डेवलप करने की कोशिश कर रहे हैं। इससे पहले याद दिला दें कि तालिबानियों ने यह घोषणा की थी कि किसी लड़की को लड़कों के साथ यूनिवर्सिटी में पढ़ने की आजादी नहीं होगी। अधिकारियों का कहना था कि को-एड सिस्टम जारी रखने पर को कोई सफाई नहीं सुनी जाएगी और न ही इसका कोई विकल्प है।

बता दें कि तालिबान भले ही ये बताने का प्रयास कर रहा है कि वह नए रूप के साथ लौटकर आए हैं। लेकिन, महिलाओं की स्थिति उनके शासन में अब भी चिंताजनक ही बनी हुई है। तालिबान ने संगीत को बैन कर दिया है। साथ ही कंधार में तो ये ऐलान भी हुआ है कि संगीत के साथ-साथ महिलाओं की आवाज भी ऑन एयर न सुनाई पड़े।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,827FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe