Wednesday, September 22, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षापाक की नाक के नीचे राजनाथ-गडकरी को लेकर उतरा हरक्युलिस, जगुआर-सुखोई की भी लैंडिंग:...

पाक की नाक के नीचे राजनाथ-गडकरी को लेकर उतरा हरक्युलिस, जगुआर-सुखोई की भी लैंडिंग: बाड़मेर में ELF रेडी

इस प्रोजेक्ट को तैयार करने के लिए 24 महीने का लक्ष्य रखा गया था, लेकिन इमरजेंसी लैंडिंग फील्ड का निर्माण 19 महीनों के भीतर ही कर लिया गया। जुलाई 2019 में इसकी शुरुआत की गई थी और इसी साल जनवरी में पूरा कर लिया गया था।

राजस्थान के बाड़मेर में गुरुवार (9 सितंबर 2021) को भारतीय वायुसेना ने शक्ति का प्रदर्शन किया। केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को लेकर इमरजेंसी लैंडिंग फील्ड (ELF) पर सुपर हरक्युलिस उतरा। लड़ाकू विमान सुखोई-30 और जगुआर ने भी लैंडिंग की। इस दौरान चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत और एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया भी मौजूद थे। जिस जगह वायुसेना ने अपनी ताकत दिखाई वह पाकिस्तान की सीमा से महज 40 किलोमीटर दूर है।

सााभार: ANI

एनएच 925 ए पर बनी यह हवाई पट्टी 3 किलोमीटर लंबी है। वायुसेना के लड़ाकू विमान सीधे हाइवे पर उतरे। सुखोई, जगुआर और हरक्युलिस ने आसमान में अपना दम दिखाने के बाद हाइवे पर लैंडिंग की। एनएचआईए ने एयरफोर्स के साथ मिल बाड़मेर-जालौर बॉर्डर स्थित बाखासर-साता के पास बने खास हवाई पट्टी को तैयार किया है। यहाँ लड़ाकू विमानों की आपात लैडिंग करवाई जा सकेगी।

सााभार: ANI
सााभार: ANI

भारत-पाक सीमा से महज 40 किमी दूरी पर बाड़मेर-जालौर के अड़गावा में बनी इमरजेंसी हाइवे हवाई पट्टी का उद्घाटन करने के लिए दोनों केंद्रीय मंत्री एक साथ दिल्ली से हरक्युलिस विमान में सवार होकर बाड़मेर पहुँचे थे।

सााभार: ANI

गुरुवार को रनवे पर सुखोई लड़ाकू विमान ने फ्लाइपास किया, साथ ही जगुआर और एयरफोर्स के अन्य विमान भी इस दौरान यहाँ पर दिखाई दिए। ये एयरस्ट्रिप भारत-पाकिस्तान बॉर्डर के पास ही है, ऐसे में किसी विपरीत परिस्थिति में इसकी अहमियत सबसे अधिक होगी। 

सााभार: ANI

वायुसेना ने इस हवाई पट्टी पर अपनी पहली रिहर्सल की। इस दौरान तीन फाइटर विमान उतारे। सबसे पहले हरक्युलिस को लैंड कराया गया। इसके बाद सुखोई, मिग और अगस्ता हेलिकॉप्टर की लैंडिंग कराई गई।

इस दौरान एसयू-30 एमकेआई, सुपर हरक्यूलिस एंड जगुआर फाइटर विमानों का फ्लाईपास्ट हुआ। इस प्रोजेक्ट को तैयार करने के लिए 24 महीने का लक्ष्य रखा गया था, लेकिन इमरजेंसी लैंडिंग फील्ड का निर्माण 19 महीनों के भीतर ही कर लिया गया। जुलाई 2019 में इसकी शुरुआत की गई थी और इसी साल जनवरी में पूरा कर लिया गया था। 

इस दौरान राजनाथ सिंह ने कहा, “अंतर्राष्ट्रीय बॉर्डर से कुछ ही कदम दूर इस प्रकार की इमर्जेंसी लैंडिंग फील्ड का तैयार होना सिद्ध करता है कि भारत अपनी एकता, संप्रभुता और अखंडता की रक्षा के लिए सदैव तैयार है। भारत के अंदर किसी भी चुनौती का सामना करने की क्षमता है।”

रक्षा मंत्री ने बताया कि केंद्र सरकार ने एक महत्वपूर्ण फैसला लिया है। सरकार इंडियन एयर फोर्स (IAF) के लिए 56 परिवहन हवाई जहाज खरीदेगी। इस पर करीब 22,000 करोड़ रुपए का खर्च आएगा।

वहीं नितिन गड़की ने इस मौके पर कहा, “हमने भारतमाला परियोजना के तहत करीब 45 करोड़ की लागत से 3 किलोमीटर लंबी एयरस्ट्रिप तैयार की है। इसकी क्वालिटी बहुत अच्छी है। इसका उपयोग भारतीय वायुसेना की आपातकालीन लैंडिंग के लिए होगा।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गुजरात के दुष्प्रचार में तल्लीन कॉन्ग्रेस क्या केरल पर पूछती है कोई सवाल, क्यों अंग विशेष में छिपा कर आता है सोना?

मुंद्रा पोर्ट पर ड्रग्स की बरामदगी को लेकर कॉन्ग्रेस पार्टी ने जो दुष्प्रचार किया, वह लगभग ढाई दशक से गुजरात के विरुद्ध चल रहे दुष्प्रचार का सबसे नया संस्करण है।

‘मुंबई डायरीज 26/11’: Amazon Prime पर इस्लामिक आतंकवाद को क्लीन चिट देने, हिन्दुओं को बुरा दिखाने का एक और प्रयास

26/11 हमले को Amazon Prime की वेब सीरीज में मु​सलमानों का महिमामंडन किया गया है। इसमें बताया गया है कि इस्लाम बुरा नहीं है। यह शांति और सहिष्णुता का धर्म है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,782FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe