Sunday, February 28, 2021
Home रिपोर्ट राष्ट्रीय सुरक्षा पैर पीछे, जुबान नरम: NSA अजीत डोभाल के वीडियो कॉल के बाद चीन के...

पैर पीछे, जुबान नरम: NSA अजीत डोभाल के वीडियो कॉल के बाद चीन के तेवर ढीले

इस बातचीत का नतीजा भी बहुत जल्द ही सामने भी आया, गलवान घाटी के जिस इलाके में भारत और चीन की सेना के बीच 15 जून को टकराव हुआ था, चीन की सेना उस जगह से कुछ किलोमीटर तक पीछे हट गई है।

गलवान घाटी में धोखे से वार करने वाला चीन पीछे हट गया है। भारत सरकार के लगातार सख्त तेवरों के बाद राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल (NSA) के वीडियो कॉल ने उसे ऐसा करने को मजबूर किया।

रविवार को डोभाल ने चीन के विदेश मंत्री और स्टेट काउंसलर वांग यी से बातचीत की। इसके बाद चीन ने स्वीकार किया कि यह कदम दोनों देशों के बीच सीमा पर तनाव कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।  

अजीत डोभाल और वांग यी की वार्ता मुख्य रूप से एलएसी पर हालात सामान्य करने और सीमा पर शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए हुई। दोनों देशों के प्रतिनिधियों ने यह भी सुनिश्चित किया कि आने वाले समय में सीमा पर इस तरह की कोई घटना न हो। 

वीडियो कॉल के दौरान दोनों ने सीमा पर बीते कुछ समय की घटनाओं पर भी अपने विचार रखे। बातचीत के दौरान जिस पर पहलू सबसे ज़्यादा ज़ोर दिया गया, वह था ‘डी एस्क्लेशन’। इसके बाद चीन ने अस्थायी निर्माण ख़त्म करने और 1.5 से 2 किलोमीटर तक पीछे हटने पर सहमति जताई।   

बातचीत के दौरान दोनों देशों के प्रतिनिधियों बीच इस बात पर भी सहमति बनी कि एलएसी से सेनाएँ हटाई जाएँगी और सीमा पर हालात पूरी तरह सामान्य किए जाएँगे। 

इस बातचीत का नतीजा भी बहुत जल्द ही सामने भी आया, गलवान घाटी के जिस इलाके में भारत और चीन की सेना के बीच 15 जून को टकराव हुआ था, चीन की सेना उस जगह से कुछ किलोमीटर तक पीछे हट गई है।   

चीन के विदेश मंत्रालय द्वारा जारी किए बयान के मुताबिक़, भारत और चीन के सैन्य अधिकारियों के बीच हुई बातचीत जिसके बाद तनाव सीमा पर तनाव घटाने के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाए जा रहे हैं। चीन ने साफ़ तौर पर हालात सामान्य होने की पुष्टि की है।  

समझौते के बाद दोनों पक्षों द्वारा वहाँ अस्थायी तौर पर जो संरचनाएँ बनाई गई थीं और निर्माण कार्य किया गया था, उसे भी हटाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। साथ ही दोनों पक्षों द्वारा ‘फिजिकल वेरफिकेशन’ भी किया जा रहा है। ‘लाइन ऑफ कण्ट्रोल’ पर चीन के पीछे हटने के बाद स्थिति सुधरने की उम्मीद जताई जा रही है।

चीनी सैनिक अब उस स्थल से 2 किलोमीटर पीछे चले जाने को मजबूर हो गए हैं। भारत ने भी वहाँ बंकरों और अन्य संरचनाओं का निर्माण किया था, ताकि चीन पर नज़र रखी जा सके। 15 जून की रात दोनों देशों के जवानों के बीच खूनी संघर्ष में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे जबकि चीन के 40 जवान मारे गए थे।

एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने ‘द हिन्दू’ को बताया कि जून 30 को हुए कमांडर स्तर की वार्ता में ये समझौता हुआ, जिसके बाद चीन की सेना पीछे हटने को मजबूर हुई। ये भारत के लिए जीत की तरह है क्योंकि हमारे लिए जो LAC की परिभाषा है, वहाँ से चीन पीछे हट गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘PM मोदी समेत BJP नेता प्रचार कर रहे हैं और पप्पू मछली पकड़ रहा है, फिर कहेंगे EVM खराब है’

भाजपा के सभी वरिष्ठ नेता चुनाव की तैयारियों में व्यस्त है, लेकिन राहुल गाँधी अभी भी मछली पकड़ने में लगे हुए हैं और चुनावों के नतीजों के बाद कॉन्ग्रेस कहेगी की EVM खराब है।

ममता के मंत्री फिरहाद हाकिम का मस्जिद में ऐलान: जीते तो मौलाना-इमामों का बढ़ेगा भत्ता, BJP को वोट न देने की अपील

“वोट हासिल करने के लिए जाति या सांप्रदायिक भावनाओं के लिए कोई अपील नहीं होगी। मस्जिदों, चर्चों, मंदिरों या अन्य पूजा स्थलों को चुनाव प्रचार के लिए मंच के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जाएगा।”

CM योगी के नेतृत्व में यूपी GSDP के मामले में बना भारत का दूसरा सबसे बड़ा राज्य: कोरोना काल में तरक्की का कीर्तिमान

योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाला उत्तर प्रदेश, 19.48 लाख करोड़ रुपए के साथ सकल राज्य घरेलू उत्पाद (GSDP) के मामले में भारत का दूसरा सबसे बड़ा राज्य बन गया है।

‘अब भी लगता है डर, नहीं हुई नुकसान की भरपाई’: दिल्ली दंगों में जिस पार्किंग में जली थी दर्जनों गाड़ियाँ, 1 साल बाद हम...

दिल्ली हिन्दू विरोधी दंगों में पूरी तरह तबाह शिव विहार पार्किंग के मालिक गजेंद्र परिहार ने बताया कि FIR में उन्होंने डर से कई चीजें नहीं बताई हैं और किसी को निशाना नहीं बनाया है, क्योंकि उन्हें इसी क्षेत्र में रहना है।

नीरव मोदी के विशेषज्ञ गवाह काट्जू की लंदन की कोर्ट में फजीहत, जज ने ‘फर्जी दलीलों’ को बताया निजी अजेंडा

काट्जू ने नीरव मोदी की पैरवी में भाजपा सरकार की तुलना हिटलर से करते हुए कहा था कि सरकार की नजर में नीरव मोदी यहूदी है और वह उसे सभी आर्थिक समस्याओं के लिए जिम्मेदार ठहराएगी।

बाल श्रीराम भी खिलौनों से खेलते थे, चतुरंग और पच्चीसी प्राचीन भारत में भी लोकप्रिय: PM मोदी ने ‘भारत खिलौना मेला’ का किया उद्घाटन

"खिलौनों का जो वैज्ञानिक पक्ष है, बच्चों के विकास में खिलौनों की जो भूमिका है, उसे अभिभावकों को समझना चाहिए और अध्यापकों को स्कूलों में भी उसे प्रयोग करना चाहिए।"

प्रचलित ख़बरें

आमिर खान की बेटी इरा अपने संघी हिन्दू नौकर के साथ फरार.. अब होगा न्याय: Fact Check से जानिए क्या है हकीकत

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि आमिर खान की बेटी इरा अपने हिन्दू नौकर के साथ भाग गई हैं। तस्वीर में इरा एक तिलक लगाए हुए युवक के साथ देखी जा सकती हैं।

‘अंकित शर्मा ने किया हिंसक भीड़ का नेतृत्व, ताहिर हुसैन कर रहा था खुद का बचाव’: ‘द लल्लनटॉप’ ने जमकर परोसा प्रोपेगेंडा

हमारे पास अंकित के परिवार के कुछ शब्द हैं, जिन्हें पढ़कर आज लगता है कि उन्हें पहले से पता था कि आखिर में न्याय तो मिलेगा नहीं लेकिन उसके बदले अंकित को दंगाई घोषित जरूर कर दिया जाएगा।

शैतान की आजादी के लिए पड़ोसी के दिल को आलू के साथ पकाया, खिलाने के बाद अंकल-ऑन्टी को भी बेरहमी से मारा

मृत पड़ोसी के दिल को लेकर एंडरसन अपने अंकल के घर गया जहाँ उसने इस दिल को पकाया। फिर अपने अंकल और उनकी पत्नी को इसे सर्व किया।

कोर्ट के कुरान बाँटने के आदेश को ठुकराने वाली ऋचा भारती के पिता की गोली मार कर हत्या, शव को कुएँ में फेंका

शिकायत के अनुसार, वो अपने खेत के पास ही थे कि तभी आठ बदमाशों ने कन्धों पर रायफल रखकर उन्हें घेर लिया और फायरिंग करने लगे।

सतीश बनकर हिंदू युवती से शादी कर रहा था 2 बच्चों का बाप टीपू: मंडप पर नहीं बता सका गोत्र, ट्रू कॉलर ने पकड़ाया

ग्रामीणों ने जब सतीश राय बने हुए टीपू सुल्तान से उसके गोत्र के बारे में पूछा तो वह इसका जवाब नहीं दे पाया, चुप रह गया। ट्रू कॉलर ऐप में भी उसका नाम टीपू ही था।

जलाकर मार डाले गए 27 महिला, 22 पुरुष, 10 बच्चे भी रामभक्त ही थे, अयोध्या से ही लौट रहे थे

27 फरवरी 2002 की सुबह अयोध्या से लौट रहे 59 रामभक्तों को साबरमती एक्सप्रेस में करीब 2000 लोगों की भीड़ ने जलाकर मार डाला था।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,194FansLike
81,832FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe