Friday, July 19, 2024
Homeसोशल ट्रेंड'अल्लाह करेगा इजरायल को तबाह': कॉन्ग्रेस नेता अली मेहदी के भीतर का निकला 'उम्माह'

‘अल्लाह करेगा इजरायल को तबाह’: कॉन्ग्रेस नेता अली मेहदी के भीतर का निकला ‘उम्माह’

हमास द्वारा इजरायली शहरों को निशाना बनाकर मंगलवार शाम से बीच शुरू किए गए राकेट हमले के बाद से दोनों देशों के बीच माहौल तनावपूर्ण है।

इजरायल-फलस्तीन संघर्ष के फिर से भड़कने के साथ ही दिल्ली कॉन्ग्रेस उपाध्यक्ष मेहदी हसन ने यहूदी देश के खिलाफ अपनी नफरत व्यक्त दिखाई है। मेहदी ने इजरायल के तबाह होने की कामना करते हुए कहा कि अल्लाह इसे बर्बाद कर देंगे।

मेहदी ने ट्वीट किया, अल्लाह इजरायल को तबाह कर देंगे इंशाअल्लाह #अल्लाहहूअकबर

स्रोत: ट्विटर

इजरायल के बर्बाद होने की दुआ वाले ट्वीट के साथ मेहदी ने एक रोती हुई अरबी महिला की तस्वीर शेयर की है, जिसके पीछे अल अक्सा मस्जिद है।

हमास के राकेट हमलों के बाद इजरायल-फलस्तीन के बीच तनाव बढ़ा

इजरायल के खिलाफ मेहदी का नफरत भरा ट्वीट उस समय आया है जब यहूदी राष्ट्र और फलीस्तान के बीच तनाव चरम पर पहुँच गया है। खासतौर पर हमास द्वारा इजरायली शहरों को निशाना बनाकर मंगलवार शाम से बीच शुरू किए गए राकेट हमले के बाद से दोनों देशों के बीच माहौल तनावपूर्ण है।

इसके जवाब में, इजरायल ने गाजा पट्टी के अंदर फलस्तीनी आतंकी समूह हमास पर अपने हमले तेज कर दिए। इजरायली सुरक्षा बलों ने हमास द्वारा इजरायल के खिलाफ लगातार हमलों के जवाब में गाजा में लक्ष्यों को निशाना बनाते हुए हवाई हमले किए। मंगलवार को जवाबी कार्रवाई के दौरान, एक इजरायली हवाई हमले में हमास द्वारा नियंत्रित एक ऊँची रिहायशी और ऑफिस वाली इमारत को ध्वस्त कर दिया गया।

पिछले कई वर्षों के सबसे भीषण हवाई हमलों में गाजा में कम से कम 35 और इजरायल में पाँच लोगों की मौत हो गई।

इजरायल ने तेल अवीव और मध्य इजरायल को निशाना बनाकर मंगलवाल शाम किए गए रॉकेट हमलों को रोकने के लिए आयरन डोम एयर डिफेंस सिस्टम तैनात किया है। इजरायली सुरक्षा बलों (IDF) ने ने इसका एक वीडियो जारी किया जिसमें आयरन डोम को फलस्तीनी रॉकेट को आसमान में ही नष्ट करते देखा जा सकता है।

यह हिंसा यरुशलम में हफ्तों से जारी तनाव का नतीजा है, जिसमें अल-अक्सा मस्जिद परिसर के आसपास इजरायली पुलिस और फलस्तीनी प्रदर्शनकारियों के बीच झड़पें हुईं। मस्जिद का निर्माण 35 एकड़ जमीन पर किया गया है, जिसे मुस्लिमों द्वारा हरम अल-शरीफ या पवित्र इबादतगाह के रूप में जाना जाता। यह यहूदियों द्वारा टेंपल माउंट के रूप में भी पूजनीय है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

5 साल में 123% तक बढ़ गए मुस्लिम वोटर, फैक्ट फाइडिंग रिपोर्ट से सामने आई झारखंड की 10 सीटों की जमीनी हकीकत: बाबूलाल का...

झारखंड की 10 विधानसभा सीटों के कई मुस्लिम बहुल बूथ पर 100% से अधिक वोटर बढ़ गए हैं। यह खुलासा भाजपा की एक रिपोर्ट में हुआ है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -