Saturday, October 1, 2022
Homeसोशल ट्रेंडइंस्टाग्राम अकाउंट: दिल्ली के मुस्लिम स्टूडेंट्स, दुआ- गैर मुस्लिमों की हो बर्बादी, तालिबान को...

इंस्टाग्राम अकाउंट: दिल्ली के मुस्लिम स्टूडेंट्स, दुआ- गैर मुस्लिमों की हो बर्बादी, तालिबान को अल्लाह दे शरिया लागू करने की ताकत

स्टोरी में फॉलोअर्स को यह सुझाव दिया गया कि वो 'कुफ्र दोस्तों' के आगे तालिबान की आलोचना न करें और तालिबान के बारे में क्लोज्ड ग्रुप्स में ही चर्चा करें।

दिल्ली के मुस्लिम स्टूडेंट्स (muslim_students_of_delhi) नामक इंस्टाग्राम अकाउंट से सोमवार (16 अगस्त 2021) को भड़काऊ स्टोरी पोस्ट कर उन लोगों को निशाना बनाया गया जो तालिबान की निंदा कर रहे हैं। साथ ही इन्हें कुफ्र (kuffars) बताया गया। इस अकाउंट से मुस्लिमों को क्लोज्ड ग्रुप्स में तालिबान का समर्थन करने का सुझाव भी दिया गया। हालाँकि सोशल मीडिया पर विवाद होने के बाद 8600 फॉलोअर्स और 449 पोस्ट वाला यह अकाउंट डिलीट कर दिया गया।

muslim_students_of_delhi इंस्टाग्राम अकाउंट (फोटो : ट्विटर/alloutlefties)

एंटी हिन्दू और तालिबान समर्थित पोस्ट की श्रृंखला

alloutlefties और lsab17 नाम के दो ट्विटर यूजर्स द्वारा इन इंस्टाग्राम स्टोरी के स्क्रीनशॉट शेयर किए गए। पहली स्टोरी में इंस्टाग्राम अकाउंट द्वारा फॉलोअर्स से उन लोगों से सावधान रहने के लिए कहा गया जो तालिबान की निंदा कर रहे हैं। स्टोरी में कहा गया कि अगर तालिबान शरिया का 1% भी लागू करता है तो यह ‘कुफ्र सरकारों’ और शरिया-विरोधी समूहों से कहीं बेहतर होगा।

स्टोरी में फॉलोअर्स को यह सुझाव दिया गया कि वो ‘कुफ्र दोस्तों’ के आगे तालिबान की आलोचना न करें और तालिबान के बारे में क्लोज्ड ग्रुप्स में ही चर्चा करें। साथ ही स्टोरी में यह भी कहा गया कि उनकी (कुफ्र) तालिबान से नफरत करने की एक ही वजह है कि वे इस्लाम से नफरत करते हैं और अल्लाह के कानून से नफरत करते हैं।

आगे की स्टोरी में वो इस बात का जश्न मना रहे थे कि अफगान रेडियो अब गाना नहीं बजाएगा और महिलाएँ सिर से पैर तक ढकी हुई सड़कों पर निकलेंगी। उन्होंने अफगानिस्तान में प्रतिमाओं और लोकतंत्र की बर्बादी पर भी खुशी जाहिर की।

(स्क्रीनशॉट : ट्विटर/alloutlefties)

उन्होंने अल्लाह के हाथों कुफ्र (गैर-मुस्लिम) और मुनाफिक़ीन (मुस्लिम, जिन्हें इस्लाम में यकीन नहीं) की बर्बादी की इच्छा प्रकट की साथ ही यह दुआ माँगी कि अल्लाह उन्हें (तालिबान) ताकत दे जो अल्लाह का कानून (शरिया) लागू करने की राह पर आगे बढ़ रहे हैं।

(स्क्रीनशॉट : ट्विटर/alloutlefties)

उनके अनुसार इस्लामिक मुल्कों के लिए शरिया की माँग करना गलत नहीं है, ठीक उसी तरह जैसे वामपंथी मार्क्स या लेनिन के सिद्धांतों का अनुसरण करने की माँग करते हैं और हिन्दू, हिन्दू राष्ट्र की इच्छा रखते हैं। भारत एक लोकतंत्र है न कि हिन्दू राष्ट्र।

(स्क्रीनशॉट : ट्विटर/alloutlefties)
(स्क्रीनशॉट : ट्विटर/इंस्टाग्राम)

हालाँकि ‘muslim_students_of_delhi’ नाम के इस समूह ने विवाद और आलोचना होने के बाद भी अपना रूख नहीं बदला। कई यूजर्स का कहना है कि इस समूह का एक बैकअप अकाउंट भी है जो अभी भी इंस्टाग्राम पर सक्रिय है और सिर्फ फॉलोअर ही वहाँ किए गए पोस्ट देख सकते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दुर्गा पूजा कार्यक्रम में गरबा करता दिखा मुनव्वर फारूकी, सेल्फी लेने के लिए होड़: वीडियो आया सामने, लोगों ने पूछा – हिन्दू धर्म का...

कॉमेडी के नाम पर हिन्दू देवी-देवताओं को गाली देकर शो करने वाला मुनव्वर फारुकी गरबा के कार्यक्रम में देखा गया, जिसके बाद लोग आक्रोशित हैं।

धर्म ही नहीं जमीन भी गँवा रहे हिंदू: कब्जे की भूमि पर चर्च-कब्रिस्तान से लेकर मिशनरी स्कूल तक, पहाड़ों का भी हो रहा धर्मांतरण

जमीनी स्थिति भयावह है। सरकारी से लेकर जनजातीय समाज की जमीनों पर ईसाई मिशनरियों का कब्जा है। अदालती आदेशों के बाद भी जमीन खाली नहीं हो रहे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
225,570FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe