Friday, July 19, 2024
Homeसोशल ट्रेंडभारत में लॉन्च हो गया ट्विटर BLUE: जानें कितना होगा सब्सक्रिप्शन चार्ज, कैसे होगी...

भारत में लॉन्च हो गया ट्विटर BLUE: जानें कितना होगा सब्सक्रिप्शन चार्ज, कैसे होगी पेमेंट

ट्विटर ने भारत में ब्लू टिक सब्सक्रिप्शन सर्विस लॉन्च कर दी है। इस सर्विस के तहत ट्विटर वेब के लिए 2 प्लान दिए जाएँगे। पहले प्लान में यूजर से 6, 800 रुपए लिए जाएँगे। दूसरा प्लान 7800 रुपए सालाना का है। ब्लू सब्सक्रिप्शन सर्विस भारत के अलावा ब्राजील और इंडोनेशिया में भी लागू हो चुकी है।

ट्विटर ने भारत में ब्लू टिक सब्सक्रिप्शन सर्विस लॉन्च कर दी है। ब्लू सब्सक्रिप्शन सर्विस भारत के अलावा ब्राजील और इंडोनेशिया में भी लागू हो चुकी है। इस सर्विस के तहत ट्विटर वेब के लिए 2 प्लान दिए जाएँगे। पहले प्लान में यूजर से 6, 800 रुपए लिए जाएँगे जिसके मुताबिक हर माह 566 रुपए प्रति माह देना होगा। इसके अलावा दूसरा प्लान 7800 रुपए सालाना का है। इसमें यूजर से 650 रुपए प्रति माह लिया जाएगा।

ट्विटर वेब का सब्सक्रिप्शन चार्ज

पेमेंट की बात करें तो फिलहाल ये केवल कार्ड पेमेंट ही स्वीकार रहा है। इसमें वीजा, मास्टरकार्ड, अमेरिकन एक्सप्रेस, डिस्कवर कार्ड का प्रयोग सब्सक्रिप्शन लेने के लिए किया जा सकता है। RUPAY और UPI की सुविधा फिलहाल ट्विटर की ओर से नहीं दी गई है।

एंड्रॉयड और एप्पल यूजर्स को सब्सक्रिप्शन के लिए तोड़ा ज्यादा पैसा देना होगा। इन दोनों तरह के यूजर्स को ट्विटर 900 रुपए प्रति माह में सब्सक्रिप्शन देगा।

एंड्रॉयड और एप्पल यूजर्स के लिए सब्सक्रिप्शन

बता दें कि ट्विटर ने ये भी ऐलान किया है कि ब्लू सब्सक्रिप्शन का अपडेटेड वर्जन में कई सुविधाएँ साथ आने वाली हैं। जैसे यूजर्स को ट्वीट एडिट करने को दिया जाएगा, बुकमार्क ऑर्गनाइज हो सकेगा, एप्लीकेशन आइकन कस्टमाइज हो सकेंगे, HD वीडियो आदि चीजें भी मिलेंगी। इसके अलावा रिप्लाई में टॉप प्राइरटी, मेंशन, सर्च, कम एड, लंबी वीडियो और नए फीचर एक्सेस करने की क्षमता आदि देना प्राथमिकता है।

मालूम हो कि इससे पहले बताया गया था कि ट्विटर ब्लू बटन वेब वर्जन में दिखना शुरू हो चुका है। बिजनेस के लिए ट्विटर ब्लू एक अन्य सर्विस है । ऐसे सब्सक्राइबर्स के लिए गोल्ड चेकमार्क है जो एक सामान्य अकाउंट और ऑफिशियल बिजनेस अकाउंट में फर्क बताएगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -