Wednesday, January 26, 2022
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेक'UP में RSS के कट्टरपंथियों की हरकत देखिए...' मथुरा पुलिस ने किया 'गिरोह' के...

‘UP में RSS के कट्टरपंथियों की हरकत देखिए…’ मथुरा पुलिस ने किया ‘गिरोह’ के हिन्दू विरोधी एजेंडे को बेनकाब

मथुरा पुलिस ने इस मामले का पूरा खंडन करते हुए कहा है कि मामले को बेवजह सांप्रदायिक रंग देकर माहौल बिगाड़ने तथा आरएसएस और हिन्दुओं को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है जबकि असल मामला फैलाई जा रही फेक न्यूज़ से बहुत अलग है।

हिन्दुओं के खिलाफ घृणा फ़ैलाने वालों ने एक बार फिर ज़हर उगला था मगर पुलिस की सूझबूझ ने इसके चलते माहौल बिगड़ने से पहले ही रोक लिया, @Notmukerji नामक ट्विटर एकाउंट से एक वीडियो शेयर किया गया जिसके साथ हिन्दुओं पर आरोप मढ़ते हुए लिखा गया-

“यूपी में आरएसएस के हिन्दू कट्टरपंथियों की हरकत देखिए, एक इसाई दंपत्ति को अपनी ज़मीन पर अवैध कब्ज़ा करने का विरोध करने पर जिंदा जला दिया गया, उनका बेटा वहीं पड़ा बिलखता रहा। यह कितनी भयावह घटना है। दुनिया ने तो जैसे भारत में हो रहे इस अत्याचार पर आँख ही मूँद ली है।”

इतना पोस्ट होते ही यह ट्वीट वायरल हो गया, करीब 5500 रीट्वीट के साथ इसने बहुत लोगों का ध्यान खींचा मगर हिन्दुओं के खिलाफ नफरत फैलाने वालों की बुरी किस्मत थी क्योंकि उनका यह एजेंडा ज्यादा चल नहीं सका, मथुरा पुलिस ने इस वायरल होते ट्वीट पर संज्ञान लेते हुए इसकी सच्चाई खंगाल निकाल कर सामने रख दी और बताया कि यह पूरी तरह से एक फेक न्यूज़ है जिसे सिर्फ माहौल बिगाड़ने के उद्देश्य से फैलाया जा रहा है.

मथुरा पुलिस ने पूरे मामले की छानबीन करने के बाद फेक न्यूज़ का खंडन करते हुए फैलाए जा रहे वीडियो से सम्बंधित घटना के बारे में अपने ट्वीट में बताया कि वीडियो दरअसल 28 अगस्त 2019 की एक घटना से सम्बंधित है जिसमें दंपत्ति नगर के एक नामी-गिरामी व्यक्ति द्वारा घर पर कब्ज़ा करने और धमकी दिए जाने से परेशान थे और थक हार-कर उन्होंने थाने के सामने आत्मदाह करने की कोशिश की थी।(हालाँकि बाद में दोनों को आग से बचाकर पुलिस उन्हें अस्पताल ले गई जहाँ उनका उपचार हो सके)

मथुरा पुलिस ने इस मामले का पूरा खंडन करते हुए कहा है कि मामले को बेवजह सांप्रदायिक रंग देकर माहौल बिगाड़ने तथा आरएसएस और हिन्दुओं को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है जबकि असल मामला फैलाई जा रही फेक न्यूज़ से बहुत अलग है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

माइनस 40 डिग्री हो या 15000 फीट की ऊँचाई… ITBP के हिमवीरों ने तिरंगा फहरा यूँ मनाया 73वाँ गणतंत्र दिवस

सीमाओं की रक्षा में तैनात भारतीय तिब्बत बॉर्डर पुलिस (ITBP) ने लद्दाख और उत्तराखंड की बर्फीली ऊँचाई वाली चोटियों में तिरंगा फहराया।

लाल किला में पेशाब से लेकर महिला पुलिस से बदतमीजी तक: याद कीजिए 26 जनवरी, 2021… जब दिल्ली में खेला गया था हिंसक खेल

आइए, याद करते हैं 26 जनवरी, 2021 (गणतंत्र दिवस) को दिल्ली में क्या-क्या हुआ था। किसान प्रदर्शनकारियों ने हिंसा के दौरान क्या-क्या किया। नेताओं-पत्रकारों ने कैसे उन्हें भड़काया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
153,622FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe