Thursday, November 26, 2020
Home हास्य-व्यंग्य-कटाक्ष चेहरे पर नकाब, होंठों पर आजादी के नारे, जॉइंट फूँककर हवा में उड़ता है...

चेहरे पर नकाब, होंठों पर आजादी के नारे, जॉइंट फूँककर हवा में उड़ता है अपना ‘काम’रेड KK

क्रांति उर्फ़ केके ने अपने फैसले की शुरुआत बाकी के बचे हुए खेतों का सौदा करके की। उसने घर बेच दिया, खेत बेच दिया बोला दिल्ली जा रहा, वहाँ क्रांति हो रही। लेकिन क्रांति बैलों की जोड़ी का सौदा न कर पाया और दिल्ली निकल लिया।

कॉमरेड क्रांति काम नहीं करता था, उसके पास कागज़ नहीं थे सो मनरेगा से भी लाभ न ले सका। इस तरह से क्रांति कुमार सर्वहारा होने के साथ साथ गरीब सर्वहारा क्रांति कुमार भी था। क्रांति पुस्तैनी खेत बेचता, कच्ची पीता, अपनी स्वैण (बीवी) को पीटता, फिर भी क्रांति कुमार सर्वहारा ही रहा कभी अपने नाम के साथ बुजुर्वा न जोड़ सका। क्रांति इस तरह से व्यवस्थाओं से हर वक़्त खिसियाया ही रहता था। इस तरह क्रांति कुमार, उर्फ़ केके के अंदर हर वक़्त एक ‘एनार्किस्ट’ मौजूद था।

कोई कहता रे क्रांति! दिन भर छत पर पड़ा धूप सेंकते कान का मेल निकालता है, कच्ची पी-पीकर तो मर ही जाएगा, तो केके तुरंत फैज़ या ग़ालिब का कोई शेर पढ़कर अपनी पढ़ाई-लिखाई को जस्टिफाई करता। सामने वाला भी ये सोचकर चुप हो जाता कि उर्दू में कहा है तो ठीक ही कहा होगा। कोई उसकी बेवजह बीच में लाई हुई नज़्म पर सवाल करता भी, तो क्रांति कुमार फ़ौरन उसको अनपढ़ और ट्रोल कह देता। कॉमरेड केके दिनभर दैनिक सस्ते इंटरनेट से कुणाल कामरा जैसे सस्ते कॉमेडियंस के यूट्यूब वीडियो देखता था। संविधान उसने फेसबुक पर पढ़ा था और बोल्शेविकों की कहानियाँ व्हाट्सएप्प यूनिवर्सिटी पर।

क्रांति की कविताएँ पढ़-पढ़कर बोर हो चुके क्रांति ने एक दिन निर्णय ले लिया कि अब कोई ऐसा कदम उठाएगा जिससे एक झटके में क्रांति हो सके। हालाँकि क्रांति कुमार जनता था कि फैज़ और अल्ताफ राजा इतना कुछ लिखकर गए हैं कि अगर वो सालभर भी क्रांति की ही माँग करता रहे, तब भी उसके लिए क्रांति के नारे कम नहीं पड़ेंगे।

क्रांति ने फैसला लिया कि अब वापस दिल्ली जाकर किसी वामपंथी गुट का चेहरा बन जाएगा और सब कुछ फिर से शुरू करेगा। गाँव लौटकर नहीं आएगा और जिंदगी की सारी समस्याओं का समाधान हो जाएगा। क्रांति उर्फ़ केके ने अपने फैसले की शुरुआत बाकी के बचे हुए खेतों का सौदा करके की। उसने घर बेच दिया, खेत बेच दिया बोला दिल्ली जा रहा, वहाँ क्रांति हो रही। लेकिन क्रांति बैलों की जोड़ी का सौदा न कर पाया और दिल्ली निकल लिया।

दिल्ली जाकर केके ने पुराने यार को फोन लगाया। बोला- रियूनियन करनी है। साथी बोले- शाहीन बाग़ चले आओ यहाँ आजकल सब इकट्ठे हुए हैं। खाना-पीना सब मुफ्त है और मीडिया कवरेज भी ऐसा, जैसा आज तक नहीं मिला। शाहीनबाग पहुँचते ही केके ने जो देखा उसकी पतलून भीग गई। दो कॉमरेड्स महँगी सिगरेट को लेकर भिड़ गए। एक कॉमरेड ने हाथ में जूता लिया और दूसरे कॉमरेड की कनपट्टी पर रसीद दिए। इतने में देखते ही देखते दोनों गुट भिड़ गए। केके ने देखा अब मामला बहुत बदल गया है, उसकी उम्र में सिर्फ बीड़ी बाँटकर काम चल जाता था। केके ने फ़ौरन अपनी बीवी को फोन घुमाया। केके बोला- “अरे कम्बख्त सुन, तूने वो बैलों की जोड़ी बेची तो नहीं? उसे मत बेचना, मैं घर लौट रहा हूँ। फुन्डू फुक्क… कै की क्रान्ति, कै कू कुछ!!”

जब से क्रांति कुमार उर्फ़ केके दिल्ली के मशहूर ‘विष-विद्यालय’ से अपनी सदियों से चली आ रही पीएचडी पूरी कर गाँव लौटा था, तब से वो बुझा-बुझा सा रहने लगा था। गाँव में न गंगा ढाबा का सस्ता किन्तु लजीज खाना था, ना ही सस्ते हॉस्टल और ना ही ढपली बजाने के लिए किसी तरह की कोई सब्सिडी।

लेकिन CAA और NRC के बवाल ने तो मानों उसके डूबते क्रांति के करियर में फिर से जान ही फूँक दी। कुछ साल पहले ही जो क्रांति कुमार जंतर-मंतर पर “मैं भी अन्ना” की टोपी पहने खुद को “एनार्किस्ट” की संज्ञा देने लगा था, वो आजकल शाहीन बाग़ जाकर “सेव डेमोक्रेसी” के नारे लगता नजर आ रहा है।

जो कॉमरेड केके कभी भारत को एक देश मानने को राजी नहीं हुआ था, वो भी आजकल इस देश की मिटटी में किस-किस का खून शामिल है उसकी डीएनए रिपोर्ट दिखाता फिर रहा है। वो कह रहा है कि वो इस देश के साथ खिलवाड़ नहीं होने देंगे।

आज की क्रांति को देखकर सात-आठ साल पहले का जंतर-मंतर वाला ‘एनार्किस्ट क्रांति कुमार’ फूट-फूटकर जरूर रोता। कहाँ वो क्रांति कुमार, व्यवस्था और तिरंगा जिसके ठेंगे पर रहा करती थी, उसी क्रांति कुमार की जुबान पर आज व्यवस्थाओं का रोना है और हाथों में तिरंगा। आज उसकी जुबान केसरी है और मुँह में राष्ट्रगान।

मैं पूछता हूँ कि क्या हमें उस महान फासीवादी, मनुवादी सरकार को शुक्रिया कहना चाहिए या नहीं कहना चाहिए भाइयों-बहनों जिसने एक अराजकतावादी को भी संविधान का प्रहरी बनने के लिए प्रेरित कर दिया है? हर हाल में हमें उस सरकार को शुक्रिया कहना चाहिए। लेकिन सवाल ये है कि अगर वाकई में यह सरकार फासीवादी होती और इसका लीडर हिटलर होता तो क्या अब तक शाहीन बाग़ को पोलैंड ना बना दिया गया होता?क्या देश के ‘वोक लिबरल्स’ और उनके ‘जर्मन होलोकॉस्ट’ को लेकर देखे हर हसीन सपने को अब तक सपनों की दुनिया से उठाकर जमीन पर ना उतार दिया गया होता? लेकिन वह ऐसा नहीं कर रहा है, क्रांति कुमार इस बात से भी दुखी हैं।

क्रांति कुमार एक ‘सेडिस्ट’ भी है और ‘होपलेस रोमेंटिक’ भी। वह चाहता है कि किसी भी क्रांति की हर बुरी याद से वो ‘काश’ जुड़ा होता। यह ‘काश’ ही क्रांति कुमार की सबसे बेहतरीन रूमानी फंतासी भी है। कम से कम जिस तरह उसका यह ‘काश’ 2014 के चुनावों से ‘काश’ की ही अवस्था में है, उससे तो यही साबित होता है। उसने नारे लगाए, मनुवाद के खिलाफ, आजादी के खिलाफ, ब्राह्मणों के खिलाफ, और अब किसी कथित गैस चैंबर के खिलाफ भी वो नारेबाजी कर रहा है, लेकिन ‘शासक’ हैं कि यह सब वास्तविकता के धरातल पर उतरते ही नहीं।

महान सेक्युलर गायक अल्ताफ राजा इसी दिन के लिए एक सुंदर सी ‘नज़्म’ गा चुके थे- “दुश्मनी में दोस्ती का सिला रहने दिया, उसके सारे खत जलाए और पता रहने दिया….”

कबीरा इस संसार में भाँति-भाँति के कामरेड्स: कथा कामरेड क्रांति कुमार की

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

क्या है अर्णब-अन्वय नाइक मामला? जानिए सब-कुछ: अजीत भारती का वीडियो | Arnab Goswami Anvay Naik case explained in detail

रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्णब गोस्वामी की गिरफ्तारी पर मुंबई पुलिस का चेहरा 4 नवंबर को पूरे देश ने देखा। 20 सशस्त्र पुलिसकर्मी उनके घर में घुसे, घसीटकर उन्हें अलीबाग थाने ले गए।

Cyclone Nivar के अगले 12 घंटे में अति विकराल रूप धरने की आशंका: ट्रेनें, फ्लाइट रद्द, NDRF की टीम तैनात

“तमिलनाडु से लगभग 30,000 से अधिक लोगों को निकाला गया है और पुडुचेरी से 7,000 लोगों को निकाला गया है। केंद्र, राज्य और स्थानीय सरकारें मिलकर काम कर रही हैं। क्षति को कम करने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं।”

आखिर CM रावत ने India Today से ये क्यों कहा- भ्रामक खबर फैलाने से बचें?

India Today ने अपने समाचार चैनल पर दावा किया कि उत्तराखंड सरकार ने देहरादून में रविवार, 29 नवम्बर से लॉकडाउन घोषित किया है।

#justiceforkirannegi: CM त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उठाया गैंगरेप पीड़िता के परिवार को इंसाफ दिलाने का बीड़ा, कहा- अब चुप नहीं बैठेंगे

आज सोशल मीडिया के कारण किरण नेगी का यह मामला मुख्यधारा में आया है। उत्तराखंड की बेटी को इंसाफ दिलाने के लिए सीएम त्रिवेंद्र रावत ने इस पर स्वयं संज्ञान ले लिया है।

‘पहले सिर्फ ऐलान होते थे, 2014 के बाद हमने सोच बदली’: जानिए लखनऊ यूनिवर्सिटी के स्‍थापना दिवस पर क्या बोले PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को लखनऊ विश्वविद्यालय के शताब्दी वर्ष समारोह को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित किया। इस दौरान राजनाथ सिंह और योगी आदित्यनाथ के साथ ही अन्य मंत्री भी आनलाइन जुड़े रहे।

सरकार ने लक्ष्मी विलास बैंक के डीबीएस बैंक में विलय को दी मंजूरी: निकासी की सीमा भी हटाई, 6000 करोड़ के निवेश को स्वीकृति

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने लक्ष्‍मी विलास बैंक (Lakshmi Vilas Bank) के डीबीएस बैंक इंडिया लिमिटेड (DBS Bank India Limited)के साथ विलय के प्रस्‍ताव को मंजूरी दे दी है।

प्रचलित ख़बरें

फैक्टचेक: क्या आरफा खानम घंटे भर में फोटो वाली बकरी मार कर खा गई?

आरफा के पाँच बज कर दस मिनट वाले ट्वीट के साथ एक ट्वीट छः बज कर दस मिनट का था, जिसके स्क्रीनशॉट को कई लोगों ने एक दूसरे को व्हाट्सएप्प पर भेजना शुरु किया। किसी ने यह लिखा कि देखो जिस बकरी को सीने से चिपका कर फोटो खिंचा रही थी, घंटे भर में उसे मार कर खा गई।

‘मेरे पास वकील रखने के लिए रुपए नहीं हैं’: सुप्रीम कोर्ट में पूर्व सैन्य अधिकारी की पत्नी से हरीश साल्वे ने कहा- ‘मैं हूँ...

साल्वे ने अर्णब गोस्वामी का केस लड़ने के लिए रिपब्लिक न्यूज नेटवर्क से 1 रुपया भी नहीं लिया। अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में उन्होंने कुलभूषण जाधव का केस भी मात्र 1 रुपए में लड़ा था।

बहन से छेड़खानी करता था ड्राइवर मुश्ताक, भाई गोलू और गुड्डू ने कुल्हाड़ी से काट डाला: खुद को किया पुलिस के हवाले

गोलू और गुड्डू शाम के वक्त मुश्ताक के घर पहुँच गए। दोनों ने मुश्ताक को उसके घर से घसीट कर बाहर निकाला और जम कर पीटा, फिर उन्होंने...

इतिहास में गुम हैं मुगलों को 17 बार हराने वाले अहोम योद्धा: देश भूल गया ब्रह्मपुत्र के इन बेटों को

राजपूतों और मराठों की तरह कोई और भी था, जिसने मुगलों को न सिर्फ़ नाकों चने चबवाए बल्कि उन्हें खदेड़ कर भगाया। असम के उन योद्धाओं को राष्ट्रीय पहचान नहीं मिल पाई, जिन्होंने जलयुद्ध का ऐसा नमूना पेश किया कि औरंगज़ेब तक हिल उठा। आइए, चलते हैं पूर्व में।

कंगना को मुँह तोड़ने की धमकी देने वाले शिवसेना MLA के 10 ठिकानों पर ED की छापेमारी: वित्तीय अनियमितता का आरोप

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मंगलवार को शिवसेना नेता प्रताप सरनाईक के आवास और दफ्तर पर छापेमारी की। यह छापेमारी सरनाईक के मुंबई और ठाणे के 10 ठिकानों पर की गई।

‘मुस्लिमों ने छठ में व्रती महिलाओं का कपड़े बदलते वीडियो बनाया, घाट पर मल-मूत्र त्यागा, सब तोड़ डाला’ – कटिहार की घटना

बिहार का कटिहार मुस्लिम बहुत सीमांचल का हिस्सा है, जिसकी सीमाएँ पश्चिम बंगाल से लगती हैं। वहाँ के छठ घाट को तहस-नहस कर दिया गया।
- विज्ञापन -

‘मैं मध्य प्रदेश की धरती पर ‘लव जिहाद’ नहीं होने दूँगा, ये देश को तोड़ने का षड्यंत्र है’: CM शिवराज सिंह चौहान

“मेरे सामने ऐसे उदाहरण भी हैं कि शादी कर लो, पंचायत चुनााव लड़वा दो और फिर पंचायत के संसाधनों पर कब्जा कर लो। ऐसे लोगों से सावधान रहने की जरूरत है।"
00:20:48

क्या है अर्णब-अन्वय नाइक मामला? जानिए सब-कुछ: अजीत भारती का वीडियो | Arnab Goswami Anvay Naik case explained in detail

रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्णब गोस्वामी की गिरफ्तारी पर मुंबई पुलिस का चेहरा 4 नवंबर को पूरे देश ने देखा। 20 सशस्त्र पुलिसकर्मी उनके घर में घुसे, घसीटकर उन्हें अलीबाग थाने ले गए।
00:16:15

यूपी में लव जिहाद पर अध्यादेश पारित: अजीत भारती का वीडियो | UP passes ordinance on Love Jihad and conversions

नाम छिपाकर शादी करने वाले के लिए 10 साल की सजा का प्रावधान किया गया है। इसके अलावा गैरकानूनी तरीके से धर्म परिवर्तन पर 1 से 10 साल तक की सजा होगी।

Cyclone Nivar के अगले 12 घंटे में अति विकराल रूप धरने की आशंका: ट्रेनें, फ्लाइट रद्द, NDRF की टीम तैनात

“तमिलनाडु से लगभग 30,000 से अधिक लोगों को निकाला गया है और पुडुचेरी से 7,000 लोगों को निकाला गया है। केंद्र, राज्य और स्थानीय सरकारें मिलकर काम कर रही हैं। क्षति को कम करने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं।”

आखिर CM रावत ने India Today से ये क्यों कहा- भ्रामक खबर फैलाने से बचें?

India Today ने अपने समाचार चैनल पर दावा किया कि उत्तराखंड सरकार ने देहरादून में रविवार, 29 नवम्बर से लॉकडाउन घोषित किया है।

#justiceforkirannegi: CM त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उठाया गैंगरेप पीड़िता के परिवार को इंसाफ दिलाने का बीड़ा, कहा- अब चुप नहीं बैठेंगे

आज सोशल मीडिया के कारण किरण नेगी का यह मामला मुख्यधारा में आया है। उत्तराखंड की बेटी को इंसाफ दिलाने के लिए सीएम त्रिवेंद्र रावत ने इस पर स्वयं संज्ञान ले लिया है।

फैक्टचेक: क्या आरफा खानम घंटे भर में फोटो वाली बकरी मार कर खा गई?

आरफा के पाँच बज कर दस मिनट वाले ट्वीट के साथ एक ट्वीट छः बज कर दस मिनट का था, जिसके स्क्रीनशॉट को कई लोगों ने एक दूसरे को व्हाट्सएप्प पर भेजना शुरु किया। किसी ने यह लिखा कि देखो जिस बकरी को सीने से चिपका कर फोटो खिंचा रही थी, घंटे भर में उसे मार कर खा गई।

‘पहले सिर्फ ऐलान होते थे, 2014 के बाद हमने सोच बदली’: जानिए लखनऊ यूनिवर्सिटी के स्‍थापना दिवस पर क्या बोले PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को लखनऊ विश्वविद्यालय के शताब्दी वर्ष समारोह को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित किया। इस दौरान राजनाथ सिंह और योगी आदित्यनाथ के साथ ही अन्य मंत्री भी आनलाइन जुड़े रहे।

सरकार ने लक्ष्मी विलास बैंक के डीबीएस बैंक में विलय को दी मंजूरी: निकासी की सीमा भी हटाई, 6000 करोड़ के निवेश को स्वीकृति

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने लक्ष्‍मी विलास बैंक (Lakshmi Vilas Bank) के डीबीएस बैंक इंडिया लिमिटेड (DBS Bank India Limited)के साथ विलय के प्रस्‍ताव को मंजूरी दे दी है।

TRP मामले में रिपब्लिक की COO प्रिया मुखर्जी को 20 दिन की ट्रांजिट बेल, कर्नाटक हाईकोर्ट ने मुंबई पुलिस की दलील को नकारा

कर्नाटक हाई कोर्ट ने बुधवार (नवंबर 25, 2020) को रिपब्लिक टीवी के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर (COO) प्रिया मुखर्जी को 20 दिन का ट्रांजिट बेल दिया है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,390FollowersFollow
357,000SubscribersSubscribe