Sunday, February 28, 2021
Home हास्य-व्यंग्य-कटाक्ष चेहरे पर नकाब, होंठों पर आजादी के नारे, जॉइंट फूँककर हवा में उड़ता है...

चेहरे पर नकाब, होंठों पर आजादी के नारे, जॉइंट फूँककर हवा में उड़ता है अपना ‘काम’रेड KK

क्रांति उर्फ़ केके ने अपने फैसले की शुरुआत बाकी के बचे हुए खेतों का सौदा करके की। उसने घर बेच दिया, खेत बेच दिया बोला दिल्ली जा रहा, वहाँ क्रांति हो रही। लेकिन क्रांति बैलों की जोड़ी का सौदा न कर पाया और दिल्ली निकल लिया।

कॉमरेड क्रांति काम नहीं करता था, उसके पास कागज़ नहीं थे सो मनरेगा से भी लाभ न ले सका। इस तरह से क्रांति कुमार सर्वहारा होने के साथ साथ गरीब सर्वहारा क्रांति कुमार भी था। क्रांति पुस्तैनी खेत बेचता, कच्ची पीता, अपनी स्वैण (बीवी) को पीटता, फिर भी क्रांति कुमार सर्वहारा ही रहा कभी अपने नाम के साथ बुजुर्वा न जोड़ सका। क्रांति इस तरह से व्यवस्थाओं से हर वक़्त खिसियाया ही रहता था। इस तरह क्रांति कुमार, उर्फ़ केके के अंदर हर वक़्त एक ‘एनार्किस्ट’ मौजूद था।

कोई कहता रे क्रांति! दिन भर छत पर पड़ा धूप सेंकते कान का मेल निकालता है, कच्ची पी-पीकर तो मर ही जाएगा, तो केके तुरंत फैज़ या ग़ालिब का कोई शेर पढ़कर अपनी पढ़ाई-लिखाई को जस्टिफाई करता। सामने वाला भी ये सोचकर चुप हो जाता कि उर्दू में कहा है तो ठीक ही कहा होगा। कोई उसकी बेवजह बीच में लाई हुई नज़्म पर सवाल करता भी, तो क्रांति कुमार फ़ौरन उसको अनपढ़ और ट्रोल कह देता। कॉमरेड केके दिनभर दैनिक सस्ते इंटरनेट से कुणाल कामरा जैसे सस्ते कॉमेडियंस के यूट्यूब वीडियो देखता था। संविधान उसने फेसबुक पर पढ़ा था और बोल्शेविकों की कहानियाँ व्हाट्सएप्प यूनिवर्सिटी पर।

क्रांति की कविताएँ पढ़-पढ़कर बोर हो चुके क्रांति ने एक दिन निर्णय ले लिया कि अब कोई ऐसा कदम उठाएगा जिससे एक झटके में क्रांति हो सके। हालाँकि क्रांति कुमार जनता था कि फैज़ और अल्ताफ राजा इतना कुछ लिखकर गए हैं कि अगर वो सालभर भी क्रांति की ही माँग करता रहे, तब भी उसके लिए क्रांति के नारे कम नहीं पड़ेंगे।

क्रांति ने फैसला लिया कि अब वापस दिल्ली जाकर किसी वामपंथी गुट का चेहरा बन जाएगा और सब कुछ फिर से शुरू करेगा। गाँव लौटकर नहीं आएगा और जिंदगी की सारी समस्याओं का समाधान हो जाएगा। क्रांति उर्फ़ केके ने अपने फैसले की शुरुआत बाकी के बचे हुए खेतों का सौदा करके की। उसने घर बेच दिया, खेत बेच दिया बोला दिल्ली जा रहा, वहाँ क्रांति हो रही। लेकिन क्रांति बैलों की जोड़ी का सौदा न कर पाया और दिल्ली निकल लिया।

दिल्ली जाकर केके ने पुराने यार को फोन लगाया। बोला- रियूनियन करनी है। साथी बोले- शाहीन बाग़ चले आओ यहाँ आजकल सब इकट्ठे हुए हैं। खाना-पीना सब मुफ्त है और मीडिया कवरेज भी ऐसा, जैसा आज तक नहीं मिला। शाहीनबाग पहुँचते ही केके ने जो देखा उसकी पतलून भीग गई। दो कॉमरेड्स महँगी सिगरेट को लेकर भिड़ गए। एक कॉमरेड ने हाथ में जूता लिया और दूसरे कॉमरेड की कनपट्टी पर रसीद दिए। इतने में देखते ही देखते दोनों गुट भिड़ गए। केके ने देखा अब मामला बहुत बदल गया है, उसकी उम्र में सिर्फ बीड़ी बाँटकर काम चल जाता था। केके ने फ़ौरन अपनी बीवी को फोन घुमाया। केके बोला- “अरे कम्बख्त सुन, तूने वो बैलों की जोड़ी बेची तो नहीं? उसे मत बेचना, मैं घर लौट रहा हूँ। फुन्डू फुक्क… कै की क्रान्ति, कै कू कुछ!!”

जब से क्रांति कुमार उर्फ़ केके दिल्ली के मशहूर ‘विष-विद्यालय’ से अपनी सदियों से चली आ रही पीएचडी पूरी कर गाँव लौटा था, तब से वो बुझा-बुझा सा रहने लगा था। गाँव में न गंगा ढाबा का सस्ता किन्तु लजीज खाना था, ना ही सस्ते हॉस्टल और ना ही ढपली बजाने के लिए किसी तरह की कोई सब्सिडी।

लेकिन CAA और NRC के बवाल ने तो मानों उसके डूबते क्रांति के करियर में फिर से जान ही फूँक दी। कुछ साल पहले ही जो क्रांति कुमार जंतर-मंतर पर “मैं भी अन्ना” की टोपी पहने खुद को “एनार्किस्ट” की संज्ञा देने लगा था, वो आजकल शाहीन बाग़ जाकर “सेव डेमोक्रेसी” के नारे लगता नजर आ रहा है।

जो कॉमरेड केके कभी भारत को एक देश मानने को राजी नहीं हुआ था, वो भी आजकल इस देश की मिटटी में किस-किस का खून शामिल है उसकी डीएनए रिपोर्ट दिखाता फिर रहा है। वो कह रहा है कि वो इस देश के साथ खिलवाड़ नहीं होने देंगे।

आज की क्रांति को देखकर सात-आठ साल पहले का जंतर-मंतर वाला ‘एनार्किस्ट क्रांति कुमार’ फूट-फूटकर जरूर रोता। कहाँ वो क्रांति कुमार, व्यवस्था और तिरंगा जिसके ठेंगे पर रहा करती थी, उसी क्रांति कुमार की जुबान पर आज व्यवस्थाओं का रोना है और हाथों में तिरंगा। आज उसकी जुबान केसरी है और मुँह में राष्ट्रगान।

मैं पूछता हूँ कि क्या हमें उस महान फासीवादी, मनुवादी सरकार को शुक्रिया कहना चाहिए या नहीं कहना चाहिए भाइयों-बहनों जिसने एक अराजकतावादी को भी संविधान का प्रहरी बनने के लिए प्रेरित कर दिया है? हर हाल में हमें उस सरकार को शुक्रिया कहना चाहिए। लेकिन सवाल ये है कि अगर वाकई में यह सरकार फासीवादी होती और इसका लीडर हिटलर होता तो क्या अब तक शाहीन बाग़ को पोलैंड ना बना दिया गया होता?क्या देश के ‘वोक लिबरल्स’ और उनके ‘जर्मन होलोकॉस्ट’ को लेकर देखे हर हसीन सपने को अब तक सपनों की दुनिया से उठाकर जमीन पर ना उतार दिया गया होता? लेकिन वह ऐसा नहीं कर रहा है, क्रांति कुमार इस बात से भी दुखी हैं।

क्रांति कुमार एक ‘सेडिस्ट’ भी है और ‘होपलेस रोमेंटिक’ भी। वह चाहता है कि किसी भी क्रांति की हर बुरी याद से वो ‘काश’ जुड़ा होता। यह ‘काश’ ही क्रांति कुमार की सबसे बेहतरीन रूमानी फंतासी भी है। कम से कम जिस तरह उसका यह ‘काश’ 2014 के चुनावों से ‘काश’ की ही अवस्था में है, उससे तो यही साबित होता है। उसने नारे लगाए, मनुवाद के खिलाफ, आजादी के खिलाफ, ब्राह्मणों के खिलाफ, और अब किसी कथित गैस चैंबर के खिलाफ भी वो नारेबाजी कर रहा है, लेकिन ‘शासक’ हैं कि यह सब वास्तविकता के धरातल पर उतरते ही नहीं।

महान सेक्युलर गायक अल्ताफ राजा इसी दिन के लिए एक सुंदर सी ‘नज़्म’ गा चुके थे- “दुश्मनी में दोस्ती का सिला रहने दिया, उसके सारे खत जलाए और पता रहने दिया….”

कबीरा इस संसार में भाँति-भाँति के कामरेड्स: कथा कामरेड क्रांति कुमार की

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘किसानों के लिए डेथ वारंट है ये तीनों कृषि कानून, दिल्ली हिंसा में बीजेपी के लोग शामिल’: महापंचायत में केजरीवाल

केजरीवाल ने कहा कि किसानों के उपर लाठियाँ बरसाई गई। यह केंद्र सरकार का ही प्‍लान था। भाजपा समर्थक ही दिल्‍ली की घटना में शामिल थे। केंद्र सरकार का प्‍लान था कि किसानों का रुट डायवर्ट कराकर दिल्‍ली में भेजा जाए। ताकि...

‘भैया राहुल आप छुट्टी पर थे, इसलिए जानकारी नहीं कि कब बना मछुआरों के लिए अलग मंत्रालय’: पुडुचेरी में अमित शाह

“कॉन्ग्रेस आरोप लगा रही है कि बीजेपी ने उनकी सरकार को यहाँ गिराया। आपने (कॉन्ग्रेस) मुख्यमंत्री ऐसा व्यक्ति बनाया था, जो अपने सर्वोच्च नेता के सामने ट्रांसलेशन में भी झूठ बोले। ऐसे व्यक्ति को मुख्यमंत्री बनाया गया।"

‘लद्दाख छोड़ो, सिंघू बॉर्डर आओ’: खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत पन्नू ने सिख सैनिकों को उकसाया, ऑडियो वायरल

“लद्दाख बॉर्डर को छोड़ दें और सिंघू सीमा से जुड़ें। यह भारत के लिए खुली चुनौती है, हम पंजाब को आजाद कराएँगे और खालिस्तान बनाएँगे।"

25.54 km सड़क सिर्फ 18 घंटे में: लिम्का बुक में दर्ज होगा नितिन गडकरी के मंत्रालय का रिकॉर्ड

नितिन गडकरी ने बताया कि वर्तमान में सोलापुर-विजापुर राजमार्ग के 110 किमी का कार्य प्रगति पर है, जो अक्टूबर 2021 तक पूरा हो जाएगा।

माँ माटी मानुष के नाम पर वोट… और माँ को मार रहे TMC के गुंडे: BJP कार्यकर्ता की माँ होना पीड़िता का एकमात्र दोष

पश्चिम बंगाल में राजनीतिक बदले की दुर्भावना से प्रेरित होकर हिंसा की एक और घटना सामने आई। भाजपा कार्यकर्ता और उनकी बुजुर्ग माँ को...

‘रोक सको तो रोक लो… दिल्ली के बाद तुम्हारे पास, इंतजाम पूरा’ – ‘जैश उल हिंद’ ने ली एंटीलिया के बाहर की जिम्मेदारी

मुकेश अंबानी की एंटीलिया के बाहर एक संदिग्ध कार पार्क की हुई मिली थी। 'जैश उल हिंद' ने इस घटना की जिम्मेदारी लेते हुए धमकी भरा संदेश दिया है।

प्रचलित ख़बरें

कोर्ट के कुरान बाँटने के आदेश को ठुकराने वाली ऋचा भारती के पिता की गोली मार कर हत्या, शव को कुएँ में फेंका

शिकायत के अनुसार, वो अपने खेत के पास ही थे कि तभी आठ बदमाशों ने कन्धों पर रायफल रखकर उन्हें घेर लिया और फायरिंग करने लगे।

आमिर खान की बेटी इरा अपने संघी हिन्दू नौकर के साथ फरार.. अब होगा न्याय: Fact Check से जानिए क्या है हकीकत

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि आमिर खान की बेटी इरा अपने हिन्दू नौकर के साथ भाग गई हैं। तस्वीर में इरा एक तिलक लगाए हुए युवक के साथ देखी जा सकती हैं।

शैतान की आजादी के लिए पड़ोसी के दिल को आलू के साथ पकाया, खिलाने के बाद अंकल-ऑन्टी को भी बेरहमी से मारा

मृत पड़ोसी के दिल को लेकर एंडरसन अपने अंकल के घर गया जहाँ उसने इस दिल को पकाया। फिर अपने अंकल और उनकी पत्नी को इसे सर्व किया।

जलाकर मार डाले गए 27 महिला, 22 पुरुष, 10 बच्चे भी रामभक्त ही थे, अयोध्या से ही लौट रहे थे

27 फरवरी 2002 की सुबह अयोध्या से लौट रहे 59 रामभक्तों को साबरमती एक्सप्रेस में करीब 2000 लोगों की भीड़ ने जलाकर मार डाला था।

पाकिस्तानी प्रोपेगेंडा फिर पड़ा उल्टा: बालाकोट स्ट्राइक की बरसी पर अभिनंदन के 2 मिनट के वीडियो में 16 कट

इस वीडियो में अभिनंदन कश्मीर में शांति लाने और भारत-पाकिस्तान में कोई अंतर ना होने की बात करते दिख रहे हैं। इसके साथ ही वह वीडियो में पाकिस्तानी सेना की खातिरदारी की तारीफ कर रहे हैं।

कॉन्ग्रेस ने मेरा इस्तेमाल नहीं किया, मुझे नीचे गिराने में लगे हैं पार्टी नेता: हार के बाद बोले कार्यकारी अध्यक्ष हार्दिक पटेल

हार्दिक पटेल ने कहा कि कॉन्ग्रेस के नेता उन्हें नीचा दिखाना और नीचे गिराना चाहते हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि निकाय चुनावों में कॉन्ग्रेस ने उनका ठीक से इस्तेमाल नहीं किया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,201FansLike
81,835FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe