Monday, July 15, 2024
Homeहास्य-व्यंग्य-कटाक्षमैंने राहुल गाँधी के लिए ट्वीट किया, आधी रात घर पहुँच गई IB: मैंने...

मैंने राहुल गाँधी के लिए ट्वीट किया, आधी रात घर पहुँच गई IB: मैंने इसे आपको बताने का फैसला किया है, क्योंकि मेरा चुप रहना साहस की मंदी होगी

राहुल गाँधी की भारत जोड़ो यात्रा शुरू होने के बाद से मैंने कई ट्वीट किए हैं। इनमें से जिन तीन ट्वीट के प्रिंट आउट मेरे सामने रखे गए वे अलग-अलग तारीखों को किए थे।

मेरे हॉल में लगी घड़ी का घंटा बोला टन टन टन… उसने बताया रात के 12 बज गए हैं। तारीख 25 दिसंबर की आ गई है। तभी मेरे घर की बेल भी बजी टन टन टन… सोचा कोई भूला-भटका यीशु के अवतरण की बधाई देने आ गया होगा। या फिर कोई सेंटा ही गिफ्ट लेकर अव​तरित हो गया हो। दरवाजा खोला तो सामने हाड़-मांस के दो इंसान थे। कहा हम IB से हैं। आपसे पूछताछ करनी है।

मिथिला के अगले कश्मीर बनने की आशंका को लेकर आए दिन ट्वीट करता रहता हूँ। सोचा मेरी आशंकाओं को लेकर भारत सरकार चिंतित हुई होगी। इसलिए राष्ट्रीय सुरक्षा में इनपुट लेने के लिए आईबी वालों को भेज दिया होगा। लेकिन ये क्या उन्होंने तो मेरे सामने सोशल मीडिया के तीन पोस्ट रख दिए। उनके बारे में पूछने लगे। आगे बढ़ने से पहले जान लीजिए कि उन पोस्ट में क्या है?

राहुल गाँधी की भारत जोड़ो यात्रा शुरू होने के बाद से मैंने कई ट्वीट किए हैं। इनमें से जिन तीन ट्वीट के प्रिंट आउट मेरे सामने रखे गए वे अलग-अलग तारीखों को किए थे। एक में मैंने टीशर्ट की कीमत पर उठते सवालों को लेकर राहुल गाँधी का बचाव किया है, लेकिन लगे हाथ इस यात्रा से उठने वाली आशंकाओं के बारे में भी बताया है। दूजे में मैंने कहा है कि मुझे उम्मीद नहीं थी कि राहुल गाँधी इतने दिन पैदल चलेंगे। इसके लिए मैंने उनकी सराहना की अपील की थी। तीसरा ट्वीट मैंने उन लोगों को संबोधित कर रखा है, जो राहुल गाँधी के नशे में लड़खड़ाने की बात कर रहे थे।

आईबी वाले जानना चाहते थे कि दो-दो रुपए पर ट्वीट करने वाला मेरे जैसा आईटी सेल का मनरेगा मजदूर बीच-बीच में लाइन से हटकर सोशल मीडिया पर कुदाल चलाने का कितना लेता है। उन्होंने इससे अधिक भुगतान का ऑफर दिया। कहा कि मनी लॉन्ड्रिंग के जरिए तिहाड़ में बंद कट्टर ईमानदार मंत्री यह भुगतान करेंगे। मैं चकराया। जिस आईबी, ईडी, सीबीआई को सब मोदी का तोता कहते हैं, वह तिहाड़ी मंत्री से क्यों पेमेंट का ऑफर दे रहा। सोचते-सोचते मैं लोकतंत्र की हत्या की मुनादी कर पाता, उससे पहले ही सामने बैठे हाड़-मांस के उन दो इंसानों ने मुझे रोका। कहा आप किस दुविधा में हैं। हम इंटेलीजेंस ब्यूरो वाले आईबी नहीं हैं, इंटरनल ब्रॉडकास्टिंग वाले आईबी हैं। यू नो आईबी। वही जिसका हवाला केजरीवाल ​जी गुजरात इलेक्शन में देते थे।

अचानक से 3 साल की बेटी का लात मुँह पर लगा। आँख खुली। न कोई आईबी थी, न कोई ऑफर। कोई सेंटा भी न आया था। मैं खामखा सपने में सेंटी हुआ पड़ा था। भोर हुई तो सोचा किसी को ये बात न बताऊँगा। फिर याद आया कि रवीश कुमार अक्सर कहते हैं कि साहस की मंदी है। मैं ये न बताऊँगा तो दुनिया को कैसे पता चलेगा कि भारत का लोकतंत्र खतरे में है। मेरे सपनों से पाठक वंचित रह गए तो यह कैसे प्रमाणित होगा कि कोई तो इस देश में है जो मीडिया प्रहरी का काम कर रहा है। कोई तो है जिसे इस देश की सरकार नहीं झुका पा रही है। कोई तो है जिसका मैग्सेसे पर दावा बनता है। उस पर जयराम रमेश का ट्वीट भी बताता है कि साजिश चल तो रही ही है। भले सपनों में।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत झा
अजीत झा
देसिल बयना सब जन मिट्ठा

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बैकफुट पर आने की जरूरत नहीं, 2027 भी जीतेंगे’: लोकसभा चुनावों के बाद हुई पार्टी की पहली बैठक में CM योगी ने भरा जोश,...

लोकसभा चुनावों के बाद पहली बार भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की लखनऊ में आयोजित बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कार्यकर्ताओं में जोश भरा।

जिसने चलाई डोनाल्ड ट्रंप पर गोली, उसने दिया था बाइडेन की पार्टी को चंदा: FBI लगा रही उसके मकसद का पता

पेंसिल्वेनिया के मतदाता डेटाबेस के मुताबिक, डोनाल्ड ट्रंप पर हमला करने वाला थॉमस मैथ्यू क्रूक्स रिपब्लिकन के मतदाता के रूप में पंजीकृत था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -