Sunday, July 14, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'अपनी पत्नी से 38 साल के रिश्ते को ख़त्म करेंगे अनिल कपूर, 30 साल...

‘अपनी पत्नी से 38 साल के रिश्ते को ख़त्म करेंगे अनिल कपूर, 30 साल छोटी कंगना रनौत से रचाएँगे शादी’: जानिए क्या है सच्चाई

12 दिसंबर, 2010 को 'कॉफी विथ करण' के सीजन 3 का ये एपिसोड एयर हुआ था। उस एपिसोड में अनिल कपूर के अलावा संजय दत्त और कंगना रनौत भी आई थीं।

अनिल कपूर ने कहा है कि कंगना रनौत से शादी के लिए वो अपनी पत्नी सुनीता को भी तलाक दे सकते हैं। बता दें कि अनिल कपूर और सुनीता कपूर की शादी 1984 में हुई थी। दोनों 38 वर्षों से साथ हैं। कई मीडिया रिपोस्ट में भी अटकलें लगाई जा रही हैं कि अनिल कपूर अब अपनी पत्नी को तलाक देकर कंगना रनौत से शादी कर सकते हैं। हालाँकि, इसकी सच्चाई कुछ और ही है। ये सब कुछ ‘कॉफी विथ करण’ के सीजन 3 से सामने आया था, जिसे बॉलीवुड निर्देशक करण जौहर होस्ट करते हैं।

मीडिया में अनिल कपूर और सुनीता कपूर की तलाक की खबरें

12 दिसंबर, 2010 को ये एपिसोड एयर हुआ था। उस एपिसोड में अनिल कपूर के अलावा संजय दत्त और कंगना रनौत भी आई थीं। इसी में ‘रैपिड फायर राउंड’ में अनिल कपूर से पूछा गया था कि ऐसी कौन सी महिला है, जिसके लिए वो अपनी पत्नी को भी छोड़ सकते हैं। इसके बाद अनिल कपूर ने कंगना रनौत की तरफ देखा और उनका नाम लिया। इसके बाद करण जौहर ने कंगना रनौत से कहा कि आपको चिंता करनी चाहिए। इसीलिए, अनिल और सुनीता कपूर के अलगाव की खबरें सही नहीं हैं।

इसी वीडियो के आधार पर अटकलें लगाई जा रही हैं, जिसमें उन्होंने मजाक में ये बात कही थी। 1984 में जब दोनों की शादी हुई थी, तब सुनीता कपूर के मॉडल हुआ करती थीं और उनके पिता एक बैंकर थे। अनिल कपूर उस वक्त बॉलीवुड में पाँव जमाने की कोशिश ही कर रहे थे। अब सुनीता कपूर बतौर कॉस्ट्यूम डिजाइनर सक्रिय रहती हैं। दोनों की दो बेटियाँ सोनम कपूर और रिया कपूर के अलावा एक बेटा हर्षवर्धन कपूर भी हैं। जहाँ सोनम अभिनेत्री हैं, रिया प्रोड्यूसर हैं।

उधर कंगना रनौत भी अपनी अगली फिल्मों ‘तेजस’ और ‘धाकड़’ को लेकर व्यस्त हैं। साथ ही आपातकाल को लेकर भी उनकी एक फिल्म आने वाली हैं। इन सबके अलावा अब वो निर्माता भी बन गई हैं और ‘टीकू वेड्स शेरू’ फिल्म का निर्माण कर रही हैं, जिसमें नवाजुद्दीन सिद्दीकी मुख्य अभिनेता हैं। कंगना रनौत की गाड़ी को हाल ही में पंजाब में घेर लिया गया था और उनके ‘खालिस्तानी’ वाले बयान को लेकर माफ़ी माँगने के लिए हंगामा किया गया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -