Thursday, May 6, 2021
Home देश-समाज मोदी सरकार ने कोर्ट में 'सेम सेक्स मैरिज' का किया विरोध, कहा- समलैंगिकों का...

मोदी सरकार ने कोर्ट में ‘सेम सेक्स मैरिज’ का किया विरोध, कहा- समलैंगिकों का साथ रहना ‘भारतीय फैमिली’ नहीं हो सकती

"हमारे देश में, एक पुरुष और एक महिला के बीच विवाह के संबंध की वैधानिक मान्यता के बावजूद, विवाह आवश्यक रूप से उम्र, रीति-रिवाजों, प्रथाओं, सांस्कृतिक लोकाचार और सामाजिक मूल्यों पर निर्भर करता है।"

समलैंगिक विवाह को मंजूरी देने को लेकर आज केंद्र की मोदी सरकार ने अपना रुख दिल्ली हाईकोर्ट में साफ कर दिया है। केंद्र सरकार ने हिंदू विवाह अधिनियम के तहत सेम सेक्स मैरिज को वैध बनाने के मामले में दायर याचिकाओं पर जवाब देते हुए इसका विरोध किया है। केंद्र सरकार ने कहा कि सेम सेक्स के जोड़े का पार्टनर की तरह रहना, भारतीय परिवार नहीं माना जा सकता और इसे मान्यता देने का कोई मौलिक अधिकार नहीं है।

रिपोर्टों के अनुसार, केंद्र सरकार ने यह तर्क दिया है कि सेम सेक्स के जोड़े का पार्टनर की तरह रहना और यौन संबंध बनाने की तुलना भारतीय परिवार से नहीं हो सकती है। इस प्रकार मोदी सरकार द्वारा माँग की गई है कि अभिजीत अय्यर और अन्य द्वारा दायर याचिका खारिज कर दी जाए।

हिंदुस्तान टाइम्स के पत्रकार के अनुसार, उच्च न्यायालय में केंद्र सरकार ने कहा कि शादी दो व्यक्तियों के निजी जीवन का मामला हो सकता है जिसका असर उनके निजी जीवन पर होता है। लेकिन इसे निजता की अवधारणा में नहीं छोड़ा जा सकता है।

भारतीय परिवार इकाई से सेम सेक्स के लोगों के साथ रहने और यौन संबंध बनाने की तुलना नहीं की जा सकती है, जहाँ भारतीय परिवार इकाई में पति, पत्नी और बच्चे होते हैं। इस इकाई में एक सामान्य रूप से पुरुष तथा दूसरी सामान्य रूप से महिला होती है, जिनके मिलन से संतान की उत्पत्ति होती है।

केंद्र सरकार ने आगे कहा, “हमारे देश में, एक पुरुष और एक महिला के बीच विवाह के संबंध की वैधानिक मान्यता के बावजूद, विवाह आवश्यक रूप से उम्र, रीति-रिवाजों, प्रथाओं, सांस्कृतिक लोकाचार और सामाजिक मूल्यों पर निर्भर करता है।”

गौरतलब है कि दिल्ली उच्च न्यायालय में सितंबर 2020 में, एक याचिका दायर की गई थी, जिसमें हिंदू विवाह अधिनियम के तहत समान लिंग विवाह को मान्यता देने की माँग की गई थी। यह याचिका अभिजीत अय्यर मित्रा, गोपी शंकर एम, गीति थडानी और जी ओरवसी द्वारा दायर की गई और इस मामले की सुनवाई मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल और न्यायमूर्ति प्रतीक जालान ने की थी।

याचिकाकर्ताओं ने दावा किया कि हिंदू विवाह अधिनियम किसी भी दो हिंदुओं को शादी करने की अनुमति देता है और इसलिए, समलैंगिकों को भी शादी करने का अधिकार होना चाहिए और उनकी शादी को मान्यता दी जानी चाहिए।

हालाँकि, याचिकाकर्ताओं का दावा निराधार है। धारा 5 (iii) में स्पष्ट रूप से उल्लेख किया गया है कि दूल्हे की उम्र 21 वर्ष और दुल्हन की न्यूनतम आयु 18 वर्ष होने पर ही दो हिंदुओं के बीच विवाह किया जा सकता है। यह एक स्पष्ट संकेत है कि अधिनियम केवल एक पुरुष और एक महिला के बीच विवाह को मान्यता देता है।

याचिका की पहली सुनवाई में 14 सितंबर को केंद्र सरकार की ओर से पेश सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि उन्होंने याचिका का विरोध किया। उन्होंने तर्क दिया कि समलैंगिक विवाह हमारे कानूनों और संस्कृति द्वारा मान्यता प्राप्त नहीं हैं। उन्होंने कहा कि हिंदू मैरिज एक्ट खुद समान सेक्स मैरिज को मान्यता नहीं देता है। कानून के अनुसार, विवाह केवल पति और पत्नी के बीच होता है।

कोर्ट ने यह कहते हुए जवाब दिया था कि सरकार को इस मामले को खुले दिमाग से देखना होगा न कि किसी कानून के अनुसार यह कहते हुए कि दुनिया भर में बदलाव हो रहे हैं। वहीं एसजी तुषार मेहता ने कहा कि याचिका हलफनामा दाखिल करने के लायक भी नहीं है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बंगाल हिंसा वाली रिपोर्ट राज्यपाल तक नहीं पहुँचे: CM ममता बनर्जी का ऑफिसरों को आदेश, गवर्नर का आरोप

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने ममता बनर्जी पर यह आरोप लगाया है कि उन्होंने चुनाव परिणाम के बाद हिंसा पर रिपोर्ट देने से...

‘मेरी बहू क्रिकेटर इरफान पठान के साथ चालू है’ – चचेरी बहन के साथ नाजायज संबंध पर बुजुर्ग दंपत्ति का Video वायरल

बुजुर्ग ने पूर्व क्रिकेटर पर आरोप लगाते हुए कहा, “इरफान पठान बड़े अधिकारियों से दबाव डलवाता है। हम सुसाइड करना चाहते हैं।”

महाराष्ट्र पुलिस में दलाली और उद्धव-पवार का नाम: जिस महिला IPS ने खोले पोल, उनकी गिरफ्तारी पर HC की रोक

IPS अधिकारी रश्मि शुक्ला बॉम्बे हाईकोर्ट पहुँचीं, जहाँ FIR रद्द कर के पुलिस को कोई सख्त कदम उठाने से रोकने का निर्देश देने की दरख़्वास्त की गई।

CM केजरीवाल या उनके वकील – कौन है झूठा? दिल्ली में ऑक्सीजन पर एक ने झूठ बोला है – ये है सबूत

दिल्ली में ऑक्सीजन संकट को लेकर दिल्ली सरकार से जुड़ी दो विरोधाभासी जानकारी सामने आई। एक खबर में बताया गया कि दिल्ली सरकार ने...

बंगाल में अब दलित RSS कार्यकर्ता की हत्या, CM ममता बनर्जी की घोषणा – मृतकों को मिलेंगे 2-2 लाख रुपए

बंगाल में एक RSS कार्यकर्ता की हत्या कर दी गई। ईस्ट बर्दवान के केतुग्राम की में 22 वर्षीय बलराम मांझी की हत्या कर दी गई।

बंगाल हिंसा के ये कैसे जख्म: किसी ने नदी में लगाई छलांग तो कोई मॉं का अंतिम संस्कार भी नहीं कर सका

मेघू दास हों या बीजेपी के अनाम बूथ अध्यक्ष या फिर दलित भास्कर मंडल। टीएमसी के गुंडों से प्रताड़ित इनलोगों के जख्म शायद ही भर पाएँ।

प्रचलित ख़बरें

‘मेरी बहू क्रिकेटर इरफान पठान के साथ चालू है’ – चचेरी बहन के साथ नाजायज संबंध पर बुजुर्ग दंपत्ति का Video वायरल

बुजुर्ग ने पूर्व क्रिकेटर पर आरोप लगाते हुए कहा, “इरफान पठान बड़े अधिकारियों से दबाव डलवाता है। हम सुसाइड करना चाहते हैं।”

बंगाल में हिंसा के जिम्मेदारों पर कंगना रनौत ने माँगा एक्शन तो ट्विटर ने अकाउंट किया सस्पेंड

“मैं गलत थी, वह रावण नहीं है... वह तो खून की प्यासी राक्षसी ताड़का है। जिन लोगों ने उसके लिए वोट किया खून से उनके हाथ भी सने हैं।”

नेशनल जूनियर चैंपियन रहे पहलवान की हत्या, ओलंपियन सुशील कुमार को तलाश रही दिल्ली पुलिस

आरोप है कि सुशील कुमार के साथ 5 गाड़ियों में सवार होकर लारेंस बिश्नोई व काला जठेड़ी गिरोह के दर्जन भर से अधिक बदमाश स्टेडियम पहुँचे थे।

बेशुमार दौलत, रहस्यमयी सेक्सुअल लाइफ, तानाशाही और हिंसा: मार्क्स और उसके चेलों के स्थापित किए आदर्श

कार्ल मार्क्स ने अपनी नौकरानी को कभी एक फूटी कौड़ी भी नहीं दी। उससे हुए बेटे को भी नकार दिया। चेले कास्त्रो और माओ इसी राह पर चले।

पेड़ से लटके मिले BJP के गायब कार्यकर्ता, एक के घर बमबारी: ममता ने 29 IPS बदले, बंगाल हिंसा पर केंद्र को रिपोर्ट नहीं

ममता बनर्जी ने शपथ लेते ही 16 जिलों के SP को इधर-उधर किया है। अधिकतर ऐसे हैं, जिन पर चुनाव आयोग ने भरोसा नहीं जताया था।

21 साल की कॉलेज स्टूडेंट का रेप-मर्डर: बंगाल में राजनीतिक हिंसा के बीच मेदिनीपुर में महिला समेत 3 गिरफ्तार

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के बाद हो रही हिंसा के बीच पश्चिम मेदिनीपुर जिले से बलात्कार और हत्या की एक घटना सामने आई है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,365FansLike
89,680FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe