Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजक्रिसमस पर बुलंदशहर में 100+ लोगों ने की घर वापसी, हवन हुआ और लगे...

क्रिसमस पर बुलंदशहर में 100+ लोगों ने की घर वापसी, हवन हुआ और लगे ‘वन्दे मातरम्’ के नारे: फूल बरसा कर हुआ स्वागत, बोले लोग – गुमराह हो बन गए थे ईसाई

कार्यक्रम के दौरान लगातार वैदिक मंत्र पढ़े जाते रहे। घर वापसी करने वालों का मौके पर मौजूद सभी लोगों ने फूल बरसा का स्वागत किया।

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में ईसाई बन चुके 100 से ज्यादा लोगों की क्रिसमस पर घर वापसी की खबर है। ये 100 लोग 20 परिवारों के सदस्य बताए जा रहे हैं जो दिहाड़ी मजदूरी आदि से अपना परिवार चलाते थे। घर वापसी करने वाले सभी लोगों ने वैदिक मंत्रोच्चार के बीच में फिर से सत्य सनातन में प्रवेश किया और आगे से हिन्दू परम्परा से जीवन बिताने का संकल्प लिया। यह कार्यक्रम रविवार (25 दिसंबर, 2022) को आयोजित हुआ।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यह आयोजन खुर्जा क्षेत्र में हुआ। कार्यक्रम में भाजपा विधायक मीनाक्षी सिंह और विश्व हिन्दू परिषद के पदाधिकरियों ने सक्रिय भूमिका निभाई। घर वापसी करने वाले सभी लोग कांशीराम योजना के तहत बनी कालिंदी कुञ्ज कॉलोनी में रहते हैं। आरोप है कि कुछ समय पहले इन सभी को गुमराह कर के ईसाई बना दिया गया था। घर वापसी करने वाले लोगों का कहना है कि ‘राष्ट्रीय चेतना मिशन’ और VHP के लोगों ने उनके मन में फैली तमाम शंकाओं का समाधान किया। इसके बाद वो सभी अपने मूल धर्म में लौटने को तैयार हो गए। भाजपा विधायक मीनाक्षी सिंह ने घर वापसी करने वालों की संख्या 100 से 125 के बीच बताई है।

कार्यक्रम के दौरान लगातार वैदिक मंत्र पढ़े जाते रहे। घर वापसी करने वालों का मौके पर मौजूद सभी लोगों ने फूल बरसा का स्वागत किया। कार्यक्रम के आयोजक राष्ट्रीय चेतना मिशन के हेमंत सिंह ने बताया कि उन्होंने धर्मांतरित किए गए 20 परिवारों के 100 से ज्यादा लोगों को चिह्नित किया था, जिनकी घर वापसी की कोशिशें जारी थीं। हेमंत ने बताया कि कार्यक्रम के लिए अटल बिहारी वाजपेयी और पंडित मदन मोहन मालवीय की जयंती का दिन उन्हें सबसे अच्छा लगा।

वहीं खुर्जा के उप-जिलाधिकारी (SDM) लवी त्रिपाठी के मुताबिक, उन्हें इस कार्यक्रम की कोई जानकारी नहीं है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

घुमंतू (खानाबदोश) पूजा खेडकर: जिसका बाप IAS, वो गुलगुलिया की तरह जगह-जगह भटक बिताई जिंदगी… इसी आधार पर बन गई MBBS डॉक्टर

पूजा खेडकर ने MBBS में नाम लिखवाने से लेकर IAS की नौकरी पास करने तक में नाम, उम्र, दिव्यांगता, अटेंप्ट और आय प्रमाण पत्र में फर्जीवाड़ा किया।

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -