Wednesday, July 24, 2024
Homeदेश-समाजमियाँ-बीवी पर फैसले को लेकर पंचायत में चले लात-घूँसे, ई-रिक्शा चालक अब्दुल्लाह ने महिला...

मियाँ-बीवी पर फैसले को लेकर पंचायत में चले लात-घूँसे, ई-रिक्शा चालक अब्दुल्लाह ने महिला के घर में घुस की मारपीट, मिस्त्री ने खुद को डॉक्टर बता हिन्दू युवती को फाँसा

महिला का आरोप है कि ई-रिक्शा चालक अब्दुल्लाह उसके घर में तारा, राजा, समीर और अशफाक को ले कर घुस गया। इस दौरान इन सभी आरोपितों ने पीड़िता के घर पर तोड़फोड़ की और मना करने पर उसके साथ भी मारपीट की गई।

देश के अलग-अलग हिस्सों से महिलाओं के साथ हिंसा संबंधित 3 ताज़ा मामले सामने आए हैं। जहाँ मेरठ में पति-पत्नी का विवाद सुलझाने बैठी पंचायत आपस में ही भिड़ गई, वहीं प्रयागराज में एक महिला का नंबर लोगों को बाँटने के आरोपित ई-रिक्शा चालक ने घर में घुस पर मारपीट की। तीसरी घटना राजस्थान के जयपुर की है, जहाँ एक दुकान पर काम करने वाले व्यक्ति पर खुद को डॉक्टर बताते हुए महिला से शादी करने का आरोप है।

पति-पत्नी का झगड़ा सुलझाने वाले खुद भिड़े

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पहला मामला मेरठ के लिसाड़ीगेट थानाक्षेत्र का है। यहाँ के समर गार्डन में रहने वाली बिलाल का निकाह 5 साल पहले परतापुर की आसमाँ से हुआ था। कुछ ही दिनों बाद दोनों में आए दिन झगड़े शुरू हो गए। 8 माह पहले आसमाँ अपने मायके चली आई, जिसको ले कर दोनों पक्षों में मंगलवार (20 दिसंबर, 2022) को पंचायत थी। इसी पंचायत के दौरान किसी बात पर लड़की और लड़के के पक्ष वाले आपस में भिड़ गए। दोनों पक्षों में लात-घूँसे और ईंट-पत्थर चलने लगे।

इस घटना में कुल 6 लोगों के घायल होने की खबर है। दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर मारपीट का केस दर्ज करवाया है। पुलिस घटना की जाँच कर रही है।

ई रिक्शा वाले ने बाँटे नंबर, फिर की मारपीट

वहीं दूसरा मामला प्रयागराज से है। यहाँ एक महिला ने अब्दुल्लाह नाम के ई-रिक्शा वाले से अपना सामान घर पहुँचाने के लिए कहा था। इस दौरान महिला ने अब्दुल्लाह के नंबर पर फोन भी किया था। आरोप है कि ई-रिक्शा चालक अब्दुल्लाह ने महिला का नंबर कई लोगों को बाँट दिया जिस से उसके पास अश्लील मैसेज आने लगे। पीड़िता ने अब्दुल्लाह की माँ से इस हरकत की शिकायत की जिस से वो नाराज हो उठा।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, महिला का आरोप है कि ई-रिक्शा चालक अब्दुल्लाह उसके घर में तारा, राजा, समीर और अशफाक को ले कर घुस गया। इस दौरान इन सभी आरोपितों ने पीड़िता के घर पर तोड़फोड़ की और मना करने पर उसके साथ भी मारपीट की गई। जाते-जाते अब्दुल्लाह पीड़िता का फोन तोड़ कर किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी भी दिया। पुलिस ने सभी 5 आरोपितों पर केस दर्ज कर के जाँच शुरू कर दी है।

डॉक्टर बन कर दुकान पर नौकर ने महिला अधिकारी से की शादी

तीसरा मामला राजस्थान के जयपुर का है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, यहाँ एक तलाकशुदा हिन्दू महिला के पिता ने अपनी बेटी के साथ लव-जिहाद का आरोप लगाया है। महिला अधिकारी के पिता ने अपनी शिकायत में कहा है कि उनकी 25 वर्षीया बेटी कोविड में लगे लॉकडाउन के दौरान अकेलेपन के चलते डिप्रेशन में चली गई थी। इस दौरान लड़की ने अलवर से झाड़ फूँक के लिए एक मौलवी बुलाया था। मौलवी अपने साथ एक अन्य युवक को ले कर आया था जिसने खुद को दिल्ली का मनोचिकित्स्क डॉक्टर बताया था।

लड़की के पिता का आरोप है कि खुद को डॉक्टर बता रहा युवक असल में मोटर पार्ट्स की दुकान पर काम करने वाला एक मैकेनिक है। शिकायत में कहा गया है कि आरोपित ने उनकी बेटी को प्रेम जाल में फँसा लिया और अब दोनों रजिस्टर्ड शादी करने जा रहे हैं। शादी पूर्व मिली नोटिस से लड़की के घर वालों को इस पूरे मामले की जानकारी हुई। लड़की के पिता की शिकायत पर पुलिस महिला अधिकारी के पास जाँच करने पहुँची तो वो नाराज हो गई। खुद को तलाकशुदा बताते हुए महिला अधिकारी ने युवक के साथ अपनी मर्जी से रहने की जानकारी दी।

महिला के इस जवाब पर पुलिस ने शिकायतकर्ता पिता को भी कानून कोई विकल्प न होने की जानकारी देते हुए किसी भी कार्रवाई में असमर्थता जताई।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

मुजफ्फरनगर में नेम-प्लेट लगाने वाले आदेश के समर्थन में काँवड़िए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले – ‘हमारा तो धर्म भ्रष्ट हो गया...

एक कावँड़िए ने कहा कि अगर नेम-प्लेट होता तो कम से कम ये तो साफ हो जाता कि जो भोजन वो कर रहे हैं, वो शाका हारी है या माँसाहारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -