Wednesday, April 14, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे सतपाल निश्चल की हत्या का पाकिस्तान ही जिम्मेदार नहीं, भारत का ​सेक्युलर-लिबरल पॉलिटिक्स भी...

सतपाल निश्चल की हत्या का पाकिस्तान ही जिम्मेदार नहीं, भारत का ​सेक्युलर-लिबरल पॉलिटिक्स भी दोषी

सतपाल निश्चल की हत्या इसलिए नहीं की गई, क्योंकि वह एक कश्मीरी नहीं थे या उन्होंने कश्मीरियों के खिलाफ कोई काम किया था। उनकी हत्या तो इसलिए की गई कि वह इस्लाम के अनुयायी नहीं थे।

जम्मू-कश्मीर में बीते दिनों आतंकवादियों ने सतपाल निश्चल की गोली मार कर हत्या कर दी। उन्हें हाल ही में डोमिसाइल सर्टिफिकेट मिला था। इससे उन्हें कश्मीर में अचल संपत्ति खरीदने और अन्य चीजों के अधिकार मिले थे। दुखद बात यह है कि यही उनकी हत्या की वजह भी बनी। 70 वर्षीय बुजुर्ग सतपाल पिछले चालीस वर्षों से कश्मीर में रह रहे थे और गुरुवार को डोमिसाइल सर्टिफिकेट प्राप्त करने के कारण मारे जाने वाले वह पहले व्यक्ति बन गए।

सतपाल निश्चल की हत्या की जिम्मेदारी आतंकी संगठन ‘द रेजिस्टेंस फ्रंट’ (TRF) ने ली है। इस आतंकी संगठन ने सोशल मीडिया पर धमकी देते हुए एक बयान भी जारी किया। बयान में कहा गया कि जिन लोगों ने डोमिसाइल सर्टिफिकेट हासिल किया है वे सभी ‘आरएसएस’ एजेंट हैं। वह ऐसे सभी लोगों के नाम और पते जानता है। यह भी जानता है कि वे क्या करते हैं। टीआरएफ ने धमकी दी है कि अगला नंबर ऐसे ही अन्य लोगों का हो सकता है।

सतपाल निश्चल कश्मीर में चल रहे सिविलाइज़ेशन वॉर में जान गँवाने वाले पहले व्यक्ति नहीं हैं। उनकी हत्या इसलिए नहीं की गई है क्योंकि वह एक कश्मीरी नहीं थे या उन्होंने कश्मीरियों के खिलाफ कोई काम किया हो। उनकी हत्या तो इसलिए की गई कि वह इस्लाम के अनुयायी नहीं थे।

हैरानी की बात है कि म्यांमार के रोहिंग्या जम्मू कश्मीर में ‘घुसपैठ’ करने में कामयाब रहे हैं। आज वे बिना किसी खतरे के वहाँ रह रहे हैं। लेकिन कश्मीरी पंडितों को उनके घरों से बाहर कर दिया गया और वे तीन दशक बाद भी वापस नहीं लौट पाए। ऐसा क्यों है?

कुछ लोगों को भ्रम है कि कश्मीर में आतंकवाद कश्मीरी स्वतंत्रता से संबंधित है और इस्लाम का इससे बहुत कम लेना-देना है। मीडिया में मौजूद प्रोपेगेंडाबाज भी इस नैरेटिव को आगे बढ़ाने की भरसक कोशिश करते हैं। जबकि सच्चाई यह है कि वहाँ पर अवैध रोहिंग्या मुस्लिम अप्रवासी को तो शरण मिल जाता है, लेकिन कश्मीरी पंडितों को भगा दिया जाता है। भारत के अन्य क्षेत्र के हिंदुओं को ‘आरएसएस एजेंट’ करार दिया जाता है। यह सब दिखाता है कि यह कश्मीरियत के बारे में नहीं, बल्कि इस्लामी आतंकवाद के बारे में है।

दुर्भाग्य की बात यह है कि कुछ ही दिनों में सतपाल निश्चल का नाम भुला दिया जाएगा और कश्मीर में दशकों से जारी हिंसा का सिलसिला यूँ ही जारी रहेगा। इसके बाद अधिकारी खुद को यह कहते हुए सांत्वना देंगे कि पाकिस्तान समर्थित आतंकवादी हत्या के लिए जिम्मेदार हैं।

हो सकता है कि आतंकवादियों को पाकिस्तान का समर्थन प्राप्त हो। लेकिन क्या कोई गंभीरता से इस बात को मानेगा कि कश्मीर में हिंदुओं की स्थिति पाकिस्तानी हिंदुओं से अलग नहीं होती, अगर वहाँ पर भारतीय सेना नहीं होती। फिर भी इस्लामी कट्टरपंथ की वास्तविक समस्या को ढँकने के लिए हम पर कश्मीरी प्रोपेगेंडा थोपा जाता है।

वैसे देखा जाए तो इसका कोई सरल समाधान भी नहीं है। अंतत: सिविलाइज़ेशन वॉर में लोगों को अपने खून की कीमत ही चुकानी पड़ेगी और इतिहास इस तथ्य का प्रमाण है कि इसके लिए पहले से ही बहुत सारे रक्त का बलिदान किया जा चुका है और आगे भी जारी रहेगा।

कश्मीर में भारतीय राज्य और भारतीय नागरिक जिस दुश्मन का सामना कर रहे हैं, वह है- राजनीतिक इस्लाम। दूसरी ओर, धर्मनिरपेक्षता का भारतीय ब्रांड इस मामले पर वैचारिक स्पष्टता को रोकने के लिए ओवरटाइम काम करता है, ताकि खतरे का प्रभावी ढंग से सामना किया जा सके। जब कश्मीर की बात आती है तो बहुसंस्कृतिवाद हमारी ताकत है। कश्मीर में राजनीतिक इस्लाम के खतरे को बेअसर करने का एकमात्र तरीका क्षेत्र की सांस्कृतिक समृद्धि है।

यदि ‘विविधता वास्तव में हमारी ताकत है’, तो भारत में कश्मीर इसका परीक्षण करने के लिए सबसे उपयुक्त जगह है। लेकिन जब इस तरह के सुझाव दिए जाते हैं, तो हमारे देश में सेक्युलर-लिबरल फासीवाद का रोना रोना शुरू कर देते हैं। यह जानना काफी महत्वपूर्ण है कि सतपाल निश्चल की हत्या इसलिए की गई क्योंकि वह उस विविधता का प्रतिनिधि थे, जिससे घाटी में इस्लामी आतंकवादी सबसे ज्यादा डरते हैं।

सतपाल निश्चल की हत्या कर दी गई क्योंकि कश्मीर में इस्लामी आतंकवादी क्षेत्र के सांस्कृतिक संवर्धन की अनुमति नहीं दे सकते। लेकिन भारत सरकार इस त्रासदी के बाद चुने गए रास्ते से नहीं हट सकती। इसके बजाए, उसे उन अताताइयों को सबक सिखाना होगा, जिन्होंने 70 साल के बुजुर्ग को मौत के मौत के घाट उतार दिया।

यही आगे का रास्ता है। सेक्युलर-लिबरल भारतीय हितों को कमजोर करने के लिए जातीय-वर्चस्ववादी इस्लामी आतंकवादियों के साथ सहयोगी बनने के लिए तैयार हैं। लेकिन भारी दबाव के बावजूद पीछे नहीं हटा जा सकता। अगर ऐसा हुआ तो धारा 370 के निरस्त होने के बाद से कश्मीर ने जो प्रगति की है, वह सब खत्म हो जाएगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

K Bhattacharjee
Black Coffee Enthusiast. Post Graduate in Psychology. Bengali.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

7000 वाली मस्जिद में सिर्फ 50 लोग नमाज पढ़ेंगे… प्लीज अनुमति दीजिए: बॉम्बे HC का फैसला – ‘नहीं’

"हम किसी भी धर्म के लिए अपवाद नहीं बना सकते, खासकर इस 15-दिन की प्रतिबंध अवधि में। हम इस स्तर पर जोखिम नहीं उठा सकते।"

CBSE 10वीं की बोर्ड परीक्षा रद्द, मनीष सिसोदिया ने कहा-12वीं के छात्र भी प्रमोट हों

कोरोना संक्रमण की स्थिति को देखते हुए सरकार ने CBSE की 10वीं बोर्ड की परीक्षाओं को इस साल निरस्त कर दिया है, वहीं 12वीं की परीक्षा...

‘कल के कायर आज के मुस्लिम’: यति नरसिंहानंद को गाली देती भीड़ को हिन्दुओं ने ऐसे दिया जवाब

यमुनानगर में माइक लेकर भड़काऊ बयानबाजी करती भीड़ को पीछे हटना पड़ा। जानिए हिन्दू कार्यकर्ताओं ने कैसे किया प्रतिकार?

‘1 लाख का धर्मांतरण, 50000 गाँव, 25 साल के बराबर चर्च बने’: भारत में कोरोना से खूब फले ईसाई मिशनरी

ईसाई संस्था के CEO डेविड रीव्स का कहना है कि हर चर्च को 10 गाँवों में प्रार्थना आयोजित करने को कहा गया। जैसे-जैसे पाबंदियाँ हटीं, मिशनरी उन क्षेत्रों में सक्रिय होते चले गए।

14 सिम कार्ड, 1 व्हाट्सएप कॉल और मुंबई की बार डांसर… ATS ने कुछ यूँ सुलझाया मनसुख हिरेन की हत्या का मामला

एंटीलिया केस और मनसुख हिरेन मर्डर की गुत्थी सुलझने में एक बार डांसर की अहम भूमिका रही। उसकी वजह से ही सारे तार आपस में जुड़े।

मुंबई में हो क्या रहा है! बिना टेस्ट ₹300 में कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट, ₹10000 देकर क्वारंटाइन से मिल जाती है छुट्टी: रिपोर्ट

मिड डे ने मुंबई में कोरोना की आड़ में चल रहे एक और भ्रष्टाचार को उजागर किया है। बिना टेस्ट पैसे लेकर RT-PCR नेगेटिव रिपोर्ट मुहैया कराई जा रही है।

प्रचलित ख़बरें

‘हमें बार-बार जाना पड़ता है, वो वॉशरूम कब जाती हैं’: साक्षी जोशी का PK से सवाल- क्या है ममता बनर्जी का टॉयलेट शेड्यूल

क्लबहाउस पर बातचीत में ‘स्वतंत्र पत्रकार’ साक्षी जोशी ने ममता बनर्जी की शौचालय की दिनचर्या के बारे में उनके चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से पूछताछ की।

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

जहाँ खालिस्तानी प्रोपेगेंडाबाज, वहीं मन की बात: क्लबहाउस पर पंजाब का ठेका तो कंफर्म नहीं कर रहे थे प्रशांत किशोर

क्लबहाउस पर प्रशांत किशोर का होना क्या किसी विस्तृत योजना का हिस्सा था? क्या वे पंजाब के अपने असायनमेंट को कंफर्म कर रहे थे?

भाई ने कर ली आत्महत्या, परिवार ने 10 दिनों तक छिपाई बात: IPL के ग्राउंड में चमका टेम्पो ड्राइवर का बेटा, सहवाग भी हुए...

IPL की नीलामी में चेतन सकारिया को अच्छी खबर तो मिली, लेकिन इससे तीन सप्ताह पहले ही उनके छोटे भाई ने आत्महत्या कर ली थी।

पहले कमल के साथ चाकूबाजी, अगले दिन मुस्लिम इलाके में एक और हिंदू पर हमला: छबड़ा में गुर्जर थे निशाने पर

राजस्थान के छबड़ा में हिंसा क्यों? कमल के साथ फरीद, आबिद और समीर की चाकूबाजी के अगले दिन क्या हुआ? बैंसला ने ऑपइंडिया को सब कुछ बताया।

रूस का S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम और US नेवी का भारत में घुसना: ड्रैगन पर लगाम के लिए भारत को साधनी होगी दोधारी नीति

9 अप्रैल को भारत के EEZ में अमेरिका का सातवाँ बेड़ा घुस आया। देखने में जितना आसान है, इसका कूटनीतिक लक्ष्य उतनी ही कॉम्प्लेक्स!
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,197FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe