Sunday, April 11, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे हाथ में संविधान, जुबाँ पर सुप्रीम कोर्ट के लिए गाली, दिल में राम के...

हाथ में संविधान, जुबाँ पर सुप्रीम कोर्ट के लिए गाली, दिल में राम के लिए घृणा: ऐसे कैसे चलेगा स्वरा मैडम?

मैडम को संविधान में आस्था भी जतानी है, मैडम को न्यापालिका को गालियाँ भी बकनी है और मैडम को लोकतांत्रिक रूप से चुनी गई सरकार द्वारा संवैधानिक प्रक्रिया से बनाने गए क़ानून को असंवैधानिक भी बताना है। ऐसे कैसे चलेगा मैडम?

घटिया एक्टिंग और मूर्खता भरी बातों की प्रतिमूर्ति स्वरा भास्कर अपने ‘गिरोह विशेष’ के कथित कॉमेडियन कुणाल कामरा के बचाव में आगे आई हैं। उनका कहना है कि देश के लोग इस बात से ज्यादा चिंतित दिख रहे हैं कि एक स्टैंडअप कॉमेडियन ने किसी को फ्लाइट में परेशान किया। लेकिन लोग बन्दूक लेकर घूम रहे हैं और फायरिंग कर रहे हैं उस पर वे चिंतित नजर नहीं आ रहे। स्वरा जब ये बोल रही थीं, तब अभिनेता जीशान अयूब भी उनके बगल में बैठे हुए थे। इस दौरान स्वरा ने सुप्रीम कोर्ट का भी अपमान किया।

स्वरा भास्कर ने कहा कि एक ‘स्टैंड अप कॉमेडियन’ ने ‘किसी व्यक्ति’ को परेशान किया। यहाँ कुछ बातें स्पष्ट करना ज़रूरी है। स्वरा ने फालतू चुटकुले मार के ख़ुद हँसने वाले कुणाल कामरा के प्रोफेशन का तो जिक्र किया है लेकिन अर्नब गोस्वामी को ‘किसी व्यक्ति’ कहा। ज्ञात हो कि फ्लाइट में सफर के दौरान कामरा ने अर्नब को उत्पीड़ित किया था। उन्हें डरपोक तक बताया था। इसके बाद इंडिगो और एयर इंडिया सहित कई फ्लाइट सेवाओं ने कामरा को प्रतिबंधित कर दिया। बावजूद इसके कामरा नहीं सुधरा और वो लगातार अर्नब को निशाना बनाता रहा।

अर्नब गोस्वामी ‘कोई व्यक्ति’ नहीं हैं, ये सबको पता है। अंग्रेज़ी न्यूज़ कैटेगरी में लगातार कई महीनों तक नंबर एक पर रहने वाले चैनल ‘रिपब्लिक टीवी’ के संस्थापक हैं और उनके सबसे बड़े शो ‘नेशन वांट्स टू नो’ के एंकर भी हैं। लेकिन, स्वरा की नज़र में कामरा और उसका प्रोफेशन जिक्र करने लायक है क्योंकि वो उनके गिरोह से है लेकिन अर्नब गोस्वामी उनकी नज़र में कोई नहीं हैं। वामपंथियों की यही आदत होती है- जो आपके विरोधी हैं, न नकी इज्जत करो और न ही उनके काम की। स्वरा ने भी जाहिर कर दिया कि उनके विपरीत विचार रखने वालों के लिए उनके मन में कोई इज्जत नहीं।

ख़ैर, यहाँ इस बात का भी जवाब देना आवश्यक है कि बन्दूक लेकर कौन घूम रहा है। दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल ने जनवरी 3, 2020 को राजस्थान स्थित भरतपुर निवासी एक व्यक्ति को 20 अवैध पिस्तौल के साथ गिरफ़्तार किया। उसके पास से 50 कारतूस भी मिले। यहाँ ये सवाल भी उठ सकता है कि जामिया नगर और शाहीन बाग़ में किसी ने हवाई फायरिंग कर दी और स्वरा को देश ख़तरे में नज़र आने लगा, लेकिन एक व्यक्ति 20 अवैध पिस्तौल के साथ गिरफ़्तार किए जाने के बावजूद चर्चा का विषय नहीं बना? सिर्फ़ इसीलिए, क्योंकि उसका नाम साजिद है।

स्वरा भास्कर यहीं नहीं रुकीं बल्कि उन्होंने तो देश की शीर्ष अदालत को भी निशाने पर ले लिया। बकौल स्वरा, सुप्रीम कोर्ट ने बाबरी विध्वंस को ग़ैर-क़ानूनी माना है और उसी फ़ैसले में राम मंदिर की ज़मीन उन्हीं को सौंप दी, जिन्होंने मंदिर तोड़ी थी। नहीं, राम मंदिर उन्हें नहीं सौंपा गया जिन्होंने मंदिर तोड़ी थी। राम मंदिर की जमीन रामलला विराजमान को सौंपी गई, जो इसके असली मालिक थे और जिनकी ज़मीन पर आतंकी बाबर के गुर्गों ने ग़ैर-क़ानूनी रूप से मंस्जिद बना ली थी। और हाँ, राम मंदिर की ज़मीन इस देश के प्रति, यहाँ की मिट्टी के प्रति आस्था रखने वाले करोड़ों लोगों को सौंपी गई है।

जरा सोचिए, अगर वामपंथी विरोधी गुट से किसी ने किसी ट्रायल कोर्ट के भी फ़ैसले पर सवाल उठाया होता तो कितना आउटरेज होता? लेकिन यहाँ सुप्रीम कोर्ट को ही पेट भर भला-बुरा कहा जा रहा है लेकिन कोई चूँ तक नहीं कर रहा। इसे ही दोहरा रवैया कहा गया है। इसे दोमुँही प्रवृत्ति भी कह सकते हैं। एक तरफ़ ये संविधान का पाठ करते हैं और दूसरी तरफ देश की शीर्ष न्याय व्यवस्था को गाली देते हैं। मैडम को संविधान में आस्था भी जतानी है, मैडम को न्यापालिका को गालियाँ भी बकनी है और मैडम को लोकतांत्रिक रूप से चुनी गई सरकार द्वारा संवैधानिक प्रक्रिया से बनाने गए क़ानून को असंवैधानिक भी बताना है। ऐसे कैसे चलेगा मैडम?

फेक न्यूज़ फैलाने में तो वामपंथी गुट का कोई सानी नहीं। स्वरा ने कहा कि पुलिसकर्मियों ने मुस्लिमों के घरों में घुस कर उन्हें मारा-पीटा और उनकी संपत्ति जला डाली, क्योंकि वो लोग माँसाहारी हैं। उनका इशारा उत्तर प्रदेश से आई एक फेक न्यूज़ को लेकर था, जिस पर राणा अयूब सरीखों ने ख़ूब हंगामा किया था। अयूब का तो यहाँ तक कहना था कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ता भी पुलिस के साथ मिल कर ऐसा कर रहे हैं। न तो इसका कोई सबूत सामने आया और न ही कोर्ट में उन्हें कोई सफलता हासिल हुई। फ़र्ज़ी ख़बरों पर ही अगर लोगों को भड़काना है तो स्वरा भास्कर इस मामले में टॉप पर प्रतिस्पर्द्धा करती दिखती हैं।

स्वरा भास्कर ने कहा कि लोग हत्या को बुरा नहीं मानते और किसी ने किसी को उत्पीड़ित कर दिया तो लोग ग़लत मानते हैं। ऐसा कह के कितनी आसानी से हज़ारों मौतों के जिम्मेदार इस्लामी आतंकवाद और वामपंथी आतंकवाद को कमतर दिखाया जाता है। क्यों? क्योंकि किसी ने जामिया नगर और शाहीन बाग़ में पिस्तौल लहरा दी। दो लोगों ने पिस्तौल लहरा दिया, इसका मतलब ये है कि इस्लामी आतंकवाद और नक्सल आतंकवाद की बात नहीं की जाएगी और सारी हत्याओं के लिए उन्हीं दो लगों को जिम्मेदार ठहराया जाएगा। और हाँ, उनमें से एक के केजरीवाल की पार्टी से लिंक सामने आए हैं, उसे छिपाना तो परम उद्देश्य होना चाहिए।

जैसा कि वामपंथियों की आदत है, स्वरा ने भी पहले देश में लोकतंत्र के ख़ात्मे की बात कही और फिर इसके लिए आरएसएस को जिम्मेदार ठहरा दिया। उनका कहना था कि ये सब 1925 से शुरू हुआ है, क्योंकि संघ की स्थापना भी उसी साल हुई। एक झूठ और फिर उस झूठ को सच बता कर उसकी जिम्मेदारी अपने टारगेट पर डालने डालने के लिए एक और झूठ। झूठ बोल कर माहौल बिगाड़ने की कोशिश करना और फिर उसके लिए भाजपा, संघ, हिंदुत्व को जिम्मेदार ठहरा देना- ये वामपंथियों का फेवरेट ट्रेंड है।

बात वही है। कुणाल कामरा अगर किसी के साथ कुछ ग़लत करता है तो वो ‘एक्ट ऑफ रेजिस्टेंस’ है और पाकिस्तान से आए इस्लामी कट्टरपंथी आतंकी हजारों लोगों को मार डालें, तो भी आतंकवाद का कोई मजहब नहीं होता। व्हाट्सप्प ग्रुप्स में मैसेजों को हिंसा के लिए जिम्मेदार बताने वाली स्वरा भास्कर ने अगर ख़ुद सीएए पढ़ा होता तो शायद ये नौबत ही नहीं आती। या ये भी हो सकता है कि इस गिरोह विशेष के अधिकतर लोगों ने पढ़ रखा है लेकिन वो नहीं चाहते कि जनता का एक बड़ा वर्ग इसे पढ़े। तभी तो दो हवाई फायरिंग से इस्लामी आतंकवाद गौण हो जाता है।

जामिया हिंसा में हाथ सेंकने ट्विटर पर लौट आए अनुराग कश्यप, स्वरा भास्कर ने भी उगला जहर

कॉमेडी के नाम पर स्वरा भास्कर की फूहड़ता: 4 साल के बच्चे को कहा- चू**या, कमीना…

स्वरा भास्कर का फ़र्ज़ी फेमिनिज़्म और आँकड़े: राहतें और भी हैं ऑर्गेज्म की राहत के सिवा

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

टीका उत्सव की शुरुआत पर PM मोदी ने किए 4 आग्रह: वैक्सीनेशन में भारत दुनिया में सबसे तेज, 85 दिन में ही 10 करोड़...

कोरोना की दूसरी लहर के जोर पकड़ने के बीच आज से राष्ट्रव्यापी टीका उत्सव का आगाज हुआ है। यह 14 अप्रैल तक चलेगा।

कूच बि​हार में नेताओं की नो एंट्री, सुरक्षा बलों की 71 और कंपनियों को बंगाल भेजने का निर्देश: हिंसा के बाद EC सख्त

कूच बिहार हिंसा के बाद चुनाव आयोग ने कई सख्त कदम उठाए हैं। 5वें चरण का प्रचार भी 48 घंटे की जगह 72 घंटे पहले खत्म होगा।

‘अब आइसक्रीम नहीं धूल खाएँगे’: सचिन वाजे के तलोजा जेल पहुँचने पर अर्नब गोस्वामी ने साधा बरखा दत्त पर निशाना

डिबेट के 46 मिनट 19 सेकेंड के स्लॉट पर अर्नब ने सीधे बरखा दत्ता को उनकी अवैध गिरफ्तारी पर जश्न मनाने और सचिन वाजे जैसे भ्रष्ट अधिकारी के कुकर्मों का महिमामंडन करने के लिए लताड़ा है।

PM मोदी ने भारत में नई शक्ति का निर्माण कर सांस्कृतिक बदलाव को दिया जन्म, उन्हें रोकना मुश्किल: संजय बारू

करन थापर को दिए इंटरव्यू में राजनीतिक विश्लेषक संजय बारू ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में सांस्कृतिक बदलाव को जन्म दिया है।

बंगाल: मतदान देने आई महिला से ‘कुल्हाड़ी वाली’ मुस्लिम औरतों ने छीना बच्चा, कहा- नहीं दिया तो मार देंगे

वीडियो में तृणमूल कॉन्ग्रेस पार्टी के नेता को उस पीड़िता को डराते हुए देखा जा सकता है। टीएमसी नेता मामले में संज्ञान लेने की बजाय महिला पर आरोप लगा रहे हैं और पुलिस अधिकारी को उस महिला को वहाँ से भगाने का निर्देश दे रहे हैं।

एंटीलिया के बाहर जिलेटिन कांड के बाद सचिन वाजे करने वाला था एनकाउंटर, दूसरों पर आरोप मढ़ने की थी पूरी प्लानिंग

अपने इस काम को अंजाम देने के लिए वाजे औरंगाबाद से चोरी हुई मारुती इको का इस्तेमाल करता, जिसका नंबर प्लेट कुछ दिन पहले मीठी नदी से बरामद हुआ था।

प्रचलित ख़बरें

‘ASI वाले ज्ञानवापी में घुस नहीं पाएँगे, आप मारे जाओगे’: काशी विश्वनाथ के पक्षकार हरिहर पांडेय को धमकी

ज्ञानवापी केस में काशी विश्वनाथ के पक्षकार हरिहर पांडेय को जान से मारने की धमकी मिली है। धमकी देने वाले का नाम यासीन बताया जा रहा।

बंगाल: मतदान देने आई महिला से ‘कुल्हाड़ी वाली’ मुस्लिम औरतों ने छीना बच्चा, कहा- नहीं दिया तो मार देंगे

वीडियो में तृणमूल कॉन्ग्रेस पार्टी के नेता को उस पीड़िता को डराते हुए देखा जा सकता है। टीएमसी नेता मामले में संज्ञान लेने की बजाय महिला पर आरोप लगा रहे हैं और पुलिस अधिकारी को उस महिला को वहाँ से भगाने का निर्देश दे रहे हैं।

पॉर्न फिल्म में दिखने के शौकीन हैं जो बायडेन के बेटे, परिवार की नंगी तस्वीरें करते हैं Pornhub अकॉउंट पर शेयर: रिपोर्ट्स

पॉर्न वेबसाइट पॉर्नहब पर बायडेन का अकॉउंट RHEast नाम से है। उनके अकॉउंट को 66 badge मिले हुए हैं। वेबसाइट पर एक बैच 50 सब्सक्राइबर होने, 500 वीडियो देखने और एचडी में पॉर्न देखने पर मिलता है।

कूच बिहार में 300-350 की भीड़ ने CISF पर किया था हमला, ममता ने समर्थकों से कहा था- केंद्रीय बलों का घेराव करो

कूच बिहार में भीड़ ने CISF की टीम पर हमला कर हथियार छीनने की कोशिश की। फायरिंग में 4 की मौत हो गई।

‘मोदी में भगवान दिखता है’: प्रशांत किशोर ने लुटियंस मीडिया को बताया बंगाल में TMC के खिलाफ कितना गुस्सा

"मोदी के खिलाफ एंटी-इनकंबेंसी नहीं है। मोदी का पूरे देश में एक कल्ट बन गया है। 10 से 25 प्रतिशत लोग ऐसे हैं, जिनको मोदी में भगवान दिखता है।"

बंगाल: हिंसा में 4 की मौत, कूच बिहार में पहली बार के वोटर को मारी गोली, हुगली में BJP कैंडिडेट-मीडिया पर हमला

बंगाल के कूच बिहार में फायरिंग में 4 लोगों की मौत हो गई। इनमें 18 साल का आनंद बर्मन भी है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,162FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe