Friday, July 19, 2024
HomeराजनीतिTMC सांसद के ठिकानों पर ED ने की छापेमारी: 10,000 अमेरिकी डॉलर, ₹32 लाख...

TMC सांसद के ठिकानों पर ED ने की छापेमारी: 10,000 अमेरिकी डॉलर, ₹32 लाख बरामद

चिटफंड और आवास घोटाले से जुड़े मामले में सबूतों जुटाने को लेकर छापेमारी की गई। यह घोटाला करीब 1,900 करोड़ रुपए का है। इस साल की शुरुआत में सांसद से संबंधित एक कंपनी की 239 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त की गई थी।

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में तृणमूल कॉन्ग्रेस के राज्यसभा सांसद केडी सिंह और उनसे जुड़े लोगों के ठिकानों पर छापेमारी की। नई दिल्ली और चंडीगढ़ में 7 जगहों पर छापेमारी हुई। साथ ही अल्केमिस्ट ग्रुप से जुड़ी 14 पंजीकृत कंपनियों के कार्यालय पर भी छापे डाले गए। इसका संचालन केडी सिंह ही करते थे।

छापेमारी के दौरान ईडी ने लेनदेन से संबंधित कई कागजात, डिजिटल सबूत के साथ ही संपत्ति से संबंधित दस्तावेज जब्त किए। इसके अलावा केडी सिंह के दिल्ली स्थित आवास से 10,000 अमेरिकी डॉलर के साथ ही 32 लाख रुपए की नकदी बरामद हुई।

एजेंसी ने कोलकाता पुलिस द्वारा दर्ज की गई एफआईआर के आधार पर नई दिल्ली के तुगलक लेन स्थित केडी सिंह के आधिकारिक निवास, चंडीगढ़ में उनके निवास और दो अलग-अलग कंपनियों के निदेशकों के आवासों की तलाशी ली।

कोलकाता पुलिस द्वारा राज्यसभा सांसद केडी सिंह, उनके बेटे करनदीप सिंह, अल्केमिस्ट टाउनशिप इंडिया लिमिटेड, अल्केमिस्ट होल्डिंग्स लिमिटेड और अन्य कंपनियों के खिलाफ धोखाधड़ी और साजिश के तहत एफआईआर दर्ज की गई थी। इन पर हजारों ग्राहकों को धोखा देने का आरोप है। कोलकाता पुलिस की एफआईआर के आधार पर ईडी ने 2018 में  PMLA के तहत जाँच शुरू की।

ईडी के अनुसार, टीएमसी सांसद ने अपनी कंपनियों के माध्यम से निवेश की आड़ में ग्राहकों को उच्च रिटर्न का लालच देकर भारी मात्रा में पैसे जुटाए। एजेंसी ने बताया कि अब तक की जाँच में पता चला है कि जनता से जुटाई गई इन धनराशि का उपयोग अभीष्ट उद्देश्य के लिए नहीं किया गया था और इन्हें अलग-अलग समूह की कंपनियों के पास भेज दिया गया और जनता से जुटाए पैसे को फर्जी तरीके से छिपाने के लिए सर्कुलर के जरिए स्थानांतरित किया गया।

चिटफंड और आवास घोटाले से जुड़े मामले में सबूतों जुटाने को लेकर छापेमारी की गई। यह घोटाला करीब 1,900 करोड़ रुपए का है। एजेंसी ने इस साल के शुरुआत में केडी सिंह से संबंधित अल्केमिस्ट इंफ्रा रियल्टी लिमिटेड कंपनी की 239 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त किया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -