TMC सांसद के ठिकानों पर ED ने की छापेमारी: 10,000 अमेरिकी डॉलर, ₹32 लाख बरामद

चिटफंड और आवास घोटाले से जुड़े मामले में सबूतों जुटाने को लेकर छापेमारी की गई। यह घोटाला करीब 1,900 करोड़ रुपए का है। इस साल की शुरुआत में सांसद से संबंधित एक कंपनी की 239 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त की गई थी।

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में तृणमूल कॉन्ग्रेस के राज्यसभा सांसद केडी सिंह और उनसे जुड़े लोगों के ठिकानों पर छापेमारी की। नई दिल्ली और चंडीगढ़ में 7 जगहों पर छापेमारी हुई। साथ ही अल्केमिस्ट ग्रुप से जुड़ी 14 पंजीकृत कंपनियों के कार्यालय पर भी छापे डाले गए। इसका संचालन केडी सिंह ही करते थे।

छापेमारी के दौरान ईडी ने लेनदेन से संबंधित कई कागजात, डिजिटल सबूत के साथ ही संपत्ति से संबंधित दस्तावेज जब्त किए। इसके अलावा केडी सिंह के दिल्ली स्थित आवास से 10,000 अमेरिकी डॉलर के साथ ही 32 लाख रुपए की नकदी बरामद हुई।

एजेंसी ने कोलकाता पुलिस द्वारा दर्ज की गई एफआईआर के आधार पर नई दिल्ली के तुगलक लेन स्थित केडी सिंह के आधिकारिक निवास, चंडीगढ़ में उनके निवास और दो अलग-अलग कंपनियों के निदेशकों के आवासों की तलाशी ली।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

कोलकाता पुलिस द्वारा राज्यसभा सांसद केडी सिंह, उनके बेटे करनदीप सिंह, अल्केमिस्ट टाउनशिप इंडिया लिमिटेड, अल्केमिस्ट होल्डिंग्स लिमिटेड और अन्य कंपनियों के खिलाफ धोखाधड़ी और साजिश के तहत एफआईआर दर्ज की गई थी। इन पर हजारों ग्राहकों को धोखा देने का आरोप है। कोलकाता पुलिस की एफआईआर के आधार पर ईडी ने 2018 में  PMLA के तहत जाँच शुरू की।

ईडी के अनुसार, टीएमसी सांसद ने अपनी कंपनियों के माध्यम से निवेश की आड़ में ग्राहकों को उच्च रिटर्न का लालच देकर भारी मात्रा में पैसे जुटाए। एजेंसी ने बताया कि अब तक की जाँच में पता चला है कि जनता से जुटाई गई इन धनराशि का उपयोग अभीष्ट उद्देश्य के लिए नहीं किया गया था और इन्हें अलग-अलग समूह की कंपनियों के पास भेज दिया गया और जनता से जुटाए पैसे को फर्जी तरीके से छिपाने के लिए सर्कुलर के जरिए स्थानांतरित किया गया।

चिटफंड और आवास घोटाले से जुड़े मामले में सबूतों जुटाने को लेकर छापेमारी की गई। यह घोटाला करीब 1,900 करोड़ रुपए का है। एजेंसी ने इस साल के शुरुआत में केडी सिंह से संबंधित अल्केमिस्ट इंफ्रा रियल्टी लिमिटेड कंपनी की 239 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त किया था।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी हत्याकांड
आपसी दुश्मनी में लोग कई बार क्रूरता की हदें पार कर देते हैं। लेकिन ये दुश्मनी आपसी नहीं थी। ये दुश्मनी तो एक हिंसक विचारधारा और मजहबी उन्माद से सनी हुई उस सोच से उत्पन्न हुई, जहाँ कोई फतवा जारी कर देता है, और लाख लोग किसी की हत्या करने के लिए, बेखौफ तैयार हो जाते हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

107,076फैंसलाइक करें
19,472फॉलोवर्सफॉलो करें
110,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: