Sunday, September 27, 2020
Home राजनीति राजस्थान में कोरोना से जंग में मुस्लिम तुष्टिकरण हावी, 'भीलवाड़ा मॉडल' ​को कसीदे पढ़ने...

राजस्थान में कोरोना से जंग में मुस्लिम तुष्टिकरण हावी, ‘भीलवाड़ा मॉडल’ ​को कसीदे पढ़ने वाले ही भूले

तुष्टिकरण भारत की राजनीति के लिए कोई चीज नहीं है। हाँ, इसके प्रकटन का समय अलग अलग होता है। यह प्रकटन इस दौर में राजस्थान में हो रहा है। इसलिए कोरोना जैसी महामारी से लड़ने के दौरान भीलवाड़ा मॉडल लफ्फाजियों में ही दम तोड़ रहा है।

आज से महीने भर पहले राजस्थान से लेकर दिल्ली तक सबकी जुबान पर कोरोना से लड़ने के लिए राजस्थान के भीलवाड़ा मॉडल की सफलता के चर्चे थे। लेकिन पिछले कुछ सप्ताह से, जब से जयपुर के रामगंज और जोधपुर का नागौरी गेट, अजमेर का दरगाह बाजार क्षेत्र और कोटा का घंटाघर कोरोना वायरस का एपिसेंटर बना है, सियासत के लोग भीलवाड़ा मॉडल की चर्चा करना भूल गए हैं।

प्रशासन सोच नहीं पा रहा है कि आखिर इन क्षेत्रों में कौन सा मॉडल लागू किया जाए, कि कोरोना संक्रमण की बढ़ती संख्या को नियंत्रण में लाया जा सके।

विपक्षी दल के स्थानीय और केंद्रीय स्तर के नेता लगातार अशोक गहलोत सरकार पर तुष्टिकरण के आरोप लगा रहे हैं। राज्यपाल से हस्तक्षेप करने का आग्रह कर रहे हैं। वे सभी जोर देकर कह रहे हैं कि इन क्षेत्रों में कोरोना वायरस का संक्रमण रोकना है तो सख्ती से लॉकडाउन का पालन करवाएँ।

केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने पिछले दिनों पत्रकारों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बातचीत में गहलोत सरकार पर सीधे आरोप लगाए कि गहलोत राजनैतिक मजबूरियों को छोड़े और जयपुर तथा जोधपुर में पूर्णबंदी का सख्ती से पालन करवाएँ। उन्होंने यहाँ तक कहा कि इसके लिए जरूरत पड़ने पर केंद्रीय रिजर्व बल लगाए जाएँ। लेकिन क्या यह संभव है….?

- विज्ञापन -

भीलवाड़ा मॉडल का श्रेय लेने के लिए तो मुख्यमंत्री से लेकर पार्टी अध्यक्षा और शीर्ष पदाधिकारियों ने ट्विटर से लेकर पत्रकार वार्ताओं में खूब बातें की, लेकिन जब से जयपुर, जोधपुर, कोटा और अजमेर में विशेष क्षेत्रों में जिस तेजी से कोरोना संक्रमण का प्रसार हुआ, उसके बाद सरकार और स्थानीय प्रशासन के हाथ-पॉंव फूल रहे हैं। उन्हें भीलवाड़ा मॉडल कहीं दिखाई नहीं दे रहा है।

लेकिन इसका नतीजा यह हो रहा है कि राजस्थान में अब तक (6 मई 2020) आए कुल 3317 मामलों में से लगभग 75 फीसदी से ज्यादा संक्रमित व्यक्ति एक ही समुदाय से हैं।

26 मार्च तक जयपुर में कोरोना वायरस का एक मामला था। ओमान से आए एक व्यक्ति की गैर जिम्मेदाराना व्यवहार ने पूरे जयपुर को एक महीने पीछे धकेल दिया है। जयपुर रेड जोन में है। लगभग पूरा जयपुर शहर गैर जिम्मेदार लोगों की लापरवाही को भुगत रहा है। शहर खामोश है। सड़कें सूनी हैं। ज्यादातर क्षेत्रों में कर्फ्यू जैसे हालात हैं। और यह होना ही था।

कर्फ्यू और लगातार कथित निगरानी के बावजूद जयपुर में संक्रमण बढ़ते गए और यह देश के उन शहरों में शामिल हो गया जहाँ संक्रमण के सर्वाधिक मामले हैं। सात मई शाम तक जयपुर में 1100 से ज्यादा सक्रिय मामले थे। इनमें भी नब्बे प्रतिशत से ज्यादा संक्रमित व्यक्ति एक ही समुदाय से हैं।

यही स्थिति जोधपुर की है। यहाँ शहर के परकोटे के भीतर नागौरी गेट, उदयमंदिर, जालोरी गेट और खांडा पलसा क्षेत्र में कोरोना के खतरनाक संक्रमण के कारण कर्फ्यू लगाया गया है। ये सभी क्षेत्र मुस्लिम बाहुल्य हैं और जनसंख्या के लिहाज से बहुत घने हैं। जोधपुर में कोरोना संक्रमण का प्रसार जमात के लोगों से शुरू हुआ और आज जोधपुर प्रदेश का दूसरा ऐसा जिला है, जहाँ सबसे ज्यादा कोरोना के मरीज हैं।

इन सभी क्षेत्रों में कर्फ्यू के बावजूद कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है। यह खुद मुख्यमंत्री का क्षेत्र है। लेकिन स्थानीय लोग दबी जुबान में कहते हैं कि प्रशासन अगर सख्ती नहीं बरतेगा तो पूरा जोधपुर शहर मौत के मुहाने पर पहुँच जाएगा। लेकिन प्रशासन सियासत की और सियासत तुष्टिकरण की सीमा रेखा में बँधा है।

अजमेर और कोटा भी तुष्टिकरण की नीति का कोरोना फल साबित हो रहा है। कोरोना संक्रमण के दौर के काफी दिनों बाद अजमेर का नंबर आया। भीलवाड़ा के कर्फ्यू के माहौल में से कुछ व्यवस्था कर निकला एक सेल्समैन नावेद ने अजमेर को कोरोना भेंट किया। वह पहले अजमेर पहुँचा और अपने परिवार के पाँच लोगों को कोरोना भेंट किया।

कोरोना की यह भेंट अजमेर का दरगाह बाजार, केसरगंज, मुस्लिम मोची मोहल्ला और दरगाह बाजार के आसपास की कॉलोनियों, बाजारों में बँटती गई। फिर कर्फ्यू के बावजूद मेल-मिलाप से इन क्षेत्रों में कोरोना ने जमकर लुत्फ उठाया। प्रशासन ने कर्फ्यू ठोका। लेकिन हालात वही ढाक के तीन पात।

कर्फ्यू के बावजूद कोरोना संक्रमण के मरीज बढ़ रहे हैं। अप्रैल के पहले हफ्ते में यहाँ तीस से चालीस केस थे, जो अब बढ़कर 187 हो गए हैं। इनमें 90 फीसदी से ज्यादा मरीज एक ही समुदाय से हैं।

आइए अब कोरोना संक्रमण से सबसे ज्यादा प्रभावित कोटा चलते हैं। कोरोना संक्रमण और उसे रोकने के उपाय पूरे राजस्थान में एक ही ट्रेंड पर चल रहे हैं। कोटा इससे अलग कैसे हो सकता है। यहाँ भी कोरोना का संक्रमण लेकर आने वाला पहला व्यक्ति जयपुर जमात से जुड़ा एक ड्राइवर था। फिर क्या… शहर के परकोटे के भीतर घंटाघर, मकबरा, पाटनपोल, कैथुनीपोल जैसे मुस्लिम क्षेत्रों में कोरोना मेहमान बनकर बैठ गया।

प्रशासन और सरकार की अपीलों को एक तरफ रख मेल-मिलाप चलता रहा। 5-6 अप्रैल को आए पहले केस के बाद कोटा में अब तक (सात मई 2020) 223 मामले आ चुके हैं। इनमें भी नब्बे फीसदी मामले एक ही समुदाय से हैं। अप्रैल के शुरू में एक दिन ऐसा भी था जब कोटा कलेक्टर ने प्रेस वार्ता में घोषणा कर दी थी कि जिला पूरी तरह कोरोना मुक्त है। लेकिन उसके तीसरे चौथे दिन ही एक साथ पाँच मामले सामने आ गए।

इन चारों प्रमुख शहरों में आखिरकार भीलवाड़ा मॉडल अपनी रफ्तार क्यों नहीं पकड़ पाया। उसने इन शहरों में क्यों दम तोड़ दिया। प्रशासन, सरकार, चिकित्साकर्मी, पुलिसकर्मी, स्वच्छताकर्मी सभी तो वहीं हैं। फिर…?

दो वजह हैं, जो साफ-साफ नजर आती हैं। लेकिन संभव है सियासत जानबूझकर आँखें मूँदे हुए है। भीलवाड़ा की आबादी का मूल स्वरूप और इन क्षेत्रों की आबादी के मूल स्वरूप और सियासती तुष्टिकरण के रंग में गहरा फर्क है। अगर भीलवाड़ा मॉडल यहाँ दम तोड़ रहा है तो उसका कारण स्पष्ट है। इन क्षेत्रों की आबादी का मूल स्वरूप, उनका गैरजिम्मेदाराना व्यवहार और सियासत की तुष्टिकरण की मजबूरी।

इन चारों ही शहरों के स्थानीय पत्रकार मानते हैं कि समुदाय विशेष के क्षेत्र होने की वजह से सरकार लॉकडाउन और कर्फ्यू का सख्ती से पालन करवाने में पूरी तरह विफल रही है। राजस्थान में विपक्षी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष से लेकर पार्टी के स्थानीय और केंद्रीय नेता भी गहलोत सरकार से कोरोना नियंत्रण के लिए तुष्टिकरण की नीति को छोड़कर सख्ती से लॉकडाउन की पालना के लिए कह चुके हैं। लेकिन सरकार का कहना है कि वह लॉकडाउन की पालना में न धर्म देखती है और न जाति।

कितनी अच्छी बात है। लेकिन सवाल खड़ा होता है, फिर क्यों इन चारों शहरों में भीलवाड़ा मॉडल की साँसे फूल रही हैं? क्यों वह तुष्टिकरण की सीमा रेखा को लाँघने की हिम्मत नहीं दिखा पा रहा है?

तुष्टिकरण भारत की राजनीति के लिए कोई चीज नहीं है। हाँ, इसके प्रकटन का समय अलग-अलग होता है। यह प्रकटन इस दौर में राजस्थान में हो रहा है। इसलिए कोरोना जैसी महामारी से लड़ने के दौरान जब प्रशासन पर सियासत हावी हो और सियासत के गले में तुष्टिकरण की माला पड़ी हो तो फिर चाहे भीलवाड़ा मॉडल हो या वुहान मॉडल, वह लफ्फाजियों में ही दम तोड़ देता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पंचतंत्र और कताकालक्षेवम् का देश है भारत, कहानी कहने-सुनने के लिए समय निकालें: ‘मन की बात’ में PM मोदी

'मन की बात' में पीएम मोदी ने कहा कि हम उस देश के वासी है, जहाँ, हितोपदेश और पंचतंत्र की परंपरा रही है, जहाँ पंचतंत्र जैसे ग्रन्थ रचे गए।

चुनाव से पहले संकट में बिहार कॉन्ग्रेस: अध्यक्ष समेत 107 नेताओं पर FIR, तेजस्वी यादव को अलग गठबंधन में जाने की धमकी

कॉन्ग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा सहित 7 नामजद व 100 अज्ञात पर आचार संहिता उल्लंघन का मामला। सीट शेयरिंग पर राजद के साथ नहीं बनी बात।

छत्तीसगढ़ में कॉन्ग्रेसी सरकार: भ्रष्टाचार पर लिखेंगे तो सड़क पर भी मार खाएँगे और थाने में भी, देखती रहेगी पुलिस

"वह अपने गुंडे पार्षदों के साथ हमारे पत्रकार साथी को थाने तक पीटते हुए ले आए, इसकी वजह थी कि वह नगरपालिका के विरुद्ध RTI लगा कर..."

राजद ने नकारा, नीतीश ने दुत्कारा: कुशवाहा के चावल, यादवों के दूध से जो बनाते थे ‘खीर’ और करते थे खून बहाने की बात

किसी से भी भाव न मिलने के कारण बिहार में रालोसपा और उपेंद्र कुशवाहा की हालत 'धोबी के कुत्ते' की तरह हो गई है, जो न घर का रहता है और न घाट का।

बॉलीवुड ‘सुपरस्टार’ के सामने ‘अपराधी’ शब्द बौना, ड्रग्स से लेकर हत्या/आत्महत्या और दंगों तक… कहाँ खड़ा होता है बॉलीवुड?

ड्रग्स मामला हो या सुपरस्टार्स के गलत कामों पर पर्दा डालने की कोशिश... बॉलीवुड ‘बॉलीवुड’ का बचाव करने से पीछे नहीं हटता है। ऐसा करने...

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का निधन, PM मोदी ने कहा- उन्होंने एक सैन्य अधिकारी और नेता के रूप में देशसेवा की

भारत के पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वयोवृद्ध नेता रहे जसवंत सिंह का रविवार (सितम्बर 27, 2020) की सुबह निधन हो गया।

प्रचलित ख़बरें

‘मुझे सोफे पर धकेला, पैंट खोली और… ‘: पुलिस को बताई अनुराग कश्यप की सारी करतूत

अनुराग कश्यप ने कब, क्या और कैसे किया, यह सब कुछ पायल घोष ने पुलिस को दी शिकायत में विस्तार से बताया है।

‘दीपिका के भीतर घुसे रणवीर’: गालियों पर हँसने वाले, यौन अपराध का मजाक बनाने वाले आज ऑफेंड क्यों हो रहे?

दीपिका पादुकोण महिलाओं को पड़ रही गालियों पर ठहाके लगा रही थीं। अनुष्का शर्मा के लिए यह 'गुड ह्यूमर' था। करण जौहर खुलेआम गालियाँ बक रहे थे। तब ऑफेंड नहीं हुए, तो अब क्यों?

पूना पैक्ट: समझौते के बावजूद अंबेडकर ने गाँधी जी के लिए कहा था- मैं उन्हें महात्मा कहने से इंकार करता हूँ

अंबेडकर ने गाँधी जी से कहा, “मैं अपने समुदाय के लिए राजनीतिक शक्ति चाहता हूँ। हमारे जीवित रहने के लिए यह बेहद आवश्यक है।"

बेच चुका हूँ सारे गहने, पत्नी और बेटे चला रहे हैं खर्चा-पानी: अनिल अंबानी ने लंदन हाईकोर्ट को बताया

मामला 2012 में रिलायंस कम्युनिकेशन को दिए गए 90 करोड़ डॉलर के ऋण से जुड़ा हुआ है, जिसके लिए अनिल अंबानी ने व्यक्तिगत गारंटी दी थी।

‘मारो, काटो’: हिंदू परिवार पर हमला, 3 घंटे इस्लामी भीड़ ने चौथी के बच्चे के पोस्ट पर काटा बवाल

कानपुर के मकनपुर गाँव में मुस्लिम भीड़ ने एक हिंदू घर को निशाना बनाया। बुजुर्गों और महिलाओं को भी नहीं छोड़ा।

नूर हसन ने कत्ल के बाद बीवी, साली और सास के शव से किया रेप, चेहरा जला अलग-अलग जगह फेंका

पानीपत के ट्रिपल मर्डर का पर्दाफाश करते हुए पुलिस ने नूर हसन को गिरफ्तार कर लिया है। उसने बीवी, साली और सास की हत्या का जुर्म कबूल कर लिया है।

BJP नेता ने ‘मथुरा मुक्ति’ का किया समर्थन तो भड़का इकबाल अंसारी, कहा- ये हिंदुस्तान की तरक्की रोक रहे

विनय कटियार ने कहा कि अयोध्या, काशी और मथुरा को मुक्त कराने का भाजपा का वादा काफी पुराना है, जिसमें से अयोध्या में विजय प्राप्त हो चुकी है।

स्वस्थ हुए अभिनेता अनुपम श्याम ओझा, CM योगी को पत्र लिख कहा- आपका सहयोग सेवाभाव का प्रतीक

योगी आदित्यनाथ ने भारतेन्दु नाट्य अकादमी के अभिनेता अनुपम श्याम ओझा के इलाज के लिए मुख्यमंत्री सहायता कोष से 20 लाख रुपए की सहायता राशि प्रदान की थी।

अलकायदा का 10वां आतंकी शमीम अंसारी पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद से गिरफ्तार, पाकिस्तान से था लगातार संपर्क में

शमीम अंसारी अलकायदा मोड्यूल का दसवां आतंकवादी है। इसके पहले एनआईए ने केरल के एर्नाकुलम जिले और पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद से...

पंचतंत्र और कताकालक्षेवम् का देश है भारत, कहानी कहने-सुनने के लिए समय निकालें: ‘मन की बात’ में PM मोदी

'मन की बात' में पीएम मोदी ने कहा कि हम उस देश के वासी है, जहाँ, हितोपदेश और पंचतंत्र की परंपरा रही है, जहाँ पंचतंत्र जैसे ग्रन्थ रचे गए।

चुनाव से पहले संकट में बिहार कॉन्ग्रेस: अध्यक्ष समेत 107 नेताओं पर FIR, तेजस्वी यादव को अलग गठबंधन में जाने की धमकी

कॉन्ग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा सहित 7 नामजद व 100 अज्ञात पर आचार संहिता उल्लंघन का मामला। सीट शेयरिंग पर राजद के साथ नहीं बनी बात।

UP पुलिस ने अपने ही सिपाही सेराज को किया अरेस्ट, मुख्तार अंसारी के करीबी अपने भाई मेराज को दिलवाया था शस्त्र

मेराज के दो घरों पर कुर्की का नोटिस चस्पा कर दिया गया। गिरफ्तार किए गए सिपाही सेराज पर आरोप था कि उसने फर्जी तरीके से शस्त्र लाइसेंस...

बेहोश कर पति शादाब के गुप्तांग पर डालती थी Harpic, वसीम के साथ मनाती थी रंगरेलियाँ: आरोपित चाँदनी हिरासत में

महिला ने अपने प्रेमी के साथ रंगरेलियाँ मनाने के लिए अपने पति और तीनों बच्चों को बेहोश कर के एक कमरे में डाल दिया था। पति का गुप्तांग जलाया।

छत्तीसगढ़ में कॉन्ग्रेसी सरकार: भ्रष्टाचार पर लिखेंगे तो सड़क पर भी मार खाएँगे और थाने में भी, देखती रहेगी पुलिस

"वह अपने गुंडे पार्षदों के साथ हमारे पत्रकार साथी को थाने तक पीटते हुए ले आए, इसकी वजह थी कि वह नगरपालिका के विरुद्ध RTI लगा कर..."

राजद ने नकारा, नीतीश ने दुत्कारा: कुशवाहा के चावल, यादवों के दूध से जो बनाते थे ‘खीर’ और करते थे खून बहाने की बात

किसी से भी भाव न मिलने के कारण बिहार में रालोसपा और उपेंद्र कुशवाहा की हालत 'धोबी के कुत्ते' की तरह हो गई है, जो न घर का रहता है और न घाट का।

बॉलीवुड ‘सुपरस्टार’ के सामने ‘अपराधी’ शब्द बौना, ड्रग्स से लेकर हत्या/आत्महत्या और दंगों तक… कहाँ खड़ा होता है बॉलीवुड?

ड्रग्स मामला हो या सुपरस्टार्स के गलत कामों पर पर्दा डालने की कोशिश... बॉलीवुड ‘बॉलीवुड’ का बचाव करने से पीछे नहीं हटता है। ऐसा करने...

हमसे जुड़ें

264,935FansLike
78,068FollowersFollow
325,000SubscribersSubscribe
Advertisements