Monday, January 18, 2021
Home राजनीति राजस्थान में कोरोना से जंग में मुस्लिम तुष्टिकरण हावी, 'भीलवाड़ा मॉडल' ​को कसीदे पढ़ने...

राजस्थान में कोरोना से जंग में मुस्लिम तुष्टिकरण हावी, ‘भीलवाड़ा मॉडल’ ​को कसीदे पढ़ने वाले ही भूले

तुष्टिकरण भारत की राजनीति के लिए कोई चीज नहीं है। हाँ, इसके प्रकटन का समय अलग अलग होता है। यह प्रकटन इस दौर में राजस्थान में हो रहा है। इसलिए कोरोना जैसी महामारी से लड़ने के दौरान भीलवाड़ा मॉडल लफ्फाजियों में ही दम तोड़ रहा है।

आज से महीने भर पहले राजस्थान से लेकर दिल्ली तक सबकी जुबान पर कोरोना से लड़ने के लिए राजस्थान के भीलवाड़ा मॉडल की सफलता के चर्चे थे। लेकिन पिछले कुछ सप्ताह से, जब से जयपुर के रामगंज और जोधपुर का नागौरी गेट, अजमेर का दरगाह बाजार क्षेत्र और कोटा का घंटाघर कोरोना वायरस का एपिसेंटर बना है, सियासत के लोग भीलवाड़ा मॉडल की चर्चा करना भूल गए हैं।

प्रशासन सोच नहीं पा रहा है कि आखिर इन क्षेत्रों में कौन सा मॉडल लागू किया जाए, कि कोरोना संक्रमण की बढ़ती संख्या को नियंत्रण में लाया जा सके।

विपक्षी दल के स्थानीय और केंद्रीय स्तर के नेता लगातार अशोक गहलोत सरकार पर तुष्टिकरण के आरोप लगा रहे हैं। राज्यपाल से हस्तक्षेप करने का आग्रह कर रहे हैं। वे सभी जोर देकर कह रहे हैं कि इन क्षेत्रों में कोरोना वायरस का संक्रमण रोकना है तो सख्ती से लॉकडाउन का पालन करवाएँ।

केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने पिछले दिनों पत्रकारों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बातचीत में गहलोत सरकार पर सीधे आरोप लगाए कि गहलोत राजनैतिक मजबूरियों को छोड़े और जयपुर तथा जोधपुर में पूर्णबंदी का सख्ती से पालन करवाएँ। उन्होंने यहाँ तक कहा कि इसके लिए जरूरत पड़ने पर केंद्रीय रिजर्व बल लगाए जाएँ। लेकिन क्या यह संभव है….?

भीलवाड़ा मॉडल का श्रेय लेने के लिए तो मुख्यमंत्री से लेकर पार्टी अध्यक्षा और शीर्ष पदाधिकारियों ने ट्विटर से लेकर पत्रकार वार्ताओं में खूब बातें की, लेकिन जब से जयपुर, जोधपुर, कोटा और अजमेर में विशेष क्षेत्रों में जिस तेजी से कोरोना संक्रमण का प्रसार हुआ, उसके बाद सरकार और स्थानीय प्रशासन के हाथ-पॉंव फूल रहे हैं। उन्हें भीलवाड़ा मॉडल कहीं दिखाई नहीं दे रहा है।

लेकिन इसका नतीजा यह हो रहा है कि राजस्थान में अब तक (6 मई 2020) आए कुल 3317 मामलों में से लगभग 75 फीसदी से ज्यादा संक्रमित व्यक्ति एक ही समुदाय से हैं।

26 मार्च तक जयपुर में कोरोना वायरस का एक मामला था। ओमान से आए एक व्यक्ति की गैर जिम्मेदाराना व्यवहार ने पूरे जयपुर को एक महीने पीछे धकेल दिया है। जयपुर रेड जोन में है। लगभग पूरा जयपुर शहर गैर जिम्मेदार लोगों की लापरवाही को भुगत रहा है। शहर खामोश है। सड़कें सूनी हैं। ज्यादातर क्षेत्रों में कर्फ्यू जैसे हालात हैं। और यह होना ही था।

कर्फ्यू और लगातार कथित निगरानी के बावजूद जयपुर में संक्रमण बढ़ते गए और यह देश के उन शहरों में शामिल हो गया जहाँ संक्रमण के सर्वाधिक मामले हैं। सात मई शाम तक जयपुर में 1100 से ज्यादा सक्रिय मामले थे। इनमें भी नब्बे प्रतिशत से ज्यादा संक्रमित व्यक्ति एक ही समुदाय से हैं।

यही स्थिति जोधपुर की है। यहाँ शहर के परकोटे के भीतर नागौरी गेट, उदयमंदिर, जालोरी गेट और खांडा पलसा क्षेत्र में कोरोना के खतरनाक संक्रमण के कारण कर्फ्यू लगाया गया है। ये सभी क्षेत्र मुस्लिम बाहुल्य हैं और जनसंख्या के लिहाज से बहुत घने हैं। जोधपुर में कोरोना संक्रमण का प्रसार जमात के लोगों से शुरू हुआ और आज जोधपुर प्रदेश का दूसरा ऐसा जिला है, जहाँ सबसे ज्यादा कोरोना के मरीज हैं।

इन सभी क्षेत्रों में कर्फ्यू के बावजूद कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है। यह खुद मुख्यमंत्री का क्षेत्र है। लेकिन स्थानीय लोग दबी जुबान में कहते हैं कि प्रशासन अगर सख्ती नहीं बरतेगा तो पूरा जोधपुर शहर मौत के मुहाने पर पहुँच जाएगा। लेकिन प्रशासन सियासत की और सियासत तुष्टिकरण की सीमा रेखा में बँधा है।

अजमेर और कोटा भी तुष्टिकरण की नीति का कोरोना फल साबित हो रहा है। कोरोना संक्रमण के दौर के काफी दिनों बाद अजमेर का नंबर आया। भीलवाड़ा के कर्फ्यू के माहौल में से कुछ व्यवस्था कर निकला एक सेल्समैन नावेद ने अजमेर को कोरोना भेंट किया। वह पहले अजमेर पहुँचा और अपने परिवार के पाँच लोगों को कोरोना भेंट किया।

कोरोना की यह भेंट अजमेर का दरगाह बाजार, केसरगंज, मुस्लिम मोची मोहल्ला और दरगाह बाजार के आसपास की कॉलोनियों, बाजारों में बँटती गई। फिर कर्फ्यू के बावजूद मेल-मिलाप से इन क्षेत्रों में कोरोना ने जमकर लुत्फ उठाया। प्रशासन ने कर्फ्यू ठोका। लेकिन हालात वही ढाक के तीन पात।

कर्फ्यू के बावजूद कोरोना संक्रमण के मरीज बढ़ रहे हैं। अप्रैल के पहले हफ्ते में यहाँ तीस से चालीस केस थे, जो अब बढ़कर 187 हो गए हैं। इनमें 90 फीसदी से ज्यादा मरीज एक ही समुदाय से हैं।

आइए अब कोरोना संक्रमण से सबसे ज्यादा प्रभावित कोटा चलते हैं। कोरोना संक्रमण और उसे रोकने के उपाय पूरे राजस्थान में एक ही ट्रेंड पर चल रहे हैं। कोटा इससे अलग कैसे हो सकता है। यहाँ भी कोरोना का संक्रमण लेकर आने वाला पहला व्यक्ति जयपुर जमात से जुड़ा एक ड्राइवर था। फिर क्या… शहर के परकोटे के भीतर घंटाघर, मकबरा, पाटनपोल, कैथुनीपोल जैसे मुस्लिम क्षेत्रों में कोरोना मेहमान बनकर बैठ गया।

प्रशासन और सरकार की अपीलों को एक तरफ रख मेल-मिलाप चलता रहा। 5-6 अप्रैल को आए पहले केस के बाद कोटा में अब तक (सात मई 2020) 223 मामले आ चुके हैं। इनमें भी नब्बे फीसदी मामले एक ही समुदाय से हैं। अप्रैल के शुरू में एक दिन ऐसा भी था जब कोटा कलेक्टर ने प्रेस वार्ता में घोषणा कर दी थी कि जिला पूरी तरह कोरोना मुक्त है। लेकिन उसके तीसरे चौथे दिन ही एक साथ पाँच मामले सामने आ गए।

इन चारों प्रमुख शहरों में आखिरकार भीलवाड़ा मॉडल अपनी रफ्तार क्यों नहीं पकड़ पाया। उसने इन शहरों में क्यों दम तोड़ दिया। प्रशासन, सरकार, चिकित्साकर्मी, पुलिसकर्मी, स्वच्छताकर्मी सभी तो वहीं हैं। फिर…?

दो वजह हैं, जो साफ-साफ नजर आती हैं। लेकिन संभव है सियासत जानबूझकर आँखें मूँदे हुए है। भीलवाड़ा की आबादी का मूल स्वरूप और इन क्षेत्रों की आबादी के मूल स्वरूप और सियासती तुष्टिकरण के रंग में गहरा फर्क है। अगर भीलवाड़ा मॉडल यहाँ दम तोड़ रहा है तो उसका कारण स्पष्ट है। इन क्षेत्रों की आबादी का मूल स्वरूप, उनका गैरजिम्मेदाराना व्यवहार और सियासत की तुष्टिकरण की मजबूरी।

इन चारों ही शहरों के स्थानीय पत्रकार मानते हैं कि समुदाय विशेष के क्षेत्र होने की वजह से सरकार लॉकडाउन और कर्फ्यू का सख्ती से पालन करवाने में पूरी तरह विफल रही है। राजस्थान में विपक्षी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष से लेकर पार्टी के स्थानीय और केंद्रीय नेता भी गहलोत सरकार से कोरोना नियंत्रण के लिए तुष्टिकरण की नीति को छोड़कर सख्ती से लॉकडाउन की पालना के लिए कह चुके हैं। लेकिन सरकार का कहना है कि वह लॉकडाउन की पालना में न धर्म देखती है और न जाति।

कितनी अच्छी बात है। लेकिन सवाल खड़ा होता है, फिर क्यों इन चारों शहरों में भीलवाड़ा मॉडल की साँसे फूल रही हैं? क्यों वह तुष्टिकरण की सीमा रेखा को लाँघने की हिम्मत नहीं दिखा पा रहा है?

तुष्टिकरण भारत की राजनीति के लिए कोई चीज नहीं है। हाँ, इसके प्रकटन का समय अलग-अलग होता है। यह प्रकटन इस दौर में राजस्थान में हो रहा है। इसलिए कोरोना जैसी महामारी से लड़ने के दौरान जब प्रशासन पर सियासत हावी हो और सियासत के गले में तुष्टिकरण की माला पड़ी हो तो फिर चाहे भीलवाड़ा मॉडल हो या वुहान मॉडल, वह लफ्फाजियों में ही दम तोड़ देता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तांडव’ पर मोदी सरकार सख्त, अमेजन प्राइम से I&B मिनिस्ट्री ने माँगा जवाब: रिपोर्ट्स

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार वेब सीरिज तांडव को लेकर अमेजन प्राइम वीडियो के अधिकारियों को नोटिस जारी किया गया है।

‘जेल में मेरे पति को कर रहे टॉर्चर’: BARC के पूर्व सीईओ की पत्नी ने NHRC से की शिकायत

BARC के पूर्व सीईओ पार्थो दासगुप्ता को अस्पताल में गंभीर हालत में भर्ती कराने के बाद उनकी पत्नी ने NHRC के समक्ष शिकायत दर्ज कराई है।

हार्वर्ड वाले स्टीव जार्डिंग के NDTV से लेकर राहुल-अखिलेश तक से लिंक, लेकिन निधि राजदान को नहीं किया खबरदार!

साइबर क्राइम के एक से एक मामले आपने देखे-सुने होंगे। लेकिन निधि राजदान के साथ जो हुआ वो अलग और अनोखा है। और ऐसा स्टीव जार्डिंग के रहते हो गया।

शिवलिंग पर कंडोम: अभिनेत्री सायानी घोष को नेटिजन्स ने लताड़ा, ‘अकाउंट हैक’ थ्योरी का कर दिया पर्दाफाश

अभिनेत्री सायानी घोष ने एक तस्वीर पोस्ट की थी, जिसमें एक महिला पवित्र हिंदू प्रतीक शिवलिंग के ऊपर कंडोम डालते हुए दिख रही थी।

‘आइए, हम सब वानर और गिलहरी बन अयोध्या के राम मंदिर के लिए योगदान दें, मैंने कर दी शुरुआत’: अक्षय कुमार की अपील

अक्षय कुमार ने बड़ी जानकारी दी कि उन्होंने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए अपना योगदान दे दिया है और उम्मीद जताई कि और लोग इससे जुड़ेंगे।

निधि राजदान के ‘प्रोफेसरी’ वाले दावे से 2 महीने पहले ही हार्वर्ड ने नियुक्तियों पर लगा दी थी रोक

हार्वर्ड प्रकरण में निधि राजदान ने ब्लॉग लिखकर कई सारे सवालों के जवाब दिए हैं। इनसे कई सारे सवाल खड़े हो गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

प्राइवेट वीडियो, किसी और से शादी तक नहीं करने दी… सदमे से माँ की मौत: महाराष्ट्र के मंत्री पर गंभीर आरोप

“धनंजय मुंडे की वजह से मेरी ज़िंदगी और करियर दोनों बर्बाद हो गए। उसने मुझे किसी और से शादी तक नहीं करने दी। जब मेरी माँ को..."

शिवलिंग पर कंडोम: अभिनेत्री सायानी घोष को नेटिजन्स ने लताड़ा, ‘अकाउंट हैक’ थ्योरी का कर दिया पर्दाफाश

अभिनेत्री सायानी घोष ने एक तस्वीर पोस्ट की थी, जिसमें एक महिला पवित्र हिंदू प्रतीक शिवलिंग के ऊपर कंडोम डालते हुए दिख रही थी।

‘अगर तलोजा वापस गए तो मुझे मार डालेंगे, अर्नब का नाम लेने तक वे कर रहे हैं किसी को टॉर्चर के लिए भुगतान’: पूर्व...

पत्नी समरजनी कहती हैं कि पार्थो ने पुकारा, "मुझे छोड़कर मत जाओ... अगर वे मुझे तलोजा जेल वापस ले जाते हैं, तो वे मुझे मार डालेंगे। वे कहेंगे कि सब कुछ ठीक है और मुझे वापस ले जाएँगे और मार डालेंगे।”

‘भूखमरी वाले देश में राम मंदिर 10 साल बाद नहीं बन सकता?’: अक्षय पर पिल पड़े लिबरल्स

आनंद कोयारी नामक यूजर ने उन्हें अस्पतालों और स्कूलों के लिए चंदा इकट्ठा करने की सलाह दे दी और दावा किया कि कोरोना काल में एक भी मंदिर काम नहीं आया।

‘मैं सभी को मार दूँगा, अल्लाहु अकबर’: जर्मन एयरपोर्ट पर मचाई अफरातफरी

जर्मनी के फ्रैंकफर्ट एयरपोर्ट पर मास्क न पहनने की वजह से टोके जाने पर एक शख्स ने 'अल्लाहु अकबर' का नारा लगाते हुए जान से मारने की धमकी दी।

2000 करोड़ रुपए कचड़े में: 7 साल पहले बेकार समझ फेंक दी थी, खोजने वाले को मिलेगा 50%

2013 में ब्रिटिश आईटी कर्मचारी जेम्स हॉवेल्स (James Howells) ने 7500 Bitcoins वाले एक हार्ड ड्राइव को कचरे में फेंक दिया था।

‘तांडव’ पर मोदी सरकार सख्त, अमेजन प्राइम से I&B मिनिस्ट्री ने माँगा जवाब: रिपोर्ट्स

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार वेब सीरिज तांडव को लेकर अमेजन प्राइम वीडियो के अधिकारियों को नोटिस जारी किया गया है।

मुंबई के आजाद मैदान में लगे ‘आजादी’ के नारे, ‘किसानों’ के समर्थन के नाम पर जुटे हजारों मुस्लिम प्रदर्शनकारी

मुंबई के आजाद मैदान में हजारों मुस्लिम प्रदर्शनकारी कृषि कानूनों के विरोध के नाम पर जुटे और 'आजादी' के नारे लगाए गए।

कॉन्ग्रेस ने कबूला मुंबई पुलिस ने लीक किया अर्नब गोस्वामी का चैट: जानिए, लिबरलों की थ्योरी में कितना दम

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने स्वीकार किया है कि मुंबई पुलिस ने ही अर्नब गोस्वामी के निजी चैट को लीक किया है।

रॉबर्ट वाड्रा को हिरासत में लेकर पूछताछ करना चाहती है ED, राजस्थान हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया

ED ने बेनामी संपत्ति मामले में रॉबर्ट वाड्रा को हिरासत में लेकर पूछताछ करने के लिए राजस्थान उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है।

‘तांडव’ के मेकर्स को समन, हिंदू घृणा से सने कंटेंट को लेकर बीजेपी नेता राम कदम ने की थी शिकायत

बीजेपी नेता राम कदम की शिकायत के बाद वेब सीरिज तांडव के मेकर्स को समन भेजा गया है।

बांग्लादेश से भागकर दिल्ली में ठिकाना बना रहे रोहिंग्या, आनंद विहार और उत्तम नगर से धरे गए

दिल्ली पुलिस ने आनंद विहार से 6 रोहिंग्या को हिरासत में लिया है। उत्तम नगर से भी दो को पकड़ा है।

‘जेल में मेरे पति को कर रहे टॉर्चर’: BARC के पूर्व सीईओ की पत्नी ने NHRC से की शिकायत

BARC के पूर्व सीईओ पार्थो दासगुप्ता को अस्पताल में गंभीर हालत में भर्ती कराने के बाद उनकी पत्नी ने NHRC के समक्ष शिकायत दर्ज कराई है।

डिमांड में ‘कॉमेडियन’ मुनव्वर फारूकी, यूपी पुलिस को चाहिए कस्टडी

यूपी पुलिस ने मुनव्वर फारूकी के खिलाफ पिछले साल अप्रैल में दर्ज एक मामले को लेकर प्रोडक्शन वारंट जारी किया है।

हार्वर्ड वाले स्टीव जार्डिंग के NDTV से लेकर राहुल-अखिलेश तक से लिंक, लेकिन निधि राजदान को नहीं किया खबरदार!

साइबर क्राइम के एक से एक मामले आपने देखे-सुने होंगे। लेकिन निधि राजदान के साथ जो हुआ वो अलग और अनोखा है। और ऐसा स्टीव जार्डिंग के रहते हो गया।

आतंकियों की तलाश में दिल्ली पुलिस ने लगाए पोस्टर: 26 जनवरी पर हमले की फिराक में खालिस्तानी-अलकायदा आतंकी

26 जनवरी पर हमले के अलर्ट के बीच दिल्ली पुलिस ने खालिस्तानी आतंकियों की तलाश में पोस्टर लगाए हैं।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
381,000SubscribersSubscribe