Sunday, September 26, 2021
Homeराजनीतिदंगाइयों ने दंगाइयों को मारा, मुआवजा देने का सवाल ही नहीं: CAA विरोधी हिंसा...

दंगाइयों ने दंगाइयों को मारा, मुआवजा देने का सवाल ही नहीं: CAA विरोधी हिंसा पर CM योगी सख्त

सीएए के ख़िलाफ हुए विरोध-प्रदर्शनों में दंगाइयों की पत्थरबाजी से 400 पुलिसकर्मी घायल हुए, जबकि 61 पुलिसवालों को गोलियाँ लगी। 19-20 दिसंबर को सीएए के ख़िलाफ हुए राज्य में हुए विरोध-प्रदर्शनों के दौरान भीड़ की हिंसा में 21 लोग मारे गए थे।

CAA के ख़िलाफ आए दिन सड़कों पर उतर कर हिंसा करने वालों के खिलाफ उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कड़ा रुख अख्तियार दिखाया है। विधानसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में उन्होंने कहा कि यूपी में मारे गए 21 दंगाइयों में से किसी की भी मौत पुलिस की गोली लगने से नहीं हुई है। इसलिए मारे गए दंगाइयों के परिजनों को मुआवजा देने का कोई प्रावधान नहीं है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक समाजवादी पार्टी के विधायक राकेश प्रताप सिंह द्वारा विधानसभा में पूछे गए एक सवाल के लिखित जवाब में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राज्य के खिलाफ सड़कों पर उपद्रव करने वाले लोगों को राहत देने के लिए राज्य सरकार का ऐसा कोई प्रावधान नहीं हैं, जिससे पिछले 6 महीने में दंगे में मरने वाले लोगों के परिवारों को मुआवजा दिया जा सके। उन्होंने आगे कहा कि मुआवजा देने का कोई सवाल ही नहीं है। 

सीएम योगी आदित्यनाथ ने यह भी बताया कि पिछले महीनों में सीएए के ख़िलाफ हुए विरोध-प्रदर्शनों में दंगाइयों की पत्थरबाजी से 400 पुलिसकर्मी घायल हुए, जबकि 61 पुलिसवालों को गोलियाँ लगी। 19-20 दिसंबर को सीएए के ख़िलाफ हुए राज्य में हुए विरोध-प्रदर्शनों के दौरान भीड़ की हिंसा में 21 लोग मारे गए थे। लेकिन इनमें से किसी की भी मौत पुलिस की गोली से नहीं हुई है। सीएम योगी ने पिछले हफ्ते कहा था कि दंगाइयों की मौत दंगाइयों के हाथों ही हुई है।

इससे पहले भी योगी ने दंगाइयों से निपटने के लिए कड़े कदम उठाने बात की थी। हिंसा के दौरान सार्वजनिक संपत्ति को हुए नुकसान की भरपाई के लिए दंगाइयों की संपत्ति जब्त करने की बात कही थी। इतना ही नहीं इसे अमल में लाने और दंगाइयों को सबक सिखाने के लिए यूपी सरकार ने करीब 498 लोगों की संपत्तियों को जब्त करने के लिए चिन्हित किया था। गौरतलब है कि बुलंदशहर के मुस्लिमों ने जिला मजिस्ट्रेट को 6 लाख रुपए का भुगतान किया था।

दरअसल सपा विधायक राकेश प्रताप सिंह ने विधानसभा में पिछले 6 महीने में दंगे से जुड़ी घटनाओं में मारे गए लोगों की संख्या को लेकर सवाल किया था। उन्होंने यह भी पूछा था कि क्या सरकार पीड़ित परिवारों को मुआवजा देने के लिए कोई प्रावधान बनाएगी।

अगर कोई मरने के लिए आ ही रहा है तो वह जिंदा कैसे हो जाएगा: CAA विरोधी हिंसा पर CM योगी

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लड़कियों के कपड़े कैंची से काटे, राखी-गहने-चप्पल सब उतरवाए: राजस्थान में कुछ इस तरह हो रही REET की परीक्षा, रोते रहे अभ्यर्थी

राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (REET 2021) की परीक्षा के दौरान सेंटरों पर लड़कियों के फुल बाजू के कपड़ों को कैंची से काट डालने का मामला सामने आया है।

11वीं से 14वीं शताब्दी की 157 मूर्तियाँ-कलाकृतियाँ, चोर ले गए थे अमेरिका… PM मोदी वापस लेकर लौटे

अमेरिका द्वारा भारत को सौंपी गई कलाकृतियों में सांस्कृतिक पुरावशेष, हिंदू धर्म, बौद्ध धर्म, जैन धर्म से संबंधित मूर्तियाँ शामिल हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,458FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe