Wednesday, September 22, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयअफगानिस्तान: पहले कॉमेडियन और अब कवि, तालिबान ने अब्दुल्ला अतेफी को घर से घसीट...

अफगानिस्तान: पहले कॉमेडियन और अब कवि, तालिबान ने अब्दुल्ला अतेफी को घर से घसीट कर निकाला और मार डाला

उरुज्गन प्रांत के गवर्नर मोहम्मद उमर सिरजाद ने बताया कि जहाँ कहीं भी तालिबान का नियंत्रण है, वहाँ शिक्षाविदों, लेखकों, सामाजिक कार्यकर्ताओं, कवियों, कलाकारों और महिलाओं को प्रताड़ित किया जा रहा है, डराया-धमकाया जा रहा है और उन्हें मार दिया जा रहा है।

अफगानिस्तान के लोकप्रिय कॉमेडियन नजर मोहम्मद उर्फ खाशा की हत्या करने के बाद अब तालिबान ने अफगानिस्तान के उरुज्गन (Uruzgan) प्रांत के कवि और इतिहासकार अब्दुल्ला अतेफी की हत्या कर दी है। प्रांत के गवर्नर के मुताबिक, मारने से पहले अतेफी को प्रताड़ित किया गया।

अफगानिस्तान और पाकिस्तान से सम्बंधित मुद्दों पर रिपोर्टिंग करने वाले पत्रकार फ्रड बेझन (Frud Bezhan) ने ट्वीट करके अतेफी की हत्या की जानकारी दी। बेझन ने बताया कि कवि और इतिहासकार अतेफी की हत्या अफगानिस्तान के दक्षिणी प्रांत उरुज्गन के चोरा जिले में हुई, जो बीते जून से तालिबान के कब्जे में है।

उरुज्गन प्रांत के गवर्नर मोहम्मद उमर सिरजाद ने बताया कि जहाँ कहीं भी तालिबान का नियंत्रण है, वहाँ शिक्षाविदों, लेखकों, सामाजिक कार्यकर्ताओं, कवियों, कलाकारों और महिलाओं को प्रताड़ित किया जा रहा है, डराया-धमकाया जा रहा है और उन्हें मार दिया जा रहा है। सिरजाद के मुताबिक, अब्दुल्ला अतेफी की हत्या करने से पहले उन्हें घर से घसीट कर बाहर लाया गया और उन्हें प्रताड़ित किया गया।

अफगानिस्तान के उप-राष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने अतेफी की हत्या की निंदा की और कहा कि अफगानिस्तान के विद्वान खतरे में हैं और तालिबान इन्हें खत्म करके अफगानिस्तान को बंजर बनाना चाहता है। सालेह ने यह भी कहा कि अतेफी की गलती सिर्फ इतनी थी कि वो अर्थव्यवस्था और इतिहास के जानकर थे। हालाँकि, तालिबान के प्रवक्ता ने अतेफी की हत्या में तालिबानी लड़ाकों की संलिप्तता से इनकार किया है।

ज्ञात हो कि इससे पहले 22 जुलाई 2021 को कंधार निवासी कॉमेडियन खाशा का तालिबान आतंकियों ने अपहरण कर लिया था। अपहरण करने के बाद उन्हें ले जाते समय कार में आतंकियों ने खाशा को कई बार थप्पड़ मारे थे। अंत में तालिबान आतंकियों ने उन्हें एक पेड़ पर बाँध दिया और फिर गला काटकर उनकी हत्या कर दी। स्थानीय पुलिस के रूप में काम करने वाले कॉमेडियन का कटा हुआ सिर जमीन पर पड़ा हुआ मिला था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मौलाना कलीम सिद्दीकी को यूपी ATS ने मेरठ से किया गिरफ्तार, अवैध धर्मांतरण के लिए की हवाला के जरिए फंडिंग

यूपी पुलिस ने बताया कि मौलाना जामिया इमाम वलीउल्लाह ट्रस्ट चलाता है, जो कई मदरसों को फंड करता है। इसके लिए उसे विदेशों से भारी फंडिंग मिलती है।

60 साल में भारत में 5 गुना हुए मुस्लिम, आज भी बच्चे पैदा करने की रफ्तार सबसे तेज: अमेरिकी थिंक टैंक ने भी किया...

अध्ययन के अनुसार 1951 से 2011 के बीच भारत की आबादी तिगुनी हुई। लेकिन इसी दौरान मुस्लिमों की आबादी 5 गुना हो गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,707FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe