Friday, July 30, 2021
Homeरिपोर्टमीडियाइस्लामोफोबिया के नाम पर अब अलजजीरा ने फैलाया प्रोपेगेंडा, भारतीय मुस्लिमों की हालत उइगर...

इस्लामोफोबिया के नाम पर अब अलजजीरा ने फैलाया प्रोपेगेंडा, भारतीय मुस्लिमों की हालत उइगर जैसी बताई

लेख श्रीलंका के मुस्लिमों पर था। लेकिन, लेखक उमर सुलेमान ने भारत पर ही चर्चा कर डाली। यहॉं के मुस्लिमों की स्थिति चीन के उइगर और म्यांमार के रोहिंग्या मुस्लिमों जैसी बताई। कहा कि इन सभी देशों में कोरोना संकट का इस्तेमाल मुस्लिमों पर अत्याचारों को छिपाने के लिए किया जा रहा है।

वैश्विक कोरोना महामारी के इस दौर में इस्लामोफोबिया के नाम पर भारत को बदनाम करने की विदेशी मीडिया लगातार कोशिश कर रहा है। पिछले कुछ समय में हमने न्यूयॉर्क टाइम्स जैसे अखबारों में इसके नमूने कई बार देखे। अब ताजा मामला अलजजीरा का है। उसने दुनिया के किसी भी देश में मुस्लिमों की बिगड़ती स्थिति को बताने के लिए भारत के नाम का इस्तेमाल उदाहरण के तौर पर किया है।

दरअसल, कल अलजजीरा में एक लेख प्रकाशित हुआ। इस लेख में लेखक को मुख्यत: श्रीलंका में मुस्लिमों की स्थिति पर बात करनी थी। लेकिन, लेखक उमर सुलेमान ने श्रीलंका में मुस्लिमों की गंभीर स्थिति से अपने पाठकों को अवगत कराने के लिए व अपनी बातों में वजन डालने के लिए यहाँ भारत के नाम का चुनाव किया। साथ ही लेख की हेडलाइन से लेकर लेख के आधे भाग तक वो भारत के विषय पर चर्चा में व्यस्त रहे।

भाजपा और मीडिया को बताया इस्लामोफोबिया का जिम्मेदार

लेखक ने कोरोना संकट में भारतीय मुस्लिमों की स्थिति को गंभीर बताया और मरकज का जिक्र करते हुए कहा कि भारत में हिंदू राष्ट्रवादी भारतीय जनता पार्टी और मीडिया दोनों ही मुस्लिम समुदाय को कोरोना वायरस का सुपर स्प्रेडर्स और कोरोना आतंकी बताने की कोशिश कर रहे हैं। इसके कारण मस्जिदों में जाने वालों के साथ आतंकियों की तरह बर्ताव किया जा रहा है।

उस्मान मानते हैं कि भारत में कोरोना संकट को भारतीय सरकार ने देश में इस्लामोफोबिया फैलाने के लिए इस्तेमाल किया। उनका कहना है कि भारत सरकार ने कोरोना के आगामी परिणामों से लोगों का ध्यान हटाने लिए मुस्लिमों को बलि के बकरे की तरह उपयोग किया और ऐसा करके वह भारत की बहुसंख्यक आबादी के पूर्वाग्रहों को और मजबूत करने में कामयाब रहे।

श्रीलंका के मुस्लिमों की स्थिति को भारतीय मुस्लिमों की तरह बताया

इसके बाद लेखक ने इस्लामोफोबिया के नाम पर भारतीय मुस्लिमों की स्थिति पर पूरी भूमिका बनाकर श्रीलंका के हालात पर बात की। श्रीलंका के लिए लगभग वहीं सब बातें थी।

भारत की तरह श्रीलंका पर भी यही आरोप था कि कुछ मुस्लिम कट्टरपंथियों के हमलों के कारण वहाँ मुस्लिमों का बहिष्कार हो रहा है। वहाँ के मीडिया और राष्ट्रवादी लोग मुस्लिमों को निशाना बना रहे हैं। साथ ही बहुसंख्यक आबादी मुस्लिमों से कोई भी सामान खरीदने मना कर रही है।

लेखक की शिकायत है कि अप्रैल में वहाँ की सरकार ने इस्लामिक रिवाजों के विपरीत कोरोना संक्रमित की मौत होने पर दाह संस्कार को अनिवार्य कर दिया, जिससे न केवल मुस्लिमों के मौलिक अधिकारों का हनन हुआ अपितु लोगों में ये संदेश भी गया कि मुस्लिमों के रिवाज के कारण कोरोना संक्रमण फैल रहा है।

उइगर और रोहिंग्याओं की तुलना भारतीय मुस्लिमों से

बात लेख में केवल श्रीलंका के मुस्लिमों तक नहीं रुकी। अंत तक आते-आते उस्मान ने इस लेख में भारतीय मुस्लिमों की स्थिति को चीन के उइगर मुस्लिमों और म्यांमार में रोहिंग्या मुस्लिमों की स्थिति से जोड़कर भी दर्शा दिया और आरोप लगाया कि इन सभी देशों में भी कोरोना संकट का इस्तेमाल मुस्लिमों पर किए अत्याचारों को छिपाने के लिए किया जा रहा है। वहाँ भी मुस्लिमों के जीवन के खतरे बढ़ते जा रहे हैं।

कोरोना में इस्लामोफोबिया के नाम पर बढ़ा विदेशी मीडिया का कारोबार

अब हालाँकि, हम सब जानते हैं कि भारत में कट्टरपंथी सोच वालों को छोड़ दिया जाए, तो मुख्तार अब्बास नकवी जैसे अनेकों आम मुस्लिम भारत को अपने लिए सबसे सुरक्षित देश मानते हैं, जहाँ उन्हें धर्म से संबंधी हर प्रकार की आजादी है।

मगर, फिर भी पिछले कुछ समय में ऐसा माहौल तैयार हुआ है, जहाँ देश के लोगों ने ही देश में इस्लामोफोबिया की अफवाह को इस तरह फैलाया कि अरब देश भी भारत पर ऊँगली उठाने लगे और विदेशी मीडिया इस पर अपनी जोरदार कवरेज करने लगा।

न्यूयॉर्क टाइम्स ने पिछले महीने एक लेख छापा और तबीलीगी जमात के कारनामों पर उठते सवालों को नफरत बताकर पेश किया। विदेशी मीडिया ने इस दौरान आरोप लगाया कि भारत में कोरोना वायरस ने धार्मिक दुर्भावना को हवा दी है। इसके चलते भारतीय अधिकारी इस्लामिक समूहों को प्रतिबंधित कर रहे हैं और मुस्लिमों को हिंसा का शिकार बनाया जा रहा है।

द न्यूयॉर्क टाइम्स में प्रकाशित खबर

इसी प्रकार टाइम्स ने 3 अप्रैल को एक लेख छापा। लेख की हेडलाइन दी गई भारत में मुस्लिम होना पहले से ही खतरनाक था और फिर कोरोना वायरस आ गया।

14 अप्रैल को द इंटरसेप्ट के लिए मेहंदी हसन ने एक लेख लिखा। इस लेख में भी भारत का उदाहरण देकर इस्लामोफोबिया और इस्लामोफोबिक विचारधारा पर बात की गई। साथ ही आरोप लगाया गया कि भाजपा सरकार ने भारत में कोरोना फैलाने के लिए मुस्लिमों को जिम्मेदार बताया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

Tokyo Olympics: 3 में से 2 राउंड जीतकर भी हार गईं मैरीकॉम, क्या उनके साथ हुई बेईमानी? भड़के फैंस

मैरीकॉम का कहना है कि उन्हें पता ही नहीं था कि वह हार गई हैं। मैच होने के दो घंटे बाद जब उन्होंने सोशल मीडिया देखा तो पता चला कि वह हार गईं।

मीडिया पर फूटा शिल्पा शेट्टी का गुस्सा, फेसबुक-गूगल समेत 29 पर मानहानि केस: शर्लिन चोपड़ा को अग्रिम जमानत नहीं, माँ ने भी की शिकायत

शिल्पा शेट्टी ने छवि धूमिल करने का आरोप लगाते हुए 29 पत्रकारों और मीडिया संस्थानों के खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट में मानहानि का केस किया है। सुनवाई शुक्रवार को।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,941FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe