Saturday, July 4, 2020
Home रिपोर्ट मीडिया इस्लामोफोबिया के नाम पर अब अलजजीरा ने फैलाया प्रोपेगेंडा, भारतीय मुसलमानों की हालत उइगर...

इस्लामोफोबिया के नाम पर अब अलजजीरा ने फैलाया प्रोपेगेंडा, भारतीय मुसलमानों की हालत उइगर जैसी बताई

लेख श्रीलंका के मुसलमानों पर था। लेकिन, लेखक उमर सुलेमान ने भारत पर ही चर्चा कर डाली। यहॉं के मुसलमानों की स्थिति चीन के उइगर और म्यांमार के रोहिंग्या मुसलमानों जैसी बताई। कहा कि इन सभी देशों में कोरोना संकट का इस्तेमाल मुस्लिमों पर अत्याचारों को छिपाने के लिए किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

वैश्विक कोरोना महामारी के इस दौर में इस्लामोफोबिया के नाम पर भारत को बदनाम करने की विदेशी मीडिया लगातार कोशिश कर रहा है। पिछले कुछ समय में हमने न्यूयॉर्क टाइम्स जैसे अखबारों में इसके नमूने कई बार देखे। अब ताजा मामला अलजजीरा का है। उसने दुनिया के किसी भी देश में मुस्लिमों की बिगड़ती स्थिति को बताने के लिए भारत के नाम का इस्तेमाल उदाहरण के तौर पर किया है।

दरअसल, कल अलजजीरा में एक लेख प्रकाशित हुआ। इस लेख में लेखक को मुख्यत: श्रीलंका में मुस्लिमों की स्थिति पर बात करनी थी। लेकिन, लेखक उमर सुलेमान ने श्रीलंका में मुस्लिमों की गंभीर स्थिति से अपने पाठकों को अवगत कराने के लिए व अपनी बातों में वजन डालने के लिए यहाँ भारत के नाम का चुनाव किया। साथ ही लेख की हेडलाइन से लेकर लेख के आधे भाग तक वो भारत के विषय पर चर्चा में व्यस्त रहे।

भाजपा और मीडिया को बताया इस्लामोफोबिया का जिम्मेदार

लेखक ने कोरोना संकट में भारतीय मुस्लिमों की स्थिति को गंभीर बताया और मरकज का जिक्र करते हुए कहा कि भारत में हिंदू राष्ट्रवादी भारतीय जनता पार्टी और मीडिया दोनों ही मुस्लिम समुदाय को कोरोना वायरस का सुपर स्प्रेडर्स और कोरोना आतंकी बताने की कोशिश कर रहे हैं। इसके कारण मस्जिदों में जाने वालों के साथ आतंकियों की तरह बर्ताव किया जा रहा है।

उस्मान मानते हैं कि भारत में कोरोना संकट को भारतीय सरकार ने देश में इस्लामोफोबिया फैलाने के लिए इस्तेमाल किया। उनका कहना है कि भारत सरकार ने कोरोना के आगामी परिणामों से लोगों का ध्यान हटाने लिए मुस्लिमों को बलि के बकरे की तरह उपयोग किया और ऐसा करके वह भारत की बहुसंख्यक आबादी के पूर्वाग्रहों को और मजबूत करने में कामयाब रहे।

श्रीलंका के मुस्लिमों की स्थिति को भारतीय मुस्लिमों की तरह बताया

इसके बाद लेखक ने इस्लामोफोबिया के नाम पर भारतीय मुस्लिमों की स्थिति पर पूरी भूमिका बनाकर श्रीलंका के हालात पर बात की। श्रीलंका के लिए लगभग वहीं सब बातें थी।

भारत की तरह श्रीलंका पर भी यही आरोप था कि कुछ मुस्लिम कट्टरपंथियों के हमलों के कारण वहाँ मुस्लिमों का बहिष्कार हो रहा है। वहाँ के मीडिया और राष्ट्रवादी लोग मुस्लिमों को निशाना बना रहे हैं। साथ ही बहुसंख्यक आबादी मुस्लिमों से कोई भी सामान खरीदने मना कर रही है।

लेखक की शिकायत है कि अप्रैल में वहाँ की सरकार ने इस्लामिक रिवाजों के विपरीत कोरोना संक्रमित की मौत होने पर दाह संस्कार को अनिवार्य कर दिया, जिससे न केवल मुस्लिमों के मौलिक अधिकारों का हनन हुआ अपितु लोगों में ये संदेश भी गया कि मुस्लिमों के रिवाज के कारण कोरोना संक्रमण फैल रहा है।

उइगर और रोहिंग्याओं की तुलना भारतीय मुस्लिमों से

बात लेख में केवल श्रीलंका के मुस्लिमों तक नहीं रुकी। अंत तक आते-आते उस्मान ने इस लेख में भारतीय मुस्लिमों की स्थिति को चीन के उइगर मुस्लिमों और म्यांमार में रोहिंग्या मुस्लिमों की स्थिति से जोड़कर भी दर्शा दिया और आरोप लगाया कि इन सभी देशों में भी कोरोना संकट का इस्तेमाल मुस्लिमों पर किए अत्याचारों को छिपाने के लिए किया जा रहा है। वहाँ भी मुस्लिमों के जीवन के खतरे बढ़ते जा रहे हैं।

कोरोना में इस्लामोफोबिया के नाम पर बढ़ा विदेशी मीडिया का कारोबार

अब हालाँकि, हम सब जानते हैं कि भारत में कट्टरपंथी सोच वालों को छोड़ दिया जाए, तो मुख्तार अब्बास नकवी जैसे अनेकों आम मुस्लिम भारत को अपने लिए सबसे सुरक्षित देश मानते हैं, जहाँ उन्हें धर्म से संबंधी हर प्रकार की आजादी है।

मगर, फिर भी पिछले कुछ समय में ऐसा माहौल तैयार हुआ है, जहाँ देश के लोगों ने ही देश में इस्लामोफोबिया की अफवाह को इस तरह फैलाया कि अरब देश भी भारत पर ऊँगली उठाने लगे और विदेशी मीडिया इस पर अपनी जोरदार कवरेज करने लगा।

न्यूयॉर्क टाइम्स ने पिछले महीने एक लेख छापा और तबीलीगी जमात के कारनामों पर उठते सवालों को नफरत बताकर पेश किया। विदेशी मीडिया ने इस दौरान आरोप लगाया कि भारत में कोरोना वायरस ने धार्मिक दुर्भावना को हवा दी है। इसके चलते भारतीय अधिकारी इस्लामिक समूहों को प्रतिबंधित कर रहे हैं और मुस्लिमों को हिंसा का शिकार बनाया जा रहा है।

द न्यूयॉर्क टाइम्स में प्रकाशित खबर

इसी प्रकार टाइम्स ने 3 अप्रैल को एक लेख छापा। लेख की हेडलाइन दी गई भारत में मुस्लिम होना पहले से ही खतरनाक था और फिर कोरोना वायरस आ गया।

14 अप्रैल को द इंटरसेप्ट के लिए मेहंदी हसन ने एक लेख लिखा। इस लेख में भी भारत का उदाहरण देकर इस्लामोफोबिया और इस्लामोफोबिक विचारधारा पर बात की गई। साथ ही आरोप लगाया गया कि भाजपा सरकार ने भारत में कोरोना फैलाने के लिए मुस्लिमों को जिम्मेदार बताया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

ख़ास ख़बरें

दिल्ली दंगों से जाकिर नाइक के भी जुड़े तार, फंड के लिए मिला था खालिद सैफी, विदेशी फंडिंग का स्पेशल सेल को मिला लिंक

खालिद सैफी के पासपोर्ट से पता चला है कि दिल्ली दंगों की फंडिंग के लिए जाकिर नाइक जैसे कई लोगों से मुलाकात करने के लिए उसने कई देशों की यात्रा की थी।

हिरोशिमा-नागासाकी पर बमबारी के लिए आइंस्टाइन को जिम्मेदार बताने जैसा है जाति व्यवस्था के लिए मनुस्मृति को दोष देना

महर्षि मनु हर रचनाकार की तरह अपनी मनुस्मृति के माध्यम से जीवित हैं, किंतु दुर्भाग्य से रामायण-महाभारत-पुराण आदि की तरह मनुस्मृति भी बेशुमार प्रक्षेपों का शिकार हुई है।

नेपाल के कोने-कोने में होऊ यांगी की घुसपैठ, सेक्स टेप की चर्चा के बीच आज जा सकती है PM ओली की कुर्सी

हनीट्रैप में नेपाल के पीएम ओली के फँसे होने की अफवाहों के बीच उनकी कुर्सी बचाने के लिए चीन और पाकिस्तान सक्रिय हैं। हालॉंकि कुर्सी बचने के आसार कम बताए जा रहे हैं।

योगी राज में विकास दुबे के पीछे पड़ी पुलिस, जंगलराज में खाकी पर गोलियाँ बरसा भी खुल्ला घूमता रहा शहाबुद्दीन

विकास दुबे ने गोलियॉं बरसाई तो 7000 पुलिसकर्मी उसकी तलाश में लगा दिए गए हैं। यही कारनामा कर कभी शहाबुद्दीन एसपी को खुलेआम धमकी देता रहा और सरकार सोई रही।

गणित शिक्षक रियाज नायकू की मौत से हुआ भयावह नुकसान, अनुराग कश्यप भूले गणित

यूनेस्को ने अनुराग कश्यप की गणित को विश्व की बेस्ट गणित घोषित कर दिया है और कहा है कि फासिज़्म और पैट्रीआर्की के समूल विनाश से पहले ही इसे विश्व धरोहर में सूचीबद्द किया जाएगा।

भारतीय सेना जब भी विदेशी जमीन पर उतरी है, नया देश बनाया है… मुस्कुराइए, धुआँ उठता देखना मजेदार है

भारत-चीन विवाद के बीच प्रधानमंत्री का लेह-लद्दाख पहुँच जाना सेना के लिए कैसा होगा इस बारे में कुछ भी कहने की जरूरत नहीं है। पुराने दौर में “दिल्ली दूर, बीजिंग पास” कहने वाले तथाकथित नेता पता नहीं किस बिल में हैं। ऐसे मामलों पर उनकी टिप्पणी रोचक होती।

प्रचलित ख़बरें

गणित शिक्षक रियाज नायकू की मौत से हुआ भयावह नुकसान, अनुराग कश्यप भूले गणित

यूनेस्को ने अनुराग कश्यप की गणित को विश्व की बेस्ट गणित घोषित कर दिया है और कहा है कि फासिज़्म और पैट्रीआर्की के समूल विनाश से पहले ही इसे विश्व धरोहर में सूचीबद्द किया जाएगा।

‘व्यभिचारी और पागल Fuckboy थे श्रीकृष्ण, मैंने हिन्दू ग्रंथों में पढ़ा है’: HT की सृष्टि जसवाल के खिलाफ शिकायत दर्ज

HT की पत्रकार सृष्टि जसवाल ने भगवान श्रीकृष्ण का खुलेआम अपमान किया है। उन्होंने श्रीकृष्ण को व्यभिचारी, Fuckboy और फोबिया ग्रसित पागल (उन्मत्त) करार दिया है।

व्यंग्य: अल्पसंख्यकों को खुश नहीं देखना चाहती सरकार: बकैत कुमार दुखी हैं टिकटॉकियों के जाने से

आज टिकटॉक बैन किया है, कल को वो आपका फोन छीन लेंगे। यही तो बाकी है अब। आप सोचिए कि आप सड़क पर जा रहे हों, चार पुलिस वाला आएगा और हाथ से फोन छीन लेगा। आप कुछ नहीं कर पाएँगे। वो आपके पीछे-पीछे घर तक जाएगा, चार्जर भी खोल लेगा प्लग से........

योगी राज में विकास दुबे के पीछे पड़ी पुलिस, जंगलराज में खाकी पर गोलियाँ बरसा भी खुल्ला घूमता रहा शहाबुद्दीन

विकास दुबे ने गोलियॉं बरसाई तो 7000 पुलिसकर्मी उसकी तलाश में लगा दिए गए हैं। यही कारनामा कर कभी शहाबुद्दीन एसपी को खुलेआम धमकी देता रहा और सरकार सोई रही।

Fact Check : क्या योगी आदित्यनाथ इन तस्वीरों में गैंगस्टर विकास दुबे के साथ खड़े हैं?

क्या सपा-बसपा नेताओं का करीबी रहा गैंगस्टर विकास दुबे बीजेपी युवा मोर्चा का नेता है? योगी आदित्यनाथ के साथ तस्वीर किस विकास दुबे की है?

नेपाल के कोने-कोने में होऊ यांगी की घुसपैठ, सेक्स टेप की चर्चा के बीच आज जा सकती है PM ओली की कुर्सी

हनीट्रैप में नेपाल के पीएम ओली के फँसे होने की अफवाहों के बीच उनकी कुर्सी बचाने के लिए चीन और पाकिस्तान सक्रिय हैं। हालॉंकि कुर्सी बचने के आसार कम बताए जा रहे हैं।

विकास दुबे को पहले ‘साइकिल’ का सहारा, अब यूपी पुलिस का मजाक बना रहे अखिलेश यादव

विकास दुबे को पकड़ने गई पुलिस टीम पर हमले को लेकर पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने मजाक बनाने की कोशिश की है।

सुशांत की मौत से करियर सँवारने की कोशिश में स्वरा भास्कर, सहानुभूति पाने के लिए खुद को बताया आउटसाइडर

सुशांत सिंह की मौत से पैदा सहानुभूति का फायदा उठाने के लिए स्वरा भास्कर ने खुद को आउटसाइडर बताया है, जबकि उनकी मॉं सेंसर बोर्ड की सदस्य रह चुकी हैं।

लद्दाख के सबसे दुर्गम स्थान पर निमू में PM मोदी ने की सिंधु पूजा, अयोध्या से भी आया बुलावा

पीएम मोदी शुक्रवार को लद्दाख गए थे। इस दौरान उन्होंने निमू पोस्ट के पास सिंधु दर्शन पूजा की थी। इसकी तस्वीरें और वीडियो वायरल हो रहे हैं।

दिल्ली दंगों से जाकिर नाइक के भी जुड़े तार, फंड के लिए मिला था खालिद सैफी, विदेशी फंडिंग का स्पेशल सेल को मिला लिंक

खालिद सैफी के पासपोर्ट से पता चला है कि दिल्ली दंगों की फंडिंग के लिए जाकिर नाइक जैसे कई लोगों से मुलाकात करने के लिए उसने कई देशों की यात्रा की थी।

हिरोशिमा-नागासाकी पर बमबारी के लिए आइंस्टाइन को जिम्मेदार बताने जैसा है जाति व्यवस्था के लिए मनुस्मृति को दोष देना

महर्षि मनु हर रचनाकार की तरह अपनी मनुस्मृति के माध्यम से जीवित हैं, किंतु दुर्भाग्य से रामायण-महाभारत-पुराण आदि की तरह मनुस्मृति भी बेशुमार प्रक्षेपों का शिकार हुई है।

नेपाल के कोने-कोने में होऊ यांगी की घुसपैठ, सेक्स टेप की चर्चा के बीच आज जा सकती है PM ओली की कुर्सी

हनीट्रैप में नेपाल के पीएम ओली के फँसे होने की अफवाहों के बीच उनकी कुर्सी बचाने के लिए चीन और पाकिस्तान सक्रिय हैं। हालॉंकि कुर्सी बचने के आसार कम बताए जा रहे हैं।

Covid-19: भारत में अब तक 625544 संक्रमित, 18213 की जान ले चुका है कोरोना

संक्रमण से सर्वाधिक प्रभावित होने वाला राज्य अभी भी महाराष्ट्र ही बना हुआ है। आज वहाँ 6364 नए मामले आए, जबकि 198 की मौत हुई।

मारा गया मौलाना मुजीब: मुंबई हमलों में था शामिल, कश्मीर में दहशतगर्दी के लिए तैयार करता था आतंकी

मौलाना मुजीब मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड हाफिज सईद का राइट हैंड माना जाता था। उसे कराची में गोली मारी गई।

योगी राज में विकास दुबे के पीछे पड़ी पुलिस, जंगलराज में खाकी पर गोलियाँ बरसा भी खुल्ला घूमता रहा शहाबुद्दीन

विकास दुबे ने गोलियॉं बरसाई तो 7000 पुलिसकर्मी उसकी तलाश में लगा दिए गए हैं। यही कारनामा कर कभी शहाबुद्दीन एसपी को खुलेआम धमकी देता रहा और सरकार सोई रही।

दिल्ली से अफगानिस्तान गए सिख को गुरुद्वारे से अगवा करने वाले हथियारबंद कौन? परिवार ने भू-माफिया का हाथ बताया

शुरुआत में निधान सिंह को अगवा करने के पीछे तालिबान का हाथ होने की बात कही जा रही थी। लेकिन परिवार ने इससे इनकार किया है।

हमसे जुड़ें

234,008FansLike
63,092FollowersFollow
268,000SubscribersSubscribe