Thursday, October 29, 2020
Home रिपोर्ट मीडिया टीआरपी को तरसता NDTV, प्राइम टाइम में 'TRP' पर खूब नाचा; हाथरस की दलित...

टीआरपी को तरसता NDTV, प्राइम टाइम में ‘TRP’ पर खूब नाचा; हाथरस की दलित मृतका को सब बिसरे

बहुत पहले की बात नहीं है, तमाम मीडिया मसीहा निराशा में सिर हिला रहे थे। क्यों देश असल मुद्दों पर चर्चा नहीं कर रहा है? मीडिया में होने वाले विमर्शों को हो क्या गया है? वही धीर गम्भीर मीडिया अपने प्राइम टाइम पर टीआरपी के मुद्दे से बाहर ही नहीं आ पा रही है।

जनता के साथ कौन है? स्वाभाविक सी बात है, मीडिया! आम नागरिकों को राष्ट्रीय संकट से जुड़े मुद्दे पर ‘मिनट टू मिनट’ जानकारी उपलब्ध कराना। मुद्दों पर बात करने वाले किरदारों में ऐसे लोगों की गिनती करिए जिन्हें (बीते दशकों में) वाकई मीडिया की समझ है। 

एनडीटीवी के पत्रकार संकेत उपाध्याय का ट्वीट

ऑर्डर-ऑर्डर! पैनल का आरम्भ हो चुका है। आज का एजेंडा क्या है? 

भारत में कोरोना वायरस के 70 लाख मामले सामने आ चुके हैं?

चीन की लद्दाख में घुसपैठ?

हाथरस मामले में दलित पीड़िता? 

बिलकुल नहीं! अब उनके पास बात करने के लिए एक और अहम मुद्दा है। जैसा कि संकेत ने ऊपर बता ही दिया है, “यह 9 बजे होने वाली मेरे जीवन सबसे बेहद अहम बहस है।” तुम्हारी ज़िन्दगी के अहम मुद्दे पर कोई और क्यों बात करना चाहेगा संकेत और तुम इसे प्राइम टाइम में क्यों लेकर आ रहे हो? 

मज़े की बात है कि जब भी उत्साह या चिंता अपने चरम पर होती है, वैसे ही एनडीटीवी के कर्मचारियों की व्याकरण की खिचड़ी बन जाती है। बहुत पहले की बात नहीं है, तमाम मीडिया मसीहा निराशा वश अपना सिर हिला रहे थे। क्यों देश असल मुद्दों पर चर्चा नहीं कर रहा है? मीडिया में होने वाले विमर्शों को हो क्या गया है? वही धीर गम्भीर मीडिया अपने प्राइम टाइम पर टीआरपी के मुद्दे से बाहर ही नहीं आ पा रही है। 

हमें इस बात पर गौर करना होगा कि इस तरह के तुच्छ टीआरपी विमर्शों ने हाथरस मामले को टीवी स्क्रीन्स से गायब कर दिया। मीडिया में आम नागरिकों के लिए बस इतनी ही इंसानियत और संवेदना है। मीडिया को बस इतनी फ़िक्र है सामाजिक न्याय की, दलितों की, महिलाओं की और देश की। 

अगर आप मीडिया को उसके सबसे निचले दर्जे पर देखना चाहते हैं तो उसके लिए सबसे अच्छा दिन कल ही था। 

क्या आप इस बात का अनुमान लगा सकते हैं कि महाराष्ट्र ही कोरोना वायरस के मामले में पहले पायदान पर क्यों है? 

क्या आप जानते थे कि ठीक एक दिन पहले मुंबई पुलिस ने महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री शरद पवार को महाराष्ट्र स्टेट कॉरपोरेटिव बैंक 25 हज़ार करोड़ घोटाला मामले में क्लीनचिट दे दी?

लेकिन किसे फर्क पड़ता है? मुंबई पुलिस इस मुद्दे पर प्रेस वार्ता कर रही है कि टीवी की टीआरपी बढ़ाने के लिए कौन 500 रुपए दे रहा है और कौन नहीं। और यह एक ख़बर भी है न कि 25 हज़ार करोड़ के घोटाला मामले में दी गई क्लीनचिट। न तो महाराष्ट्र के 15 लाख कोरोना वायरस से प्रभावित मरीज ख़बर हैं, न ही हाथरस की दलित पीड़िता और न ही एलएसी में चीन की घुसपैठ। ख़बर सिर्फ एक है ‘टीआरपी।’

बहुत साल पहले भारत की संसद पर आतंकवादी हमला हुआ था। इस हमले में भारतीय लोकतंत्र की सबसे पवित्र इमारत की रक्षा कर रहे 9 सुरक्षा कर्मी शहीद हो गए थे। एक मशहूर मीडिया कर्मी ने इस दिन को शानदार बताया था। क्यों? टीआरपी की वजह से। 

यही इनकी असलियत है। 2001 में संसद पर हुए आतंकवादी हमलों से लेकर हाथरस मामले तक, यह सिर्फ और सिर्फ गिद्ध ही साबित हुए हैं। यह खुद को इंसान कहते हैं, लेकिन यह असल में गिद्ध ही हैं। यही असल ख़तरा है कि उन्हें कुछ महसूस नहीं होता है। वह ऐसा दिखाते हैं कि वे सब कुछ महसूस करते हैं। 

गिद्ध बने रहना भी गलत नहीं है, आखिर संविधान इन्हें गिद्ध बने रहने की आज़ादी देता है। हमें अपनी भलाई के लिए इन गिद्धों से सतर्क रहना होगा, जो कहीं और नहीं बल्कि हमारे बीच रहते हैं। हमारे देश के बारे में बहुत सी अच्छे बातें हैं, लेकिन मीडिया उनमें से एक बिलकुल नहीं है। उदाहरण के लिए, क्या आपको यूपीए सरकार का कार्यकाल याद है जब 2 लाख करोड़ रुपए का घोटाला, 1.76 लाख करोड़ का घोटाला सुनाई देता था? वह घोटालों के इस कदर भूखे हैं कि अब यह 400-500 रुपए पर आ गिरे हैं। विडंबना है कि यह ऐसी बात है जिस पर हम खुश हो सकते हैं।

(अभिषेक बनर्जी द्वारा मूल रूप से ​अंग्रेजी में लिखे गए इस लेख को यहाँ क्लिक कर पढ़ सकते हैं)

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Abhishek Banerjeehttps://dynastycrooks.wordpress.com/
Abhishek Banerjee is a math lover who may or may not be an Associate Professor at IISc Bangalore. He is the author of Operation Johar - A Love Story, a novel on the pain of left wing terror in Jharkhand, available on Amazon here.  

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

टॉयलेट में ‘SP रंग’ की टाइल्स देख बौखलाई समाजवादी पार्टी: साधा BJP पर निशाना, रेलवे ने सच्चाई बता बोलती बंद की

समाजवादी पार्टी ने आरोप लगाया कि सरकार ने पार्टी का अनादर करने के लिए टॉयलेट के लिए टाइल्स पर जानबूझकर रंगों का इस्तेमाल किया है।

लालू का MLA, दलित लड़की से रेप… लेकिन ‘बाबू साहब के सामने सीना तानकर चलते थे’ के नाम पर वोट!

जब तक ये फैसला आया तब तक अपराधियों में से एक मर चुका था, लेकिन पच्चीस साल बीतने पर भी एक दूसरा अपराधी फरार ही...

भारत के हमले से ‘फटी’ पड़ी थी पाकिस्तान की… और ये 11 लिबरल इमरान खान के नाम पर गीत गा रहे थे

भारतीय सेना की वीरता के किस्से पूरी दुनिया में मशहूर। लेकिन इनके शौर्य का किस्सा सुनना हो तो दुश्मन देश की सेना पर क्या बिती है, वह सुनिए।

‘अल्लाह के वास्ते अभिनंदन को छोड़ दो नहीं तो…’ – Pak सांसद ने खोली अपने विदेश मंत्री के ‘डर से काँपने’ वाली बात

"विदेश मंत्री कुरैशी ने सेना प्रमुख से गुजारिश करते हुए कहा था कि अल्लाह के वास्ते अभिनंदन को छोड़ दो नहीं तो भारत की सेना 9 बजे तक हमला..."

धर्म परिवर्तन के लिए नहीं झुकने वाली निकिता तोमर की हत्या में शामिल अजरु गिरफ्तार, इसी ने दिया था तौसीफ को कट्टा

निकिता तोमर की हत्या मामले में तीसरी गिरफ्तारी कर ली गई है। तीसरे गिरफ्तार किए गए शख्स का नाम अजरु है। अजरु ने ही...

अर्नब पर कानूनी, आर्थिक, मानसिक रूप से अटैक के लिए दाउद कर रहा प्रबंध, हो सकता है शारीरिक हमला: पूर्व ब्यूरोक्रेट RVS मणि

मुंबई अंडरवर्ल्ड द्वारा संगठित क्रिमिनल सिंडिकेट की गलत नब्ज को छुआ है जिसे वैश्विक स्तर पर ड्रग सरगना और आतंकी दाऊद इब्राहिम, कई राजनेताओं, ड्रग व बॉलीवुड नेक्सस द्वारा संचालित किया जाता है।

प्रचलित ख़बरें

मुंगेर: वरिष्ठ महिला IPS अधिकारी ने SP लिपि सिंह को याद दिलाए नियम, कहा- चेतावनी व आँसू गैस का था विकल्प

वरिष्ठ महिला IPS अधिकारी ने नियम समझाते हुए कहा कि पुलिस को गोली चलाने से पहले चेतावनी देनी चाहिए, या फिर आँसू गैस के गोलों का इस्तेमाल करना चाहिए।

पिता MP, पति DM, खुद SP: मुंगेर की ‘जनरल डायर’, जिस पर लगा था पुलिस के काम के लिए नेता की गाड़ी के इस्तेमाल...

अगस्त 2019 में लिपि सिंह पर आरोप लगा था कि वो दिल्ली के साकेत कोर्ट में अनंत सिंह के लिए जब ट्रांजिट रिमांड लेने गई थीं, तो उन्होंने जदयू नेता की गाड़ी का इस्तेमाल किया था।

मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने मुझे पोर्न दिखाया, गंदे सवाल किए, अंगों को ले कर अश्लील गालियाँ दी: साध्वी प्रज्ञा

भगवा आतंक के नाम पर पुलिस बर्बरता झेल चुकी साध्वी प्रज्ञा का कहना है कि जब जब उनकी बेल की बात चली तो न्यायाधीशों तक को धमकी देने का काम हुआ।

‘हमारा मजहब कबूल कर के मेरे बेटे की हो जाओ’: तौसीफ की अम्मी ने भी बनाया था निकिता पर धर्म परिवर्तन का दबाव

"तुम हमारा मजहब कबूल कर लो और मेरे बेटे की हो जाओ। अब तुमसे कौन शादी करेगा। तुम्हारा अपहरण भी हो गया है और अब तुम्हारा क्या होगा।"

मुंगेर हत्याकांड: एसपी लिपि सिंह के निलंबन की खबरों के बीच मुंगेर पुलिस की ‘ट्विटर आईडी’ रातों-रात डीएक्टिवेट

अलग-अलग स्रोतों से आ रही खबरों के अनुसार चार लोगों के मरने की खबरें भी आ रही हैं, जबकि आधिकारिक तौर पर एक की ही मृत्यु बताई गई है।

दोहा एयरपोर्ट पर महिला यात्रियों की उतरवाई गई पैंट, प्राइवेट पार्ट्स छूकर जाँच करने के आदेश से विवाद

दोहा एयरपोर्ट पर महिला यात्रियों से पैंट उतारकर उनके प्राइवेट पार्ट्स की जाँच का आदेश दिया गया। उनसे कहा गया कि उनकी योनि छूकर जाँच की जाएगी।
- विज्ञापन -

टॉयलेट में ‘SP रंग’ की टाइल्स देख बौखलाई समाजवादी पार्टी: साधा BJP पर निशाना, रेलवे ने सच्चाई बता बोलती बंद की

समाजवादी पार्टी ने आरोप लगाया कि सरकार ने पार्टी का अनादर करने के लिए टॉयलेट के लिए टाइल्स पर जानबूझकर रंगों का इस्तेमाल किया है।

लालू का MLA, दलित लड़की से रेप… लेकिन ‘बाबू साहब के सामने सीना तानकर चलते थे’ के नाम पर वोट!

जब तक ये फैसला आया तब तक अपराधियों में से एक मर चुका था, लेकिन पच्चीस साल बीतने पर भी एक दूसरा अपराधी फरार ही...

बेरोजगारी की जड़ क्या? बिहार की बर्बादी की वजह क्या? | Why Bihar looks so bad?

बिहार की सच्चाई यह है कि राज्य में जो कारखाने पहले से थे और लोगों को रोजगार प्रदान करते थे, वह आज बंद हो चुके हैं और जीर्णोद्धार के लिए...

मिर्जापुर 2 में जिस लेखक सुरेंद्र मोहन के उपन्यास ‘धब्बा’ को दिखाया, उन्होंने कहा – ‘चेंज करो इसे’

उपन्यास में बलदेव राज नाम का कोई किरदार भी नहीं है, जैसा दिखाया गया है। इसके विपरीत दृश्य में जो पढ़ा या दिखाया गया है, वह घोर अश्लीलता है।

तेज म्यूजिक, पत्नी से छेड़खानी… विरोध करने पर मीट की दुकान से चाकू लेकर सुशील की हत्या: चाँद, हसीन, अब्दुल का परिवार शामिल

“मेरे भाइयों पर हमारे पड़ोसियों ने चाक़ू और छूरी से हमला कर दिया। उन्होंने इस बात की योजना पहले से ही बना रखी थी कि वो विवाद के नाम पर...

भारत के हमले से ‘फटी’ पड़ी थी पाकिस्तान की… और ये 11 लिबरल इमरान खान के नाम पर गीत गा रहे थे

भारतीय सेना की वीरता के किस्से पूरी दुनिया में मशहूर। लेकिन इनके शौर्य का किस्सा सुनना हो तो दुश्मन देश की सेना पर क्या बिती है, वह सुनिए।

‘अल्लाह के वास्ते अभिनंदन को छोड़ दो नहीं तो…’ – Pak सांसद ने खोली अपने विदेश मंत्री के ‘डर से काँपने’ वाली बात

"विदेश मंत्री कुरैशी ने सेना प्रमुख से गुजारिश करते हुए कहा था कि अल्लाह के वास्ते अभिनंदन को छोड़ दो नहीं तो भारत की सेना 9 बजे तक हमला..."

धर्म परिवर्तन के लिए नहीं झुकने वाली निकिता तोमर की हत्या में शामिल अजरु गिरफ्तार, इसी ने दिया था तौसीफ को कट्टा

निकिता तोमर की हत्या मामले में तीसरी गिरफ्तारी कर ली गई है। तीसरे गिरफ्तार किए गए शख्स का नाम अजरु है। अजरु ने ही...

अर्नब पर कानूनी, आर्थिक, मानसिक रूप से अटैक के लिए दाउद कर रहा प्रबंध, हो सकता है शारीरिक हमला: पूर्व ब्यूरोक्रेट RVS मणि

मुंबई अंडरवर्ल्ड द्वारा संगठित क्रिमिनल सिंडिकेट की गलत नब्ज को छुआ है जिसे वैश्विक स्तर पर ड्रग सरगना और आतंकी दाऊद इब्राहिम, कई राजनेताओं, ड्रग व बॉलीवुड नेक्सस द्वारा संचालित किया जाता है।

मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने मुझे पोर्न दिखाया, गंदे सवाल किए, अंगों को ले कर अश्लील गालियाँ दी: साध्वी प्रज्ञा

भगवा आतंक के नाम पर पुलिस बर्बरता झेल चुकी साध्वी प्रज्ञा का कहना है कि जब जब उनकी बेल की बात चली तो न्यायाधीशों तक को धमकी देने का काम हुआ।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
79,398FollowersFollow
340,000SubscribersSubscribe