Monday, July 26, 2021
Homeरिपोर्टमीडिया'खेलो इंडिया ऐप' लॉन्च पर बरखा की बेकार आलोचना पर सायना नेहवाल का करारा...

‘खेलो इंडिया ऐप’ लॉन्च पर बरखा की बेकार आलोचना पर सायना नेहवाल का करारा जवाब

बरखा दत्त और पत्रकारिता के गिरोह से जुड़े कुछ ख़ास लोग इसकी आलोचना करने से बाज नहीं आ रहे हैं। शाह फैसल ने अपने बौद्धिक स्तर पर इस ऐप के उपयोग सिर्फ़ PubG खेलने तक के लिए ही सोच पाए।

प्रधाममंत्री मोदी द्वारा बुधवार (फरवरी, 27 2019) को नेशनल यूथ पार्लियामेंट फेस्टीवल के मौके पर नई दिल्ली में ‘खेलो इंडिया ऐप’ को लॉन्च किया गया था। इस एप्लीकेशन का उद्देश्य देश के लोगों के भीतर खेल और फिटनेस को लेकर जागरूकता फैलाने से संबंधित है। लेकिन, इस ऐप के लॉन्च से कुछ विशेष समुदाय के लोग बहुत आहत हुए और उन्होंने ट्वीट के ज़रिए पीएम को बताया कि उन्हें कुछ समय तक के लिए इसे टाल देना चाहिए था।

इस प्रकार की सलाह देने वालों में एक नाम बरखा दत्त का भी है। जिन्होंने ट्वीट किया है कि उन्हें लगता है कि पीएम मोदी को इस ऐप को लॉन्च करने का कार्यक्रम कुछ समय के लिए टाल देना चाहिए था क्योंकि इस समय हमारा एक युवा पायलट पाकिस्तान के पास है।

बरखा के इस ट्वीट के जवाब में भारत की बैडमिंटन स्टार सायना नेहवाल ने लिखा कि खेलो इंडिया ऐप की लॉन्चिंग यूथ पार्लियमेंट फेस्टीवल का हिस्सा थी। इसकी लॉन्चिंग का मकसद युवाओं को सांस्कृतिक, भौगोलिक और आर्थिक रूप से जोड़ना था। सायना ने लिखा कि सभी को एक जुट करने के लिए इससे अच्छा समय और क्या हो सकता है। सायना ने बरखा की इस आलोचना को पूर्ण रूप से अनावश्यक बताया।

इस ऐप की लॉन्चिंग पर खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ का कहना है कि भारत ने खेलों की दिशा में आज लंबी छलांग लगाई है। साथ ही उन्होंने इस ऐप को देश में फिटनेस और खेल के पहलू के लिहाज़ से ज़रूरी बताया। उनका मानना है कि इससे छोटी उम्र में प्रतिभा की पहचान करने और उसे निखारने में मदद मिलेगी।

बरखा के इस ट्वीट पर न केवल सायना ने बल्कि बहुत से लोगों ने खेलो इंडिया ऐप के लॉन्च का समर्थन किया और उनके ट्वीट को अनावश्यक बताया। दरअसल, जिस समय प्रधानमंत्री को विंग कमांडर के पाकिस्तान में होने की सूचना दी गई, उस समय वह ऐप लॉन्च हो चुकी थी और प्रधानमंत्री जनता को संबोधित कर रहे थे। लेकिन, जैसे ही उन्हें यह ख़बर मिली उन्होंने जल्द से जल्द कार्यक्रम खत्म किया और विज्ञान भवन पहुँचे।

लेकिन, बरखा दत्त और पत्रकारिता के गिरोह से जुड़े कुछ ख़ास लोग इसकी आलोचना करने से बाज नहीं आ रहे हैं। शाह फैसल ने अपने बौद्धिक स्तर पर इस ऐप के उपयोग सिर्फ़ PubG खेलने तक के लिए ही सोच पाए।


  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पेगासस पर भड़के उदित राज, नंगी तस्वीरें वायरल होने की चिंता: लोगों ने पूछा – ‘फोन में ये सब रखते ही क्यों हैं?’

पूर्व सांसद और खुद को 'सबसे बड़ा दलित नेता' बताने वाले उदित राज ने आशंका जताई कि पेगासस ने कितनों की नंगी तस्वीर भेजी होगी या निजता का उल्लंघन किया होगा।

कारगिल के 22 साल: 16 की उम्र में सेना में हुए शामिल, 20 की उम्र में देश पर मर मिटे

सुनील जंग ने छलनी सीने के बावजूद युद्धभूमि में अपने हाथ से बंदूक नहीं गिरने दी और लगातार दुश्मनों पर वार करते रहे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,222FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe