Wednesday, September 23, 2020
Home रिपोर्ट मीडिया The Hindu वालो, ज़हरीला मर्द होना नहीं, तुम्हारे जैसा विक्षिप्त-लिबरपंथी होना है

The Hindu वालो, ज़हरीला मर्द होना नहीं, तुम्हारे जैसा विक्षिप्त-लिबरपंथी होना है

इतना सब कुछ लिखने के बाद भार्गव जी मुसलमानों में होने वाले तीन तलाक, हलाला, बुरका आदि 'toxic masculinity' होंगे या कुछ और, इस पर कुछ भी बताने से परहेज करते हैं।

‘Toxic Masculinity’ का लिबरपंथी कैंसर आखिरकार भारत में फैलना शुरू हो गया है। अमेरिका और पश्चिमी जगत में नारीवाद की तीसरी लहर, यानी ‘third wave feminism’ से निकला यह कालकूट विष कितना जहरीला है, इसका अंदाज़ा इस बात से लगाइए कि मानसिक बीमारियों को दूर करने के विशेषज्ञ माने जाने वाले मनोवैज्ञानिक भी इसकी चपेट में आकर ‘मर्द होने/पौरुषत्व’ (masculinity) को ही ‘ज़हरीला’ (toxic) मानने लगे हैं।

लगभग एक साल पहले अमेरिकी मनोवैज्ञानिक एसोसिएशन (American Psychological Association, APA) ने इसी आशय के बाकायदा दिशा-निर्देश जारी किए, जिनका मजमून यह था कि लड़कों का लड़कों जैसा बर्ताव हानिकारक होता है, और अपने मरीजों में से इसे निकालना मनोवैज्ञानिकों की ज़िम्मेदारी है। इसे आम जनता ने तो लताड़ा ही, दुनिया के चोटी के मनोवैज्ञानिक जॉर्डन पीटरसन को कहना पड़ा कि वे अपने पेशे की संस्था के इस वाहियात कदम के लिए जनता के सामने ‘शर्मिंदा’ हैं। अन्य कई शीर्ष मनोवैज्ञानिकों ने भी APA को लताड़ा

और अब यही फोड़ा भारत में रक्त-कैंसर बनने के लिए कमर कस चुका है। सबूत है राजीव भार्गव का द हिन्दू में प्रकाशित लेख, जिसमें हॉनर-किलिंग से लेकर मॉब-लिंचिंग और जातिवाद से लेकर बच्चों के एक-दूसरे को चिढ़ाने के लिए कही जाने वाली बातों को ‘toxic masculinity’ यानी ज़हरीले पौरुषत्व के नाम कर दिया गया है।

हॉनर-किलिंग का oversimplification

अगर हॉनर-किलिंग महज़ मर्दों का, मर्दों के अहम का या ‘toxic masculinity’ का मसला होता, तो आधे से अधिक मामलों में पीड़िता के परिवार की महिलाएँ भी हत्या में शामिल न होतीं, जैसा कि अदालतों, FIR से लेकर मीडिया रिपोर्टों में देखा जा सकता है। हॉनर-किलिंग जातिवादी ऊँच-नीच, सम्पत्ति (महिला नहीं, असली खेत-खलिहान की सम्पत्ति), केवल कुछ हद तक पितृसत्ता, समय के साथ जड़ रूढ़ियाँ हो गईं धार्मिक-सामाजिक परम्पराओं वाला जटिल मसला है। इसे केवल अपने ‘toxic masculinity’ एजेंडे से जोड़कर लेखक एजेंडेबाजी के अलावा कुछ नहीं कर रहे हैं।

पहलू खान, दलितों का मामला

- विज्ञापन -

आश्चर्य की बात है कि पहले पहलू खान मामला गौ-तस्करों और गौ-रक्षकों का न होकर हिन्दू-मुस्लिम था, और अब हिन्दू-मुस्लिम न होकर राजीव भार्गव के लिए ‘toxic masculinity’ का उदाहरण हो गया है! कल को पत्रकारिता के समुदाय विशेष की यादवों पर नज़र टेढ़ी हो गई तो यह यादव-मुस्लिम मामला भी बन जाएगा? निश्चित तौर पर पहलू खान के हत्यारों को उनके किए की न्यायोचित सज़ा मिलनी चाहिए, लेकिन इस मामले में ‘toxic masculinity’ का एंगल कहीं से भी उचित नहीं है।

इसी तरह दलितों को पीटने का मामला, जो कल तक हिन्दू धर्म की गलती था, आज मर्द होने की गलती हो गया? यानी अगर दलितों के साथ हिंसा ‘toxic masculinity’ के कारण हो रही है, तो मृतक पहलू खान भी दलितों की हत्या के लिए ज़िम्मेदार हुआ? ये कहाँ का लॉजिक है?

Manhood का model खुद तय करके खुद उसे गरियाना या तो बौद्धिक कायरता है, या toxic elitism

भारत में, खासकर हिन्दुओं में इतने जाति-सम्प्रदाय-परम्पराएँ हैं कि शादी जैसे सीधे-सीधे मामले में आज तक कोई ऐसा कानून बना नहीं, जो सारे-के-सारे भारतीयों पर लागू हो जाए- और रोज़मर्रा के लोगों के आपसी व्यवहार जैसे जटिल मसले पर भार्गव जी न केवल एक मर्दवादी व्यवहार का मॉडल निकाल भी लाए, बल्कि खुद उसमें मीन-मेख भी निकाल डाला! यानी खुद दुश्मन बनाया, और खुद उसे मार डाला। या तो यह घमंड है लिबरल बौद्धिक होने का, कि जो मैं कहूँ वही सब पर लागू होता है, या यह बौद्धिक कायरता है कि अपने बनाए हवा के गुब्बारे को फोड़ कर किला-तोड़ घोषित हो जाया जाए!

इसमें कोई शक नहीं कि पुरुष महिलाओं से सामान्यतः थोड़े अधिक आक्रामक होते हैं, लेकिन यह किसी सांस्कृतिक ज़बरदस्ती या ‘toxic masculinity’ के चलते नहीं, बायोलॉजिकल कारणों से होता है। इन जटिल मामलों का अध्ययन जॉर्डन पीटरसन जैसे मनोवैज्ञानिकों, ब्रेट वाइन्सटाइन जैसे evolutionary theorist या गैड साद जैसे evolutionary psychologist को पढ़ कर समझा जाता है भार्गव जी, ‘toxic masculinity’ का रोना रोकर नहीं। और अगर मर्द ‘आक्रामक’ न हों तो जब कोई नाव डूबने लगेगी, घरों में आग लगेगी या कोई बनैला पशु हमला करेगा, तो महिलाओं-बच्चों को पीछे कर हट्टे-कट्टे पुरुष आगे कूदने की बजाय बच्चों-औरतों को फेंक कर उनकी लाशों पर चढ़ कर जान बचा कर भागेंगे!

महिलाओं द्वारा पुरुषों के साथ किए जाने वाले दुर्व्यवहार, मुसलमानों पर चुप्पी

चूँकि लिबरल अख़बार और लिबरल (और माना जा सकता है कि फेमिनिस्ट भी) लेखक हैं, इसलिए ज़ाहिर है कि न तो महिलाओं द्वारा पुरुषों पर होने वाली ज़्यादतियों का नाम लेने की उम्मीद की जा सकती है, न मुसलमानों का नाम लेने की। और यही हुआ है भी। महिलाओं द्वारा पुरुषों के साथ किए जाने वाले गलत व्यवहार को कौन सी ‘-ity’ कहा जाएगा, भार्गव जी न यह बताते हैं, न ही यह कि मुसलमानों में होने वाले तीन तलाक, हलाला, बुरका आदि ‘toxic masculinity’ होंगे या कुछ और।

लेकिन भार्गव जी से सवाल ज़रूर है कि अगर कोई महिला पति से तलाक का मुकदमा जीतने के लिए अपनी ही बच्ची के बलात्कार का झूठा आरोप पति पर लगा दे, तो यह feminity (क्योंकि बलात्कार के आरोप का इस्तेमाल masculinity तो नहीं सकता) toxic होगी या नहीं? अगर कोई महिलाओं को प्रमोशन मिलते ही प्रमोशन के लिए जी-जान से पीछे खड़ा पति बोझ हो जाए, उससे तलाक की इच्छा कुलबुलाने लगे तो यह blatant hypergamy ही होगा, या इसके समर्थन के लिए कोई कुतर्क बचा कर रखा है?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आफ़ताब दोस्तों के साथ सोने के लिए बनाता था दबाव, भगवान भी आलमारी में रखने पड़ते थे: प्रताड़ना से तंग आकर हिंदू महिला ने...

“कई बार मेरे पति आफ़ताब के द्वारा मुझपर अपने दोस्तों के साथ हमबिस्तर होने का दबाव बनाया गया लेकिन मैं अडिग रहीं। हर रोज मेरे साथ मारपीट हुई। मैं अपना नाम तक भूल गई थी। मेरा नाम तो हरामी और कुतिया पड़ गया था।"

निलंबित AAP सांसद संजय सिंह ने टीवी पर स्वीकारा कि उन्होंने उपाध्यक्ष का माइक तोड़ा, कहा- लोकतंत्र की रक्षा कर रहे थे

AAP नेता संजय सिंह ने खुद और अन्य विधायकों का बचाव करते हुए कहा कि वे 'लोकतंत्र को बचाने' की कोशिश कर रहे थे।

नोटबंदी और कृषि बिल के लिए एक ही शख्स के इंटरव्यू के वायरल दावे को ANI एडिटर ने नकारा, कॉन्ग्रेस ने फैलाया ‘झूठ’

इन दिनों सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि समाचार एजेंसी ANI ने हाल ही में पारित किए गए किसान बिल और 2016 में मोदी सरकार द्वारा लाए गए नोटबंदी के लिए एक ही व्यक्ति का इंटरव्यू लिया।

व्यंग्य: रवीश जी दुबरा गए हैं, एतना चिंता हो रहा है देस का कि का कहें महाराज!

एक समाज के तौर पर हम कहाँ जा रहे हैं? धरती घूम रही है और हम भी घूम रहे हैं। इसी धरती पर मोदी हमें घुमा रहा है। जबकि लेहरू जी द्वारा भारत को दिए गए विज्ञान की सौगात यही कहती है किसान को किसान ही रहने दो, उसको व्यापारी मत बनाओ।

संजय सिंह और डेरेक ओ ब्रायन ने ईशान करण की चिट्ठी नहीं पढ़ी… वरना पत्रकार हरिवंश से पंगा न लेते

दूर बैठकर भी कर्मचारियों के मन को बखूबी पढ़ लेने वाले हरिवंश जी, अब आसन पर बैठ संजय सिंह, डेरके ओ ब्रायन की 'राजनीति' को पढ़ हँसते होंगे।

दिल्ली दंगों से पहले चाँदबाग में हुई बैठक: 7 गाड़ियों में महिलाएँ जहाँगीरपुरी से लाई गई, देखें व्हाट्सअप चैट में कैसे हुई हिंसा की...

16-17 फरवरी की देर रात चाँद बाग में मीटिंग करने का निर्णय लिया था। यहीं इनके बीच यह बात हुई कि दिल्ली में चल रहे प्रोटेस्ट के अंतिम चरण को उत्तरपूर्वी दिल्ली के इलाकों में अंजाम दिया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

‘ये लोग मुझे फँसा सकते हैं, मुझे डर लग रहा है, मुझे मार देंगे’: मौत से 5 दिन पहले सुशांत का परिवार को SOS

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार मौत से 5 दिन पहले सुशांत ने अपनी बहन को एसओएस भेजकर जान का खतरा बताया था।

शो नहीं देखना चाहते तो उपन्यास पढ़ें या फिर टीवी कर लें बंद: ‘UPSC जिहाद’ पर सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़

'UPSC जिहाद' पर रोक को लेकर हुई सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि जिनलोगों को परेशानी है, वे टीवी को नज़रअंदाज़ कर सकते हैं।

व्हिस्की पिलाते हुए… 7 बार न्यूड सीन: अनुराग कश्यप ने कुबरा सैत को सेक्रेड गेम्स में ऐसे किया यूज

पक्के 'फेमिनिस्ट' अनुराग पर 2018 में भी यौन उत्पीड़न तो नहीं लेकिन बार-बार एक ही तरह का सीन (न्यूड सीन करवाने) करवाने का आरोप लग चुका है।

नेपाल में 2 km भीतर तक घुसा चीन, उखाड़ फेंके पिलर: स्थानीय लोग और जाँच करने गई टीम को भगाया

चीन द्वारा नेपाल की जमीन पर कब्जा करने का ताजा मामला हुमला जिले में स्थित नामखा-6 के लाप्चा गाँव का है। ये कर्णाली प्रान्त का हिस्सा है।

‘क्या तुम्हारे पास माल है’: सामने आई बॉलीवुड की टॉप एक्ट्रेस के बीच हुई ड्रग चैट

कुछ बड़े बॉलीवुड सितारों के बीच की ड्रग चैट सामने आई है। इसमें वे खुलकर ड्रग्स के बारे में बात कर रहे हैं।

जेल में मुझे ‘शिक्षित आतंकी’ कहते हैं, पुलिस देती है मानसिक प्रताड़ना: दिल्ली दंगा आरोपित MBA वाली गुलफिशा फातिमा

दिल्ली दंगे की आरोपित गुलफिशा फातिमा ने दावा किया कि उसे जब से जेल में लाया गया है, तभी से वो वहाँ भेदभाव का सामना कर रही है।

‘क्या आपके स्तन असली हैं? क्या मैं छू सकता हूँ?’: शर्लिन चोपड़ा ने KWAN टैलेंट एजेंसी के सह-संस्थापक पर लगाया यौन दुर्व्यवहार का आरोप

"मैं चौंक गई। कोई इतना घिनौना सवाल कैसे पूछ सकता है। चाहे असली हो या नकली, आपकी समस्या क्या है? क्या आप एक दर्जी हैं? जो आप स्पर्श करके महसूस करना चाहते हैं। नॉनसेंस।"

सुप्रीम कोर्ट में ‘हिन्दू आतंक’ का हवाला दिए जाने से बौखलाए NDTV के पत्रकार ने केंद्र पर लगाया ‘अपने लोगों’ को बचाने का आरोप

आतंकवादी हमले को ‘छोटा-मोटा’ हमला करार देने वाले NDTV के पत्रकार जैन ने केंद्र पर किसी भी कीमत पर ‘अपने लोगों’ को बचाने का आरोप लगाया।

आफ़ताब दोस्तों के साथ सोने के लिए बनाता था दबाव, भगवान भी आलमारी में रखने पड़ते थे: प्रताड़ना से तंग आकर हिंदू महिला ने...

“कई बार मेरे पति आफ़ताब के द्वारा मुझपर अपने दोस्तों के साथ हमबिस्तर होने का दबाव बनाया गया लेकिन मैं अडिग रहीं। हर रोज मेरे साथ मारपीट हुई। मैं अपना नाम तक भूल गई थी। मेरा नाम तो हरामी और कुतिया पड़ गया था।"

निलंबित AAP सांसद संजय सिंह ने टीवी पर स्वीकारा कि उन्होंने उपाध्यक्ष का माइक तोड़ा, कहा- लोकतंत्र की रक्षा कर रहे थे

AAP नेता संजय सिंह ने खुद और अन्य विधायकों का बचाव करते हुए कहा कि वे 'लोकतंत्र को बचाने' की कोशिश कर रहे थे।

भारत के आगे एक बार फिर नतमस्तक हुआ नेपाल: विवादित नक्‍शे वाली किताब पर PM ओली ने लगाई रोक

नेपाल की केपी ओली सरकार ने देश के विवादित नक्‍शे वाली किताब के वितरण पर रोक लगा दिया है। नेपाल के विदेश मंत्रालय और भू प्रबंधन मंत्रालय ने श‍िक्षा मंत्रालय की ओर से जारी इस किताब के विषयवस्‍तु पर गंभीर आपत्ति जताई थी।

नोटबंदी और कृषि बिल के लिए एक ही शख्स के इंटरव्यू के वायरल दावे को ANI एडिटर ने नकारा, कॉन्ग्रेस ने फैलाया ‘झूठ’

इन दिनों सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि समाचार एजेंसी ANI ने हाल ही में पारित किए गए किसान बिल और 2016 में मोदी सरकार द्वारा लाए गए नोटबंदी के लिए एक ही व्यक्ति का इंटरव्यू लिया।

ड्रग तस्कर केशवानी ने पूछताछ में लिया दीया मिर्जा का नाम: NCB बाकी सितारों के साथ उन्हें भी जल्द भेजेगी समन

दीया का नाम पूछताछ के दौरान अनुज केशवानी ने लिया है। केशवानी ने बताया कि दीया की मैनेजर ड्रग्स खरीदती थी। उन्होंने इसके सबूत भी दिए हैं।

व्यंग्य: रवीश जी दुबरा गए हैं, एतना चिंता हो रहा है देस का कि का कहें महाराज!

एक समाज के तौर पर हम कहाँ जा रहे हैं? धरती घूम रही है और हम भी घूम रहे हैं। इसी धरती पर मोदी हमें घुमा रहा है। जबकि लेहरू जी द्वारा भारत को दिए गए विज्ञान की सौगात यही कहती है किसान को किसान ही रहने दो, उसको व्यापारी मत बनाओ।

आयकर विभाग ने उद्धव ठाकरे और उनके बेटे के साथ ही शरद पवार और उनकी बेटी को भेजा नोटिस, गलत जानकारी साझा करने के...

“मुझे अपने चुनावी हलफनामे के बारे में आयकर विभाग से नोटिस मिला। चुनाव आयोग के निर्देश पर, आयकर ने 2009, 2014 और 2020 के लिए चुनावी हलफनामों पर एक नोटिस भेजा है।"

PM मोदी के जन्मदिन पर अपमानजनक वीडियो किया वायरल, सोनू खान को UP पुलिस ने किया अरेस्ट

सोनू खान को उसके घर से गिरफ्तार किया गया। उसके पास से वह फोन भी बरामद किया गया है, जिससे उसने प्रधानमंत्री मोदी पर अपमानजनक...

हमसे जुड़ें

263,159FansLike
77,959FollowersFollow
323,000SubscribersSubscribe
Advertisements