Wednesday, December 2, 2020
Home रिपोर्ट मीडिया The Hindu वालो, ज़हरीला मर्द होना नहीं, तुम्हारे जैसा विक्षिप्त-लिबरपंथी होना है

The Hindu वालो, ज़हरीला मर्द होना नहीं, तुम्हारे जैसा विक्षिप्त-लिबरपंथी होना है

इतना सब कुछ लिखने के बाद भार्गव जी समुदाय विशेष में होने वाले तीन तलाक, हलाला, बुरका आदि 'toxic masculinity' होंगे या कुछ और, इस पर कुछ भी बताने से परहेज करते हैं।

‘Toxic Masculinity’ का लिबरपंथी कैंसर आखिरकार भारत में फैलना शुरू हो गया है। अमेरिका और पश्चिमी जगत में नारीवाद की तीसरी लहर, यानी ‘third wave feminism’ से निकला यह कालकूट विष कितना जहरीला है, इसका अंदाज़ा इस बात से लगाइए कि मानसिक बीमारियों को दूर करने के विशेषज्ञ माने जाने वाले मनोवैज्ञानिक भी इसकी चपेट में आकर ‘मर्द होने/पौरुषत्व’ (masculinity) को ही ‘ज़हरीला’ (toxic) मानने लगे हैं।

लगभग एक साल पहले अमेरिकी मनोवैज्ञानिक एसोसिएशन (American Psychological Association, APA) ने इसी आशय के बाकायदा दिशा-निर्देश जारी किए, जिनका मजमून यह था कि लड़कों का लड़कों जैसा बर्ताव हानिकारक होता है, और अपने मरीजों में से इसे निकालना मनोवैज्ञानिकों की ज़िम्मेदारी है। इसे आम जनता ने तो लताड़ा ही, दुनिया के चोटी के मनोवैज्ञानिक जॉर्डन पीटरसन को कहना पड़ा कि वे अपने पेशे की संस्था के इस वाहियात कदम के लिए जनता के सामने ‘शर्मिंदा’ हैं। अन्य कई शीर्ष मनोवैज्ञानिकों ने भी APA को लताड़ा

और अब यही फोड़ा भारत में रक्त-कैंसर बनने के लिए कमर कस चुका है। सबूत है राजीव भार्गव का द हिन्दू में प्रकाशित लेख, जिसमें हॉनर-किलिंग से लेकर मॉब-लिंचिंग और जातिवाद से लेकर बच्चों के एक-दूसरे को चिढ़ाने के लिए कही जाने वाली बातों को ‘toxic masculinity’ यानी ज़हरीले पौरुषत्व के नाम कर दिया गया है।

हॉनर-किलिंग का oversimplification

अगर हॉनर-किलिंग महज़ मर्दों का, मर्दों के अहम का या ‘toxic masculinity’ का मसला होता, तो आधे से अधिक मामलों में पीड़िता के परिवार की महिलाएँ भी हत्या में शामिल न होतीं, जैसा कि अदालतों, FIR से लेकर मीडिया रिपोर्टों में देखा जा सकता है। हॉनर-किलिंग जातिवादी ऊँच-नीच, सम्पत्ति (महिला नहीं, असली खेत-खलिहान की सम्पत्ति), केवल कुछ हद तक पितृसत्ता, समय के साथ जड़ रूढ़ियाँ हो गईं धार्मिक-सामाजिक परम्पराओं वाला जटिल मसला है। इसे केवल अपने ‘toxic masculinity’ एजेंडे से जोड़कर लेखक एजेंडेबाजी के अलावा कुछ नहीं कर रहे हैं।

पहलू खान, दलितों का मामला

आश्चर्य की बात है कि पहले पहलू खान मामला गौ-तस्करों और गौ-रक्षकों का न होकर साम्प्रदायिक था, और अब दो मजहबों का न होकर राजीव भार्गव के लिए ‘toxic masculinity’ का उदाहरण हो गया है! कल को पत्रकारिता के समुदाय विशेष की यादवों पर नज़र टेढ़ी हो गई तो यह यादव-समुदाय विशेष का मामला भी बन जाएगा? निश्चित तौर पर पहलू खान के हत्यारों को उनके किए की न्यायोचित सज़ा मिलनी चाहिए, लेकिन इस मामले में ‘toxic masculinity’ का एंगल कहीं से भी उचित नहीं है।

इसी तरह दलितों को पीटने का मामला, जो कल तक हिन्दू धर्म की गलती था, आज मर्द होने की गलती हो गया? यानी अगर दलितों के साथ हिंसा ‘toxic masculinity’ के कारण हो रही है, तो मृतक पहलू खान भी दलितों की हत्या के लिए ज़िम्मेदार हुआ? ये कहाँ का लॉजिक है?

Manhood का model खुद तय करके खुद उसे गरियाना या तो बौद्धिक कायरता है, या toxic elitism

भारत में, खासकर हिन्दुओं में इतने जाति-सम्प्रदाय-परम्पराएँ हैं कि शादी जैसे सीधे-सीधे मामले में आज तक कोई ऐसा कानून बना नहीं, जो सारे-के-सारे भारतीयों पर लागू हो जाए- और रोज़मर्रा के लोगों के आपसी व्यवहार जैसे जटिल मसले पर भार्गव जी न केवल एक मर्दवादी व्यवहार का मॉडल निकाल भी लाए, बल्कि खुद उसमें मीन-मेख भी निकाल डाला! यानी खुद दुश्मन बनाया, और खुद उसे मार डाला। या तो यह घमंड है लिबरल बौद्धिक होने का, कि जो मैं कहूँ वही सब पर लागू होता है, या यह बौद्धिक कायरता है कि अपने बनाए हवा के गुब्बारे को फोड़ कर किला-तोड़ घोषित हो जाया जाए!

इसमें कोई शक नहीं कि पुरुष महिलाओं से सामान्यतः थोड़े अधिक आक्रामक होते हैं, लेकिन यह किसी सांस्कृतिक ज़बरदस्ती या ‘toxic masculinity’ के चलते नहीं, बायोलॉजिकल कारणों से होता है। इन जटिल मामलों का अध्ययन जॉर्डन पीटरसन जैसे मनोवैज्ञानिकों, ब्रेट वाइन्सटाइन जैसे evolutionary theorist या गैड साद जैसे evolutionary psychologist को पढ़ कर समझा जाता है भार्गव जी, ‘toxic masculinity’ का रोना रोकर नहीं। और अगर मर्द ‘आक्रामक’ न हों तो जब कोई नाव डूबने लगेगी, घरों में आग लगेगी या कोई बनैला पशु हमला करेगा, तो महिलाओं-बच्चों को पीछे कर हट्टे-कट्टे पुरुष आगे कूदने की बजाय बच्चों-औरतों को फेंक कर उनकी लाशों पर चढ़ कर जान बचा कर भागेंगे!

महिलाओं द्वारा पुरुषों के साथ किए जाने वाले दुर्व्यवहार, समुदाय विशेष पर चुप्पी

चूँकि लिबरल अख़बार और लिबरल (और माना जा सकता है कि फेमिनिस्ट भी) लेखक हैं, इसलिए ज़ाहिर है कि न तो महिलाओं द्वारा पुरुषों पर होने वाली ज़्यादतियों का नाम लेने की उम्मीद की जा सकती है, न समुदाय विशेष का नाम लेने की। और यही हुआ है भी। महिलाओं द्वारा पुरुषों के साथ किए जाने वाले गलत व्यवहार को कौन सी ‘-ity’ कहा जाएगा, भार्गव जी न यह बताते हैं, न ही यह कि समुदाय विशेष में होने वाले तीन तलाक, हलाला, बुरका आदि ‘toxic masculinity’ होंगे या कुछ और।

लेकिन भार्गव जी से सवाल ज़रूर है कि अगर कोई महिला पति से तलाक का मुकदमा जीतने के लिए अपनी ही बच्ची के बलात्कार का झूठा आरोप पति पर लगा दे, तो यह feminity (क्योंकि बलात्कार के आरोप का इस्तेमाल masculinity तो नहीं सकता) toxic होगी या नहीं? अगर कोई महिलाओं को प्रमोशन मिलते ही प्रमोशन के लिए जी-जान से पीछे खड़ा पति बोझ हो जाए, उससे तलाक की इच्छा कुलबुलाने लगे तो यह blatant hypergamy ही होगा, या इसके समर्थन के लिए कोई कुतर्क बचा कर रखा है?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हैदराबाद निगम चुनाव में हिंदू वोट कट रहे, वोटर कार्ड हैं, लेकिन मतदाता सूची से नाम गायब: मीडिया रिपोर्ट

वीडियो में एक और शख्स ने दावा किया कि हिंदू वोट कट रहे हैं। पिछले साल 60,000 हिंदू वोट कटे थे। रिपोर्टर प्रदीप भंडारी ने एक लिस्ट दिखाते हुए दावा किया कि इन पर जितने भी नाम हैं, सभी हिंदू हैं।

किसान आंदोलन में ‘रावण’ और ‘बिलकिस बानो’, पर क्यों? अजीत भारती का वीडियो । Ajeet Bharti on Farmers Protest

फिलहाल जो नयापन है, उसमें 4-5 कैरेक्टर की एंट्री है। जिसमें से एक भीम आर्मी का चंद्रशेखर ‘रावण’ है, दूसरी बिलकिस बानो है, जो तथाकथित शाहीन बाग की ‘दादी’ के रूप में चर्चा में आई थी।

वर्तमान नागालैंड की सुंदरता के पीछे छिपा है रक्त-रंजित इतिहास: नागालैंड डे पर जानिए वह गुमनाम गाथा

1826 से 1865 तक के 40 वर्षों में अंग्रेज़ी सेनाओं ने नागाओं पर कई तरीकों से हमले किए, लेकिन हर बार उन्हें उन मुट्ठी भर योद्धाओं के हाथों करारी हार का सामना करना पड़ा।

अंतरधार्मिक विवाह को प्रोत्साहन देने वाला अधिकारी हटाया गया, CM रावत ने कहा- कठोरता से करेंगे कार्रवाई

उत्तराखंड सरकार ने टिहरी गढ़वाल में समाज कल्याण विभाग द्वारा अंतरधार्मिक विवाह को प्रोत्साहन का आदेश जारी करने वाले समाज कल्याण अधिकारी को पद से हटाने का आदेश जारी किया है।

BARC के रॉ डेटा के बिना ही ‘कुछ खास’ को बचाने के लिए जाँच करती रही मुंबई पुलिस: ED ने किए गंभीर खुलासे

जब दो BARC अधिकारियों को तलब किया गया, एक उनके सतर्कता विभाग से और दूसरा IT विभाग से, दोनों ने यह बताया कि मुंबई पुलिस ने BARC से कोई भी रॉ (raw) डेटा नहीं लिया था।

भीम-मीम पहुँच गए किसान आंदोलन में… चंद्रशेखर ‘रावण’ और शाहीन बाग की बिलकिस दादी का भी समर्थन

केंद्र सरकार द्वारा हाल ही में लाए गए कृषि सुधार कानूनों को लेकर जारी किसानों के 'विरोध प्रदर्शन' में धीरे-धीरे वह सभी लोग साथ आ रहे, जो...

प्रचलित ख़बरें

‘दिल्ली और जालंधर किसके साथ गई थी?’ – सवाल सुनते ही लाइव शो से भागी शेहला रशीद, कहा – ‘मेरा अब्बा लालची है’

'ABP न्यूज़' पर शेहला रशीद अपने पिता अब्दुल शोरा के आरोपों पर सफाई देने आईं, लेकिन कठिन सवालों का जवाब देने के बजाए फोन रख कर भाग खड़ी हुईं।

मेरे घर में चल रहा देश विरोधी काम, बेटी ने लिए ₹3 करोड़: अब्बा ने खोली शेहला रशीद की पोलपट्टी, कहा- मुझे भी दे...

शेहला रशीद के खिलाफ उनके पिता अब्दुल रशीद शोरा ने शिकायत दर्ज कराई है। उन्होंने बेटी के बैंक खातों की जाँच की माँग की है।

13 साल की बच्ची, 65 साल का इमाम: मस्जिद में मजहबी शिक्षा की क्लास, किताब के बहाने टॉयलेट में रेप

13 साल की बच्ची मजहबी क्लास में हिस्सा लेने मस्जिद गई थी, जब इमाम ने उसके साथ टॉयलेट में रेप किया।

‘हिंदू लड़की को गर्भवती करने से 10 बार मदीना जाने का सवाब मिलता है’: कुणाल बन ताहिर ने की शादी, फिर लात मार गर्भ...

“मुझे तुमसे शादी नहीं करनी थी। मेरा मजहब लव जिहाद में विश्वास रखता है, शादी में नहीं। एक हिंदू को गर्भवती करने से हमें दस बार मदीना शरीफ जाने का सवाब मिलता है।”

कहीं दीप जले, कहीं… PM मोदी के ‘हर हर महादेव’ लिखने पर लिबरलों-वामियों ने दिखाया असली रंग

“जिस समय किसान अपने जीवन के लिए प्रदर्शन कर रहे हैं, हमारे पीएम को ऐसी मनोरंजन वाली वीडियो शेयर करने में शर्म तक नहीं आ रही।”

शेहला मेरठ से चुनाव लड़ती, अमेरिका में बैठे अलगाववादी देते हैं पैसे, वहीं जाकर बनाई थी पार्टी: पिता ने लगाए नए आरोप

शेहला रशीद के पिता ने कहा, "अगर मैं हिंसक होता तो मेरे खिलाफ जरूर एफआईआर होती, लेकिन मेरे खिलाफ कोई एफआईआर नहीं है।"

हैदराबाद निगम चुनाव में हिंदू वोट कट रहे, वोटर कार्ड हैं, लेकिन मतदाता सूची से नाम गायब: मीडिया रिपोर्ट

वीडियो में एक और शख्स ने दावा किया कि हिंदू वोट कट रहे हैं। पिछले साल 60,000 हिंदू वोट कटे थे। रिपोर्टर प्रदीप भंडारी ने एक लिस्ट दिखाते हुए दावा किया कि इन पर जितने भी नाम हैं, सभी हिंदू हैं।
00:27:53

किसान आंदोलन में ‘रावण’ और ‘बिलकिस बानो’, पर क्यों? अजीत भारती का वीडियो । Ajeet Bharti on Farmers Protest

फिलहाल जो नयापन है, उसमें 4-5 कैरेक्टर की एंट्री है। जिसमें से एक भीम आर्मी का चंद्रशेखर ‘रावण’ है, दूसरी बिलकिस बानो है, जो तथाकथित शाहीन बाग की ‘दादी’ के रूप में चर्चा में आई थी।

कामरा के बाद वैसी ही ‘टुच्ची’ हरकत के लिए रचिता तनेजा के खिलाफ अवमानना मामले में कार्यवाही की अटॉर्नी जनरल ने दी सहमति

sanitarypanels ने एक कार्टून बनाया। जिसमें लिखा था, “तू जानता नहीं मेरा बाप कौन है।” इसमें बीच में अर्णब गोस्वामी को, एक तरफ सुप्रीम कोर्ट और दूसरी तरफ बीजेपी को दिखाया गया है।

वर्तमान नागालैंड की सुंदरता के पीछे छिपा है रक्त-रंजित इतिहास: नागालैंड डे पर जानिए वह गुमनाम गाथा

1826 से 1865 तक के 40 वर्षों में अंग्रेज़ी सेनाओं ने नागाओं पर कई तरीकों से हमले किए, लेकिन हर बार उन्हें उन मुट्ठी भर योद्धाओं के हाथों करारी हार का सामना करना पड़ा।

LAC पर काँपी चीनी सेना, भारतीय जवानों के आगे हालत खराब, पीएलए रोज कर रहा बदलाव: रिपोर्ट

मई माह में हुए दोनों देशों के बीच तनातनी के बाद चीन ने कड़ाके के ठंड में भी एलएसी सीमा पर भारी मात्रा में सैनिकों की तैनाती कर रखा है। लेकिन इस कड़ाके की ठंड के आगे चीनी सेना ने घुटने टेक दिए हैं।

अंतरधार्मिक विवाह को प्रोत्साहन देने वाला अधिकारी हटाया गया, CM रावत ने कहा- कठोरता से करेंगे कार्रवाई

उत्तराखंड सरकार ने टिहरी गढ़वाल में समाज कल्याण विभाग द्वारा अंतरधार्मिक विवाह को प्रोत्साहन का आदेश जारी करने वाले समाज कल्याण अधिकारी को पद से हटाने का आदेश जारी किया है।

दिल्ली में आंदोलन के बीच महाराष्ट्र के किसानों ने नए कृषि कानूनों की मदद से ₹10 करोड़ कमाए: जानें कैसे

महाराष्ट्र में किसान उत्पादक कंपनियों (FPCs) की अम्ब्रेला संस्था MahaFPC के अनुसार, चार जिलों में FPCs ने तीन महीने पहले पारित हुए कानूनों के बाद मंडियों के बाहर व्यापार से लगभग 10 करोड़ रुपए कमाए हैं।

बाइडन-हैरिस ने ओबामा के साथ काम करने वाले माजू को बनाया टीम का खास हिस्सा, कई अन्य भारतीयों को भी अहम जिम्मेदारी

वर्गीज ने इन चुनावों में बाइडन-हैरिस के कैंपेन में चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर की जिम्मेदारी संभाली थी और वह पूर्व उप राष्ट्रपति के वरिष्ठ सलाहकार भी रह चुके हैं।

‘किसान आंदोलन’ के बीच एक्टिव हुआ Pak, पंजाब के रास्ते आतंकी हमले के लिए चीन ने ISI को दिए ड्रोन्स’: ख़ुफ़िया रिपोर्ट

अब चीन ने पाकिस्तान को अपने ड्रोन्स मुहैया कराने शुरू कर दिए हैं, ताकि उनका इस्तेमाल कर के पंजाब के रास्ते भारत में दहशत फैलाने की सामग्री भेजी जा सके।

BARC के रॉ डेटा के बिना ही ‘कुछ खास’ को बचाने के लिए जाँच करती रही मुंबई पुलिस: ED ने किए गंभीर खुलासे

जब दो BARC अधिकारियों को तलब किया गया, एक उनके सतर्कता विभाग से और दूसरा IT विभाग से, दोनों ने यह बताया कि मुंबई पुलिस ने BARC से कोई भी रॉ (raw) डेटा नहीं लिया था।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,497FollowersFollow
358,000SubscribersSubscribe