Tuesday, October 19, 2021
Homeसोशल ट्रेंडकृषि कानून के विरोध में मंच पर लगा ‘लैला मैं लैला’ पर ठुमके: कॉन्ग्रेसी...

कृषि कानून के विरोध में मंच पर लगा ‘लैला मैं लैला’ पर ठुमके: कॉन्ग्रेसी मंत्री आलम गीर की ‘जन आक्रोश रैली’

“ये कॉन्ग्रेस है। ये राहुल गाँधी के सभी बड़े नेताओं की फोटो है, ये इन लोगों के किसान हैं और ये इनकी पावरी (पार्टी) हो रही है। प्लीज़ डोंट डिस्टर्ब।”

देश के तमाम विपक्षी दल केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि सुधार क़ानूनों का विरोध कर रहे हैं। इसी कड़ी में झारखंड के सरायकेला क्षेत्र में कॉन्ग्रेस के मंत्री आलमगीर आलम की ओर से ‘जन आक्रोश रैली’ का आयोजन किया गया था।

मंत्री आलमगीर आलम की रैली के दौरान विरोध का तो नहीं पता लेकिन मजाल है कि ठुमकों में कोई कमी रह गई हो! जिस मंच पर पार्टी के नेता और पदाधिकारी मौजूद थे, उससे ही ‘लैला मैं लैला’ गाने पर लटकों-झटकों से भरपूर विरोध किया गया। 

‘जन आक्रोश रैली’ का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया और पार्टी की पर्याप्त फ़ज़ीहत हुई। इस घटना पर भाजपा के तमाम नेताओं ने भी कॉन्ग्रेस की आलोचना की है।

18 फरवरी 2021 को सरायकेला के कुकड़ू हाट मैदान में पार्टी के ‘माइनॉरिटी सेल’ ने जन आक्रोशित रैली आयोजित की थी। इसमें कॉन्ग्रेस विधायक दल के नेता और ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम मुख्य अतिथि के रूप में शामिल होने की बात कही जा रही है। 

हालाँकि वायरल होने वाले वीडियो में जिस मंच पर ठुमके लगाए जा रहे हैं, उस पर पार्टी का कोई वरिष्ठ पदाधिकारी या नेता नज़र नहीं आ रहा है। वीडियो में तमाम स्थानीय नेताओं के साथ-साथ कई महिलाएँ भी नज़र आ रही हैं।

वीडियो में चर्चित गाना ‘लैला मैं लैला, ऐसी हूँ लैला’ बज रहा है और एक युवती उस गाने पर ठुमके लगा रही है। मंच पर ही कृषि क़ानून के विरोध में ‘जन आक्रोश रैली’ का पोस्टर भी लगा हुआ है। इस वीडियो को लेकर सोशल मीडिया पर भी तमाम तरह की प्रतिक्रियाएँ देखने को मिली। 


कृषि क़ानून विरोध के ठुमके वाले वीडियो को झारखंड भाजपा ने भी ट्वीट किया। उसके साथ लिखा, “ये हैं कॉन्ग्रेस के संस्कार! जन समर्थन नहीं मिलने पर भीड़ को बुलाने के लिए इस तरह का आयोजन कर आखिर क्या दर्शाना चाह रही है ये पार्टी?”

वहीं भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता और पूर्व विधायक कुणाल षारंगी ने लिखा, “ये कॉन्ग्रेस है। ये राहुल गाँधी के सभी बड़े नेताओं की फोटो है, ये इन लोगों के किसान हैं और ये इनकी पावरी (पार्टी) हो रही है। प्लीज़ डोंट डिस्टर्ब।”                

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बांग्लादेश का नया नाम जिहादिस्तान, हिन्दुओं के दो गाँव जल गए… बाँसुरी बजा रहीं शेख हसीना’: तस्लीमा नसरीन ने साधा निशाना

तस्लीमा नसरीन ने बांग्लादेश में हिंदुओं पर कट्टरपंथी इस्लामियों द्वारा किए जा रहे हमले पर प्रधानमंत्री शेख हसीना पर निशाना साधा है।

पीरगंज में 66 हिन्दुओं के घरों को क्षतिग्रस्त किया और 20 को आग के हवाले, खेत-खलिहान भी ख़ाक: बांग्लादेश के मंत्री ने झाड़ा पल्ला

एक फेसबुक पोस्ट के माध्यम से अफवाह फैल गई कि गाँव के एक युवा हिंदू व्यक्ति ने इस्लाम मजहब का अपमान किया है, जिसके बाद वहाँ एकतरफा दंगे शुरू हो गए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,765FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe