Thursday, January 27, 2022
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेकक्या CNN ने की अफगानिस्तान में हमले के दौरान मास्क पहनने के लिए तालिबान...

क्या CNN ने की अफगानिस्तान में हमले के दौरान मास्क पहनने के लिए तालिबान की प्रशंसा? – Fact Check

यह स्क्रीनशॉट उस दिन से वायरल हो रहा है, जब तालिबान ने बीस साल के बाद अमेरिका के अफगानिस्तान से वापस निकलने के बाद काबुल पर कब्जा किया। स्क्रीनशॉट के सोशल मीडिया पर वायरल ​होने बाद से सीएनएन की काफी आलोचना की जा रही है।

सीएनएन न्यूज चैनल की एक रिपोर्ट का स्क्रीनशॉट सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। इसमें चैनल को हमले के दौरान मास्क पहनने के लिए तालिबान की तारीफ करते हुए देखा जा सकता है। यह स्क्रीनशॉट उस दिन से वायरल हो रहा है, जब तालिबान ने बीस साल के बाद अमेरिका के अफगानिस्तान से वापस निकलने के बाद काबुल पर कब्जा किया। स्क्रीनशॉट के सोशल मीडिया पर वायरल ​होने बाद से सीएनएन की काफी आलोचना की जा रही है।

Source: Twitter

स्क्रीनशॉट के साथ कैप्शन लिखा था, “सीएनएन ने हमले के दौरान मास्क पहनने के लिए तालिबान की प्रशंसा की।”

Source: Twitter

सीएनएन का सच ‘मास्क पहनने के लिए तालिबान की प्रशंसा’

वास्तव में सीएनएन ने हमले के दौरान मास्क पहनने के लिए तालिबान की प्रशंसा नहीं की है। यह स्क्रीनशॉट 14 अगस्त को द बेबीलोन बी (The Babylon Bee) द्वारा प्रकाशित एक व्यंग्य लेख से लिया गया है।

The Babylon Bee का व्यंग्य लेख

व्यंग्य में जो बाइडेन प्रशासन के साथ-साथ सीएनएन पर ‘विश्वसनीय सूत्रों’ के मेजबान ब्रायन स्टेल्टर का भी मज़ाक उड़ाया गया है। व्यंग्य में कहा गया है कि स्टेल्टर को बहुत बड़ा बेवकूफ माना जाता है। वह अपनी प्रतिष्ठा की परवाह किए बिना दुष्प्रचार करता है, जिस पर वो और उसकी टीम के अलावा कोई भी विश्वास नहीं करता है।

व्यंग्य ने दावा किया कि स्टेल्टर ने कहा, “वाह! युद्ध और रक्तपात के बीच महान इस्लामी रेगिस्तानी शूरवीर मुखौटे पहने हुए हैं। एक अन्य हास्यपूर्ण कोट का श्रेय डॉन लेमन को दिया जाता है। उन्होंने कहा कि एक सीएनएन होस्ट जिसे व्यापक रूप से प्रोपेगेंडा प्रमुख माना जाता है उनकी सभी बातों पर विचार किया जाना चाहिए। हमें इन राजसी मुजाहिदीन योद्धाओं की प्रशंसा करनी चाहिए, जिन्होंने कोविड-19 में मास्क पहना हुआ है।”

CNN की पिछली चूक

हिंसक जॉर्ज फ्लॉयड दंगों के दौरान सीएनएन ने अपनी एक रिपोर्ट में आगजनी और लूटपाट को बेहद शांतिपूर्ण विरोध के रूप में वर्णित किया था। स्क्रीन पर आगजनी दिखाई गई, एक वाहन में आग लग गई, जबकि संवाददाता ने स्क्रीन पर कुछ और ही दिखाने का प्रयास किया था।

सीएनएन की ज्यादातर शांतिपूर्ण विरोध वाली रिपोर्ट

समाचार नेटवर्क को संवाददाता के कारण काफी शर्मिंदगी उठानी पड़ी थी। इस हास्यास्पद दावे के लिए सभी लोगों द्वारा इसकी निंदा की गई थी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

धर्मांतरण के दबाव से मर गई लावण्या, अब पर्दा डाल रही मीडिया: न्यूज मिनट ने पूछा- केवल एक वीडियो में ही कन्वर्जन की बात...

लावण्या की आत्महत्या पर द न्यूज मिनट कहता है कि वॉर्डन ने अधिक काम दे दिया था, जिससे लावण्या पढ़ाई में पिछड़ गई थी और उसने ऐसा किया।

आजम खान एंड फैमिली पर टोटल 165 क्रिमिनल केस: सपा ने शेयर की पूरी लिस्ट, सबको ‘झूठे आरोप’ बता क्लीनचिट भी दे दी

समाजवादी पार्टी ने आजम खान, उनकी पत्नी तज़ीन फातिमा और उनके बेटे अब्दुल्ला आजम खान का आपराधिक रिकॉर्ड शेयर किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
153,876FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe