Friday, June 18, 2021
Home विविध विषय भारत की बात 17 साल की लड़की, फौज की 2 बटालियन और लगान माफी का लालच: अंग्रेजों...

17 साल की लड़की, फौज की 2 बटालियन और लगान माफी का लालच: अंग्रेजों को पानी पिलाने वाली रानी गाइदिन्ल्यू

रानी गाइदिन्ल्यू जिस हेराका संस्कृति की बात करती थी, वो प्रकृति इत्यादि के पूजन वाली व्यवस्था थी। बैप्टिस्ट ईसाई व्यवस्था को चुनौती देने के कारण उन्हें गंभीर परिणाम भुगतने की धमकियाँ मिलने लगीं और अंततः उन्हें 1960 में फिर से भूमिगत होना पड़ा।

“अरे ओ साम्बा! सरकार कितने का ईनाम रखी है रे हम पर?” एक मशहूर से वक्तव्य में ‘शोले’ का गब्बर पूछता है। जिस पर ईनाम ही न हो, वो बागी कैसा? सरकार के खिलाफ आपने कितनी बड़ी बगावत कर रखी है, इसका पता ही इसी बात से चलता है कि आपके सर पर ईनाम कितने का है।

आज जरूर लोकतंत्र है और जनता की चुनी हुई सरकार के खिलाफ होने के कारण किसी का ‘ईनामी’ होना बदनामी होती है। अर्थों के ऐसे बदलने की वजह से ही हम जब ‘टूलकिट पत्रकारों’ को ‘ईनामी पत्रकार’ कह देते हैं तो उनकी भावना भी आहत हो जाती है।

थोड़े पुराने दौर में ऐसा नहीं था। प्रकट तौर पर भले लोग न दर्शाएँ, लेकिन जनभावनाओं में ब्रिटिश सरकार का ‘ईनामी’ भारतीय जनमानस के लिए सम्मानित ही होता था। उनके सर पर ईनाम भी कोई छोटा मोटा नहीं था। फिरंगी दौर में आज से करीब सौ वर्ष पहले 1930 के दशक में जब उनके सर 500 का ईनाम रखा गया, तो ये काफी बड़ी रकम थी। ईनाम सिर्फ इतना ही नहीं था। जिस गाँव में वो पकड़ी जाती, उसके लिए भी अगले दस वर्ष तक टैक्स में छूट थी। इस सब के वाबजूद ये लड़की पकड़ी नहीं जा रही थी। करीब सत्रह साल की इस लड़की को पकड़ने के लिए फिरंगियों को असम रायफल्स की तीसरी और चौथी बटालियन उतारनी पड़ी।

सत्रह साल की ये लड़की रानी गाइदिन्ल्यू (Gaidinliu) थी। आज के असम, नागालैंड और मिजोरम के क्षेत्रों में उस समय ‘हेराका’ (शुद्धिकरण) का आन्दोलन चल रहा था। साथ ही साथ, ये आन्दोलन राष्ट्रवादी भी था, इसलिए इसके नेता जदोनाँग को फिरंगियों ने गिरफ्तार करके फाँसी पर चढ़ा दिया था।

तेरह वर्ष की आयु में हेराका से जुड़ी रानी गाइदिन्ल्यू ने अपने भाई की मृत्यु के बाद आन्दोलन की कमान संभाल ली। स्थानीय धार्मिक नेतृत्व का उभारना ईसाई फिरंगियों को पसंद तो नहीं ही आना था। इसलिए बड़े ईनाम और मजबूत सेना के साथ उनकी तलाश शुरू हुई। उन्हें 1932 में गिरफ्तार किया जा सका। नेहरू उनसे 1937 में मिले थे और अपने इंटरव्यू में रानी गाइदिन्ल्यू बुलाने के कारण गाइदिन्ल्यू के नाम में रानी जुड़ गया।

जब 1946 में भारत में प्रोविंशियल गवर्नमेंट बनी, तब जाकर रानी गाइदिन्ल्यू को छोड़ा गया। तब तक वो अलग-अलग जेलों में करीब 14 वर्ष बिता चुकी थी। जेल से छूटने के बाद रानी गाइदिन्ल्यू में जुटी रहीं, लेकिन फिर क्रन्तिकारी के जीवन में क्रांति एक ही बार कब होती है?

रानी गाइदिन्ल्यू एक जेलिआँगरोंग समूह के कबीलों के भारत राष्ट्र के अन्दर होने की वकालत करती थीं। इसकी तुलना में नागा समूह के कबीलों में अलग देश की माँग उठ रही थी। रानी गाइदिन्ल्यू जिस हेराका संस्कृति की बात करती थी, वो प्रकृति इत्यादि के पूजन वाली व्यवस्था थी। नारी-विरोधी बैप्टिस्ट ईसाई नागा किसी पैगन व्यवस्था को जीवित कैसे रहने दे सकते थे? बैप्टिस्ट ईसाई व्यवस्था को चुनौती देने के कारण उन्हें गंभीर परिणाम भुगतने की धमकियाँ मिलने लगीं और अंततः उन्हें 1960 में फिर से भूमिगत होना पड़ा।

इन सबके बीच, ईसाइयों द्वारा उनकी हत्या की कोशिशों के बाद भी उनका हेराका आन्दोलन रुका नहीं। जब वो कोहिमा में थीं (1972) तब उन्हें स्वतंत्रता सेनानी का ताम्रपत्र मिला। दस वर्ष बाद (1982 में) उन्हें पद्मभूषण भी मिला था।

बैप्टिस्ट ईसाइयों का विरोध करने वाली स्वतंत्रता सेनानी की आवाज भी किस हद तक दबाई जा सकती है, इसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि आपने हाल के दौर तक रानी गाइदिन्ल्यू के बारे में बिकने वाली मीडिया में कुछ भी नहीं पढ़ा। आज भी आप उनके बारे में सोशल मीडिया पर ही पढ़ पा रहे है। ऐसा तब है जब पत्रकारिता के विख्यात संस्थान – दिल्ली के आईआईएमसी का हॉस्टल ही रानी गाइदिन्ल्यू के नाम पर है!

बाकी जब गैर कॉन्ग्रेसी स्वतंत्रता सेनानियों को याद कीजिएगा तो रानी गाइदिन्ल्यू का नाम भी याद कर लीजियेगा। ये भी सोचियेगा कि जब कॉन्ग्रेस के अलावा दूसरे संगठनों के आंदोलनों की बात की जाती है, तो कैसे उन्हें संस्कृति-साहित्य आदि से बौद्धिक रूप से क्षीण बताया जाता है।

ऐसा तब है, जब रानी गाइदिन्ल्यू जिस हेराका आन्दोलन को चलाती रही, वो मुख्यतः अपनी सभ्यता-संस्कृति बचाने के लिए ही था। बाद तक इसे बैप्टिस्ट ईसाइयों का हिंसक विरोध झेलना पड़ा। आज उनकी याद इसलिए क्योंकि आज (17 फ़रवरी 1993) उनकी पुण्यतिथि होती है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Anand Kumarhttp://www.baklol.co
Tread cautiously, here sentiments may get hurt!

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मोदी कैबिनेट में वरुण गाँधी की एंट्री के आसार, राजनाथ बोले- UP में 2022 का चुनाव योगी के नाम

मोदी सरकार में जल्द फेरबदल की अटकलें कई दिनों से लग रही है। 6 नाम सामने आए हैं जिन्हें जगह मिलने की बात कही जा रही है।

ताबीज की लड़ाई को दिया जय श्रीराम का रंग: गाजियाबाद केस की पूरी डिटेल, जुबैर से लेकर बौना सद्दाम तक की बात

गाजियाबाद में मुस्लिम बुजुर्ग के साथ हुई मारपीट की घटना में कब, क्या, कैसे हुआ। सब कुछ एक साथ।

टिकरी बॉर्डर पर शराब पिला जिंदा जलाया, शहीद बताने की साजिश: जातिसूचक शब्दों के साथ धमकी भी

जले हुए हालात में भी मुकेश ने बताया कि किसान आंदोलन में कृष्ण नामक एक व्यक्ति ने पहले शराब पिलाई और फिर उसे आग लगा दी।

‘अब मूत्रालय का भी फीता काट दो’: AAP का ‘स्पीडब्रेकर’ देख नेटिजन्स बोले- नारियल फोड़ने से धँस तो नहीं गया

AAP नेता शिवचरण गोयल ने स्पीडब्रेकर का सारा श्रेय मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को दिया। लेकिन नेटिजन्स ने पूछ दिए कुछ कठिन सवाल।

वैक्सीन पर बछड़े वाला प्रोपेगेंडा: कॉन्ग्रेस और ट्विटर में गिरने की होड़ या दोनों का ‘सीरम’ सेम

कोरोना वैक्सीन पर ताजा प्रोपेगेंडा से साफ है कि कॉन्ग्रेसी नेता झूठ फैलाने से बाज नहीं आएँगे। लेकिन उतना ही चिंताजनक इस विषय पर ट्विटर का आचरण भी है।

राजनीतिक आलोचना बर्दाश्त नहीं, ममता सरकार ने की बड़ी संख्या में सोशल मीडिया पोस्ट्स ब्लॉक करने की सिफारिश: सूत्र

राज्य प्रशासन के सूत्रों से पता चला है कि हाल ही में पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार ने बड़ी संख्या में सोशल मीडिया पोस्ट्स को ब्लॉक करने की सिफारिश की।

प्रचलित ख़बरें

BJP विरोध पर ₹100 करोड़, सरकार बनी तो आप होंगे CM: कॉन्ग्रेस-AAP का ऑफर महंत परमहंस दास ने खोला

राम मंदिर में अड़ंगा डालने की कोशिशों के बीच तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने एक बड़ा खुलासा किया है।

‘भारत से ज्यादा सुखी पाकिस्तान’: विदेशी लड़की ने किया ध्रुव राठी का फैक्ट-चेक, मिल रही गाली और धमकी, परिवार भी प्रताड़ित

साथ ही कैरोलिना गोस्वामी ने उन्होंने कहा कि ध्रुव राठी अपने वीडियो को अपने चैनल से डालें, ताकि जिन लोगों को उन्होंने गुमराह किया है उन्हें सच्चाई का पता चले।

‘चुपचाप मेरे बेटे की रखैल बन कर रह, इस्लाम कबूल कर’ – मृत्युंजय बन मुर्तजा ने फँसाया, उसके अम्मी-अब्बा ने धमकाया

मुर्तजा को धर्मान्तरण कानून-2020 के तहत गिरफ्तार कर लिया है। आरोपित को कोर्ट में पेश करने के बाद उसे जेल भेज दिया गया है।

पल्लवी घोष ने गलती से तो नहीं खोल दी राहुल गाँधी की पोल? लोगों ने कहा- ‘तो इसलिए की थी बंगाल रैली रद्द’

जहाँ यूजर्स उन्हें सोनिया गाँधी को लेकर इतनी महत्तवपूर्ण जानकारी देने के लिए तंज भरे अंदाज में आभार दे रहे हैं। वहीं राहुल गाँधी को लेकर बताया जा रहा है कि कैसे उन्होंने बेवजह वाह-वाही लूट ली।

टिकरी बॉर्डर पर शराब पिला जिंदा जलाया, शहीद बताने की साजिश: जातिसूचक शब्दों के साथ धमकी भी

जले हुए हालात में भी मुकेश ने बताया कि किसान आंदोलन में कृष्ण नामक एक व्यक्ति ने पहले शराब पिलाई और फिर उसे आग लगा दी।

भाई की आँखें फोड़वा दी, बीवी 14वें बच्चे को जन्म देते मरी: मोहब्बत का दुश्मन था हिन्दू-मुस्लिम शादी पर प्रतिबंध लगाने वाला शाहजहाँ

माँ नूरजहाँ को निकाल बाहर किया। ससुर की आँखें फोड़वा डाली। बीवी 14वें बच्चे को जन्म देते हुए मरी। हिन्दुओं पर अत्याचार किए। आज वही व्यक्ति लिबरलों के लिए 'प्यार का मसीहा' है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
104,573FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe