Wednesday, August 4, 2021
Homeदेश-समाज98 जमाती सिर्फ एक गाँव में, पुलिस ने पूरे गाँव को किया सील: आने-जाने...

98 जमाती सिर्फ एक गाँव में, पुलिस ने पूरे गाँव को किया सील: आने-जाने के सभी रास्ते बंद, सभी के सैंपल जाँच के लिए भेजे

"पूरे गाँव में 98 जमाती पाए गए। इसके बाद गाँव के सभी लोगों को घर में ही क्वारंटाइन कर दिया गया। साथ ही पूरे गाँव को एहतियात के तौर पर सील कर दिया गया है।"

पूरे देश में कोरोना महामारी फैलाने का केन्द्र बने दिल्ली के निजामुद्दीन से निकले जमातियों ने हर किसी को संकट में डाल दिया है। यही कारण है कि मदरसों से लेकर मस्जिद तक स्वास्थ्य विभाग और पुलिस प्रशासन की टीमें दिल्ली से निकले जमातियों की खोज में लगी हुई हैं। इसी बीच उत्तराखंड पुलिस को जानकारी मिली कि हरिद्वार जिले के एक गाँव में दिल्ली से कई जमाती लौट कर आए हैं। सूचना पर पहुँची पुलिस ने इसे सही पाया। इसके बाद गाँव को तत्काल सील करके पुलिस फोर्स को तैनात कर दिया गया।

दरअसल हरिद्वार जिले के गैंडीखाता गुज्जर बस्ती में सूचना पर पहुँची पुलिस ने गाँव में बड़ी संख्या में जमातियों को देखा। इसके बाद पुलिस ने तत्काल कार्रवाई करते हुए पूरे गाँव को ही सील कर दिया। साथ ही स्वास्थ्य विभाग की टीम ने सभी लोगों के सैंपल लेकर जाँच के लिए भेज दिए हैं। इतना ही नहीं, गाँव से कोई बाहर न जा सके और गाँव में कोई अंदर न प्रवेश करे, इसके लिए गाँव के बाहर कैंप लगाकर बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया है।

मामल में श्यामपुर थाने के थानाध्यक्ष दीपक सिंह कठैत ने जानकारी देते हुए बताया कि पुलिस प्रशासन की टीम को जानकारी मिली थी कि गैंडीखाता गुज्जर बस्ती में दिल्ली, देवबंद और अन्य स्थानों से लौटकर सैकड़ों जमाती आए हैं। इस जानकारी के बाद तत्काल पुलिस स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ गाँव में पहुँची तो यह जानकारी सही पाई गई। थानाध्यक्ष दीपक सिंह ने बताया कि पूरे गाँव में 98 जमाती पाए गए। इसके बाद गाँव के सभी लोगों को घर में ही क्वारंटीन कर दिया गया। साथ ही पूरे गाँव को एहतियात के तौर पर सील कर दिया गया।

वहीं दिल्ली निजामुद्दीन की घटना के बाद से ही लगातार उत्तराखंड पुलिस को अलग-अलग स्थानों पर तबलीगी जमात के लोगों के होने की सूचनाएँ मिल रही हैं। इन्हें गँभीरता से लेते हुए पुलिस ने मुस्लिम आबादी वाले थानों में सेक्टर मैजिस्ट्रेट और स्वास्थ्य विभाग की टीमों को तैनात किया है ताकि सूचना मिलते ही ऐसे लोगों की जाँच करके तत्काल क्‍वारंटाइन किया जा सके।

आपको बता दें कि इससे पहले भी पुलिस ने बहादराबाद के बौंगला गाँव स्थित आर्य इंटर कॉलेज में करीब 40 लोगों को क्वारंटाइन किया हुआ है। वहीं ज्वालापुर के मोहल्ला तेलियान कैथवाड़ा से एक जमात मरकज से होकर अंबाला गई थी। इसके बाद जमात वापस ज्वालापुर लौटकर आई। जानकारी मिलने पर पुलिस ने जमात के लोगों के साथ दो ड्राइवरों को भी क्वारंटाइन किया गया था। निजामुद्दीन मरकज से लौटे जमातियों को घर में ठहराने और इसकी जानकारी छिपाने के मामले में पुलिस ने चार लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,995FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe