Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाजलॉकडाउन मतलब? जानिए क्या मिलेगा, कहाँ जा सकते हैं, क्या-क्या करने पर पाबन्दी नहीं...

लॉकडाउन मतलब? जानिए क्या मिलेगा, कहाँ जा सकते हैं, क्या-क्या करने पर पाबन्दी नहीं है

ट्रांसपोर्ट सेवाओं पर ज़रूर असर पड़ेगा। आपको अपने आसपास की दुकानों से ही चीजें लेनी पड़ेंगी। हाँ, शादी-विवाह फंक्शन इत्यादि नहीं हो पाएँगे। जो व्यक्ति ज़रूरी इमरजेंसी सेवाओं में हैं, उन्हें छोड़ कर बाकी लोग ऑफिस वगैरह नहीं जाएँगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कम्प्लीट लॉकडाउन की घोषणा की है। पीएम ने कहा, “कुछ लोगों की लापरवाही, कुछ लोगों की गलत सोच, आपको, आपके बच्चों को, आपके माता-पिता को, आपके परिवार को, आपके दोस्तों को, पूरे देश को बहुत बड़ी मुश्किल में झोंक देगी। साथ ही उन्होने बड़ी घोषणा करते हुए बताया कि आज रात 12 बजे से पूरे देश में, ध्यान से सुनिएगा, पूरे देश में, आज रात 12 बजे से पूरे देश में, संपूर्ण लॉकडाउन होने जा रहा है।”

तो क्या लॉकडाउन का मतलब लाइफ का लॉक हो जाना? खाना-पीना सब बंद? नहीं। घबराएँ नहीं। आज की रात से पहले जो लॉकडाउन किया गया था, कुछ वैसा ही आगे भी मतलब 14 अप्रैल तक चलेगा।

लॉकडाउन
लॉकडॉउन मतलब क्या? क्या होंगे हमारे दायित्व? किनको व किन परिस्थितियों में मिलेगी छूट (साभार: दैनिक जागरण, यह 24 मार्च की रात के पहले का है, ऐसा ही कुछ 14 अप्रैल तक भी जारी रहेगा)
लॉकडाउन
लॉकडॉउन मतलब क्या? क्या होंगे हमारे दायित्व? किनको व किन परिस्थितियों में मिलेगी छूट (साभार: दैनिक जागरण, यह 24 मार्च की रात के पहले का है, ऐसा ही कुछ 14 अप्रैल तक भी जारी रहेगा)

हालाँकि, इस लॉकडाउन से आपको पैनिक होने की ज़रूरत नहीं है क्योंकि कई ऐसी सेवाएँ हैं जो खुली रहेंगी। जैसे कि अगर आपके घर में कोई बीमार है तो आप दवा लेने जा सकते हैं। यानी मेडिकल की दुकानें खुली रहेंगी और फार्मेसी की दुकानों पर आप जा सकते हैं। इसके अलावा हॉस्पिटल खुले रहेंगे, वहाँ आप ज़रूरत पड़ने पर जा सकते हैं। ग्रॉसरी स्टोर्स भी खुले ही रहेंगे और राशन लेने के लिए आप जा सकते हैं।

निम्नलिखित सेवाएँ लॉकडाउन के दौरान भी काम करती रहेंगी- मजिस्ट्रेट ड्यूटी वाले दफ्तर, पुलिस, स्वास्थ्य, बिजली, जेल, फायर ब्रिगेड, नगर सेवा, दिल्ली विधान सभा, वेतन कार्यालय, प्रिंट व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, बैंक कैशियर, डाक व दूरसंचार सेवाएँ, खाना व दवा की इ-कॉमर्स, खाद्य पदार्थों की दुकानें, मिल्क और किराना प्लांट्स, रेस्टॉरेंट्स की होम डिलीवरी, पेट्रोल पम्प और मेडिकल की दुकानें।

लॉकडाउन
लॉकडॉउन मतलब क्या? क्या होंगे हमारे दायित्व? किनको व किन परिस्थितियों में मिलेगी छूट (साभार: दैनिक जागरण, यह 24 मार्च की रात के पहले का है, ऐसा ही कुछ 14 अप्रैल तक भी जारी रहेगा)

हाँ, ट्रांसपोर्ट सेवाओं पर ज़रूर असर पड़ेगा क्योंकि आपको अपने आसपास की दुकानों से ही चीजें लेनी पड़ेंगी। हाँ, शादी-विवाह फंक्शन इत्यादि नहीं हो पाएँगे। जो व्यक्ति ज़रूरी इमरजेंसी सेवाओं में हैं, उन्हें छोड़ कर बाकी लोग ऑफिस वगैरह नहीं जाएँगे। सभी कंपनियों के कर्मचारी ‘वर्क फ्रॉम होम’ ही काम करेंगे। सभी स्कूल-कॉलेज बंद रहेंगे और बच्चे घर के भीतर ही रहेंगे। पहले ही कहा जा चुका है कि सभी प्रकार की परीक्षाओं की तिथि आगे बढ़ाई जाएगी।

PM मोदी का बड़ा ऐलान: सम्पूर्ण देश में सम्पूर्ण लॉकडाउन, आज रात 12 बजे से कोई घर से बाहर नहीं निकलेगा

6 पॉइंट में समझें क्या होता है लॉकडाउन? आखिर क्यों इससे घबराने की जरूरत नहीं

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हम आपको नहीं सुनेंगे…’: बॉम्बे हाईकोर्ट से जावेद अख्तर को झटका, कंगना रनौत से जुड़े मामले में आवेदन पर हस्तक्षेप से इनकार

जस्टिस शिंदे ने कहा, "अगर हम इस तरह के आवेदनों को अनुमति देते हैं तो अदालतों में ऐसे मामलों की बाढ़ आ जाएगी।"

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस रहे मदन लोकुर से पेगासस ‘इंक्वायरी’ करवाएँगी ममता बनर्जी, जिस NGO से हैं जुड़े उसे विदेशी फंडिंग

पेगासस मामले की जाँच के लिए गठित आयोग का नेतृत्व सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश मदन लोकुर करेंगे। उनकी नियुक्ति सीएम ममता बनर्जी ने की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,294FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe