Sunday, July 12, 2020
Home विचार सामाजिक मुद्दे शक्ति का प्रत्युत्तर शक्ति से ही देना होगा, तभी म्लेच्छ शक्तियों की पराजय निश्चित...

शक्ति का प्रत्युत्तर शक्ति से ही देना होगा, तभी म्लेच्छ शक्तियों की पराजय निश्चित होगी

आक्रमण दसों दिशाओं से हो रहा है। सनातन धर्म के ध्येय वाक्यों को, परंपराओं को, त्योहारों को, रीति-रिवाजों को या तो कालबाह्य करार दिया जा रहा है, या मैकाले-मुल्ला-मार्क्स के जारज पुत्र, ये नाबदानी कीड़े उन्हें हास्यास्पद बना कर पेश कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें

विजयादशमी के इस पावन अवसर पर जब “जयंती-उत्पाटन” कर सुबह आसन पर बैठा, तो कई तरह के विचार दिमाग में कौंधते रहे? बस, इन 20-25 वर्षों में आखिर यह कैसी प्रदूषणकारी हवा बही या फिर यह दूषण समाज में मौजूद ही था, क्वचित अब वह उघड़ गया है, क्वचित हम ही कुछ अधिक सावधान हो गए हैं, जो ये सारा तलछट अब मुख्यधारा बन गया है। आखिर, इसके अलावा और क्या कारण होगा कि कहीं माँ दुर्गा को मूलनिवासी-आंदोलन के नाम पर गालियाँ दी जा रही हैं, तो कहीं दुर्गा-मंडप से अजान दी जा रही है।

इधर एक नया बवाल चला है, रावण को ब्राह्मण, महात्मा सिद्ध करने का। अब तक तो छिटपुट लोग ही रावण-दहन के नाम पर अपनी कुत्सा और कुंठा निकालते थे, इस बीच “अपने अंदर के रावण को मारने” या फिर, भाँति-भाँति के कुतर्क से उसे सर्वश्रेष्ठ महानुभाव सिद्ध करने की होड़ मची है। इन सब से भी बात नहीं बनी, तो एक विदुषी पैदा हो गईं यह दावा करने को कि हिंदुत्व का तो निर्माण (प्रभु, अब उठा ही लो…) ही 20 वीं सदी में किया गया ताकि इसके दुर्गुणों को छुपाया जा सके।

ऐसे नाबदानी कीड़े इस देश में हैं, समाज में हैं, यहाँ की मुख्यधारा में हैं, यहाँ तक कि मुझ तक पहुँच जा रहे हैं जो तथाकथित न्यूज और इंटरनेट से ठीकठाक दूरी बरकरार रखता है। मैं यह सोच रहा हूँ और ‘राम की शक्ति पूजा’ मुझे याद आ रही है… खुद मर्यादा पुरुषोत्तम राम को भी जब निराशा घेरती है, वह पंक्तियाँ याद आती हैं,

“बोले रघुमणि- “मित्रवर, विजय होगी न समर,
यह नहीं रहा नर-वानर का राक्षस से रण,
उतरीं पा महाशक्ति रावण से आमन्त्रण,
अन्याय जिधर, हैं उधर शक्ति।” (राम की शक्ति पूजा, निराला)

आक्रमण दसों दिशाओं से हो रहा है। सनातन धर्म के ध्येय वाक्यों को, परंपराओं को, त्योहारों को, रीति-रिवाजों को या तो कालबाह्य करार दिया जा रहा है, या मैकाले-मुल्ला-मार्क्स के जारज पुत्र, ये नाबदानी कीड़े उन्हें हास्यास्पद बना कर पेश कर रहे हैं।

राजनीतिक मसलों को धर्म और अध्यात्म में घुसेड़ कर ‘उलटबांसी’ के जरिए उन्हें राष्ट्रीय स्तर का मसला बना रहे हैं। आपसी मारपीट या किसानों के गुस्से का शिकार बने लोगों को जबरन हिंदू आतंक (क्या सचमुच!) का शिकार बनाकर पेश करना कितना जायज है? ट्रेन की सीट के लिए हुए झगड़े को मॉब-लिंचिंग बनाना कहाँ तक जायज है? अखलाक को तो बारहां शहीद की तरह पेश किया जाता है, लेकिन डॉक्टर नारंग की चर्चा क्यों नहीं? अंकित की बात कोई क्यों नहीं करता?

और, ये नैरेटिव इस कदर आपके दिमाग पर बिठा दिया गया है कि नए-नकोर बच्चे रवीश या गौरी लंकेश को अपना आदर्श मान लेते हैं, जो केवल और केवल झूठ, नफरत और सांप्रदायिकता के पैरोकार हैं। वे उर्मिलेश यादव और पुण्य प्रसून या शेखर गुप्ता को पत्रकारिता का पैमाना मानता है, जो केवल और केवल एजेंडा-सेटर हैं, कॉन्ग्रेस-कम्युनिस्ट युति के पक्षकार हैं।
…और, फिर एक बार राम याद आते हैं…

“आया न समझ में यह दैवी विधान।
रावण, अधर्मरत भी, अपना, मैं हुआ अपर,
यह रहा, शक्ति का खेल समर, शंकर, शंकर!
करता मैं योजित बार-बार शर-निकर निशित,
हो सकती जिनसे यह संसृति सम्पूर्ण विजित,
जो तेजः पुंज, सृष्टि की रक्षा का विचार,
हैं जिसमें निहित पतन घातक संस्कृति अपार। (राम की शक्ति पूजा, निराला)

और, फिर उसी राम की शक्ति-पूजा के जाम्बवंत याद आते हैं, जो मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम तक को बोध देने की शक्ति रखते हैं, यही तो है सनातनी पाठ, मर्यादा और शक्तिः-

विचलित होने का नहीं देखता मैं कारण,
हे पुरुषसिंह, तुम भी यह शक्ति करो धारण,
आराधन का दृढ़ आराधन से दो उत्तर,
तुम वरो विजय संयत प्राणों से प्राणों पर।
रावण अशुद्ध होकर भी यदि कर सकता त्रस्त
तो निश्चय तुम हो सिद्ध करोगे उसे ध्वस्त,
शक्ति की करो मौलिक कल्पना, करो पूजन।
छोड़ दो समर जब तक न सिद्धि हो, रघुनन्दन! (राम की शक्ति पूजा, निराला)

जब स्वयं माँ अंबे का हाथ हमारे सिर पर आशीष के तौर पर सज्जित है, तो घबराहट कैसी? जब स्वयं बाबा भोलेनाथ हमारे जगत के खेल को अपने डमरू के वादन के साथ सहास्य देख और संभाल रहे हैं, तो बेचैनी कैसी?

हाँ, हमें मौलिक आराधना करनी होगी, शक्ति का प्रत्युत्तर शक्ति से ही देना होगा, शिव और शक्ति को एक साथ साधना ही होगा, तभी इन म्लेच्छ शक्तियों की पराजय निश्चित होगी। जब तक सिद्धि न हो, समर को टाल कर सिद्धि करनी होगी… बंधुओं और उस सिद्धि का समय अभी है, ठीक अभी…।

लेखक: व्यालोक पाठक

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

माना, ठाकुर के हाथ नजर नहीं आते, पर ये हाथ न होता तो जय-वीरू आजाद न होते

मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में कॉन्ग्रेस जब सरकार बनाई थी, तब से ही सिंधिया, पायलट और सिंहदेव को लेकर कयास लगने शुरू हो गए थे।

गहलोत सरकार पर बढ़ा संकट: दिल्ली में पायलट-सिंधिया की मुलाकात, राहुल गाँधी से बातचीत अभी तय नहीं

अशोक गहलोत सरकार पर संकट गहराता जा रहा है। अपने गुट के विधायकों सहित बागी सुर लेकर दिल्ली पहुँचे उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने...

‘BJP के संपर्क में सचिन पायलट’ और कपिल सिब्बल ने की ‘घोड़े’ की बात: कॉन्ग्रेस में भारी नुकसान की आशंका

गहलोत सरकार पर संकट मंडराते देख कपिल सिब्बल ने चिंता जाहिर की है। उन्होंने ट्विटर पर राजस्थान सरकार का जिक्र किए बगैर...

क्या अमिताभ अपने घर को साफ़ नहीं कर सकते: बिना प्रोटोकॉल समझे पत्रकार ने केंद्र पर लगाए आरोप, रोया टैक्स का रोना

अमिताभ बच्चन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार का देश के लिए उठाए गए हर क़दम के बाद समर्थन किया था। इसीलिए वामपंथी गैंग उनसे नाराज़ रहता है।

जब नेहरू-इंदिरा खुद ले रहे थे भारत-रत्न… तब उनके शोध से बची थी लाखों जिंदगियाँ, जो मर गए गुमनामी में

1955 ही वो साल था, जब नेहरू ने ख़ुद को भारत रत्न दिया और इसी दौर में शम्भूनाथ डे ने पाया कि हैजा से शरीर में एक टॉक्सिन बन जाता है, जिसे...

‘पाकिस्तान और बांग्लादेश का राष्ट्रगान याद करो’ – शिक्षिका शैला परवीन ने LKG और UKG के बच्चों को दिया टास्क

व्हाट्सप्प ग्रुप में पाकिस्तान और बांग्लादेश का राष्ट्रगान पोस्ट किया गया। बच्चों के लिए उन मुल्कों के राष्ट्रगान का यूट्यूब वीडियो डाला गया।

प्रचलित ख़बरें

मैं हिंदुओं को सबक सिखाना चाहता था, दंगों से पहले तुड़वा दिए थे सारे कैमरे: ताहिर हुसैन का कबूलनामा

8वीं तक पढ़ा ताहिर हुसैन 1993 में अपने पिता के साथ दिल्ली आया था और दोनों पिता-पुत्र बढ़ई का काम करते थे। पढ़ें दिल्ली दंगों पर उसका कबूलनामा।

कॉन्ग्रेस नेता उदित राज के संगठन ने किया ब्राह्मणों और न्यायपालिका का अपमान: जनेऊधारी ‘सूअर’ से की तुलना

उदित राज के इस परिसंघ ने न केवल ब्राह्मणो के खिलाफ घृणित टिप्पणी की बल्कि उनकी तुलना सूअर से कर डाली। इसके साथ ही उन्होंने अपने ट्वीट में देश की न्यायपालिका के खिलाफ भी अपमानजनक टिप्पणी की।

व्यंग्य: विकास दुबे एनकाउंटर पर बकैत कुमार की प्राइमटाइम स्क्रिप्ट हुई लीक

आज सुबह खबर आई कि एनकाउंटर हो गया। स्क्रिप्ट बदलनी पड़ी। जज्बात बदल गए, हालात बदल गए, दिन बदल गया, शाम बदल गई!

टीवी और मिक्सर ग्राइंडर के कचरे से ‘ड्रोन बॉय’ प्रताप एनएम ने बनाए 600 ड्रोन: फैक्ट चेक में खुली पोल

इन्टरनेट यूजर्स ऐसी कहानियाँ साझा कर रहे हैं कि कैसे प्रताप ने दुनिया भर के विभिन्न ड्रोन एक्सपो में कई स्वर्ण पदक जीते हैं, 87 देशों द्वारा उसे आमंत्रित किया गया है, और अब पीएम मोदी के साथ ही डीआरडीपी से उन्हें काम पर रखने के लिए कहा गया है।

कांगड़ा में रातोरात अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों ने तोड़ा मंदिर, हिन्दुओं में भड़का आक्रोश: तनाव को देखते हुए जाँच में जुटी पुलिस

इंदौरा थाना क्षेत्र में समुदाय विशेष के कुछ लोगों ने मंदिर को तहस-नहस कर दिया। जिसके चलते हिन्दू समुदाय के लोग भड़क गए और माहौल तनावपूर्ण हो गया।

‘कॉमेडियन’ अग्रिमा जोशुआ ने छत्रपति शिवाजी महाराज के मेमोरियल का उड़ाया मजाक: MNS के तोड़फोड़ के बाद माँगी माफी

"महान व्यक्तित्व छत्रपति शिवाजी महाराज के अनुयायियों की भावनाओं को आहत करने के लिए मुझे खेद है। महान व्यक्तित्व के अनुयायियों के लिए मेरी हार्दिक क्षमा याचना है।"

अब आकार पटेल ने अभिताभ बच्चन और सचिन तेंदुलकर के लिए दिखाई घृणा

अमिताभ बच्चन के कोरोना संक्रमित होने के बाद हर कोई उनकी सलामती की दुआ कर रहा है। पर आकार पटेल जैसों की न तो मानसिकता आम है और न तौर-तरीके।

माना, ठाकुर के हाथ नजर नहीं आते, पर ये हाथ न होता तो जय-वीरू आजाद न होते

मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में कॉन्ग्रेस जब सरकार बनाई थी, तब से ही सिंधिया, पायलट और सिंहदेव को लेकर कयास लगने शुरू हो गए थे।

गहलोत सरकार पर बढ़ा संकट: दिल्ली में पायलट-सिंधिया की मुलाकात, राहुल गाँधी से बातचीत अभी तय नहीं

अशोक गहलोत सरकार पर संकट गहराता जा रहा है। अपने गुट के विधायकों सहित बागी सुर लेकर दिल्ली पहुँचे उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने...

मध्य प्रदेश कॉन्ग्रेस MLA प्रद्युम्न लोधी ने पार्टी से दिया इस्तीफा, थामा BJP का हाथ

कॉन्ग्रेस को यह झटका ऐसे समय में लगा है जब उप-चुनाव होने ही वाले हैं। मध्य प्रदेश कॉन्ग्रेस विधायक प्रद्युम्न लोधी ने शिवराज सिंह से मिलकर...

ऐश्वर्या और आराध्या को भी कोरोना, जया बच्चन नेगेटिव, हेमा मालिनी ने खुद को बताया फिट

"ऐश्वर्या राय बच्चन और उनकी बेटी आराध्या बच्चन भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। जया बच्चन की कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई है। हम बच्चन परिवार के जल्द ठीक होने की कामना करते हैं।"

यूपी में शनिवार-रविवार लॉकडाउन, रोज 50000 टेस्ट: कोरोना पर काबू पाने का योगी सरकार का प्लान

कोरोना संक्रमण को बढ़ते मामलों को देखते हुए उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने राज्य में हर हफ्ते राज्य में दो दिन का लॉकडाउन रखने का फैसला किया है।

‘BJP के संपर्क में सचिन पायलट’ और कपिल सिब्बल ने की ‘घोड़े’ की बात: कॉन्ग्रेस में भारी नुकसान की आशंका

गहलोत सरकार पर संकट मंडराते देख कपिल सिब्बल ने चिंता जाहिर की है। उन्होंने ट्विटर पर राजस्थान सरकार का जिक्र किए बगैर...

क्या अमिताभ अपने घर को साफ़ नहीं कर सकते: बिना प्रोटोकॉल समझे पत्रकार ने केंद्र पर लगाए आरोप, रोया टैक्स का रोना

अमिताभ बच्चन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार का देश के लिए उठाए गए हर क़दम के बाद समर्थन किया था। इसीलिए वामपंथी गैंग उनसे नाराज़ रहता है।

J&K: तहरीक-ए-हुर्रियत अध्यक्ष अशरफ सेहराई गिरफ्तार, बेटा था हिजबुल आतंकी

हुर्रियत नेता अशरफ सेहराई का बेटा जुनैद प्रबंधन की पढ़ाई के दौरान आतंकी बन गया था। पिछले दिनों वह मारा गया था।

जब नेहरू-इंदिरा खुद ले रहे थे भारत-रत्न… तब उनके शोध से बची थी लाखों जिंदगियाँ, जो मर गए गुमनामी में

1955 ही वो साल था, जब नेहरू ने ख़ुद को भारत रत्न दिया और इसी दौर में शम्भूनाथ डे ने पाया कि हैजा से शरीर में एक टॉक्सिन बन जाता है, जिसे...

हमसे जुड़ें

238,717FansLike
63,428FollowersFollow
273,000SubscribersSubscribe