Tuesday, April 20, 2021
Home विचार सामाजिक मुद्दे शक्ति का प्रत्युत्तर शक्ति से ही देना होगा, तभी म्लेच्छ शक्तियों की पराजय निश्चित...

शक्ति का प्रत्युत्तर शक्ति से ही देना होगा, तभी म्लेच्छ शक्तियों की पराजय निश्चित होगी

आक्रमण दसों दिशाओं से हो रहा है। सनातन धर्म के ध्येय वाक्यों को, परंपराओं को, त्योहारों को, रीति-रिवाजों को या तो कालबाह्य करार दिया जा रहा है, या मैकाले-मुल्ला-मार्क्स के जारज पुत्र, ये नाबदानी कीड़े उन्हें हास्यास्पद बना कर पेश कर रहे हैं।

विजयादशमी के इस पावन अवसर पर जब “जयंती-उत्पाटन” कर सुबह आसन पर बैठा, तो कई तरह के विचार दिमाग में कौंधते रहे? बस, इन 20-25 वर्षों में आखिर यह कैसी प्रदूषणकारी हवा बही या फिर यह दूषण समाज में मौजूद ही था, क्वचित अब वह उघड़ गया है, क्वचित हम ही कुछ अधिक सावधान हो गए हैं, जो ये सारा तलछट अब मुख्यधारा बन गया है। आखिर, इसके अलावा और क्या कारण होगा कि कहीं माँ दुर्गा को मूलनिवासी-आंदोलन के नाम पर गालियाँ दी जा रही हैं, तो कहीं दुर्गा-मंडप से अजान दी जा रही है।

इधर एक नया बवाल चला है, रावण को ब्राह्मण, महात्मा सिद्ध करने का। अब तक तो छिटपुट लोग ही रावण-दहन के नाम पर अपनी कुत्सा और कुंठा निकालते थे, इस बीच “अपने अंदर के रावण को मारने” या फिर, भाँति-भाँति के कुतर्क से उसे सर्वश्रेष्ठ महानुभाव सिद्ध करने की होड़ मची है। इन सब से भी बात नहीं बनी, तो एक विदुषी पैदा हो गईं यह दावा करने को कि हिंदुत्व का तो निर्माण (प्रभु, अब उठा ही लो…) ही 20 वीं सदी में किया गया ताकि इसके दुर्गुणों को छुपाया जा सके।

ऐसे नाबदानी कीड़े इस देश में हैं, समाज में हैं, यहाँ की मुख्यधारा में हैं, यहाँ तक कि मुझ तक पहुँच जा रहे हैं जो तथाकथित न्यूज और इंटरनेट से ठीकठाक दूरी बरकरार रखता है। मैं यह सोच रहा हूँ और ‘राम की शक्ति पूजा’ मुझे याद आ रही है… खुद मर्यादा पुरुषोत्तम राम को भी जब निराशा घेरती है, वह पंक्तियाँ याद आती हैं,

“बोले रघुमणि- “मित्रवर, विजय होगी न समर,
यह नहीं रहा नर-वानर का राक्षस से रण,
उतरीं पा महाशक्ति रावण से आमन्त्रण,
अन्याय जिधर, हैं उधर शक्ति।” (राम की शक्ति पूजा, निराला)

आक्रमण दसों दिशाओं से हो रहा है। सनातन धर्म के ध्येय वाक्यों को, परंपराओं को, त्योहारों को, रीति-रिवाजों को या तो कालबाह्य करार दिया जा रहा है, या मैकाले-मुल्ला-मार्क्स के जारज पुत्र, ये नाबदानी कीड़े उन्हें हास्यास्पद बना कर पेश कर रहे हैं।

राजनीतिक मसलों को धर्म और अध्यात्म में घुसेड़ कर ‘उलटबांसी’ के जरिए उन्हें राष्ट्रीय स्तर का मसला बना रहे हैं। आपसी मारपीट या किसानों के गुस्से का शिकार बने लोगों को जबरन हिंदू आतंक (क्या सचमुच!) का शिकार बनाकर पेश करना कितना जायज है? ट्रेन की सीट के लिए हुए झगड़े को मॉब-लिंचिंग बनाना कहाँ तक जायज है? अखलाक को तो बारहां शहीद की तरह पेश किया जाता है, लेकिन डॉक्टर नारंग की चर्चा क्यों नहीं? अंकित की बात कोई क्यों नहीं करता?

और, ये नैरेटिव इस कदर आपके दिमाग पर बिठा दिया गया है कि नए-नकोर बच्चे रवीश या गौरी लंकेश को अपना आदर्श मान लेते हैं, जो केवल और केवल झूठ, नफरत और सांप्रदायिकता के पैरोकार हैं। वे उर्मिलेश यादव और पुण्य प्रसून या शेखर गुप्ता को पत्रकारिता का पैमाना मानता है, जो केवल और केवल एजेंडा-सेटर हैं, कॉन्ग्रेस-कम्युनिस्ट युति के पक्षकार हैं।
…और, फिर एक बार राम याद आते हैं…

“आया न समझ में यह दैवी विधान।
रावण, अधर्मरत भी, अपना, मैं हुआ अपर,
यह रहा, शक्ति का खेल समर, शंकर, शंकर!
करता मैं योजित बार-बार शर-निकर निशित,
हो सकती जिनसे यह संसृति सम्पूर्ण विजित,
जो तेजः पुंज, सृष्टि की रक्षा का विचार,
हैं जिसमें निहित पतन घातक संस्कृति अपार। (राम की शक्ति पूजा, निराला)

और, फिर उसी राम की शक्ति-पूजा के जाम्बवंत याद आते हैं, जो मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम तक को बोध देने की शक्ति रखते हैं, यही तो है सनातनी पाठ, मर्यादा और शक्तिः-

विचलित होने का नहीं देखता मैं कारण,
हे पुरुषसिंह, तुम भी यह शक्ति करो धारण,
आराधन का दृढ़ आराधन से दो उत्तर,
तुम वरो विजय संयत प्राणों से प्राणों पर।
रावण अशुद्ध होकर भी यदि कर सकता त्रस्त
तो निश्चय तुम हो सिद्ध करोगे उसे ध्वस्त,
शक्ति की करो मौलिक कल्पना, करो पूजन।
छोड़ दो समर जब तक न सिद्धि हो, रघुनन्दन! (राम की शक्ति पूजा, निराला)

जब स्वयं माँ अंबे का हाथ हमारे सिर पर आशीष के तौर पर सज्जित है, तो घबराहट कैसी? जब स्वयं बाबा भोलेनाथ हमारे जगत के खेल को अपने डमरू के वादन के साथ सहास्य देख और संभाल रहे हैं, तो बेचैनी कैसी?

हाँ, हमें मौलिक आराधना करनी होगी, शक्ति का प्रत्युत्तर शक्ति से ही देना होगा, शिव और शक्ति को एक साथ साधना ही होगा, तभी इन म्लेच्छ शक्तियों की पराजय निश्चित होगी। जब तक सिद्धि न हो, समर को टाल कर सिद्धि करनी होगी… बंधुओं और उस सिद्धि का समय अभी है, ठीक अभी…।

लेखक: व्यालोक पाठक

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कोरोना से लड़ाई में मजबूत कदम बढ़ाती मोदी सरकार: फर्जी प्रश्नों के सहारे फिर बेपटरी करने निकली गिद्धों की पाँत

गिद्धों की पाँत फिर से वैसे ही बैठ गई है। फिर से हेडलाइन के आगे प्रश्नवाचक चिन्ह के सहारे वक्तव्य दिए जा रहे हैं। नेताओं द्वारा फ़र्ज़ी प्रश्न उठाए जा रहे हैं। शायद फिर उसी आकाँक्षा के साथ कि भारत कोरोना के ख़िलाफ़ अपनी लड़ाई हार जाएगा।

‘कॉन्ग्रेसी’ साकेत गोखले ने पूर्व CM के खिलाफ दर्ज कराई शिकायत, शिवसेना नेता कहा- ‘फडणवीस के मुँह में डाल देता कोरोना’

शिवसेना के विधायक संजय गायकवाड़ ने पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को लेकर विवादित बयान दिया है। उन्‍होंने कहा है कि अगर उन्हें कहीं कोरोना वायरस मिल जाता, तो वह उसे भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस के मुँह में डाल देते।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 26 अप्रैल तक 5 शहरों में लगाए कड़े प्रतिबन्ध, योगी सरकार ने पूर्ण लॉकडाउन से किया इनकार

योगी आदित्यनाथ सरकार ने शहरों में लॉकडाउन लगाने से इंकार कर दिया है। यूपी सरकार ने कहा कि प्रदेश में कई कदम उठाए गए हैं और आगे भी सख्त कदम उठाए जाएँगे। गरीबों की आजीविका को भी बचाने के लिए काम किया जा रहा है।

वामपंथियों के गढ़ जेएनयू में फैला कोरोना, 74 छात्र और स्टाफ संक्रमित: 4 की हालत गंभीर

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय, दिल्ली में भी कोविड ने एंट्री मार ली है। विश्वविद्यालय के स्वास्थ्य केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक 74 छात्र और स्टाफ संक्रमित पाए गए हैं।

‘मई में दिखेगा कोरोना का सबसे भयंकर रूप’: IIT कानपुर की स्टडी में दावा- दूसरी लहर कुम्भ और रैलियों से नहीं

प्रोफेसर मणिन्द्र और उनकी टीम ने पूरे देश के डेटा का अध्ययन किया। अलग-अलग राज्यों में मिलने वाले कोरोना के साप्ताहिक आँकड़ों को भी परखा।

‘कुम्भ में जाकर कोरोना+ हो गए CM योगी, CMO की अनुमति के बिना कोविड मरीजों को बेड नहीं’: प्रियंका व अलका के दावों का...

कॉन्ग्रेस नेता प्रियंका गाँधी ने CMO की अनुमति के बिना मरीजों को अस्पताल में बेड्स नहीं मिल रहे हैं, अलका लाम्बा ने सीएम योगी आदित्यनाथ के कोरोना पॉजिटिव होने और कुम्भ को साथ में जोड़ा।

प्रचलित ख़बरें

‘वाइन की बोतल, पाजामा और मेरा शौहर सैफ’: करीना कपूर खान ने बताया बिस्तर पर उन्हें क्या-क्या चाहिए

करीना कपूर ने कहा है कि वे जब भी बिस्तर पर जाती हैं तो उन्हें 3 चीजें चाहिए होती हैं- पाजामा, वाइन की एक बोतल और शौहर सैफ अली खान।

‘छोटा सा लॉकडाउन, दिल्ली छोड़कर न जाएँ’: इधर केजरीवाल ने किया 26 अप्रैल तक कर्फ्यू का ऐलान, उधर ठेकों पर लगी कतार

केजरीवाल सरकार ने 26 अप्रैल की सुबह 5 बजे तक तक दिल्ली में लॉकडाउन की घोषणा की है। इस दौरान स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त कर लेने का भरोसा दिलाया है।

‘मैं इसे किस करूँगी, हाथ लगा कर दिखा’: मास्क के लिए टोका तो पुलिस पर भड़की महिला, खुद को बताया SI की बेटी-UPSC टॉपर

महिला ने धमकी देते हुए कहा कि उसका बाप पुलिस में SI के पद पर है। साथ ही दिल्ली पुलिस को 'भिखमंगा' कह कर सम्बोधित किया।

नासिर ने बीड़ी सुलगाने के लिए माचिस जलाई, जलती तीली से लाइब्रेरी में आगः 3000 भगवद्गीता समेत 11 हजार पुस्तकें राख

कर्नाटक के मैसूर की एक लाइब्रेरी में आग लगने से 3000 भगवद्गीता समेत 11 हजार पुस्तकें राख हो गई थी। पुलिस ने सैयद नासिर को गिरफ्तार किया है।

पुलिस अधिकारियों को अगवा कर मस्जिद में ले गए, DSP को किया टॉर्चरः सरकार से मोलभाव के बाद पाकिस्तान में छोड़े गए बंधक

पाकिस्तान की पंजाब प्रांत की सरकार के साथ मोलभाव के बाद प्रतिबंधित इस्लामी संगठन TLP ने अगवा किए गए 11 पुलिसकर्मियों को रिहा कर दिया है।

‘F@#k Bhakts!… तुम्हारे पापा और अक्षय कुमार सुंदर सा मंदिर बनवा रहे हैं’: कोरोना पर घृणा की कॉमेडी, जानलेवा दवाई की काटी पर्ची

"Fuck Bhakts! इस परिस्थिति के लिए सीधे वही जिम्मेदार हैं। मैं अब भी देख रहा हूँ कि उनमें से अधिकतर अभी भी उनका (पीएम मोदी) बचाव कर रहे हैं।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,220FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe