Saturday, February 27, 2021
Home राजनीति गुना: पूर्व BSP पार्षद, भूमाफिया पति का 30 साल से है सरकारी भूमि पर...

गुना: पूर्व BSP पार्षद, भूमाफिया पति का 30 साल से है सरकारी भूमि पर कब्ज़ा, कार्रवाई पर पहले भी हो चुका है जीने-मरने का ड्रामा

शहर से लगी 50 करोड़ की बेशकीमती जमीन पर 30 साल से बसपा की पूर्व पार्षद नागकन्या और उसके भूमाफ़िया पति गब्बू पारदी का कब्‍जा है। हैरानी की बात है कि BSP प्रमुख मायावती ने भी इस घटना को दलितों पर अत्याचार बताया है और कहा है कि भाजपा और कॉन्ग्रेस मिलकर दलितों के खिलाफ अत्याचार करते हैं।

मध्य प्रदेश के गुना में दलित परिवार पर पुलिस द्वारा लाठी चलाने वाले वीडियो में मीडिया की बड़ी भूमिका सामने आ रही है। यानी, मीडिया ने सिर्फ उस पहलू को दिखाया है, जहाँ पुलिस इस दंपति पर लाठियाँ बरसा रही है, जबकि स्थानीय लोगों का कहना है कि इससे पहले राजू के परिवार द्वारा पुलिस के साथ की गई हाथापाई का कहीं जिक्र तक नहीं है।

पुलिस और अधिकारियों पर शासन द्वारा जल्दबाजी में और बिना इस विवादित जमीन का इतिहास देखे ही जल्दबाजी में फैसला ले लिया गया। दरअसल, जिस जमीन को लेकर यह वीडियो सामने आया, वह वर्षों से विवादित है और इस विवाद का कारण एक BSP लीडर नागकन्या है, जिसने कि इस पूरे प्रकरण को दूर से ही देखा और राजू अहिरवार और उसके परिवार को ही मुख्य चेहरा बनाकर बचती रही।

शहर से लगी 50 करोड़ की बेशकीमती जमीन पर 30 साल से बसपा की पूर्व पार्षद नागकन्या और उसके भूमाफ़िया पति गब्बू पारदी का कब्‍जा है। हैरानी की बात है कि BSP प्रमुख मायावती ने भी इस घटना को दलितों पर अत्याचार बताया है और कहा है कि भाजपा और कॉन्ग्रेस मिलकर दलितों के खिलाफ अत्याचार करते हैं।

विवादित जमीन, भू-माफ़िया और बसपा कनेक्शन

मध्य प्रदेश के गुना जिले में जिस जमीन से कब्जा हटाने को लेकर पुलिस और दलित परिवार के बीच हाथापाई की घटना हुई, वह वास्तव में एक सरकारी जमीन है। लगभग 50 करोड़ रुपए कीमत की इस 45 बीघा जमीन, जो कि शासन ने कॉलेज निर्माण के लिए आरक्षित की है, पर पिछले 30 वर्षों से बसपा की पूर्व पार्षद नागकन्या और उनके पति गब्बू पारदी ने कब्जा कर रखा है।

वर्ष 2009-13 के बीच गुना के वार्ड 23 से नागकन्या बहुजन समाज पार्टी (BSP) की पार्षद रही हैं। पुलिस द्वारा कब्जा हटाने के लिए की गई पिटाई के बाद शासन द्वारा अनुशासनात्मक कार्रवाई में हटाए गए गुना के कलेक्टर एस विश्वनाथन का कहना है कि नागकन्या का पति गब्बू पारदी भू-माफिया की श्रेणी में आता है, जो कि हमेशा ही विवाद के समय मौके से गायब हो जाता है।

गुना के पूर्व कलेक्टर एस विश्वनाथ का कहना है गब्बू पारदी के नाम पर सरकारी रिकॉर्ड में 80 बीघा से अधिक जमीन है। दो से तीन बीघा में उसका आलीशान आवास बना हुआ है। और अब वह तकरीबन 50 करोड़ रुपए कीमत की इस सरकारी जमीन को कब्जाने के फेर में था।

इस जमीन के विवादित होने के चलते दो साल नागकन्या और गब्बू पारदी ने फसल की बोआई के लिए राजू अहिरवार को इसकी जिम्मेदारी दी थी। सत्ता में मजबूत पकड़ होने के चलते बसपा नेता नागकन्या के चंगुल से इस जगह को मुक्त कराने में प्रशासन को भी लंबे समय से समस्या का सामना करना पड़ रहा था। और यह पहली बार नहीं था, जब प्रशासन की टीम वहाँ अवैध कब्जा हटाने पहुँची हो।

मंगलवार (जुलाई 14, 2020) को जब पुलिस और प्रशासन की टीम ने इस भूमि पर पहुँचकर एक बार फिर कब्जा हटाने की शुरुआत की तो विवाद हो गया। इस कार्रवाई में अवैध कब्जाधारियों के इतिहास को सामने लाने के बजाए मीडिया द्वारा पुलिस और प्रशासन को ही विलेन साबित कर दिया गया।

लेकिन इससे पहले भी दो बार इस विवादित जमीन से प्रशासन द्वारा अतिक्रमण हटाया गया था। शहर की एसडीएम शिवानी गर्ग के नेतृत्व में पिछले दिसंबर में अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई की गई थी।

उस दौरान भी इस प्रकरण को लेकर भारी हंगामा हुआ था। कब्जाधारी महिलाओं ने एक महिला आरक्षक से मारपीट की थी लेकिन उसका वीडियो बनाकार सोशल मीडिया पर वायरल नहीं किया गया।

अतिक्रमण हटाए जाने की प्रक्रिया के दौरान अतिक्रमणकारी गब्बू पारदी की पत्नी और बसपा नेता नागकन्या ने 7-8 माह के बच्चे को जमीन पर पटकने की कोशिश की थी, जिसे महिला अधिकारी शिवानी गर्ग ने तत्परता दिखाते हुए अपनी गोद में पकड़ लिया और एक अनहोनी होने से बचाया।

एसडीएम शिवानी गर्ग न केवल इस घटना को रोका बल्कि उक्त जमीन को पारदी परिवार से मुक्त करा कर संबंधित विभाग को सौंप दिया था। तब, कलेक्टर गाइड लाइन के अनुसार, इस जमीन की कीमत करीब 20 करोड़ रुपए आँकी गई थी।

इस दौरान पुलिस ने हंगामा करने वाले गब्बू पारदी, नागकन्या सहित उसके परिवार के 8 लोगों को गिरफ्तार किया है। लेकिन ऊँची राजनीतिक पकड़ वाले पारदी समुदाय की धमकियों से प्रशासन भी सहम गया था।

इसके बाद एसडीएम ने खुद जेसीबी चलाई और फसल को नष्ट करना शुरू कर दिया। इसके बाद 4 जेसीबी मशीनों से अवैध रूप से कब्जाई गई जमीन पर फसल को नष्ट कर दिया और जमीन के बीच जेसीबी से खोदकर सीमा भी तय कर दी।

जिसके बाद आधी जमीन पर कॉलेज निर्माण कार्य शुरू हुआ था। अब इसे विभाग की लापरवाही ही कहा जा सकता है कि दिसंबर से जुलाई तक, 7 माह गुजर जाने के बाद भी यह निर्माण कार्य शुरू नहीं हो सका था और दोबारा इस पर कब्जाधारियों द्वारा फसल बो दी गई।

पारदी समुदाय के भारी नाटक के बीच अधिकारियों द्वारा कड़ाके की ठंड में इस जगह पर सफाई और कब्जा हटाने का काम तत्परता से भी किया गया। वह जमीन न्यायाधीश आवास और सरकारी कालेज के लिए आवंटित थी।

यहाँ 12 करोड़ की लागत से एक्सीलेंस कॉलेज बनाया जाना है, लेकिन अतिक्रमण की वजह से काम शुरू नहीं हो सका। पारदी समुदाय तब भी प्रशासन को इसे उन्हें वापस सौंप देने की दलील देता रहा।

सबसे हालिया प्रकरण में जिस राजू अहिरवार की पुलिस द्वारा पिटाई का मामला सामने आया है, उसके भाई का कहना है कि उनके पास अपनी कोई जमीन नहीं है और वो सभी भाई बटाई पर जमीन लेकर ही परिवार पाल रहे हैं। करीब दो साल पहले उनका गब्बू पारदी से संपर्क हुआ था, जिसके बाद यह जमीन उन्हें बटाई पर मिली थी।

दुर्भाग्यवश कीटनाशक पीना, अपने नवजात बच्चे को जमीन पर पटकना और प्रशासन के साथ हाथापाई की घटनाएँ मीडिया की सुर्ख़ियों से गायब हैं। मीडिया ऐसा कर के इस पूरे किस्से में भू-माफियाओं के प्रवक्ता की तरह पेश आया है, जबकि हम सभी इस घटना में मीडिया के बनाए नैरेटिव पर प्रशासन की कार्रवाई को अमानवीय और दरिंदगी बताते आए हैं।

बसपा प्रमुख मायावती ने गुना की इस घटना को लेकर एक के बाद एक ट्वीट करते हुए कई सवाल किए हैं। मायावती ने कहा कि एक ओर तो भाजपा और इसकी सरकार दलितों को बसाने का ढिंढोरा पीटती है।

दलितों की शुभचिंतक बसपा प्रमुख ने सवाल किया है कि यही पहले कॉन्ग्रेस के शासन में हुआ करता था तो फिर दोनों सरकारों में क्या अंतर है।

जबकि इस पूरी घटना में भूमाफियाओं और कब्जाधारियों के बसपा सम्बन्ध के सामने आने से एकमात्र सवाल बसपा प्रमुख से सिर्फ यह किया जाना चाहिए कि सरकारें कोई भी हों, किस्सा किसी भी राज्य का क्यों न हो? लेकिन बसपा कार्यकर्ता और उनकी कार्यशैली में गुंडावाद और भूमाफिया होना पहली आवश्यकता क्यों है?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बाल श्रीराम भी खिलौनों से खेलते थे, चतुरंग और पच्चीसी प्राचीन भारत में भी लोकप्रिय: PM मोदी ने ‘भारत खिलौना मेला’ का किया उद्घाटन

"खिलौनों का जो वैज्ञानिक पक्ष है, बच्चों के विकास में खिलौनों की जो भूमिका है, उसे अभिभावकों को समझना चाहिए और अध्यापकों को स्कूलों में भी उसे प्रयोग करना चाहिए।"

चीन ने छात्रों को ऑस्ट्रेलिया पढ़ने जाने से रोका, ऑस्ट्रेलियाई पत्रकार को किया गिरफ्तार: दोनों देशों के रिश्तों में बढ़ी दरार

चीन के स्थानीय प्रशासनिक अधिकारी वहाँ की एजेंसियों को कह रहे हैं कि वो छात्रों को सलाह देते समय ऑस्ट्रेलिया के किसी भी यूनिवर्सिटी की अनुशंसा न करें।

कोर्ट के कुरान बाँटने के आदेश को ठुकराने वाली ऋचा भारती के पिता की गोली मार कर हत्या, शव को कुएँ में फेंका

शिकायत के अनुसार, वो अपने खेत के पास ही थे कि तभी आठ बदमाशों ने कन्धों पर रायफल रखकर उन्हें घेर लिया और फायरिंग करने लगे।

दिल्ली: बहन से छेड़खानी का विरोध करने पर युवक की चाकू गोद कर हत्या, तीनों आरोपित फरार

इस घटना में घायल युवक को एम्स ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया। वहाँ उसे मृत घोषित कर दिया गया।

बंगाल: TMC के गुंडों ने BJP की प्रचार वैन तोड़ीं, गोदाम में घुस कर LED बल्ब भी चुरा ले गए

TMC के गुंडों ने कडापारा स्थित गोदाम में घुसकर BJP की प्रचार वैन को तोड़ दिया और कीमती सामान चुरा लिए। BJP ने इस तोड़फोड़ और चोरी को लेकर FIR दर्ज कराई है।

चैरिटी समूहों के नाम पर मदरसों-मस्जिदों का निर्माण और जिहादी ट्रेनिंग: भारत की सीमा से लगे नेपाली कस्बों में पैठ बना रहा तुर्की का...

तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोआँ की सरकार द्वारा IHH को उसके लिए ज़रूरी सभी संसाधन और वित्त मुहैया कराए जा रहे हैं। तुर्की में पहले भी इसके खिलाफ कई बार जाँच हो चुकी हैं।

प्रचलित ख़बरें

आमिर खान की बेटी इरा अपने संघी हिन्दू नौकर के साथ फरार.. अब होगा न्याय: Fact Check से जानिए क्या है हकीकत

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि आमिर खान की बेटी इरा अपने हिन्दू नौकर के साथ भाग गई हैं। तस्वीर में इरा एक तिलक लगाए हुए युवक के साथ देखी जा सकती हैं।

सतीश बनकर हिंदू युवती से शादी कर रहा था 2 बच्चों का बाप टीपू: मंडप पर नहीं बता सका गोत्र, ट्रू कॉलर ने पकड़ाया

ग्रामीणों ने जब सतीश राय बने हुए टीपू सुल्तान से उसके गोत्र के बारे में पूछा तो वह इसका जवाब नहीं दे पाया, चुप रह गया। ट्रू कॉलर ऐप में भी उसका नाम टीपू ही था।

‘अंकित शर्मा ने किया हिंसक भीड़ का नेतृत्व, ताहिर हुसैन कर रहा था खुद का बचाव’: ‘द लल्लनटॉप’ ने जमकर परोसा प्रोपेगेंडा

हमारे पास अंकित के परिवार के कुछ शब्द हैं, जिन्हें पढ़कर आज लगता है कि उन्हें पहले से पता था कि आखिर में न्याय तो मिलेगा नहीं लेकिन उसके बदले अंकित को दंगाई घोषित जरूर कर दिया जाएगा।

शैतान की आजादी के लिए पड़ोसी के दिल को आलू के साथ पकाया, खिलाने के बाद अंकल-ऑन्टी को भी बेरहमी से मारा

मृत पड़ोसी के दिल को लेकर एंडरसन अपने अंकल के घर गया जहाँ उसने इस दिल को पकाया। फिर अपने अंकल और उनकी पत्नी को इसे सर्व किया।

मस्जिद में सुबह की अजान के लिए जलीस ने काटा इमाम का गला, यूपी पुलिस ने गिरफ्तार कर भेजा जेल

उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले में नागलिया आकिल मस्जिद में अजान देने वाले 62 वर्षीय इमाम की गर्दन काटकर हत्या कर दी गई। इमाम की चीख सुन कर बचाने आए तो एक और मौलवी पर हमलावर ने हमला बोला।

फिल्मी स्टाइल में एक ही लड़की की शादीशुदा मेहताब ने की तीसरी बार किडनैपिंग, CCTV में बुर्का पहनाकर ले जाता दिखा

पीड़ित लड़की अपनी बुआ के साथ दवा लेने अस्पताल गई थी उसी दौरान आरोपित वहाँ पहुँच गया और बुर्का पहनाकर लड़की को वहाँ से ले गया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,062FansLike
81,833FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe