Sunday, July 21, 2024
Homeराजनीति'ओमिक्रोन से बचाव, कोरोना पर सतर्कता': Mann Ki Baat में भावुक हो पीएम मोदी...

‘ओमिक्रोन से बचाव, कोरोना पर सतर्कता’: Mann Ki Baat में भावुक हो पीएम मोदी ने किया बिपिन रावत, वरुण सिंह को याद

अरुणाचल प्रदेश का उदाहरण देते हुए PM मोदी ने कहा कि वहाँ के लोगों ने एक अनूठा अभियान चला रखा है। इस अभियान के तहत लोग स्वेच्छा से अपनी एयरगन सरेंडर कर रहे हैं। ताकि पक्षियों का अधाधुंध शिकार रुक सके।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार (26 दिसंबर 2021) को 84वें और इस वर्ष के आखिरी ‘मन की बात’ कार्यक्रम को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रोन से बचाव और नए साल पर कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करने को कहा।

पीएम मोदी ने कहा कि ये जो नया Omicron variant आया है, उसका अध्ययन हमारे वैज्ञानिक लगातार कर रहे हैं। हर रोज नया data उन्हें मिल रहा है, उनके सुझावों पर काम हो रहा है। ऐसे में स्वयं की सजगता, स्वयं का अनुशासन कोरोना के इस variant के खिलाफ देश की बहुत बड़ी शक्ति है।

प्रधानमंत्री ने कहा, “आजादी का अमृत महोत्सव, हमें आजादी की जंग की स्मृतियों को जीने का अवसर देता है, उसको अनुभव करने का अवसर देता है। ये देश के लिए नए संकल्प लेने का, कुछ कर गुजरने की इच्छाशक्ति दिखाने का प्रेरक उत्सव है, प्रेरक अवसर है।”

मन की बात कार्यक्रम में लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, “इस समय आप 2021 की विदाई और 2022 के स्वागत की तैयारी में जुटे ही होंगे। नए साल पर हर व्यक्ति, हर संस्था आने वाले साल में कुछ और बेहतर करने, बेहतर बनने के संकल्प लेते हैं।”

उन्होंने Vaccine की 140 करोड़ dose के पड़ाव को पार करने को प्रत्येक भारतवासी की उपलब्धि बताते हुए कहा, “ये जनशक्ति की ही ताकत है, सबका प्रयास है कि भारत 100 साल में आई सबसे बड़ी महामारी से लड़ सका। हम हर मुश्किल समय में एक दूसरे के साथ, एक परिवार की तरह खड़े रहे। अपने मोहल्ले या शहर में किसी की मदद करना हो, जिससे जो बना, उससे ज्यादा करने की कोशिश की।”

सीडीएस बिपिन रावत और ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह को याद करते हुए प्रधामंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, “वरुण सिंह, उस हेलीकॉप्टर को उड़ा रहे थे, जो इस महीने तमिलनाडु में हादसे का शिकार हो गया। उस हादसे में हमने देश के पहले सीडीएस जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी समेत कई वीरों को खो दिया। वरुण सिंह भी मौत से कई दिन तक जांबाजी से लड़े, लेकिन फिर वो भी हमें छोड़कर चले गए।”

इसके बाद उन्होंने कहा कि हर साल मैं ऐसे ही विषयों पर विद्यार्थियों के साथ परीक्षा पर चर्चा करता हूँ। इस साल भी exams से पहले मैं students के साथ चर्चा करने की planning कर रहा हूँ। इस कार्यक्रम के लिए दो दिन बाद 28 दिसंबर से http://MyGov.in पर registration भी शुरू होने जा रहा है।

प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि आज दुनियाभर में भारतीय संस्कृति के बारे में जानने के लिए लोगों की दिलचस्पी बढ़ रही है। अलग-अलग देशों के लोग ना सिर्फ हमारी संस्कृति के बारे में जानने के लिए उत्सुक हैं, बल्कि उसे बढ़ाने में भी मदद कर रहे हैं। उन्होंने अरुणाचल प्रदेश का उदाहरण देते हुए कहा कि वहाँ के लोगों ने एक अनूठा अभियान चला रखा है। इस अभियान के तहत लोग स्वेच्छा से अपनी एयरगन सरेंडर कर रहे हैं। ताकि पक्षियों का अधाधुंध शिकार रुक सके। पिछले कुछ महीनों में पहाड़ से मैदानी इलाकों तक लोगों ने इसे खुले दिल से अपनाया है।

इस दौरान उन्होंने कहा कि पहले सरकारी दफ्तरों में पुरानी फाइलों का कितना ढेर रहता था। आज से सरकार ने पुराने तौर-तरीकों को बदलना शुरू किया है। हमारे सरकारी विभाग भी स्वच्छता जैसे विषय पर इतने इनोवेटिव हो सकते हैं। कुछ साल पहले तक किसी को इसका भरोसा भी नहीं होता था।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 दिसंबर की रात राष्ट्र के नाम अपने खास संबोधन में तीन बड़े ऐलान किए हैं। इसमें उन्होंने बताया कि अब 15 साल से 18 साल के बच्चों को कोरोना की वैक्सीन मिलने जा रही है। इसी के साथ प्रधानमंत्री ने फ्रंटलाइन वर्कर्स, हेल्थ वर्कर्स और 60 साल से ज्यादा के गंभीर बीमारी वालों को बूस्टर डोज देने का भी ऐलान किया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

हर दिन 14 घंटे करो काम, कॉन्ग्रेस सरकार ला रही बिल: कर्नाटक में भड़का कर्मचारियों का संघ, पहले थोपा था 75% आरक्षण

आँकड़े कहते हैं कि पहले से ही 45% IT कर्मचारी मानसिक समस्याओं से जूझ रहे हैं, 55% शारीरिक रूप से दुष्प्रभाव का सामना कर रहे हैं। नए फैसले से मौत का ख़तरा बढ़ेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -