Saturday, July 20, 2024
Homeरिपोर्टमीडिया'तू क्यों नहीं करता पत्रकारिता?': नाना पाटेकर ने की ऐसी खिंचाई कि आह-ओह करने...

‘तू क्यों नहीं करता पत्रकारिता?’: नाना पाटेकर ने की ऐसी खिंचाई कि आह-ओह करने लगे राजदीप सरदेसाई, अभिनेता ने पूछा – तुझे सिर्फ बुरा ही क्यों दिखता है?

नाना पाटेकर ने इस वीडियो में कई मुद्दों पर बात की, लेकिन उसमें सबसे रोचक रहा उनके द्वारा राजदीप सरदेसाई की खिंचाई करना। दर्शकों में बैठे राजदीप सरदेसाई ने माइक लेकर उनसे संवाद किया।

सौरभ द्विवेदी के ‘The Lallantop’ के शो ‘गेस्ट इन द न्यूज़रूम’ में बॉलीवुड के वरिष्ठ अभिनेता नाना पाटेकर इंटरव्यू देने के लिए पहुँचे। लगभग 4 घंटे तक नाना पाटेकर वहाँ रहे। इसका वीडियो रविवार (23 जून, 2024) को ‘दी लल्लनटॉप’ के YouTube चैनल पर प्रकाशित किया गया। नाना पाटेकर ने इस वीडियो में कई मुद्दों पर बात की, लेकिन उसमें सबसे रोचक रहा उनके द्वारा राजदीप सरदेसाई की खिंचाई करना। दर्शकों में बैठे राजदीप सरदेसाई ने माइक लेकर उनसे संवाद किया।

‘इंडिया टुडे’ में कंसल्टिंग एडिटर के पद पर कार्यरत राजदीप सरदेसाई ने न्यूज़रूम में पहुँचने के बाद मराठी में कुछ देर तक संवाद किया फिर सौरभ द्विवेदी को ‘हिंदीभाषी संसार का’ बता दिया। इस पर नाना पाटेकर ने कहा कि तमिल, उर्दू, कन्नड़, पंजाबी हो या हिंदी – जिस दिन हम तय करेंगे कि ये एक है, सब कुछ आसान हो जाएगा। उन्होंने बताया कि अपनी सहेली गिरिजा ओक की सलाह पर वो यहाँ आए हैं, गिरिजा ओक ने बताया था कि सौरभ द्विवेदी उनके दोस्त हैं।

राजदीप सरदेसाई ने कहा कि बतौर संपादक सौरभ द्विवेदी अस्थायी हैं, उनका सपना अनुराग कश्यप की तरह फिल्म निर्माता-निर्देशक बनने का है। इसके बाद नाना पाटेकर ने सौरभ द्विवेदी के बोलने के अंदाज़ और उनके संबोधन की प्रशंसा की। इस पर राजदीप सरदेसाई ने कहा, “सौरभ द्विवेदी की हिंदी बहुत अच्छी है, इनकी पूरी टीम बहुत अच्छी है। मैं यहाँ आता हूँ क्योंकि आजकल न्यूज़ की दुनिया में इतना शोरगुल है कि यहाँ शांति मिलती है। ये मुझे पसंद है।”

राजदीप सरदेसाई ने कहा कि ‘The Lallantop’ ने वाकई में पत्रकारिता के नियम को निभाया है, जिस पर नाना पाटेकर पूछ बैठे कि तू क्यों नहीं इसको फॉलो करता है? इस पर राजदीप सरदेसाई ‘आहाहाहा-ओहोहोहो’ करने लगे और कहा कि वो प्रयास कर रहे हैं। नाना पाटेकर ने पूछा कि तुझे बुरे के सिवा अच्छा क्यों नहीं देखना, तू अपना ख्याल क्यों नहीं रखता? उन्होंने इस दौरान राजदीप के पिता दिलीप सरदेसाई की बल्लेबाजी की तारीफ़ की और कहा कि राजदीप की प्रोफेसर माँ के साथ भी उनके अच्छे रिश्ते हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -