Sunday, July 21, 2024
Homeरिपोर्टमीडिया'देहांत के बाद महापुरुष बना दिया जाता है, ये हमारे देश का पाखंड': वाजपेयी...

‘देहांत के बाद महापुरुष बना दिया जाता है, ये हमारे देश का पाखंड’: वाजपेयी के निधन पर बोले थे विनोद दुआ, शेयर हो रहा वीडियो

इस वीडियो में विनोद दुआ कहते नजर आए थे, "जिस तरह की श्रद्धांजलियाँ दी जाती हैं, उसे इस तरह से समझा जाता है कि किसी के देहांत के बाद 'पॉलिटिकली करेक्ट' रूप से उसकी प्रशंसा करनी चाहिए।"

पत्रकार विनोद दुआ का शनिवार (4 दिसंबर, 2021) को निधन हो गया। उनकी बेटी कॉमेडियन मल्लिका दुआ ने इंस्टाग्राम के माध्यम से जानकारी देते हुए उन्हें एक असाधारण पिता बताया। विनोद दुआ को दूरदर्शन पर एक फूड शो से पहचान मिली थी। वो कई वामपंथी पोर्टलों के माध्यम से अक्सर मोदी सरकार पर निशाना साधते रहते थे। अब उनके निधन के बाद लोग उनका एक पुराना वीडियो शेयर कर रहे हैं, जो उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन के बाद बनाया था।

जिस वीडियो की बात यहाँ की जा रही है, उसे वामपंथी मीडिया संस्थान ‘द वायर’ के यूट्यूब चैनल पर ‘जान गण मन की बात’ नामक शो के 289वें एपिसोड के रूप में 16 अगस्त, 2018 को अपलोड किया था। इस दौरान उन्होंने 93 वर्षीय पूर्व भाजपा अध्यक्ष अटल बिहारी वाजपेयी के देहांत पर टिप्पणी करते हुए कहा था कि हमारे यहाँ एक बहुत बड़ा दिखावा होता है, पाखंड होता है कि जो दिवंगत हो जाए, अर्थात इस दुनिया में न रहे तो उसको अचानक से महापुरुष बना दिया जाता है।

इस वीडियो में विनोद दुआ कहते नजर आए थे, “जिस तरह की श्रद्धांजलियाँ दी जाती हैं, उसे इस तरह से समझा जाता है कि किसी के देहांत के बाद ‘पॉलिटिकली करेक्ट’ रूप से उसकी प्रशंसा करनी चाहिए। हमारे एक बुजुर्ग दोस्त थे – सरदार खुशवंत सिंह। 99 वर्ष की उम्र में उनका निधन हुआ था। मुझे और उन्हें, दोनों को स्कॉच का शौक था। एक बार मेरे साथ समय बिताते हुए उन्होंने कहा था कि किसी के निधन के बाद जिस तरह का दिखावा ‘Obituary (मृत्यु के बाद छपी खबर इत्यादि)’ के रूप में हमारे यहाँ होता है, वैसा कहीं नहीं होता।”

इस वीडियो में विनोद दुआ ने कहा था कि किसी के निधन के बाद उसके आखिरी दस्तावेज (Obituary) ऐसा होना चाहिए, जिसमें उसकी अच्छाइयाँ और बुराइयाँ – दोनों हो। उन्होंने इसे ही ‘सच्चाई श्रद्धांजलि’ करार दिया था। उन्होंने कहा था कि इस ‘गोले’ पर उनकी भूमिका पूरी होने के बाद उसका अच्छा विश्लेषण होना चाहिए। इस दौरान उन्होंने कंधार विमान हाईजैक कांड की बात की थी और बाबरी ढाँचे के दौरान उन पर ‘जमीन समतल करने’ वाला भाषण देने का आरोप लगाते हुए कहा कि इसका मतलब ‘साफ़’ था।

विनोद दुआ ने इस वीडियो में आगे कहा था, “अटल बिहारी वाजपेयी पर आरोप लगता रहा कि इन्होंने ‘भारत स छोड़ो आंदोलन’ के दौरान इन्होंने एक कबूलनामा या माफीनामा दिया था कि ग्वालियर में स्वतंत्रता सेनानियों की बैठक में इनका कोई किरदार नहीं था। इसी तरह इनके प्रधानमंत्रित्व काल में पोखरण-II हुआ, जिसके बारे में कहा जाता है कि पार्टी के कट्टरपंथी नेताओं के दबाव में ऐसा किया गया। लेकिन इसके बाद पाकिस्तान ने भी ऐसा कर दिया और उसके परमाणु परीक्षण को वैधता मिल गई। तत्कालीन केंद्रीय गृह मंत्री लाल कृष्ण आडवाणी ने इसे कश्मीर से जोड़ कर कहा कि हमारे हाथ अब ज्यादा मजबूत हुए हैं।”

विनोद दुआ इतने पर ही नहीं रुके थे, बल्कि 2002 में गोधरा कांड (जिसमें 59 हिन्दुओं को ट्रेन में ज़िंदा जला दिया गया था) को याद करते हुए कहा था कि इसके बाद जो हुआ, तब प्रधानमंत्री रहे वाजपेयी से कड़ा निर्णय लेकर तत्कालीन गुजरात मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को हटाने की उम्मीद थी, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। उन्होंने कहा था कि वाजपेयी का ताल्लुक हिंदुत्व से था और पहचान इसी से बनी, और RSS की शाखाओं में जाते थे, महात्मा गाँधी की धर्मनिरपेक्षता के खिलाफ आवाज़ उठाई – लेकिन वो दक्षिणपंथ के उदारवादी नेता थे। फिर पहले पीएम जवाहरलाल नेहरू द्वारा उनकी तारीफ़ की बात की थी।

बताते चलें कि विनोद दुआ की पत्नी का पहले ही निधन हो चुका है। बेटी मल्लिका दुआ ने लिखा कि अब उनके माता-पिता स्वर्ग में साथ-साथ घूमेंगे, भोजन पकाएँगे और गायन कर के आनंद लेंगे। उन्होंने बताया कि रविवार (5 दिसंबर, 2021) को दोपहर 12 बजे विनोद दुआ का अंतिम संस्कार लोधी क्रेमाटोरियम में किया जाएगा। बता दें कि कुछ दिनों पहले भी विनोद दुआ की मौत की अफवाह उड़ी थी, लेकिन मल्लिका ने इसे नकार दिया था। वो कई दिनों से अस्पताल में भर्ती थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बांग्लादेश में आरक्षण खत्म: सुप्रीम कोर्ट ने कोटा व्यवस्था को रद्द किया, दंगों की आग में जल रहा है मुल्क

प्रदर्शनकारी लोहे के रॉड हाथों में लेकर सेन्ट्रल डिस्ट्रिक्ट जेल पहुँच गए और 800 कैदियों को रिहा कर दिया। साथ ही जेल को आग के हवाले कर दिया गया।

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -