Wednesday, January 20, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया शोभा डे और बिकाऊ मीडिया: जब गुलाम नबी ने खड़ी की थी किराए की...

शोभा डे और बिकाऊ मीडिया: जब गुलाम नबी ने खड़ी की थी किराए की कलमों (गद्दार, देशद्रोही पत्रकार) की फौज

वो जिसे “फेक न्यूज़” कहा जाता है, उसके लिए व्हाट्स एप्प जैसे माध्यमों की तुलना में बिकने वाली मीडिया कहीं ज्यादा जिम्मेदार है।

अक्सर रेलवे स्टेशन के पास की दीवारों पर जैसे “उत्तेजनावर्धक” दवाखानों के प्रचार दिखते हैं, वैसी सिर्फ दवाएँ ही नहीं बनतीं। ऐसे किस्म के साहित्य की रचना भी होती रहती है। ऐसी ही “उत्तेजनावर्धक” किस्म का “साहित्य” रचने वाली शोभा डे आज चर्चाओं में हैं। चर्चा की वजह इस बार “उत्तेजनावर्धक साहित्य” नहीं है। इस बार पाकिस्तान के एक भूतपूर्व हाई कमिश्नर ने बयान दिया है कि उन्होंने शोभा डे से पाकिस्तान के समर्थन में जाने वाला एक लेख लिखवाया है। इसके लिए कोई रकम दी गई या नहीं, इस पर कोई बात फ़िलहाल तो नहीं हुई। हालाँकि शोभा डे ने अब्दुल बशीत के कहने पर लेख लिखने से इनकार किया है।

वैसे देखा जाए तो इस इनकार का कोई ख़ास मतलब नहीं होता। आज का दौर परंपरागत खरीद कर पढ़ी जाने वाली मीडिया का नहीं है, इसलिए सच्चाई कई बार दबाने की कोशिशों पर भी नहीं दबती। इसके अलावा भारत में मीडिया पर जनता का भरोसा भी (दुसरे कई देशों की तुलना में) काफी कम है। इस कहानी को देखने के लिए भी हमें थोड़ा पीछे चलना होगा। एक बार ये भी समझना होगा कि जिसे “फेक न्यूज़” कहा जाता है उसके लिए व्हाट्स एप्प जैसे माध्यमों की तुलना में बिकने वाली मीडिया कहीं ज्यादा जिम्मेदार है। भड़काऊ हेडलाइन के जनक माने जाने वाले विन्सेंट मुस्सेटो ने विदेशों में 1980 के दशक में ही इसकी शुरुआत को हवा दे दी थी।

1983 की 15 अप्रैल को न्यू यॉर्क टाइम्स में एक बार के मालिक की हत्या की खबर छपी तो हेडलाइन थी “ओनर ऑफ़ अ बार शॉट टू डेथ, सस्पेक्ट इज हेल्ड”, और इसी दिन एक दूसरे अख़बार न्यू यॉर्क पोस्ट में यही खबर आई तो उसमें हेडलाइन थी “हेडलेस बॉडी इन टॉपलेस बार”। खबर कुछ यूँ थी की कुईंस नाम की जगह पर एक हथियारबंद व्यक्ति ने बार के मालिक की हत्या कर दी थी और बार के ही एक बंधक से जबरन उसका सर कटवा लिया था। दूसरे अख़बारों ने जहाँ टॉपलेस बार और सर काटने कि बातों का फायदा नहीं उठाया वहीं इस एक हेडलाइन ने न्यू यॉर्क पोस्ट को चमका दिया। नैतिकता, और ज़िम्मेदारी की बोरिंग बातें फिर किसे याद रहती?

ख़बरों को विवादास्पद बनाने और उनमें हेडलाइन के जरिए “छौंक” लगाने की ये विधा “द टेलीग्राफ” जैसे अखबारों में आसानी से नजर आ जाती है। उपनिवेशवादी मानसिकता के बीबीसी जैसे मीडिया मुग़ल तो 1995 से ही कश्मीर के बारे में अफवाहें फैलाते रहे हैं। अभी अभी भारत सरकार ने एक दूसरे मामले में बीबीसी और अल जजीरा से एक बार फिर सवाल किए हैं। ये सभी मामले तब तक अधूरे ही रहते हैं जब तक हम गुलाम नबी का जिक्र नहीं कर लें। ये कॉन्ग्रेस पार्टी वाले नहीं एक दूसरे गुलाम नबी फाई हैं, जिन्हें 2011 में अमेरिका में सजा सुनाई गई थी।

ये दुर्जन खुद को डॉक्टर भी बताते हैं जबकि फिलेडेल्फिया की टेम्पल यूनिवर्सिटी से डॉक्टरेट के दौरान इन्होंने आधा पाठ्यक्रम भी पूरा नहीं किया था। कश्मीरी मूल के ये अमरीकी, एक “कश्मीर पीस फोरम” नाम की संस्था चलाते थे। मुक़दमे के दौरान अदालत में सिद्ध हुआ कि ये अपराधी न सिर्फ वक्ताओं की लिस्ट आईएसआई से लेता था, बल्कि वो क्या बोलेंगे, ये भी इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ़ पाकिस्तान की गुप्तचर संस्था, आईएसआई ही तय करती थी। अपने ही गिरोह के एक साथी ज़ाहिर अहमद के साथ जब गुलाम नबी को सजा हुई तो पता चला कि पाकिस्तान में कई सियासतदानों तक उसकी पहुँच थी। अमेरिका में उसकी पहचान के अधिकांश लोग वो थे, जिन्हें उसने कभी न कभी अपनी संस्था को मिले काले धन से चंदा दिया था।

इसकी गिरफ़्तारी पर एक राज और भी खुला था। या यूँ कह लीजिए कि खुलने के बावजूद दबा दिया गया था। अपने 81 पैराग्राफ के कबूलनामे में गुलाम नबी ने अपने कई अपराध कबूल किए थे। उसने केपीएफ के जरिए सिर्फ वक्ताओं को अपने पक्ष की झूठी कहानियाँ गढ़ने के लिए पैसे नहीं दिए थे। बल्कि उसने कई किराए की कलमें भी जुटा रखी थीं। इन किराए की कलमों (पत्रकार पढ़ें) ने उस वक्त कितने पैसे लेकर इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ़ पाकिस्तान के हक़ में क्या लिखा, इस पर भारत सरकार ने तब कोई विशेष जाँच नहीं की थी। ये सही वक्त होगा कि ये जाँच की जाए। कैम्ब्रिज एनालिटिका जैसी संस्थाओं पर चुनावों को प्रभावित करने के लिए पैसे देकर लिखवाने का आरोप अभी बहुत पुराना नहीं हुआ।

बाकी बाहर के शत्रुओं के साथ-साथ हम किराए की कलमों (गद्दार और देशद्रोही पत्रकार पढ़ें) पर कार्रवाई कब शुरू करते हैं, ये देखने लायक होगा। अनुच्छेद 370 और 35ए पर हुए फैसलों ने ये तो दिखा दिया है कि सरकार कड़े फैसले ले सकती है, लेकिन क्या वो जनहित का ढोंग रचने वालों पर भी लागू होगा? ये देखना अभी बाकी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Anand Kumarhttp://www.baklol.co
Tread cautiously, here sentiments may get hurt!

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

माकपा के गुंडों ने नारेबाजी करते हुए धमकी दी: मुस्लिम लीग के कार्यकर्ताओं को मार दिया जाएगा, शरीर पर हरे झंडे गाड़ दिए जाएँगे

माकपा कार्यकर्ताओं ने चिल्ला-चिल्ला कर कहा कि मुस्लिम लीग के कार्यकर्ता मारे जाएँगे। उन्होंने कहा कि माकपा एक ऐसा संगठन है, जहाँ पार्टी चाहती है तो लोग मारे जाते हैं।

राम मंदिर के लिए दान दीजिए, लोगों को प्रेरित कीजिए

राम मंदिर की अहमियत नए मंदिर से नहीं, बल्कि पाँच सौ साल पहले टूटे मंदिर से समझिए, जब हमारे पूर्वज ग्लानि से डूबे होंगे। आपका सहयोग, उनको तर्पण देने जैसा है।

‘कुत्ते से सेक्स करोगी क्या?’ – शर्लिन, जिया के अलावा साजिद खान ने 5 हिरोइन-लड़कियों के साथ की घिनौनी हरकत

साजिद खान पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वालों में प्रमुख नाम शर्लिन, सलोनी चोपड़ा, जर्नलिस्ट करिश्मा उपाध्याय, रैचल वाइट, आहना कुमरा, डिम्पल पाउला और जिया खान हैं।

फेक TRP केस: अर्णब के खिलाफ दायर आरोप पत्र में हैं India Today के खिलाफ सबूत, खामोश है मुम्बई पुलिस

इस चैट का एक हिस्सा अप्रैल 12, 2016 का है। तब न रिपब्लिक टीवी लॉन्च हुआ था और न ही रिपब्लिक भारत अस्तित्व में आया था।

‘भारतीयों को कभी भी… मतलब कभी भी कम मत आँको’ – ऑस्ट्रेलियन कोच ने ऐसे मानी हार, पहले दिखाई थी हेकड़ी

टीम इंडिया की जीत के बाद ऑस्ट्रेलियन क्रिकेट टीम के कोच जस्टिन लैंगर ने चैनल 7 से बात करते हुए कहा, “भारतीयों को कभी भी..."

‘कोहली के बिना इनका क्या होगा… ऑस्ट्रेलिया 4-0 से जीतेगा’: 5 बड़बोले, जिनकी आश्विन ने लगाई क्लास

अब जब भारत ने ऑस्ट्रेलिया में जाकर ही ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दिया है, आइए हम 5 बड़बोलों की बात करते हैं। आश्विन ने इन सबकी क्लास ली है।

प्रचलित ख़बरें

‘उसने पैंट से लिंग निकाला और मुझे फील करने को कहा’: साजिद खान पर शर्लिन चोपड़ा ने लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

अभिनेत्री-मॉडल शर्लिन चोपड़ा ने फिल्म मेकर फराह खान के भाई साजिद खान पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है।

‘टॉप और ब्रा उतारो’ – साजिद खान ने जिया को कहा था, 16 साल की बहन को बोला – ‘…मेरे साथ सेक्स करना है’

बॉलीवुड फिल्म निर्माता साजिद खान के खिलाफ एक बार फिर आवाज उठनी शुरू। दिवंगत अभिनेत्री जिया खान की बहन करिश्मा ने वीडियो शेयर कर...

‘नंगा कर परेड कराऊँगा… ऋचा चड्ढा की जुबान काटने वाले को ₹2 करोड़’: भीम सेना का ऐलान, भड़कीं स्वरा भास्कर

'भीम सेना' ने 'मैडम चीफ मिनिस्टर' को दलित-विरोधी बताते हुए ऋचा चड्ढा की जुबान काट लेने की धमकी दी। स्वरा भास्कर ने फिल्म का समर्थन किया।

‘शक है तो गोली मार दो’: इफ्तिखार भट्ट बन जब मेजर मोहित शर्मा ने आतंकियों के बीच बनाई पैठ, फिर ठोक दिया

मरणोपतरांत अशोक चक्र से सम्मानित मेजर मोहित शर्मा एक सैन्य ऑपरेशन के दौरान बलिदान हुए थे। इफ्तिखार भट्ट बन उन्होंने जो ऑपरेशन किया वह आज भी कइयों के लिए प्रेरणा है।

‘अल्लाह का मजाक उड़ाने की है हिम्मत’ – तांडव के डायरेक्टर अली से कंगना रनौत ने पूछा, राजू श्रीवास्तव ने बनाया वीडियो

कंगना रनौत ने सीरीज के मेकर्स से पूछा कि क्या उनमें 'अल्लाह' का मजाक बनाने की हिम्मत है? उन्होंने और राजू श्रीवास्तव ने अली अब्बास जफर को...

‘अश्लील बातें’ करने वाले मुफ्ती को टिकटॉक स्टार ने रसीद किया झन्नाटेदार झापड़: देखें वायरल वीडियो

टिकटॉक स्टार कहती हैं, "साँप हमेशा साँप रहता है। कोई मलतलब नहीं है कि आप उससे कितनी भी दोस्ती करने की कोशिश करो।"
- विज्ञापन -

 

लोगों के जबरदस्त विरोध के बाद वेब सीरीज ‘तांडव’ में बदलाव करेंगे प्रोड्यूसर-डायरेक्टर, अली अब्बास जफ़र ने फिर से माँगी माफी

''हमारे मन में देश के लोगों की भावनाओं के बहुत सम्मान है। हमारा इरादा किसी व्यक्ति, जाति, समुदाय, नस्ल, धर्म, धार्मिक समुदाय, राजनीतिक दल, जीवित या मृत व्यक्ति की भावनाओं को चोट पहुँचाना नहीं था। तांडव के कास्ट और क्रू ने सीरीज के कंटेंट में बदलाव करने का फैसला लिया है।"

माकपा के गुंडों ने नारेबाजी करते हुए धमकी दी: मुस्लिम लीग के कार्यकर्ताओं को मार दिया जाएगा, शरीर पर हरे झंडे गाड़ दिए जाएँगे

माकपा कार्यकर्ताओं ने चिल्ला-चिल्ला कर कहा कि मुस्लिम लीग के कार्यकर्ता मारे जाएँगे। उन्होंने कहा कि माकपा एक ऐसा संगठन है, जहाँ पार्टी चाहती है तो लोग मारे जाते हैं।

देवी-देवताओं को गाली देने वाले फारुकी के बचाव में सामने आया एक और ‘कॉमेडियन’, किया कश्मीरी पंडितों के नरसंहार का इस्तेमाल

“आज कश्मीरी पंडित नरसंहार के 31 साल पूरे हो गए हैं। मैं चाहता हूँ कि मैं अपनी मातृभूमि, कश्मीर वापस जाऊँ, जहाँ मुझे अपनी न्यायिक प्रणाली की मृत्यु के बारे में पढ़ने के लिए इंटरनेट नहीं होगा।”

पीपल्स कॉन्फ्रेंस के सज्जाद लोन ने किया गुपकार गठबंधन से किनारा, हाल ही में एक नेता ने की थी अमित शाह से मुलाकात

“इस गठबंधन को बलिदान की आवश्यकता थी। गठबंधन चलाने के लिए सभी दलों को दूसरे दलों को जगह देने की जरूरत होती है। लेकिन गुपकार में कोई सहयोग नहीं कर रहा है।"
00:26:49

राम मंदिर के लिए दान दीजिए, लोगों को प्रेरित कीजिए

राम मंदिर की अहमियत नए मंदिर से नहीं, बल्कि पाँच सौ साल पहले टूटे मंदिर से समझिए, जब हमारे पूर्वज ग्लानि से डूबे होंगे। आपका सहयोग, उनको तर्पण देने जैसा है।

‘कुत्ते से सेक्स करोगी क्या?’ – शर्लिन, जिया के अलावा साजिद खान ने 5 हिरोइन-लड़कियों के साथ की घिनौनी हरकत

साजिद खान पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वालों में प्रमुख नाम शर्लिन, सलोनी चोपड़ा, जर्नलिस्ट करिश्मा उपाध्याय, रैचल वाइट, आहना कुमरा, डिम्पल पाउला और जिया खान हैं।

‘आज कर्ज के कारण जहाज रोका, कल PM को ही रोक लेंगे!’: पाक संसद में इमरान खान की किरकिरी, देखें वीडियो

"मलेशिया, जो हमारा दोस्त मुल्क है, इस्लामी मुल्क है, वो अगर मजबूर होकर हमारा जहाज रोकता है तो मुझे यकीन है कि कल को वो आपके प्राइम मिनिस्टर को भी रोक लेंगे। कैसी बेहुदा हुक़ूमत है ये।"

राम मंदिर निधि के नाम पर कॉन्ग्रेस नेता दिग्विजय का पब्लिसिटी स्टंट, PM मोदी से पूछा- चंदा कहाँ दिया जाए

सोमवार को कॉन्ग्रेस नेता ने 1,11, 111 रुपए का चेक श्री राम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र के नाम पर साइन किया और सोशल मीडिया पर कहा कि उन्हें पता ही नहीं है कि इसे देना कहाँ है।

‘अश्लील बातें’ करने वाले मुफ्ती को टिकटॉक स्टार ने रसीद किया झन्नाटेदार झापड़: देखें वायरल वीडियो

टिकटॉक स्टार कहती हैं, "साँप हमेशा साँप रहता है। कोई मलतलब नहीं है कि आप उससे कितनी भी दोस्ती करने की कोशिश करो।"

फेक TRP केस: अर्णब के खिलाफ दायर आरोप पत्र में हैं India Today के खिलाफ सबूत, खामोश है मुम्बई पुलिस

इस चैट का एक हिस्सा अप्रैल 12, 2016 का है। तब न रिपब्लिक टीवी लॉन्च हुआ था और न ही रिपब्लिक भारत अस्तित्व में आया था।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
382,000SubscribersSubscribe