Thursday, October 1, 2020
Home देश-समाज दंगाइयों का डर ऐसा: पति लहूलुहान सड़क पर पड़ा था, पत्नी लगाती रही गुहार...

दंगाइयों का डर ऐसा: पति लहूलुहान सड़क पर पड़ा था, पत्नी लगाती रही गुहार लेकिन कोई न आया

एक स्थानीय व्यापारी ने आलोक तिवारी की पत्नी की मदद की। उन्हें अपनी बाइक दी। उसी बाइक पर एक व्यक्ति के साथ पीछे बैठ कर वह अपने घायल पति को लेने गईं। एंबुलेंस न आया तो इसी तरह अस्पताल भी लेकर गईं।

वे खाना खा घर से निकले। रास्ते में पत्थर आकर सिर पर लगा। सड़क पर ही गिर पड़े। सिर से खून बह रहा था। उनके मोबाइल से पत्नी को कॉल आया। आवाज किसी अनजान शख्स की थी। पत्नी घर से दौड़े-दौड़े पहुॅंची तो देखा कि पति लहूलुहान पड़े हैं। सॉंसे चल रही है। मदद के लिए गुहार लगाती रही। लेकिन कोई न आया। एंबुलेंस भी नहीं पहुॅंचा। आखिर में एक बाइक सवार की मदद से वह पति को अस्पताल ले गई, लेकिन अपना सुहाग नहीं बचा पाई।

ये कहानी है आलोक तिवारी की। उस आलोक तिवारी की जो एक गत्ते की फैक्ट्री में मजदूरी करते थे। उनकी जान उत्तर-पूर्वी दिल्ली में भड़के हिंदू विरोधी दंगों के दौरान चली गई। उन्हें उन्हीं दंगाइयों ने मारा जो शिव विहार में फैसल फ़ारूक़ के राजधानी स्कूल से हिंदुओं को निशाना बना रहे थे। जिस स्कूल की छत पर गुलेल सेट किया गया था। इतना बड़ा गुलेल की दूर तक हिंदुओं को निशाना बनाया जा सके। दंगों में राजधानी स्कूल को तो मामूली नुकसान हुआ है लेकिन उससे सटा एक स्कूल जो पंकज शर्मा का है जिसे भारी नुकसान पहुँचा है।

आलोक की पत्नी कविता तिवारी को जब पति के बारे में सूचना मिली तो उनके होश ही उड़ गए। उन्हें बताया जाता है कि उनके पति पर धारदार हथियार से वार किया गया है और तुरंत अस्पताल पहुँचाए जाने की ज़रूरत है। घर में रुपए-पैसे नहीं थे। कोई मददगार भी नहीं था। मोहल्ले में कोई मदद को तैयार नहीं था, क्योंकि मुस्लिम दंगाई भीड़ हिंसा पर उतारू थी। हर कोई अपनी जान बचने में लगा था। ऐसे समय में सोचिए कविता ने क्या किया होगा? आइए, पूरा मामला आपको समझाते हैं।

राजधानी स्कूल में जमा दंगाइयों के शिकार हुए लोगों में दिनेश कुमार खटीक और आलोक तिवारी शामिल हैं। दलित समुदाय से आने वाले दिनेश अपने बच्चों के लिए दूध लेने निकले थे, वहीं आलोक खाना खा कर बाहर टहल रहे थे। इन दोनों की तो न तो दंगाइयों से कोई मुठभेड़ हुई थी और न ही उन्होंने उनसे झड़प किया था, लेकिन फिर भी उनकी हत्या कर दी गई।

ऑपइंडिया की टीम मृतक आलोक तिवारी के घर पर पहुँची, जहाँ उनकी पत्नी कविता, सास और साले से हमारी बातचीत हुई। हमारी नज़रें आलोक तिवारी के माँ-बाप को ढूँढ रही थी लेकिन स्थानीय लोगों ने बताया कि अपने बेटे का दाह-संस्कार करने के बाद वो घर भी नहीं आए और सीधा कानपुर स्थित अपने गाँव चले गए। स्थानीय लोग बताते हैं कि मुसलमान दंगाइयों के डर के कारण आलोक तिवारी के माता-पिता श्मशान घाट से घर आने की हिम्मत नहीं जुटा पाए। आर्थिक रूप से भी उनकी पत्नी और उनके परिवार की स्थिति बिलकुल ही दयनीय है। अंतिम संस्कार भी चंदा जुटाकर ही किया गया था।

जब ऑपइंडिया की टीम वहाँ पर पहुँची, तब आलोक तिवारी के साले मुआवजा सम्बन्धी फॉर्म वगैरह भरने में व्यस्त थे और वहाँ कुछ पुलिसकर्मी इस काम में उनकी मदद कर रहे थे। उनकी पत्नी बात करने की अवस्था में नहीं थी, लेकिन हमारे अनुरोध के बाद उन्होंने अपनी बात रखी। मृतक की पत्नी ने बताया कि 26 फरवरी के दिन आलोक तिवारी रात का भोजन करने के बाद बाहर टहलने निकले थे। जब उन्हें लौटने में देर हुई तो उनकी पत्नी को चिंता सताने लगी। इसके थोड़ी ही देर बाद फोन आया कि उनके पति गंभीर रूप से घायल हो गए हैं और वो जल्दी से उन्हें लेने आ जाएँ।

उनकी पत्नी ने बताया कि जब आलोक तिवारी टहलने निकले थे, तब उनकी पत्नी ने उन्हें रोका था लेकिन वो नहीं माने। जब उनके घायल होने का समाचार आया, तब उनकी पत्नी अपने मोहल्ले में घर-घर जाकर लोगों से गुहार लगाती रही कि वो उनकी मदद करें लेकिन कोई भी आगे नहीं आया। घायल आलोक तिवारी की देखभाल कुछ हिन्दू कर रहे थे लेकिन उन्हें तुरंत अस्पताल पहुँचाए जाने की ज़रूरत थी। इसके बाद एक स्थानीय व्यापारी ने आलोक तिवारी की पत्नी की मदद की और उन्हें अपनी बाइक दी। उसी बाइक पर एक व्यक्ति के साथ पीछे बैठ कर वह अपने घायल पति को लेने गईं।

जब आलोक तिवारी की पत्नी वहाँ पहुँचीं तब उन्होंने देखा कि उनके पति के सिर से लगातार ख़ून निकल रहा था। उन्होंने एम्बुलेंस बुलाया लेकिन एम्बुलेंस वाले ने भी आने से मना कर दिया क्योंकि उस क्षेत्र में स्थिति काफ़ी तनावपूर्ण थी। इसके बाद उन्हें घर लाया गया। बाइक पर व्यक्ति ड्राइविंग कर रहा था और आलोक तिवारी की पत्नी पीछे बैठी थीं। घायल आलोक तिवारी को बीच में बिठाया गया था। उन्हीं 250 रुपयों के साथ उनकी पत्नी अपने घायल पति को अस्पताल लेकर गईं। सोचिए, उस वक़्त उस महिला ने ऐसे माहौल में भी कितने साहस से काम लिया।

आलोक तिवारी के घर के बाहर उनके परिजन व रिश्तेदार (फोटो: ऑपइंडिया)

इसके बाद बाकी के परिजन आए। ऐसा नहीं है कि कविता तिवारी की हालत बहुत अच्छी थी। वो ख़ुद काफ़ी दिनों से बीमार थीं और उनके सिर पर आलमीरा गिर जाने के कारण गहरी चोट लगी थी। ऐसी अवस्था में भी घर में रुपए-पैसे न होने के बावजूद उन्होंने इतना सब कुछ किया। ऑपइंडिया की टीम से कविता तिवारी की माँ ने बताया कि कविता बार-बार बेहोश हो रही हैं।

जहाँ तक आलोक तिवारी के बच्चों की बात है, उनकी एक 8 साल की बेटी सोनाक्षी है। एक 4 साल का लड़का भी है, जिसका नाम आरुष है। आरुष को अपने पिता की मौत के बारे में कुछ पता नहीं था, वो वहीं पर हँस-खेल रहा था। पत्नी गुमसुम से ज़मीन पर चादर बिठा कर बैठी हुई थी। आलोक तिवारी की सास ने बताया कि अगर मुस्लिम दंगाई भीड़ थोड़ा आगे आ जाती तो उनके घरों में घुस जाती। स्थानीय महिलाओं ने भी इस बात की पुष्टि की। उन्होंने कहा कि अगर दंगाई भीड़ आगे आती तो उनकी इज्जत-आबरू पर बन आती।

स्थिति ये है कि आलोक तिवारी की पत्नी के पास ये उनके घर में उनकी कोई फोटो तक नहीं है। वो बताती हैं कि यात्रा के दौरान एक स्टेशन पर उनका सामान चोरी हो गया था, जिसमें शादी वाला एल्बम भी चला गया। फोटो के नाम पर कविता के पास अपने पति का आधार कार्ड है जो वो दिखाती हैं।

‘उनके’ डर से बच्चों के साथ घर में दुबके रहते हैं, रात भर नींद नहीं आती: महिलाओं ने सुनाया अपना दर्द – ग्राउंड रिपोर्ट

मेरे भाई को जिहाद ने मारा है, एक-एक मस्जिदों व मदरसों की तलाशी ली जाए: दलित दिनेश के भाई

कपिल मिश्रा के बयान से पहले ही मुस्लिम भीड़ ने शुरू कर दिए थे दंगे: ‘Live Video’ से खुलासा

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Searched termsशिव विहार आलोक तिवारी, दिल्ली दंगे में मरे आलोक तिवारी, दिल्ली दंगा विडियो, कांग्रेस दिल्ली दंगा, आनंद शर्मा दिल्ली दंगा, शिव विहार हिन्दू, केजरीवाल फ्री बिजली पानी, आप फ्री बिजली पानी, दिल्ली फ्री बिजली पानी, विधायक हाजी युनूस, आप विधायक हाजी युनूस, दिल्ली बृजपुरी, दिल्ली ब्रजपुरी, बृजपुरी राहुल ठाकुर, बृजपुरी मस्जिद, दिल्ली दंगा क्रोनोलॉजी, अंग्रेज मुसलमान, ब्रिटिश मुसलमान, कांग्रेस मुसलमान, एएमयू, लॉर्ड कर्जन, बंगाल विभाजन, बंगाल में दंगे, भारत में दंगे, हिंदू मुस्लिम दंगे, बंग भंग, अलग मुस्लिम देश की मांग, अब्दुल्ला शुहरावर्दी, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, हिस्ट्री ऑफ फ्रीडम मूवमेंट इन इंडिया, सर सैयद अहमद, पाकिस्तान की मांग, दिल्ली दंगा, दिल्ली दंगा लिबरल गैंग, दिल्ली दंगा लिबरल मीडिया, दिल्ली दंगा हिंदूफोबिया, दिल्ली दंगा प्राइम टाइम, रवीश कुमार प्राइम टाइम, दिल्ली दंगा एनडीटीवी, दिल्ली दंगा सेकुलर मीडिया, दिल्ली दंगा की खबरें, दिल्ली दंगों में कौन शामिल, दंगा और मुसलमान, दिल्ली में मुसलमानों का दंगा, पीएम मोदी, नरेंद्र मोदी, दिल्ली दंगा मोदी, दिल्ली हिंसा मोदी, उत्तर पूर्वी दिल्ली हिंसा मोदी, आईबी कॉन्स्टेबल की हत्या, अंकित शर्मा की हत्या, चांदबाग अंकित शर्मा की हत्या, दिल्ली हिंसा विवेक, विवेक ड्रिल मशीन से छेद, विवेक जीटीबी अस्पताल, विवेक एक्सरे, दिल्ली हिंदू युवक की हत्या, दिल्ली विनोद की हत्या, दिल्ली ब्रहम्पुरी विनोद की हत्या, दिल्ली हिंसा अमित शाह, दिल्ली हिंसा केजरीवाल, दिल्ली हिंसा उपराज्यपाल, अमित शाह हाई लेवल मीटिंग, दिल्ली पुलिस, दिल्ली पुलिस रतनलाल, हेड कांस्टेबल रतनलाल, रतनलाल का परिवार, ट्रंप का भारत दौरा, ट्रंप मोदी, बिल क्लिंटन का भारत दौरा, छत्तीसिंह पुरा नरसंहार, दिल्ली हिंसा, नॉर्थ ईस्ट दिल्ली, दिल्ली पुलिस, करावल नगर, जाफराबाद, मौजपुर, गोकलपुरी, शाहरुख, कांस्टेबल रतनलाल की मौत, दिल्ली में पथराव, दिल्ली में आगजनी, दिल्ली में फायरिंग, भजनपुरा, दिल्ली सीएए हिंसा, शाहीन बाग, शाहीनबाग प्रदर्शन, शाहीन बाग वायरल वीडियो, CAA NRC शाहीन बाग, CAA NRC असम, शाहीन बाग मास्टरमाइंड, cab and nrc hindi, CAA मुसलमान, नागरिकता कानून मुसलमान, नागरिकता कानून हिंसा, भारत विरोधी नारे, मुस्लिम हरामी क्यो होते है, nrc ke bare mein muslim mulkon ki rai, मुसलमान डरे हुए हैं या डरा रहे हैं, हिंसा में शामिल pfi और सीमी मुसलमान, हिन्दुत्व के विरोध का भूत, हमें चाहिए आजादी ये कैसा नारा है, हिंदुओं से चाहिए आजादी, rambhakt gopal, ram bhakt gopal, jamia violence, जामिया हिंसा, राम भक्त गोपाल
अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

इंडिया टुडे के राहुल कँवल, हिन्दी नहीं आती कि दिमाग में अजेंडा का कीचड़ भरा हुआ है?

हाथरस के जिलाधिकारी और मृतका के पिता के बीच बातचीत के वीडियो को राहुल कँवल ने शब्दों का हेरफेर कर इस तरह पेश किया है, जैसे उन्हें धमकाया जा रहा हो।

कठुआ कांड की तरह ही मीडिया लिंचिंग की साजिश तो नहीं? 31 साल पहले भी 4 नौजवानों ने इसे भोगा था

जब शोषित समाज के वंचित कहे जाने वाले तबकों से हो और आरोपित तथाकथित ऊँची मानी जाने वाली जातियों से, तो मीडिया लिंचिंग के लिए एक बढ़िया मौका तैयार हो जाता है।

‘हर कोई डिम्पलधारी को गिरने से रोकता रहा, लेकिन बाबा ने डिसाइड कर लिया था कि घास में तैरना है तो कूद गया’

हा​थरस केस पर पॉलिटिक्स करने गए राहुल गाँधी का एक वीडियो के सामने आने के बाद ट्विटर पर 'एक्ट लाइक पप्पू' ट्रेंड करने लगा।

दिल्ली दंगों की चार्जशीट में कपिल मिश्रा ‘व्हिसल ब्लोअर’ नहीं: साजिश से ध्यान हटाने के लिए मीडिया ने गढ़ा झूठा नैरेटिव

दंगों पर दिल्ली पुलिस की चार्जशीट में कपिल मिश्रा को 'व्हिसल ब्लोअर' नहीं बताया गया है। जानिए, मीडिया ने कैसे आपसे सच छिपाया।

‘द वायर’ की परमादरणीया पत्रकार रोहिणी सिंह ने बताया कि रेप पर वैचारिक दोगलापन कैसे दिखाया जाता है

हाथरस में आरोपित की जाति पर जोर देने वाली रोहिणी सिंह जैसी लिबरल, बलरामपुर में दलित से रेप पर चुप हो जाती हैं? क्या जाति की तरह मजहब अहम पहलू नहीं होता?

रात 3 बजे रिया को घर छोड़ने गए थे सुशांत, सुबह फँदे से लटके मिले: डेथ मिस्ट्री में एक और चौंकाने वाला दावा

रिया चकवर्ती का दावा रहा है कि 8 जून के बाद उनका सुशांत से कोई कॉन्टेक्ट नहीं था। लेकिन, अब 13 जून की रात दोनों को साथ देखे जाने की बात कही जा रही है।

प्रचलित ख़बरें

ईशनिंदा में अखिलेश पांडे को 15 साल की सजा, कुरान की ‘झूठी कसम’ खाकर 2 भारतीय मजदूरों ने फँसाया

UAE के कानून के हिसाब से अगर 3 या 3 से अधिक लोग कुरान की कसम खाकर गवाही देते हैं तो आरोप सिद्ध माना जा सकता है। इसी आधार पर...

व्यंग्य: दीपिका के NCB पूछताछ की वीडियो हुई लीक, ऑपइंडिया ने पूरी ट्रांसक्रिप्ट कर दी पब्लिक

"अरे सर! कुछ ले-दे कर सेटल करो न सर। आपको तो पता ही है कि ये सब तो चलता ही है सर!" - दीपिका के साथ चोली-प्लाज्जो पहन कर आए रणवीर ने...

रात 3 बजे रिया को घर छोड़ने गए थे सुशांत, सुबह फँदे से लटके मिले: डेथ मिस्ट्री में एक और चौंकाने वाला दावा

रिया चकवर्ती का दावा रहा है कि 8 जून के बाद उनका सुशांत से कोई कॉन्टेक्ट नहीं था। लेकिन, अब 13 जून की रात दोनों को साथ देखे जाने की बात कही जा रही है।

‘हिन्दू राष्ट्र में आपका स्वागत है, बाबरी मस्जिद खुद ही गिर गया था’: कोर्ट के फैसले के बाद लिबरलों का जलना जारी

अयोध्या बाबरी विध्वंस मामले में कोर्ट का फैसला आने के बाद यहाँ हम आपके समक्ष लिबरल गैंग के क्रंदन भरे शब्द पेश कर रहे हैं, आनंद लीजिए।

शाम तक कोई पोस्ट न आए तो समझना गेम ओवर: सुशांत सिंह पर वीडियो बनाने वाले यूट्यूबर को मुंबई पुलिस ने ‘उठाया’

"साहिल चौधरी को कहीं और ले जाया गया। वह बांद्रा के कुर्ला कॉम्प्लेक्स में अपने पिता के साथ थे। अभी उनकी लोकेशन किसी परिजन को नहीं मालूम। मदद कीजिए।"

लड़कियों को भी चाहिए सेक्स, फिर ‘काटजू’ की जगह हर बार ‘कमला’ का ही क्यों होता है रेप?

बलात्कार आरोपित कटघरे में खड़ा और लोग तरस खा रहे... सबके मन में बस यही चल रहा है कि काश इसके पास नौकरी होती तो यह आराम से सेक्स कर पाता!

प्राइम टाइम में अर्नब का डंका, 77% दर्शक देखते हैं रिपब्लिक; राजदीप और NDTV के शो दर्शकों के लिए तरसे

न्यूज चैनलों के बीच रिपब्लिक की न केवल बादशाहत बनी हुई, बल्कि प्राइम टाइम के स्लॉट में कोई भी एंकर अर्नब के आसपास नजर नहीं आ रहा।

लॉकडाउन, मास्क, एंटीजन टेस्ट… कोरोना को रोकने के लिए भारत ने समय पर लिए फैसले, दुनिया ने किया अनुकरण

ORF के ओसी कुरियन ने बताया है कि किस तरह भारत ने कोरोना का प्रसार रोकने के लिए फैसले समय पर लिए।

UP: भदोही में 14 साल की दलित बच्ची की सिर कुचलकर हत्या, बिना कपड़ों के शव खेत में मिला

भदोही में दलित नाबालिग की सिर कुचलकर हत्या कर दी गई। शव खेत से बरामद किया गया। परिजनों ने बलात्कार की आशंका जताई है।

इंडिया टुडे के राहुल कँवल, हिन्दी नहीं आती कि दिमाग में अजेंडा का कीचड़ भरा हुआ है?

हाथरस के जिलाधिकारी और मृतका के पिता के बीच बातचीत के वीडियो को राहुल कँवल ने शब्दों का हेरफेर कर इस तरह पेश किया है, जैसे उन्हें धमकाया जा रहा हो।

कठुआ कांड की तरह ही मीडिया लिंचिंग की साजिश तो नहीं? 31 साल पहले भी 4 नौजवानों ने इसे भोगा था

जब शोषित समाज के वंचित कहे जाने वाले तबकों से हो और आरोपित तथाकथित ऊँची मानी जाने वाली जातियों से, तो मीडिया लिंचिंग के लिए एक बढ़िया मौका तैयार हो जाता है।

1000 साल लगे, बाबरी मस्जिद वहीं बनेगी: SDPI नेता तस्लीम रहमानी ने कहा- अयोध्या पर गलत था SC का फैसला

SDPI के सचिव तस्लीम रहमानी ने अयोध्या में फिर से बाबरी मस्जिद बनाने की धमकी दी है। उसने कहा कि बाबरी मस्जिद फिर से बनाई जाएगी, भले ही 1000 साल लगें।

मिलिए, छत्तीसगढ़ के 12वीं पास ‘डॉक्टर’ निहार मलिक से; दवाखाना की आड़ में नर्सिंग होम चला करता था इलाज

मामला छत्तीसगढ़ के बलरामपुर का है। दवा दुकान के पीछे चार बेड का नर्सिंग होम और मरीज देख स्वास्थ्य विभाग की टीम अवाक रह गई।

‘हर कोई डिम्पलधारी को गिरने से रोकता रहा, लेकिन बाबा ने डिसाइड कर लिया था कि घास में तैरना है तो कूद गया’

हा​थरस केस पर पॉलिटिक्स करने गए राहुल गाँधी का एक वीडियो के सामने आने के बाद ट्विटर पर 'एक्ट लाइक पप्पू' ट्रेंड करने लगा।

दिल्ली दंगों की चार्जशीट में कपिल मिश्रा ‘व्हिसल ब्लोअर’ नहीं: साजिश से ध्यान हटाने के लिए मीडिया ने गढ़ा झूठा नैरेटिव

दंगों पर दिल्ली पुलिस की चार्जशीट में कपिल मिश्रा को 'व्हिसल ब्लोअर' नहीं बताया गया है। जानिए, मीडिया ने कैसे आपसे सच छिपाया।

फोरेंसिक रिपोर्ट से रेप की पुष्टि नहीं, जान-बूझकर जातीय हिंसा भड़काने की कोशिश हुई: हाथरस मामले में ADG

एडीजी प्रशांत कुमार ने बताया है कि हाथरस केस में फोरेंसिक रिपोर्ट आ गई है। इससे यौन शोषण की पुष्टि नहीं होती है।

हमसे जुड़ें

267,758FansLike
78,095FollowersFollow
326,000SubscribersSubscribe