Wednesday, July 17, 2024
Homeरिपोर्टमीडियाजाँच के लिए राजस्थान पुलिस के समक्ष पेश हों पत्रकार अमन चोपड़ा: HC का...

जाँच के लिए राजस्थान पुलिस के समक्ष पेश हों पत्रकार अमन चोपड़ा: HC का आदेश, मंदिर पर चला था बुलडोजर तो किया था शो

‘लाइव लॉ’ वेबपोर्टल की रिपोर्ट के मुताबिक, कोर्ट ने आदेश दिया है कि अमन चोपड़ा को सुबह 10:30 से शाम 5:00 बजे के बीच होने वाली पूछताछ के बीच लंच आदि के लिए 45 मिनट का ब्रेक दिया जाएगा।

राजस्थान हाई कोर्ट की जोधपुर पीठ ने ‘न्यूज18’  के पत्रकार अमन चोपड़ा (Aman Chopra) को 27 मई 2022 को जाँच अधिकारी के समक्ष पेश होने का निर्देश दिया है। उनसे ‘देश झुकने नहीं देंगे’ नामक शो प्रसारित करने और बाद में ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट के लिए उनके खिलाफ दर्ज एफआईआर से संबंधित पूछताछ की जाएगी।

‘लाइव लॉ’ वेबपोर्टल की रिपोर्ट के मुताबिक, कोर्ट ने आदेश दिया है कि अमन चोपड़ा को सुबह 10:30 से शाम 5:00 बजे के बीच होने वाली पूछताछ के बीच लंच आदि के लिए 45 मिनट का ब्रेक दिया जाएगा। राजस्थान पुलिस का आरोप है कि कि अमन के ‘देश झुकने नहीं देंगे’ शो के बाद 22 अप्रैल को अलवर में कथित तौर पर सांप्रदायिक वैमनस्य और सांप्रदायिक दंगे हुए थे।

गौरतलब है कि इससे पहले 11 मई को राजस्थान हाई कोर्ट ने पत्रकार अमन चोपड़ा को राजस्थान के जोधपुर हाई कोर्ट ने बड़ी राहत देते हुए उनकी गिरफ्तारी पर रोक लगा दी। कोर्ट ने कहा था कि अगले आदेश तक अमन चोपड़ा की गिरफ्तारी नहीं हो सकती। बता दें कि उनके खिलाफ राजस्थान में धार्मिक भावनाएँ भड़काने का मामला दर्ज किया गया है। राजस्थान के अलवर में जिस तरह से मंदिरों पर बुलडोजर चलाया गया और प्रतिमाएँ फेंक दी गईं, उस पर शो करने के कारण उनके खिलाफ केस दर्ज किया गया है। शिकायत में कहा गया कि अमन चोपड़ा ने अपने शो में झूठ और काल्पनिक जानकारी देकर यह साबित करना चाहा था कि अलवर में जो मंदिर गिराया गया, उसके पीछे राज्य सरकार का हाथ था और ऐसा जहाँगीरपुरी हिंसा का बदला लेने के लिए किया गया था।

बता दें कि अमन चोपड़ा के प्रोग्राम को लेकर उनके खिलाफ लेकर तीन अलग-अलग जिलों में एफआईआर दर्ज की गई थी। ये एफआईआर अलवर के कोतवाली, बूंदी के सदर और डूंगरपुर के बिछवाड़ा थाने में दर्ज की गई थी। इनमें अलवर और बूंदी थाने में दर्ज एफआईआर के खिलाफ पेश याचिका पर सुनवाई करते हुए जयपुर बेंच कोर्ट ने अमन चोपड़ा को राहत देते हुए अग्रिम आदेश तक पहले ही गिरफ्तारी पर रोक लगा दी थी। तीसरी एफआईआर में भी अमन चोपड़ा को राहत मिल गई थी।

उल्लेखनीय है कि राजस्थान पुलिस रविवार (8 मई, 2022) को अमन चोपड़ा को गिरफ्तार करने नोएडा पहुँची थी। इससे पहले शनिवार (7 मई 2022) को राजस्थान पुलिस उस सोसाइटी में घुस गई, जहाँ अमन चोपड़ा रहते हैं और उनके दरवाजे पर वॉरंट चिपका दिया। ये सब तब हुआ, जब राजस्थान उच्च-न्यायालय ने ‘न्यूज़ 18’ के एडिटर अमन चोपड़ा के खिलाफ कोई भी कार्रवाई करने से पुलिस को रोक रखा था। उनके घर के दरवाजे पर गिरफ़्तारी का वॉरंट चिपकाने के बाद राजस्थान पुलिस को यूपी पुलिस थाने लेकर गई। इस दौरान अमन चोपड़ा के घर का ताला बंद था।

इससे पहले राजस्थान पुलिस ने ‘न्यूज़ 18’ के दफ्तर में जाकर भी इस तरह की हरकतें की थीं और बाद में बयान दिया था कि अमन चोपड़ा उन्हें नहीं मिले। उनके खिलाफ राजस्थान में धार्मिक भावनाएँ भड़काने का मामला दर्ज किया गया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -