Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाज2 बीवियों वाले महमूद ने ऑफिस के अंदर पीछे से पकड़ महिला साथी का...

2 बीवियों वाले महमूद ने ऑफिस के अंदर पीछे से पकड़ महिला साथी का करना चाहा रेप, CCTV के कारण गया जेल

आरोपित महमूद आलम ने दो-दो निकाह किया है। उसकी पहली बीवी गाँव में रहती है, जबकि दूसरी बीवी नसीमा खातून उसके साथ रहती है। पहली बीवी से उसका 13 साल का एक बेटा है। दूसरी बीवी नसीमा ने अपने पहले शौहर की मौत के बाद महमूद से निकाह किया था।

बिहार के बांका जिले के बौंसी प्रखंड मुख्यालय में कार्यरत प्रधान लिपिक महमूद आलम को डाटा ऑपरेटर का कार्य कर रही महिला कर्मचारी के साथ दुष्कर्म के आरोप में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। घटना शनिवार (फरवरी 8, 2020) की है। महिला कंप्यूटर ऑपरेटर ने बताया कि शुक्रवार (फरवरी 7, 2020) शाम को जब वह ऑफिस का काम खत्म करने के बाद निकलने वाली थी, तभी शराब के नशे में धुत्त प्रखंड के प्रधान लिपिक महमूद आलम ने उसे गलत नीयत से पीछे से पकड़ लिया और उसके साथ दुष्कर्म करने का प्रयास किया।

पीड़िता ने बताया कि वह किसी तरह से वहाँ से भागकर थाना पहुँची और इसकी जानकारी दी। पुलिस अधीक्षक अरविंद गुप्ता ने मामले की पुष्टि करते हुए बताया कि इस सिलसिले में पीड़िता ने बौंसी थाने में प्रखंड कार्यालय के प्रधान लिपिक मोहम्मद आलम के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। सत्यापन में मामला सही पाए जाने के बाद पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए आलम को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है।

जानकारी के मुताबिक जब ट्रेनी आईएएस और थानाध्यक्ष राजेश कुमार यादव ने इस बाबत महमूद आलम से पूछा तो उसने सिरे से इनकार कर दिया और कहा कि वह पीड़िता के कमरे में ही नहीं गया था। हालाँकि उसका यह झूठ सीसीटीवी खँगालने के साथ ही उजागर हो गया। सीसीटीवी फुटेज में पाया गया कि घटना वाले दिन वह लगातार चार बार उसके कमरे में गया था। शाम में जब पीड़िता घटना के बाद उसे धक्का देकर तेजी से निकल रही थी, उस वक्त भी वह उसके पीछे ही था।

बता दें कि आरोपित महमूद आलम ने दो-दो निकाह किया है। उसकी पहली बीवी गाँव में रहती है, जबकि दूसरी बीवी नसीमा खातून उसके साथ रहती है। नसीमा खातून ने अपने पहले शौहर की मौत के बाद महमूद के साथ निकाह किया था। 3 साल पूर्व एक बेटा भी हुआ था, लेकिन 24 घंटे के बाद ही उसकी मौत हो गई थी। जबकि, पहली बीवी से उसका 13 साल का एक बेटा है, जिसका नाम मोहम्मद फैजान है।

दुष्कर्म के आरोप के अलावा महमूद आलम पर भ्रष्टाचार का भी आरोप है। महमूद की साल 2012 में उर्दू टाइपिस्ट के रूप में जॉइनिंग हुई थी। इसके एक साल बाद ही उसका प्रमोशन हो गया था। साल 2013 में इसे प्रधान लिपिक बना दिया गया था। इन 8 सालों यानी कि 2012 से लेकर 2020 के बीच महमूद पर कई बार भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं और महिला कर्मचारी के साथ दुष्कर्म के प्रयास का मामला सामने आया है। दबे स्वर में ब्लॉक के कर्मचारी के साथ ही स्थानीय लोगों का कहना है कि महमूद आलम ने प्रधानमंत्री आवास योजना की आड़ में भी कई लोगों से मोटी रकम वसूला है। मगर सबूत के अभाव में वह हर बार बच गया। हालाँकि इस बार दुष्कर्म के प्रयास के आरोप से नहीं बच सका।

4 बच्चों की माँ से दरोगा उमराव खान समेत इब्राहिम, मैनुद्दीन, शाहिद ने किया गैंगरेप: Video वायरल होने पर खुलासा

अलवर में 15 साल की बच्ची से रेप कर इमाम फरार, खाना लेकर मस्जिद गई थी पीड़िता

नाबालिग छात्रा से जावेद, मेराज और आरिफ ने किया रेप, कोचिंग के बाथरूम में बेहोश मिली

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -