Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाज'देवी-देवताओं की मूर्ति तोड़ते हैं, पूजा नहीं करने देते' : राजस्थान में बेटे-बहू पर...

‘देवी-देवताओं की मूर्ति तोड़ते हैं, पूजा नहीं करने देते’ : राजस्थान में बेटे-बहू पर माता-पिता बना रहे धर्मांतरण का दबाव, बात न सुनने पर पीटते हैं; FIR दर्ज

सोनू ने पुलिस को दी शिकायत में कहा है कि उनका परिवार पिछले दो वर्षों से ईसाई धर्म से संबंधित रीति-रिवाजों का पालन कर रहा है और उन पर भी धर्मांतरण का दबाव बना रहा है। लेकिन वह लोग हिंदू धर्म का हिस्सा बनकर अपनी जिंदगी गुजारना चाहते हैं।

देश में धर्मांतरण के बढ़ते मामलों के बीच राजस्थान के अलवर जिले में माता-पिता पर अपने बेटे-बहू का धर्मांतरण कराने का आरोप लगा है। पीड़ित दंपति सोनू और उनकी पत्नी रजनी ने बुधवार (19 अक्टूबर 2022) को इस मामले में शिकायत दर्ज कराई। इन दोनों ने शिकायत देते हुए पुलिस से कहा है कि सोनू के माता-पिता ने घर में रखी मूर्तियों को तोड़ दिया और हिंदू देवी-देवताओं के पोस्टर्स को फाड़ दिया है। वे लोग, इन पर ईसाई धर्म अपनाने के लिए लगातार दवाब बना रहे हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पीड़ित दंपति ने राजस्थान के अलवर पुलिस स्टेशन में माता-पिता के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। यह भी कहा जा रहा है कि दंपति ने शिकायत दर्ज कराने के लिए बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद के सदस्यों से मदद माँगी थी। फिलहाल पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर जाँच शुरू कर दी है।

सोनू ने शिकायत में कहा कि उसके माता-पिता सहित परिवार के कुछ सदस्य ईसाई धर्म अपना चुके हैं और उन्हें भी धर्म परिवर्तन के लिए मजबूर कर रहे हैं। सोनू ने कहा, “जब हम हिंदू देवताओं की पूजा करते हैं, तो मेरे माता-पिता विरोध करते हैं। जब हम घर में दीया जलाते हैं या प्रार्थना करते समय अगरबत्ती का इस्तेमाल करते हैं तो वे विरोध करते हैं। उन्होंने हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियों को भी तोड़ दिया है और हमारे देवी-देवताओं के पोस्टर फाड़ दिए हैं। वे हमें परेशान करते हैं, हमें पीटते हैं और ईसाई धर्म अपनाने के लिए दबाव बनाते हैं।”

सोनू ने कहा कि वह और उसकी पत्नी हमेशा के लिए हिंदू धर्म का हिस्सा बनकर रहना चाहते हैं और ईसाई धर्म में परिवर्तित होने की उनकी कोई इच्छा नहीं है। उन्होंने कहा है “हमारे परिवार के सदस्य सोचते हैं कि हिंदू रीति-रिवाज और परंपराएँ बेकार हैं और ईसाई धर्म अपनाने से ही वास्तविक खुशी मिलेगी।”

सोनू ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि उनका परिवार पिछले दो वर्षों से ईसाई धर्म से संबंधित रीति-रिवाजों का पालन कर रहा है। बीते कुछ समय से धर्मांतरण के लिए लगातार परेशान किया जा रहा है। उन्होंने पुलिस से अपनी सुरक्षा की भी माँग की है। पुलिस अधीक्षक ने शिकायत दर्ज कर पीड़ित दंपति को उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

दलितों का हो रहा धर्मांतरण, बात न सुनने पर धमकी

इस मामले में, विश्व हिंदू परिषद के जिलाध्यक्ष दिलीप मोदी ने कहा है कि राजस्थान के अलवर जिले में दलित समुदाय के कुछ लोगों पर धर्म परिवर्तन के लिए दबाव बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा है कि अलवर शहर में कुछ लोगों पर धर्म परिवर्तन के लिए दबाव बनाने प्रयास किया जा रहा है। शहर की हरिजन बस्ती में कुछ लोग हैं जो ईसाई धर्म में लोगों का परिवर्तन करा रहे हैं।

उन्होंने, आरोप लगाया है कि यहाँ धर्म परिवर्तन की एक चेन बनाई गई है। ये लोग कई तरीके के लालच देकर हिंदू देवी देवताओं का अपमान करते हुए ईसाई धर्म अपनाने के लिए दबाव बनाते हैं। ईसाई धर्म नहीं अपनाने पर बहिष्कार करने की धमकी देते हैं। यहाँ तक कि मारपीट भी करते हैं।

इस मामले में, पुलिस अधीक्षक तेजस्विनी गौतम का कहना है, “पीड़ितों ने आरोप लगाया है कि उनके परिवार के सदस्यों द्वारा उन्हें ईसाई धर्म में परिवर्तित करने के लिए दबाव डाला जा रहा था। प्रथम दृष्टया में यह मामला पारिवारिक मामला लग रहा है पुलिस ने मामले की जाँच शुरू कर दी है। जाँच के बाद कड़ी कार्रवाई की जाएगी।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -